स्टॉक मार्केट में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का जुड़ना

17 Jul, 2021

8 min read

329 Views

icon
पिछले कुछ दशक में, ट्रेडिंग और इन्वेस्टिंग सेक्टर में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, या 'एआई' काफी मशहूर रहा है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है?

लेकिन एआई का मतलब क्या है? संक्षेप में कहें तो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कंप्यूटर विज्ञान की एक शाखा है, जिसका मकसद है 'स्मार्ट' मशीनें बनाना या ऐसी मशीनें बनाना जो ऐसी मिमिकिंग और/या 'लर्निंग' में सक्षम हों जिनमें आमतौर पर इंसानी दिमाग की ज़रुरत होती है। यह इंटरडिसिप्लिनरी साइंस है जिसके कई एप्रोच हैं सो एआई हर तरह के टेक इंडस्ट्री सेक्टर में अभूतपूर्व बदलाव ला रहा है। ट्रेडिंग की दुनिया में भी इसका जगह बना लेना कोई आश्चर्य की बात नहीं। 

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और फाइनांस

जानकारों का दावा है कि एआई और फाइनांस कई लिहाज़ से एक-दूसरे के लिए बने से लगते हैं। ऐसी तकनीक जो एक ऐसे पैटर्न की पहचान करना आसान बनाती हैं जिसके मामले में इंसान की आँख चूक सकती है और यह एआई के मूलभूत काम में से एक है। चूंकि फाइनांस मूलतः क्वांटिटेटिव दिखता है सो इसे ऐसे काम (डेटा एनालिसिस, प्रेडिक्शन, एरर कोडिंग) के साथ इसे न जोड़ना मुश्किल है, जिन्हें एआई आसानी से पूरा कर सकता है।

हालाँकि ये टूल 1980 के दशक से ही मौजूद रहे हैं लेकिन 21 वीं सदी में ही फिनांशियल कंपनियों ने पहली बार एआई सही तरीके से उपयोग करना शुरू किया। लगभग सारी कंपनियां आज की ज़रुरत बन चुकी डीप लर्निंग और मशीन लर्निंग वाले फिनांशियल एप्लीकेशन में इसका उपयोग करना चाहती हैं। जहां तक बात स्टॉक ट्रेडिंग की है, तो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस निश्चित रूप से नई बात नहीं है, लेकिन एआई की क्षमता तक व्यापक पहुंच बड़ी फर्मों तक ही सीमित है। आइए, एआई स्टॉक ट्रेडिंग की शुरुआत और ग्रोथ के बारे में जानें। 

स्टॉक मार्केट में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का पेश होना

इंडस्ट्री से जुड़े एक व्यक्ति के मुताबिक, "आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ट्रेडिंग में वही क्रांति लाई को केवमैन के जीवन में आग की खोज ने लाई।" दूसरे शब्दों में, एआई स्टॉक ट्रेडिंग मॉडर्न इन्वेस्टर के लिए गेम-चेंजर रहा है। लेकिन यह कैसे हुआ? एआई को पहली बार शेयर बाजारों में कब पेश किया गया था और इसे लोगों ने कैसे लिया? शेयर बाजार में एआई की शुरुआत थ्योरेटिकल लेवल पर 1960 के दशक में रॉबर्ट श्लेफर के साथ ही हो गई थी। 

1959 में, श्लेफर ने एक मौलिक किताब लिखी "प्रोबैबिलिटी एंड स्टैटिस्टिक्स फॉर बिज़नेस डिसिज़न"। इसके पब्लिश होने के बाद बिज़नेस की दुनिया में स्टैटिस्टिक्स के क्षेत्र में रिसर्च के सम्बन्ध में लोकप्रियता बढ़ी। व्यावहारिक स्तर पर, 1980 के दशक में आर्टिफीशियल नेटवर्क और फ़ज़ी सिस्टम में ग्रोथ हुई, दोनों ने फिनांशियल टूल्स को बेहतर प्रेडिक्टिव पावर दिया। 

