अजीम प्रेमजी: कैसे एक आदमी की कार्यों ने राष्ट्र को नया आकार दिया

11 अक्टूबर,2020

4

1227

अजीम प्रेमजी की सफलता की कहानी - स्मार्ट मनी
अजीम प्रेमजी ने एक छोटे परिवार के स्वामित्व वाली कुकिंग ऑयल कंपनी को एक मल्टी-बिलियन आईटी आउटसोर्स कंपनी में बदल दिया।

इस ब्लॉग में, हम अजीम प्रेमजी की शानदार सफलता की कहानी के बारे में बात करने जा रहे हैं, जो अक्टूबर 2019 में फोर्बेस की रिपोर्ट के अनुसार 7.2 बिलियन अमरीकी डॉलर है।

प्रेमजी का जन्म वर्ष 1945 में मुंबई में हुआ था। उनके पिता भी एक प्रतिष्ठित व्यवसायी थे, मोहम्मद हशेम प्रेमजी, जिन्होंने वेस्टर्न इंडियन वेजीटेबल प्रोडक्ट्स लिमिटेड की स्थापना की, जिसमें वेजिटेबल शोर्टनिंग (डालडा घी) और रिफाइंड (परिष्कृत) तेल का उत्पादन किया गया। डालडा घी (वेजिटेबल शोर्टनिंग) जो भारत में एक घरेलू नाम है, विप्रो का सबसे पुराना उत्पाद है।

मुंबई में अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, प्रेमजी इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी गए। लेकिन अपने पिता के आकस्मिक निधन के कारण उन्हें कोर्स पूरा करने से पहले छोड़ना पड़ा। वह केवल 21 वर्ष की आयु में विप्रो की 2 मिलियन अमरीकी डालर कंपनी के सहायक के रूप में शामिल हो गए। हालाँकि, उनकी यात्रा की शुरुआत आसान नहीं थी, हितधारकों ने 21 साल के प्रेमजी पर भरोसा रखने के लिए तैयार नहीं थे।

विप्रो का सुधार

प्रारंभिक अस्वीकृति ने प्रेमजी को वैश्विक क्षेत्र में विप्रो को आगे बढ़ाने का संकल्प दिया। उनके नेतृत्व में, विप्रो ने अपने उत्पाद रेंज में विविधता लाई और टॉयलेटरीज़, बेबी उत्पाद, पर्सनल केयर, हाइड्रोलिक सिलेंडर और अधिक जैसे एफएमसीजी उत्पादों में निवेश करके जोखिम उठया। 1970 में, विप्रो ने एफएमसीजी से सॉफ्टवेयर पर अपना ध्यान केंद्रित किया।

अजीम प्रेमजी इसका जीता जागता उदाहरण है कि एक व्यक्ति के कार्यों में एक राष्ट्र को फिर से आकार देने की शक्ति है। 1977 में, केंद्र में सरकार बदल गई। नवगठित शास्त्री सरकार एफडीआई को पसंद नहीं करती थी और कोकाकोला जैसी बहुराष्ट्रीय कंपनियों को भारत छोड़ने के लिए कहा गया था। भारत में एकमात्र आईटी कंपनी आईबीएम ने भी साथ छोड़ दिया। प्रेमजी ने भविष्य की कल्पना की और आईटी सेवा प्रदान करने के लिए नए बने खुले बाजार में कदम रखा। उन्होंने वेस्टर्न इंडियन वेजिटेबल प्रोडक्ट्स को विप्रो को रिब्रांड किया। विप्रो ने अमेरिका स्थित सेंटिनल कंप्यूटर कॉरपोरेशन के साथ मिलकर आईटी समाधान पेश करने पर ध्यान केंद्रित किया।

उदारीकरण के बाद, विप्रो देश की सबसे बड़ी आईटी सेवा आउटसोर्सर बन गई। 2000 में, अमेरिकी डिपॉजिटरी रिसिप्ट्स (ए डी आर) के माध्यम से विप्रो ने खुद को अमेरिका में सूचीबद्ध किया। 1998-2003 की अवधि के दौरान, प्रेमजी सबसे अमीर भारतीय बने रहे।

परोपकारी गतिविधियाँ

अजीम प्रेमजी बिल गेट्स - वॉरेन बफे की 'द गिविंग प्लेज' में शामिल होने वाले तीन गैर-अमेरिकियों में से एक हैं। उन्होंने द गिविंग प्लेज के तहत अपनी कुल संपत्ति का एक-चौथाई हिस्सा दान करने का संकल्प लिया है। हुरुन इंडिया ने उन्हें अपनी परोपकारी सूची में सबसे पर्याप्त भारतीय के रूप में मान्यता दी। उन्होंने एक ट्रस्ट अजीम प्रेमजी फाउंडेशन की स्थापना की, जो सामाजिक कारणों पर केंद्रित है। फाउंडेशन भारत के दूरस्थ क्षेत्रों में शिक्षा प्रणाली को सुधारने में लगा हुआ है। वे शिक्षकों के ‘प्रशिक्षण कार्यक्रम’ चलाते हैं, जो पाठ्यक्रम को बेहतर बनाने में शामिल हैं और सौ से अधिक कर्मचारियों के लिए रोजगार पैदा करते हैं।

 अपने जीवन काल में, अजीम प्रेमजी ने कई पुरस्कार और मान्यता प्राप्त की है, जो एक प्रतिष्ठित व्यवसायी और एक परोपकारी व्यक्ति हैं। 75 साल के बिजनेस टाइकून का जीवन हमें आगे की सोच और अवसरों को ग्रहण करने की शक्ति सिखाता है। 2005 में, भारत सरकार ने उन्हें ट्रेड और व्यापार के लिए और  उनके असाधारण योगदान के लिए पद्म भूषण से सम्मानित किया। वह दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में भी शामिल है।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account