लेंसकार्ट स्टार्टअप की स्टोरी

30 मार्च,2022

6

553

icon
इस आर्टिकल में लेंसकार्ट के शुरुआती दौर की बात की गई है और यह भी बताया गया है कि इसने कैसे लोकप्रियता हासिल की और अपेक्षाकृत कम समय में कैसे ग्रोथ दर्ज़ की।

आज के दौर के आईवेयर मार्केट पर एक नज़र

बड़ी संख्या में ऐसे लोगों को चश्मे की ज़रुरत होती है जिन्हें नज़र से जुड़ी दिक्कतों का पता चलता है। इसके अलावा बहुत से ऐसे लोग हैं जो फैशन के तौर पर चश्मा पहनते हैं। इन दोनों वजहों से आज भारत में हर दिन 1.5 मिलियन चश्मे बिकते हैं। छोटे स्टोर्स का मुख्य रूप से इस उद्योग पर दबदबा रहा है, लेकिन लेंसकार्ट ने खेल बदल दिया।

यह भारतीय स्टार्ट-अप ऑप्टिकल प्रेस्क्रिप्शन आईवियर में माहिर है जो यह अपने ईकामर्स मार्केटप्लेस के माध्यम से लोगों को प्रदान करता है, जिसमें कस्टमर गॉगल्स, फ्रेम, बीएलयू ग्लास और प्रेस्क्रिप्शन पावर्ड ग्लासेस की बहुत से विकल्प चुन सकते हैं। ऑनलाइन मौजूदगी के अलावा, लेंसकार्ट ने देश भर में कई खुदरा स्टोर भी खोले हैं। दिसंबर 2021 तक, कुल मिलाकर इनकी संख्या 80 हो थी। हर महीने, यह आईवियर चेन 3,00,000 से अधिक चश्मे बनाती है। चीन के ज़ेग्ज़ू में स्थित एक फैक्ट्री लगभग 20 प्रतिशत चश्मे का उत्पादन करती है। इसे भारत की यूनिकॉर्न प्रेस्क्रिप्शन आईवियर कंपनी भी कहा जाता है और इस आर्टिकल में आपको लेंसकार्ट की स्टार्ट-अप स्टोरी बताने की कोशिश की गई है।

लेंसकार्ट के मैकेनिज्म पर एक नज़र

कस्टमर के पास क्लासिक के साथ-साथ ट्रेंडी लेंस और चश्मा ऑनलाइन और लेंसकार्ट रिटेल स्टोर पर ऑर्डर करने का विकल्प है, जो कंपनी को उसी उद्योग में काम करने वाली अन्य इकाइयों के मुकाबले मज़बूत स्थिति प्रदान करता है। यह कंपनी "होम आई चेकअप" का विकल्प प्रदान करने का दावा करती है जो अपनी तरह की पहली पेशकश है। स्पेशलाइज्ड रोबोट की सहायता से, लेंसकार्ट ऐसे चश्मे देता है जो तीन डेसीमल प्लेस तक सटीक होते हैं।

दो सप्ताह की रिप्लेसमेंट गारंटी के साथ चुनने के लिए आईवियर के 5000 से अधिक विभिन्न किस्म के मॉडलों के साथ, लेंसकार्ट आईवियर उद्योग से संबंधित हर चीज बनाती है जो कॉन्टैक्ट लेंस और सनग्लासेज़ से लेकर रीडिंग ग्लास तक हो सकता है। यह स्टार्ट-अप लगातार हाई क्वालिटी प्रोडक्ट उचित मूल्य पर देता रहा है, और इसने कई सफलता प्राप्त की है।

लेंसकार्ट के पीछे दिमाग की खोज

पीयूष बंसल, सुमीत कपाही और अमित चौधरी इस कंपनी के संस्थापक हैं। श्री बंसल लेंसकार्ट की मूल कंपनी - वाल्यू टेक्नोलॉजीज के सीईओ और संस्थापक हैं। उनकी व्यावसायिक समझ कम उम्र से ही स्पष्ट हो गई थी क्योंकि वेल्यू टेक्नोलॉजीज की स्थापना तब हुई थी जब वे बैंगलोर में आईआईएम में स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल कर रहे थे। यह मूल कंपनी कस्टमर के जीवन में मूल्य जोड़ने की इच्छा के साथ बनाई गई थी। जब उन्होंने 2010 में लेंसकार्ट लॉन्च किया, तो मूल रूप से केवल कॉन्टैक्ट लेंस बेचे गए लेकिन मार्च 2011 तक इसके प्रसाद का विस्तार हुआ और धूप का चश्मा शामिल करना शुरू कर दिया।

