कमॉडिटी ट्रेडिंग: एक सिंहावलोकन

15 सितम्बर,2021

9

728

icon
कमॉडिटीज़ की हमारे जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका है।

संक्षिप्त विवरण

कमॉडिटी का मतलब है कोई मूल चीज़, जिसका उपयोग कॉमर्स में किया जाता है जिसे उन दूसरी चीज़ों के साथ बदला जा सकता है जो उस चीज़ की समान केटेगरी में आते हैं। कुछ ज़्यादा प्रमुख रूप से इंटरचेंज की जाने वाली कमॉडिटीज़ में क्रूड ऑयल, नेचुरल गैस, अनाज और गोल्ड शामिल हैं। 

इन्वेस्टर कमॉडिटीज़ का लाभ उठाते हैं क्योंकि वे उन्हें अपने पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाय करने और कन्वेंशनल सिक्योरिटी के अलावा ऑप्शन तलाशने में मदद करते हैं। इस वजह से कमॉडिटी प्राइस स्टॉक्स की उलटी दिशा में मूवमेंट करने के लिए जानी जाती है, कुछ इन्वेस्टर बाजार में उथल-पुथल के दौरान कमॉडिटी का फायदा उठा सकते हैं। 

पहले, कमॉडिटी ट्रेडिंग करने के लिए आपको काफी समय और पैसा लगाना होता था और साथ ही मार्केट्स के मामले में बहुत माहिर होना होता था। इसका मतलब यह हुआ कि कमॉडिटी ट्रेडिंग में प्रेफेशनल ट्रेडर्स का दबदबा था। आज, कमॉडिटी ट्रेड के लिए बहुत से मौके उपलब्ध हैं।

कमॉडिटी एक्सचेंज का उपयोग फिजिकल लोकेशन के साथ-साथ लीगल एंटिटी दोनों के लिए किया जाता है। फिजिकल लोकेशन का मतलब है जहां कमॉडिटी का कारोबार होता है।  लीगल एंटिटी का मतलब है इसका उपयोग समान कमॉडिटी कॉन्ट्रैक्ट और इससे जुड़े इन्वेस्टमेंट प्रॉडक्ट के ट्रेड के नियमों को लागू करने में किया जाता है।

भारत में मल्टी कमॉडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (या एमसीएक्स), नेशनल कमॉडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड और यूनिवर्सल कमॉडिटी एक्सचेंज सहित कई कमॉडिटी एक्सचेंज हैं।

कमॉडिटी बाजार ख़ासियत

कमॉडिटी मार्केट इन ख़ासियत के लिए जाने जाते हैं।

  • ये मार्केट डिमांड और सप्लाय के अनुसार काम करते हैं।
  • वे वैश्विक आर्थिक विकास से प्रभावित हैं।
  • टेक्नोलॉजी की दिशा में हुई प्रगति इन मार्केट्स को प्रभावित करती है। 

कमॉडिटीज़ के प्रकार 

जिन कमॉडिटीज़ का कारोबार होता है, उन्हें नीचे सूचीबद्ध चार व्यापक केटेगरी से समझा जा सकता है।

मेटल्स - लोकप्रिय मेटल्स में गोल्ड और सिल्वर शामिल हैं। अक्सर जब मार्केट जब उतार-चढ़ाव होता है, मुद्रास्फीति बढ़ती है, और/या करेंसी की वैल्यू अपने रिलाएबल और कन्वेयेबल स्तर से गिरती है तो इनमें इन्वेस्टमेंट किया जाता है।

एनर्जी - क्रूड ऑयल, गैसोलीन और नेचुरल गैस इस केटेगरी में आते हैं। दुनिया भर का आर्थिक विकास ऑयल वेल्स से ऑयल के गिरते प्रोडक्शन के बीच प्रभावित हो रहा है जिससे ऑयल की कीमत में बढ़ोतरी हुई है। ऊर्जा के वैकल्पिक स्रोतों और नए टेक्नोलॉजिकल डेवलपमेंट से क्रूड ऑयल जैसे इस क्षेत्र से जुड़ी कमॉडिटीज़ की मार्केट प्राइस प्रभावित हो सकती है।

लाइवस्टॉक और मीट - डेयरी प्रॉडक्ट इस केटेगरी में आते हैं। इनकी कीमतें भी डिमांड और सप्लाय से प्रभावित होती हैं।

एग्रीकल्चर - गेहूं, कोको, कॉफी, कपास और चीनी लोकप्रिय कमॉडिटीज़ हैं। यह क्षेत्र मौसम बदलने पर किसी साल किसी समय अधिक अस्थिर हो सकता है।

फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट x कमॉडिटीज़

इन्वेस्टर फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट की मदद से कमॉडिटीज़ में इन्वेस्ट कर सकते हैं जो लीगल कॉन्ट्रैक्ट के रूप में काम करता है। यह इन्वेस्टर्स को किसी कमॉडिटी एसेट को पहले से तय प्राइस पर खरीदने या बेचने के लिए बाध्य करता है और इसमें फ्यूचर में किसी तय समय पर खरीदे जाने की उम्मीद रहती है।

फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट आज कमॉडिटी की हर केटेगरी में पाए जाते हैं।

आमतौर पर उक्त कमॉडिटीज़ का कमर्शियल उपयोग करने वाले और स्पेक्यूलेटिव इन्वेस्टर फ्यूचर मार्केट में इन्वेस्ट करते हैं।