संभवत: पहले, या कम से कम पहले कुछ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस-ड्रिवन प्रोग्राम में से एक जिसने शेयर बाजार के बारे में प्रेडिक्शन किया, वह था 'प्रोट्रेडर एक्सपर्ट सिस्टम'। प्रोट्रेडर एक्सपर्ट सिस्टम को कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ बिजनेस के छात्र केसी चेन और यूनिवर्सिटी ऑफ इलिनॉइस के तिंग-पेंग लियान ने डिजाईन किया था। चेन और लियान ने अपनी विशेषज्ञता के साथ डाओ जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज में 1986 के 87-पॉइंट ड्रॉप के बारे में सफलता पूर्वक प्रेडिक्ट किया कि (हालांकि कुछ ऐतिहासिक रिकॉर्ड का दावा है कि उनके सफल होने की एक वजह ओवरफिटिंग एरर हो सकती है)। 

प्रोट्रेडर एक्सपर्ट सिस्टम के प्रमुख काम में शामिल था, बाजार में प्रीमियम की निगरानी करना, ऑप्टिमम इन्वेस्टमेंट स्ट्रेटेजी का निर्धारण करना, ट्रांजैक्शन करना जब सबसे अधिक फायदेमंद हो, और मशीन लर्निंग मैकेनिज्म के ज़रिये सिस्टम के नॉलेज बेस को बदलना। सुनने में जाना पहचाना लग रहा है? आज की अधिकांश ब्रोकरेज कंपनियों के प्रेडिक्टिव एआई इसी शुरुआती सिस्टम पर आधारित हैं। 

इसी तरह का दूसरा टूल आर्थर डी. लिटिल इंक. और चेज़ लिंकन फर्स्ट बैंक ने लगभग उसी समय डेवलप किया जो एआई से चलता था। यह सिस्टम बजट रेकोमेंडेशन, इन्कम टैक्स प्लानिंग और अन्य फिनांशियल लक्ष्य के लिए वेल्थ मैनेजमेंट के अलावा डेट, रिटायरमेंट, एजुकेशन, लाइफ इंश्योरेंस और इन्वेस्टमेंट प्लानिंग का काम कर सकता था। यदि कोई ग्राहक इस मशीन से अपनी फिनांशियल रिपोर्ट लेना चाहता था, तो उसे 1980 के दशक में 300 डॉलर लगते थे। 

एआई स्टॉक ट्रेडिंग फिलहाल कैसा दिखता है?

1980 के दशक के बाद से फाइनेंस में एआई की भूमिका एक्सपेरिमेंटल से एसेंशियल होती गई। हालाँकि ट्रेडिंग में इंसान की भूमिका बड़ी ही रही लेकिन एआई की भूमिका काफी बढ़ गई है। ब्रिटेन के रिसर्च फर्म कोएलिशन की हाल में की गई स्टडी के मुताबिक,एआई-ड्रिवन इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग का सिर्फ कैश इक्विटी ट्रेडिंग से हासिल रेवेन्यू में ही लगभग 45 प्रतिशत योगदान है। यहां तक कि इन्वेस्टमेंट के क्षेत्र जो अपने कामकाज में अधिक ऑटोमेशन नहीं चाहते हैं, जैसे हेज फंड, वे पोर्टफोलियो बनाने के लिए एआई से चलने वाले एनालिसिस टूल का उपयोग करते हैं और अपने लिए इन्वेस्टमेंट सुझाव लेते हैं। 

इसके अलावा, एआई की शाखा जिसे 'मशीन लर्निंग (जिसका दायरा अपने-आप में विशाल है) के रूप में जाना जाता है, इसका विकास और भी तेज गति से हो रहा है, फिनांशियल इंस्टीच्यूशन इसे सबसे तेज़ी से बना रहे हैं। वॉल स्ट्रीट के स्टैटिस्टिशियंस ने सीख लिया कि मशीन लर्निंग को फिनांस के विभिन्न पहलुओं पर कैसे लागू कर सकते हैं, जैसे इन्वेस्टमें ट्रेडिंग एप्लीकेशन, और अब उन्होंने करोड़ों डाटा पॉइंट की छान-बीन रियल-टाइम के आधार करने का हुनर पैदा कर लिया है। इस प्रक्रिया ने आखिरकार ऐसी जानकारी हासिल की जो पहले से मौजूद स्टैटिस्टिकल मॉडल नहीं कर सकता था। 

