लंबी अवधि के लिए स्टॉक रखने के लाभ

10 जुलाई,2022

5

288

icon
लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट से जुड़े लाभों को समझें जिससे कि आप भी उनका लाभ उठाने पर विचार कर सकें।

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट समझना

क्या आपने कभी इन्वेस्टमेंट को लॉन्ग टर्म के लिए होल्ड करने का विचार किया है? इसका मतलब यह है कि आपको उस सिक्योरिटी को एक वर्ष से अधिक की अवधि के लिए होल्ड करना होगा। यह एसेट स्टॉक, म्यूचुअल फंड, एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) या बॉन्ड हो सकता है।

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टर्स के लिए आवश्यक विशेषता लक्षण - अगर आप लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट का विकल्प चुनते हैं, तो आपको अपने एसेट पर विशेष ध्यान देना होगा और इसके लिए समय भी निकालना होगा। इसके साथ ही आपको धैर्य बनाए रखना होगा। ऐसा इसलिए क्यूंकि जब आप अपनी इन्वेस्टमेंट से ये अपेक्षा रखते हैं कि आपको लंबे समय में अधिक से अधिक रिटर्न मिले, तो आपको कुछ हद तक जोखिम उठाने के लिए तैयार रहना चाहिए।

अस्थिरता बनाम रिटर्न - बहुत से बाज़ार विशेषज्ञों की राय है कि शेयरों को लॉन्ग टर्म के लिए होल्ड करना चाहिए। ऐसा इसलिए क्यूंकि अगर हम एस एंड पी 500 के पिछले 47 वर्षों को देखें, तो इनमें केवल 11 वर्षों में नुकसान हुआ। इसके परिणामस्वरूप, कम समय के टाइम फ्रेम में शेयर बाज़ार का रिटर्न काफी अस्थिर रहा है। एक ऐतिहासिक दृष्टिकोण से कहा जा सकता है कि, इन्वेस्टर्स ने लंबी समय सीमा में सफलता का खास अनुभव किया है।

शॉर्ट-टर्म रिटर्न को नज़रअंदाज़ करना - कम ब्याज दर होने के कारण शायद आप ऐसे स्टॉक में इन्वेस्ट करने के लिए प्रेरित हो सकते हैं जिससे आप अपने शॉर्ट-टर्म रिटर्न बढ़ा सकें, परंतु ऐसा करने के बजाय आपको धैर्य रखना चाहिए| लॉन्ग टर्म में इन्वेस्ट करना एक बेहतर विकल्प है और इससे रिटर्न भी ज़्यादा मिल सकता है।

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट से जुड़े प्रत्येक लाभ को समझने के लिए पढ़ना जारी रखें।

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के लाभ

नीचे दिए गए पॉइंट्स में इस इन्वेस्टमेंट से जुड़े लाभों पर प्रकाश डाला गया है।

सुपीरियर लॉन्ग-टर्म रिटर्न

जब हम एसेट-क्लास की बात करते हैं, तो मन में एक निश्चित श्रेणी की इन्वेस्टमेंट का ख़्याल आता है| एक ही एसेट क्लास के अंतर्गत आने वाले सभी इंवेस्टमेंट्स में समान गुण और लक्षण होते हैं। उदाहरण के लिए, ऐसे स्टॉक जिनमें इक्विटी या फिक्स्ड-इनकम एसेट्स (यानी बॉन्ड) हैं। कई कारक यह निर्धारित करने में सहायता करते हैं कि आपके लिए कौन सा एसेट क्लास सर्वोत्तम है। इन कारकों में निम्नलिखित शामिल हैं।

  • आयु
  • जोखिम उठाने की क्षमता 
  • इन्वेस्टमेंट लक्ष्य
  • कैपिटल की मात्रा

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट में, स्टॉक्स ने कई दशकों से अन्य सभी एसेट क्लासेस से बेहतर रिटर्न दिया है। उदाहरण के लिए, 1986 में जब कारोबार का पहला दिन ख़त्म हुआ था, तब भारत में सेंसेक्स का मूल्य 549.43 था। जून 2022 में यह 51,360.42 के स्तर पर पहुँच गया। यानी इसकी कंपाउंड एनुअल ग्रोथ रेट (या सीएजीआर) पिछले लगभग 40 वर्षों में 15 प्रतिशत बढ़ी है।

हालांकि इक्विटी बाज़ार में उभरते हुए बाज़ार बड़े रिटर्न की क्षमता रखते हैं, लेकिन उनमें बहुत अधिक जोखिम होता है। इस क्लास ने ऐतिहासिक रूप से हाई एवरेज एनुअल रिटर्न अर्जित किया है। हालांकि, शॉर्ट टर्म में उतार-चढ़ाव ने प्रदर्शन को प्रभावित किया है।