स्टॉक मार्केट में कमॉडिटीज़ की भूमिका

कई इन्वेस्टर जिनकी रूचि कुछ कमॉडिटी से जुड़े मार्केट में होती है, उनके उन कंपनियों के स्टॉक्स में इन्वेस्ट करने की संभावना है जो किसी न किसी तरह से उक्त कमॉडिटी से जुड़े होते हैं। उदाहरण के लिए, जिनकी रूचि गोल्ड में है, उनके लिए गोल्ड रिफाइनिंग,स्मेल्टिंग या गोल्ड बुलियन से जुड़ी कंपनियों के स्टॉक आकर्षक होते हैं। 

जिस वजह से स्टॉक सबसे अलग है, वह यह है कि इनकी प्राइस फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट के मुकाबले उतनी अस्थिर नहीं होती। इसके अलावा, इन शेयरों को खरीदना, बेचना, रखना और ट्रैक करना आसान होता है। इन्वेस्टर और ट्रेडर के पास अपनी रुचि के खास क्षेत्र में अपने इन्वेस्टमेंट को सीमित करने का मौका होता है।

किसी विशेष कमॉडिटी के मार्केट में प्रवेश करने के ज़रिये के रूप में स्टॉक्स में इन्वेस्टमेंट से एक फायदा यह है कि ट्रेड अधिक वायबल होता है क्योंकि ज़्यादातर इन्वेस्टर्स के पास ब्रोकरेज खाता पहले से ही होता है।

दूसरी ओर, स्टॉक के ज़रिये कमॉडिटी मार्केट में प्रवेश करने की एक खामी यह है कि उक्त स्टॉक कभी भी कमॉडिटी की प्राइस को ठीक से नहीं बता सकत। स्टॉक्स कई तरह के फैक्टर्स से प्रभावित हो सकते जिनका उस कमॉडिटी की कीमत से कोई लेना-देना भी न हो जिसे कोई इन्वेस्टर ट्रैक कर रहा होता है।

ईटीएफ, ईटीएन, और कमॉडिटीज़ 

जो कमॉडिटी मार्केट में प्रवेश करना चाहते हैं उन इन्वेस्टर के पास एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (या ईटीएफ) और एक्सचेंज ट्रेडेड नोट्स (ईटीएन) के उपयोग का भी विकल्प होता है। ये सभी स्टॉक की तरह ही ट्रेड करते हैं जिससे इन्वेस्टर्स को कमॉडिटी की कीमतों में होने वाले उतार-चढ़ाव से फायदा होने की संभावना होती है। इन इन्वेस्टर्स को सीधे फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट में इन्वेस्ट करने की ज़रुरत नहीं होती है। इसका मतलब है कि उन्हें कोई विशेष ब्रोकरेज खाता नहीं रखना होता है। 

ईटीएफ और ईटीएन के आकर्षण की एक वजह है कि इनमें कोई मैनेजमेंट या रिडेम्पशन फीस शामिल नहीं होते क्योंकि इनका ट्रेड स्टॉक की तरह ही होता है। इसका मतलब है कि सारी कमॉडिटीज़  ईटीएफ और ईटीएन से जुड़ी नहीं हैं।

म्यूचुअल फंड और इंडेक्स फंड के रूप में कमॉडिटीज़ में इन्वेस्टमेंट  

हालांकि म्युचुअल फंड का उपयोग सीधे कमॉडिटीज़ में इन्वेस्टमेंट के लिए नहीं किया जा सकता, लेकिन म्यूचुअल फंड खुद उन कंपनियों के स्टॉक्स में इन्वेस्ट कर सकता है जो माइनिंग और एग्रीकल्चर से जुड़ी कुछ कमॉडिटीज़ से जुड़े हों।

स्टॉक्स की तरह ही म्युचुअल फंड के शेयर भी किसी कमॉडिटीज़ की कीमत में उतार-चढ़ाव के अलावा कंपनी या व्यापक स्टॉक मार्केट से जुड़े अन्य फैक्टर्स से प्रभावित हो सकते हैं।

निष्कर्ष 

इन्वेस्टमेंट की दुनिया में जो नए हैं, उनके साथ-साथ इसमें महारत हासिल करने वाले लोगों के लिए भी बहुत से ऑप्शंस हैं जो उन्हें कमॉडिटी मार्केट से जुड़ने में मदद करते है। कमॉडिटी फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स इन्वेस्टर्स को एक फ्रंट-रो शो की हैसियत प्रदान करते हैं लेकिन इन्वेस्टमेंट के कई अन्य वैकल्पिक साधन हैं जिनमें कम जोखिम होता है और कमॉडिटीज़ को पर्याप्त एक्सपोज़र देते हैं। इसका मतलब है कि कमॉडिटीज़ को जोखिम भरा इन्वेस्टमेंट माना जाता है क्योंकि वे बहुत सी अनिश्चितताओं से घिरी होती हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न1 कमॉडिटी बाजार की क्या विशेषताएं हैं?
उत्तर1. कमॉडिटी बाजार में ये विशेषताएं हैं। 

इसका संचालन डिमांड और सप्लाय से नियंत्रित होता है।
यह वैश्विक आर्थिक विकास से प्रभावित होता है।
टेक्नोलॉजी में तरक्की कमॉडिटी बाजार को प्रभावित करती है।

प्रश्न 2. कमॉडिटीज़ की चार व्यापक श्रेणियां क्या हैं?
उत्तर2. कमॉडिटीज़ की चार व्यापक श्रेणियां हैं - मेटल्स, एनर्जी, एग्रीकल्चर और लाइवस्टॉक एवं मीट।

प्रश्न3. भारत के कुछ कमॉडिटी एक्सचेंज कौन से हैं?
उत्तर3.  भारत के प्रमुख कुछ कमॉडिटी एक्सचेंज में शामिल हैं: मल्टी कमॉडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एमसीएक्स), नेशनल कमॉडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड और यूनिवर्सल कमॉडिटी एक्सचेंज।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account