मशीन लर्निंग ने आज की ट्रेडिंग को जिस तरह प्रभावित किया है उनमें से एक है, विभिन्न बाजारों में रीयल-टाइम के आधार पर बड़े पैमाने पर काम्प्लेक्स ट्रेडिंग पैटर्न की पहचान करना। जब इस तरह की मशीन लर्निंग को एआई की हाई-स्पीड, बिग डेटा प्रोसेसिंग पावर के साथ जोड़ा जाता है, तो आज का ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर अपने ग्राहकों को जोखिम, मार्केट की प्रेडिक्शन और इन्वेस्टमेंट विकल्पों के मामले में स्पष्ट आकलन प्रदान कर सकता है। मशीन लर्निंग का उपयोग केवल आंकड़ों को क्रंच करने के लिए नहीं किया जाता है। 

शिकागो की एक कंपनी स्पीच रिकग्निशन और नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग टेक्नोलॉजी का उपयोग करती है ताकि फिनांशियल डाटा, कन्वर्ज़न और नोट्स की प्रक्रिया में लगने वाला समय कम किया जा सके। कंपनी के प्लेटफॉर्म के जरिये फिनांशियल प्रोफेशनल रियल-टाइम के आधार पर बाजार की इनसाइट, नोट्स और ट्रेंडिंग कंपनियों की जानकारी हासिल करने के लिए एआई का उपयोग करते हैं। 

संक्षेप में

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आज ट्रेडिंग का आवश्यक अंग है। यह अपनी विशाल डेटा प्रोसेसिंग क्षमता के कारण स्टैटिस्टिशियन की जगह ले रहा है। जब बिग-डेटा प्रोसेसिंग को इस डेटा को 'बुद्धिमानी से' अलग करने की एआई की क्षमता के साथ जोड़ा जाता है, तो इन्वेस्टर को इंसानी, फिनांशियल एडवाइजर की जगह मशीन से चलने वाला एडवाइजर मिलता है। एआई ने 21वीं सदी के शेयर बाजारों को सिरे से बदल दिया है। 

एप्लीकेशन की लम्बी प्रक्रिया की परेशानी के बगैर कम से कम कॉस्ट पर अपने पहले कुछ ट्रेड के साथ शुरुआत करना चाहते हैं? एंजेल ब्रोकिंग ऐप डाउनलोड करें और पलक झपकते ही साइन अप कर सकते हैं। मुफ्त शुरुआत और बहुत कम डॉक्यूमेंट के साथ एंजेल ब्रोकिंग इन्वेस्टरों के लिए ट्रेडिंग आसान बनाता है। साथ ही जोखिम मूल्यांकन और इन्वेस्टमेंट सुझाव के टूल भी उपलब्ध कराता है।

How would you rate this blog?

Comments (0)

Add Comment

Related Blogs

  • icon

    मार्जिन ट्रेड फंडिंग (एमटीएफ)

    13 Sep, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    ध्यान रखने लायक स्टॉक्स:...

    28 Sep, 2021

    5 min read

    READ MORE
  • icon

    एसआईपी के बारे में हर बात...