बाज़ार के उतर चढ़ाव से निकलना संभव है

स्टॉक को अक्सर बेहतर लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के रूप में देखा जाता है। ऐसा इसलिए क्यूंकि शॉर्ट यानी कम समय सीमा में शेयरों की वैल्यू में 10 से 20 प्रतिशत की गिरावट आना सामान्य बात है। कई साल या दशकों से ज़्यादा लंबे समय में निवेशक कई बार उतार चढ़ाव से गुज़रते हुए बेहतर लॉन्ग टर्म रिटर्न अर्जित कर सकते हैं।

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के रूप में स्टॉक्स का महत्त्व केवल भारत तक ही सीमित नहीं है बल्कि वैश्विक शेयर बाज़ारों में भी ऐसा ही है। उदाहरण के लिए, यदि आप S&P 500 को देखें, तो 2 दशकों की अवधि के लिए इसमें निवेश करने वाले लोगों में से शायद ही कोई हो जिसने अपना पैसा खोया हो| वित्तीय संकट, तकनीकी खराबियों और महामंदी होने के बावजूद भी यह बात सच है। अगर निवेशकों ने इस इंडेक्स में निवेश किया होता और इसे बिना छेड़े 20 साल की अवधि के लिए रखा होता, तो उन्हें लाभ का अनुभव होता।

इन्वेस्टर्स मार्केट टाइमिंग नहीं समझ पाते हैं

मानवीय भावनाएं हमें उतना शांत और रैशनल नहीं रहने देती जितना हमें शायद होना चाहिए। इसलिए, ये भावनाएं हमारे कमज़ोर पक्ष की तरह कार्य करती हैं। कई इन्वेस्टर्स लॉन्ग टर्म इन्वेस्टर होने का दावा करते हैं, परंतु जैसे ही शेयर बाज़ार में गिरावट शुरू होती है, वे अतिरिक्त नुकसान से बचने के लिए अपना पैसा वापस ले लेते हैं।

इसलिए जब बाज़ार फिर से चढ़ता है, तो कई इन्वेस्टर स्टॉक्स में इनवेस्टेड नहीं रहते| इसके अलावा, वे जब तक बाज़ार में वापसी करते हैं, तब तक बाकी लोग लाभ का एक बड़ा हिस्सा पहले ही हासिल कर चुके होते हैं| बाय हाई एंड सैल लो की नीति अपनाने से इन्वेस्टर ज़्यादा रिटर्न नहीं अर्जित कर पाते हैं।

इस व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारकों में निम्नलिखित शामिल हैं।

  • पछतावे का डर - लोग अक्सर अपने खुद के फैसले पर भरोसा करने के बजाय प्रचार पर ध्यान देते हैं। बाज़ार में गिरावट आने पर ऐसा अक्सर देखने को मिलता है। लोगों को लगता है कि स्टॉक्स में गिरावट के कारण वे अपना पैसा खो देंगे, इसलिए वे उन आशंकाओं को दूर करने के लिए अपने स्टॉक बेच देते हैं।
  • परिवर्तन के बाद निराशावादी भावनाएँ - जब बाज़ार में चढ़ाव आता है, तो लोगों में आशावादी भावनाएँ अधिक होती हैं| वहीं, एक बार जब यह गिरता है, तो भावनाओं में खटास आ जाती है। यहां समझने वाली बात यह है कि बाज़ार में छोटे-मोटे झटकों के कारण उतार-चढ़ाव आ सकते हैं, लेकिन ये मुद्दे अक्सर थोड़े समय के लिए होते हैं और परिस्थिति के सामान्य बनने की संभावना हमेशा अधिक होती है।

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट अधिक किफायती हैं

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के प्रमुख लाभों में से एक यह है कि वे अधिक किफायती हैं। अपने पोर्टफोलियो में शेयरों को जल्दी खरीदने और बेचने के बजाय उन्हें लंबे समय के लिए रखना ज़्यादा फायदेमंद है क्योंकि जितने लंबे समय तक आप निवेश रखते हैं, उतनी ही कम आपको फीस चुकानी पड़ती है।

डिविडेंड स्टॉक में कंपाउंडिंग की शक्ति

ब्लू चिप कंपनियां अक्सर कॉर्पोरेट मुनाफे को डिविडेंड के रूप में बाँट देती हैं जिसका भुगतान एलिजिबल शेयरहोल्डर्स को नियमित रूप से किया जाता है। हालांकि उन्हें कैश  आउट करने का प्रलोभन हमेशा होता है, फिर भी उन्हें कंपनियों में पुनर्निवेश करके आप कंपाउंडिंग की मदद से लंबे समय में अधिक रिटर्न अर्जित कर सकते हैं।

अंतिम विचार

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के कई लाभ हैं, जिनमें से कुछ ऊपर बताए गए हैं। सभी लाभों के बारे में जानने के लिए आज ही एंजेल वन वेबसाइट पर जाएँ|  

 

 

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज़ जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने -बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account