फाल्गुनी नायर की सफलता की कहानी: नायका संस्थापक

24 मई,2022

5

131

icon
नायका की फाउंडर फाल्गुनी नायर की कहानी क्या है, इस पर एक नज़र डालें और समझें कि पिछले एक दशक में कंपनी का तेज़ी से विकास कैसे हुआ।

श्रीमती नायर का परिचय - नायका की फाउंडर

बहुत से लोगों के लिए 50 साल की उम्र में अपनी नौकरी छोड़ना और ज़ीरो से अपना बिज़नेस शुरू करना आसान नहीं होता| इसके लिए न केवल साहस और कमिटमेंट, बल्कि बहुत सारे समय और विश्वास की भी आवश्यकता होती है। फाल्गुनी नायर इस तरह के परिदृश्य में सफल होने के लिए अपना खून, पसीना बहाने और कड़ी मेहनत करने के लिए स्पष्ट रूप से तैयार थी क्योंकि उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी थी और नायका को चुन लिया था।

नायर ने आईआईएम अहमदाबाद से ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त की और करीब दो दशकों तक कोटक महिंद्रा ग्रुप के लिए काम किया। KMG में उन्होंने एक वेंचर इन्वेस्टर के साथ-साथ एक मर्चेंट के रूप में भी कार्य किया और यूके तथा अमेरिका में ग्रुप के ग्लोबल ऑपरेशन्स को संभाला। यहां, उन्होंने इंस्टीट्यूशनल इक्विटी डिवीज़न का नेतृत्व किया। 2005 तक, उन्हें ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर के रूप में नियुक्त किया गया और उन्होंने भारी मात्रा में ग्रुप की धन राशि की बचत की|

फाल्गुनी नायर के नायका की उत्पत्ति की खोज

अप्रैल 2012 में, नायर ने अपने करियर में कुछ बदलाव करने का सोचा और उन्होंने अपनी उप्लभ्धियों की सूची में "नायका के सीईओ" का खिताब जोड़ लिया। अपने करियर को बदलने की उनकी इच्छा को अजीब माना जाता था। नायर ने भारत में ऑनलाइन उपभोक्ता बाज़ार के विकास पर करीब से नज़र रखी थी। उन्होंने ब्यूटी सेगमेंट में जाने का विकल्प चुना क्योंकि उन्हें मेकअप करना पसंद था और उन्होंने ऑनलाइन रिटेल क्षेत्र में इसकी क्षमता को देखा था।

उन्होंने पीवीआर सिनेमाज़ के अजय बिजली और यूटीवी के रोनी स्क्रूवाला जैसे उद्यमियों से प्रेरणा ली और बॉम्बे में अपनी कंपनी का मुख्यालय चुना जहां उनका जन्म और पालन-पोषण हुआ था। अपने पिता के छोटे से बियरिंग बिज़नेस से भी उन्हें आत्मविश्वास मिला और उन्हें यह महसूस हुआ कि एक सफल उद्यमी बनने के लिए उनके पास वह सब कुछ है जो उन्हें चाहिए। जब वह बड़ी हो रही थी तो उनके परिवार में अक्सर शेयर बाज़ारों और व्यापार पर चर्चा होती थी जिससे उनकी बिज़नेस करने की भावना और मज़बूत हो गई|

यद्यपि नायका का सपना फाल्गुनी लम्बे समय से देख रही थी, वह व्यवसाय को तभी बढ़ा सकती थी जब उनके पास खाली समय हो। वह नायका को तभी समय दे पाई जब उनके जुड़वां बच्चों अंचित और अद्वैता ने विदेश में पढ़ाई करने के लिए घर छोड़ दिया| उन्होंने इस वेंचर की शुरुआत 50 की उम्र में की| उन्होंने कोटक में अपनी नौकरी छोड़ दी और नायका शुरू करने की ठानी।

नायका के बिज़नेस मॉडल को समझना

अंततः फाल्गुनी नायर का मेकअप के प्रति प्रेम और उनकी समझ ही थी जिससे वे जान पाई कि भारतीय बाज़ार को एक ऑनलाइन सौंदर्य प्रसाधन और वेलनेस प्लेटफॉर्म की ज़रूरत थी, और इसी ने उन्हें प्रेरित किया। नायका के साथ, वह इस अंतर को कम करने में सक्षम रही और नायका ने भारत में महिलाओं की खरीदारी के तरीके को बदल दिया। उनके नेतृत्व में, नायका ने 850 से अधिक ब्रांडों को बनाया और इनके 35,000 प्रोडक्ट्स हैं। इसके अलावा, कंपनी की फिज़िकल प्रेज़ेन्स इससे स्पष्ट है कि इसके कई भारतीय शहरों में 17 स्टोर हैं। दो स्टोर फॉर्मेट मौजूद हैं जिनका नायका अनुसरण करता है। इनमें से, नायका लक्स, नायका ब्यूटी प्रोडक्ट्स को बेचने के अलावा उच्च कोटि के भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय ब्यूटी ब्रांड प्रदान करती है। (नायका ब्यूटी का यहां मतलब है नायका के ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इन-हाउस कलेक्शन)। दूसरा स्टोर फॉर्मेट नायका ऑन ट्रेंड है जिसमें कई लोकप्रिय मार्किट प्रोडक्ट्स हैं।

नायका एक नई ऑनलाइन ब्यूटी कंपनी है, जिसे अभी लंबा रास्ता तय करना है| यह 22 से 35 वर्ष की आयु के लोगों तक सफलतापूर्वक पहुंचने में सफल रही है। मार्च 2016 तक, कंपनी ने बाथ और बॉडी केयर सेक्शन में निजी लेबल वाले प्रोडक्ट्स को लॉन्च किया।

नायका इन्वेंट्री-आधारित संचालन को नियोजित करता है, जिसके कारण इसके गोदाम बैंगलोर, मुंबई और नई दिल्ली में हैं। कई प्रमुख ब्रांड नायका पर उपलब्ध हैं और इनमें शार्लेट टिलबरी, मेबेलिन न्यूयॉर्क, लैक्मे और कई अन्य शामिल हैं|

समापन

आज, नायका की फाउंडर वेलनेस और ब्यूटी के क्षेत्र में एक बड़ा नाम बन गई हैं। उनका प्रभाव कंपनी भर में पूरी तरह से स्पष्ट है। केवल एक दशक में, फाल्गुनी नायर ने उस स्थान को बदल दिया है जिसमें उनकी कंपनी संचालित होती है। नायका का भविष्य रोमांचक लग रहा है और इसके विस्तार और विकास पर नज़र रखने से यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि यह कितनी दूर तक जाता है। फाल्गुनी नायर की कहानी कड़ी मेहनत और लगन की है और हमें सिखाती है कि आप किसी भी उम्र में ज़बरदस्त सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज़ जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने -बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account