    21 Jun, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    टॉप 10 क्रिप्टोकरेंसी...

    19 Jul, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    2021 में बेगिनर्स के लिए...

    01 Sep, 2021

    11 min read

    READ MORE
  • icon

    फार्मईज़ी की सफलता की कहानी

    15 Jul, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    नए ट्रेडर्स के लिए सरल...

    13 Jul, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    इक्सिगो आईपीओ: इक्सिगो की...

    14 Jul, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    एकमुश्त इन्वेस्टमेंट के...

    22 Jun, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    ब्लू चिप्स ईंधन रिकॉर्ड

    15 Nov, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    स्टॉक मार्केट में सीएमपी क्या है?

    21 Jul, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    स्टॉक डिविडेंड पर टैक्स...

    07 Sep, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    कैपिटल गेन्स टैक्स क्या है...

    21 Sep, 2021

    11 min read

    READ MORE
  • icon

    ईएलएसएस फंड क्या हैं?

    10 Sep, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    पेयर ट्रेडिंग लॉजिक

    29 Sep, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    इलॉन मस्क की सक्सेस...

    06 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    एलआईसी सीएफओ को नियुक्त...

    12 Nov, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    आईपीओ अलर्ट! देवयानी...

    16 Jul, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    वॉरेन बफे का 2021 का...

    01 Jul, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    क्रिप्टो, भारी उतार-चढ़ाव...

    08 Jun, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    कमॉडिटी ट्रेडिंग: एक सिंहावलोकन

    15 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    भारत में कर छूट: सरल व्याख्या

    18 Jun, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    स्टॉक मार्केट में 2021 में...

    04 Jul, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    क्लीन साइंस, जीआर...

    27 Sep, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    टर्म इंश्योरेंस के बारे...

    24 Jun, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    बाय एंड नेवर सेल किस्म के इन्वेस्टर

    02 Jul, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    ट्रेडिंग का भविष्य

    20 Jun, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    ज़ोमैटो के आईपीओ प्लान पर एक नज़र

    25 Jun, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    कमॉडिटी की कीमतों में उछाल...

    23 Jun, 2021

    7 min read

    READ MORE
  • icon

    किसी भी आईपीओ में इन्वेस्ट...

    05 Jul, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    चौथी तिमाही के परिणामों के...

    19 Jun, 2021

    7 min read

    READ MORE
  • icon

    भारत के कमॉडिटी मार्केट से...

    20 Sep, 2021

    12 min read

    READ MORE
  • icon

    पेटीएम के फाउंडर और सीईओ...

    09 Sep, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    इंडियन रेलवेज़ ने साझा किया...

    01 Oct, 2021

    7 min read

    READ MORE
  • icon

    भारत में टैक्स फ्री इंटरेस्ट इन्कम

    14 Sep, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग: बेगिनर्स गाइड

    16 Sep, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    क्या आपको पेटीएम के आईपीओ...

    08 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    कंपनियां क्यों चुन रही हैं...

    22 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    गो एयर आईपीओ: गो एयर आईपीओ...

    18 Jul, 2021

    11 min read

    READ MORE
  • icon

    ओयो की सक्सेस स्टोरी:...

    17 Sep, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    क्या है गुरिल्ला ट्रेडिंग?

    22 Nov, 2021

    7 min read

    READ MORE
  • icon

    लॉरस लैब्स के शेयर: 3...

    31 Aug, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    स्टॉक ट्रेडिंग में मोमेंटम क्या है?

    02 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    2021 में आ रहे हेल्थकेयर...

    03 Jul, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    जेफ बेजॉस की सक्सेस...

    03 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    सक्सेस स्टोरी - अनिल अंबानी

    30 Sep, 2021

    6 min read

    READ MORE

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

Latest Blog

दिमागीपन! जानकारी लो

बाजार के साथ पकड़

60 सेकंड में समाचार।


किसी भी समय और कहीं भी अपनी सीखने की यात्रा शुरू करने और उसके साथ बने रहने के लिए एकदम सही स्टार्टर।

वेबसाइट देखे
smartbuzz_logo smartbuzz_promotion_img

दिमागीपन! जानकारी लो

बाजार के साथ पकड़

60 सेकंड में समाचार।

smartbuzz_logo

किसी भी समय और कहीं भी अपनी सीखने की यात्रा शुरू करने और उसके साथ बने रहने के लिए एकदम सही स्टार्टर।

smartbuzz_promotion_img

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account