स्टॉक खरीदने के लिए मूविंग एवरेज का उपयोग कैसे करें

08 मई,2022

6

142

icon
मूविंग एवरेज क्या है, इसका उपयोग कब किया जाता है, और इसे कैलकुलेट करने वाला फार्मूला क्या है।

स्टॉक का विश्लेषण करने के तरीके

यदि आप शेयर मार्केट से परिचित हैं तो आपने सुना होगा कि इन्वेस्टर, ट्रेडर और मार्केट पर नजर रखने वाले सभी लोग अक्सर स्टॉक की कीमतों का विश्लेषण करने की कोशिश करते हैं। इन उपायों में फंडामेंटल और टेक्निकल एनालिसिस ध्यान देने लायक हैं। टेक्निकल एनालिसिस के दौरान मूविंग एवरेज (या एमए) का ज़िक्र होता है। मूविंग एवरेज इंडिकेटर समझने के लिए आगे पढ़ें।

मूविंग एवरेज की परिभाषा

मूविंग एवरेज एक जरिया है टेक्निकल एनालिसिस का और लगातार अपडेटेड एवरेज प्राइस के साथ प्राइस डाटा तैयार किया जाता है। यहां जिस एवरेज की बात हो रही है वह ट्रेडर की पसंद के अनुसार लम्बे समय तय किया जाता है। यह अवधि 15 दिन, 40 मिनट या 30 सप्ताह की भी हो सकती है। अपने ट्रेडिंग रूटीन में मूविंग एवरेज को शामिल करना फायदेमंद साबित हो सकता है, खासकर जब आपके पास उस तरह के मूविंग एवरेज को चुनने का विकल्प होता है। मूविंग एवरेज से संबंधित स्ट्रेटेजी काफी लोकप्रिय हैं और किसी भी समय-सीमा के अनुरूप तैयार की जा सकती हैं जो अल्पकालिक ट्रेडर्स के साथ-साथ लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टर्सों के लिए उपयुक्त है।

मूविंग एवरेज के उपयोग का महत्त्व

मूविंग एवरेज के ज़रिये आप अपने प्राइस चार्ट पर बेवजह के आंकड़े कम कर सकते हैं। मूविंग एवरेज की दिशा देखकर ही यह पता लगाया जा सकता है कि कीमत किस तरह बढ़ रही है। यदि यह ऊपर की तरह है, तो यह संकेत करता है कि कीमत समग्र रूप से बढ़ रही है, और यदि यह नीचे की ओर है, तो इसका मतलब है कि कीमत कुल मिलाकर गिर रही है। यदि मूविंग एवरेज साइडवेज़ चल रही है, तो इसका मतलब है कि कीमत सीमित दायरे में रहेगी।

मूविंग एवरेज सपोर्ट या रेजिस्टेंस के रूप में काम कर सकता है। 50- 100- या 200-दिन के मूविंग एवरेज से जुड़े अपट्रेंड के मामले में, यह सपोर्ट लेवल की भूमिका निभा सकता है क्योंकि मूविंग एवरेज ऐसे स्तर की भूमिका निभाता है जिसके बाद कीमत में उछाल आ सकती है। यदि डाउनट्रेंड है, तो मूविंग एवरेज रेजिस्टेंस की तरह काम कर सकता है और कीमत इस स्तर पर आने बाद लुढ़कने लगती है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कीमत के लिए हमेशा इस तरह से मूविंग एवरेज पर गौर करना ज़रूरी नहीं है। ऐसे कई उदाहरण हो सकते हैं जिनमें कीमत कुछ हद तक इसके माध्यम से चल सकती है या फिर उस तक पहुंचने से पहले रुक जाती है और वापस मुड़ जाती है।