लेंसकार्ट द्वारा नियोजित व्यवसाय मॉडल

यह कंपनी एक इन्वेंट्री-ओरिएंटेड बिजनेस मॉडल का उपयोग करती है जो बी 2 सी अवधारणा का उपयोग करती है और इन-हाउस डिजाइनरों और स्टाइलिस्टों को आईवियर ट्रेंड के बराबर रहने के लिए नियुक्त करती है जिसे बाद में निर्माताओं के साथ साझा किया जाता है। पूरी आपूर्ति शृंखला को अपनी बेल्ट के नीचे रखकर, लेंसकार्ट उन लागतों को सीमित करने में सक्षम है जो उसे वहन करनी चाहिए।

इसने ऑफलाइन स्टोर्स के लिए एक फ्रैंचाइज़ी मॉडल का उपयोग किया है ताकि यह लोगों की ज़रुरत पूरी कर सके। लेंसकार्ट के स्टोर 30 सेअधिक शहरों में हैं और इस तरह कंपनी ने महानगरीय और गैर-महानगरीय दोनों क्षेत्रों में विस्तार किया है।

लेंसकार्ट की फंडिंग

कंपनी ने 19 जुलाई, 2021 को अपने सबसे हालिया फंडिंग दौर में 22 करोड़ अमेरिकी डॉलर हासिल किए, जिसका नेतृत्व टेमासेक होल्डिंग्स और अल्फा वेव ग्लोबल ने किया था। 22 दिसंबर, 2021 तक, कंपनी ने कुल फंडिंग के तौर पर लगभग 74 मिलियन अमरीकी डालर जुटाए हैं। कंपनी के प्रमुख इन्वेस्टर्स में सॉफ्टबैंक विजन फंड, कोलबर्ग क्रैविस रॉबर्ट्स और यूनिलेज़र वेंचर्स शामिल हैं।

नोट करने लायक तथ्य

लेंसकार्ट को फिलहाल देश की शीर्ष तीन ऑप्टिकल कंपनियों में से एक माना जाता है।

यह हर महीने 1,00,000 से अधिक कस्टमर की जरूरतों को पूरा करता है।

कंपनी ने पिछले दो साल में 200 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि दर्ज़ की है।

लेंसकार्ट में 5000 से अधिक आईवियर स्टाइल मिलते हैं जो देश के अन्य ऑप्टिकल रिटेलर्स की तुलना में पांच गुना अधिक है।

लेंसकार्ट का भविष्य के प्रति दृष्टिकोण

इस कंपनी का दृष्टिकोण है कम लागत वाला फ्रैंचाइज़ी मॉडल बनाना, ताकि यह देशवासियों की ज़रूरत को बेहतर तरीके से पूरा कर सके। लेंसकार्ट लाइट मॉडल वास्तव में ऐसा करने के लिए विकसित किया गया है कि इसकी पेशकश टियर 3 और टियर 4 शहरों में उपलब्ध है और टियर 2 शहरों में उनकी उपस्थिति अधिक प्रमुख है। कंपनी का प्राथमिक उद्देश्य है उन लेंसों के बीच मौजूद अंतर को पाटना जिनका चयन किया गया है और नहीं किया गया है। कंपनी ऐसा अगले दो साल में देश भर में 500 से अधिक स्टोर खोलने की योजना के ज़रिये ऐसा करना चाहते हैं।

लेंसकार्ट की कहानी ध्यान देने लायक है क्योंकि पिछले कुछ साल में इसके रेवेन्यू में कई गुना बढ़ोतरी हुई है (यानी, वित्त वर्ष 18 और वित्त वर्ष 19 के दौरान इसके रेवेन्यू में 56 प्रतिशत की वृद्धि हुई है)। अपनी फंडिंग पहलों के ज़रिये इसने जो भारी-भरकम राशि जुटाई है, उससे भविष्य में इसमें कंपनी के काफी विस्तार की संभावना है।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है जानकारी देना, न कि इन्वेस्टमेंट के लिए कोई सलाह/टिप्स देना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने या बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account