आम तौर पर आप यह मान सकते हैं कि यदि कीमत मूविंग एवरेज से ऊपर है, तो रुझान बढ़ोतरी का है। दूसरी तरफ, यदि कीमत मूविंग एवरेज से नीचे आती है, तो रुझान गिरावट का है। इसका मतलब यह है कि एमए अलग-अलग हो सकता है और एक एमए यदि रुझान नीचे होने का संकेत दे रहा है तो दूसरा रुझान में तेज़ी का संकेत दे सकता है।

विभिन्न मूविंग एवरेज पर एक नजर

मूविंग एवरेज को कई तरीकों से कैलकुलेट किया जा सकता है, जिनमें से कुछ के बारे में नीचे बताया गया है।

सिंपल मूविंग एवरेज (या एसएमए) को कैलकुलेट करना - यदि आप पाँच दिन के सिंपल मूविंग एवरेज का उपयोग करना चाहते हैं, तो आपको पांच ताज़ा रोज़ाना क्लोजिंग प्राइस को जोड़ना होगा और जो संख्या आती है उसे पांच से भाग देना होगा ताकि आपको हर दिन के लिए एक नया एवरेज मिल सके। हर एवरेज को जोड़कर, आप एक ऐसी सिंपल लाइन जोड़ लेते हैं जो स्वाभाविक रूप से आगे बढ़ती है।

एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज फॉर्मूला (या ईएमए) - यह कैलकुलेशन अधिक जटिल है क्योंकि सबसे हाल के दिनों कीमत को अधिक महत्त्व दिया जाता है। यदि आपको 50 दिन का ईएमए और 50-दिन का एसएमए एक ही चार्ट में बनाना हो, तो स्पष्ट हो जाएगा कि ईएमए एसएमए के मुकाबले कीमत में बदलाव पर अधिक तेज़ी से प्रतिक्रिया करता है क्योंकि हाल की कीमत को अधिक महत्त्व किया गया है। ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म और चार्टिंग सॉफ्टवेयर जिस तरह कैलकुलेट करते हैं, आपको मूविंग एवरेज के लिए अपने दिमाग पर उतना ज़ोर डालने की ज़रुरत नहीं है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि मूविंग एवरेज का एक रूप दूसरे से बेहतर नहीं है। इसके बजाय,अलग-अलग हालत में वे सभी महत्वपूर्ण हैं। इसका मतलब यह है कि कुछ हालात में ईएमए स्टॉक या फिनांशियल मार्केट के अनुकूल हो सकता है जबकि अन्य में एसएमए अधिक उपयुक्त हो सकता है। इसके अलावा, मूविंग एवरेज के लिए चुनी गई समय सीमा भी महत्वपूर्ण है और यह प्रभावित करेगी कि यह कितना प्रभावी होगा, भले ही कैसा भी एमए विकल्प चुना गया हो।

मूविंग एवरेज के दायरे निर्धारण

10, 20, 50, 100 और 200 सबसे आम मूविंग एवरेज के दायरे हैं और ट्रेडर की समय-सीमा के अनुसार किसी भी चार्ट टाइम फ्रेम में जोड़े जा सकते हैं। मूविंग एवरेज के लिए चुनी गई समय सीमा को "लुक बैक पीरियड" कहते हैं। यह समय सीमा मूविंग एवरेज की प्रभावशालिता पर असर डाल सकती है। इसे बेहतर ढंग से समझने के लिए, एक एमए लें जिसमें एक शॉर्ट टाइम फ्रेम हो और यह लंबे लुक-बैक पीरियड के एमए घमंड के मुकाबले कीमत में बदलाव पर कहीं अधिक तेज़ी से प्रतिक्रिया करेगी।

निष्कर्ष

मूविंग एवरेज सरल प्राइस डाटा प्रदान करने में मदद करता है क्योंकि यह इसे दुरुस्त करता है और सिंगल फ्लोइंग लाइन बनाता है जिससे रुझान देखना आसान हो जाता है। यदि आप मूविंग एवरेज के बारे में और जानना चाहते हैं और बस एंजेल वन वेबसाइट पर जाएं।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने -बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account