शुरुआत करने वालों के लिए म्यूचुअल फंड निवेश

28 मई,2022

5

176

icon
समझें कि म्यूचुअल फंड क्या हैं, ये कैसे काम करते हैं, क्या लाभ प्रदान करते हैं और इनमें निवेश करने से पहले किन बातों पर विचार करना चाहिए।

म्यूचुअल फंड - एक संक्षिप्त ओवरव्यू

म्यूचुअल फंड में निवेश की शुरुआत करने वाले लोगों के लिए, इसमें निवेश करना जटिल और कठिन हो सकता है। एक नए निवेशक के तौर पर आपको जो पहला कदम उठाना चाहिए, वह उस मैकेनिज़्म को समझना है जिसके माध्यम से म्यूचुअल फंड संचालित होते हैं।

एक सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (या एसआईपी) के माध्यम से आप INR 500 की एक छोटी राशि से भी म्यूचुअल फंड में अपनी निवेश की शुरुआत कर सकते हैं। निवेश के रूप में उपयोग किए जाने वाले सीमित धन का उपयोग करने का यह तरीका अन्य निवेश मार्गों के माध्यम से उपलब्ध नहीं हो सकता है। आज बाज़ार में बहुत से म्यूचुअल फंड मौजूद हैं। आपको उस म्यूचुअल फंड को चुनना चाहिए जिसमें आप अंततः सावधानी के साथ निवेश करना चाहते हैं और सुनिश्चित करें कि इसके निवेश के उद्देश्य और जोखिम की सीमा आपको पता है।

म्यूचुअल फंड के मैकेनिज़्म को समझना

म्यूचुअल फंड एसेट मैनेजमेंट कंपनीज़ (या एएमसी) द्वारा बनाए जाते हैं जो अलग-अलग व्यक्तियों और इंस्टीटूशनल निवेशकों के निवेश को साथ में लाना चुनते हैं क्योंकि उनके निवेश के उद्देश्य एक दूसरे के साथ ओवरलैप हो सकते हैं। तब जमा किए गए निवेशों का मैनेजमेंट प्रोफेशनल फंड मैनेजरों द्वारा किया जाता है, जो निवेश की जाने वाली सिक्योरिटीज़ के प्रकार से संबंधित रणनीतिक निवेश निर्णय लेते हैं। फंड के निवेश उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए निवेशकों का असली उद्देश्य सबसे अधिक रिटर्न अर्जित करना है।

एएमसी द्वारा नियुक्त फंड मैनेजर ऐसे प्रोफेशनल्स होते हैं जिनके पास निवेश को मैनेज करने का शानदार रिकॉर्ड होता है और वे बाज़ारों से अच्छी तरह से वाकिफ होते हैं। प्रत्येक फंड हाउस अपने निवेशकों से एक एक्सपेंस रेश्यो वसूलता है जो एक म्यूचुअल फंड को मैनेज करने का वार्षिक शुल्क होता है।

निवेशक डिविडेंड्स (लाभांश) के माध्यम से पैसा कमा सकते हैं जिनका भुगतान नियमितता और/या ब्याज और पूंजी वृद्धि के साथ किया जाता है। एक निवेशक के रूप में आपके पास या तो ग्रोथ ऑप्शन के माध्यम से कैपिटल गेन्स को रीइन्वेस्ट करने का विकल्प होता है या फिर आप डिविडेंड पेमेंट्स का विकल्प चुनकर एक नियमित आय अर्जित कर सकते हैं।

म्यूचुअल फंड की अपील की खोज

म्यूचुअल फंड कई कारणों से निवेशकों को काफी आकर्षित करते हैं, जिनमें से कुछ पर नीचे चर्चा की गई है।

आसान निवेश - आप म्यूचुअल फंड में आसानी से निवेश कर सकते हैं, बाजार पर नज़र रख सकते हैं और अपनी आवश्यकताओं के अनुसार अपना निवेश कर सकते हैं। इसके अलावा, आप अपनी म्यूचुअल फंड योजनाओं को बदल भी सकते हैं रिटर्न को अपनी अपेक्षाओं के अनुसार प्राप्त करने के लिए अपने पोर्टफोलियो को पुनर्संतुलित कर सकते हैं।

मामूली प्रारंभिक निवेश पर्याप्त है - आप एक म्यूचुअल फंड योजना में एसआईपी के माध्यम से एक महीने में कम से कम 500 रुपये के साथ एक डायवर्सिफाइड म्यूचुअल फंड पोर्टफोलियो बना सकते हैं। यदि आप लम्पसम निवेश के बजाय मामूली निवेश करना चाहते हैं तो उसके लिए एसआईपी का विकल्प बढ़िया है| एसआईपी आपको कंपाउंडिंग का लाभ प्रदान करने के साथ साथ निवेश से जुड़ी आपकी समग्र लागत को कम करने में भी सक्षम हैं।

टैक्स सेविंग - आप आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के अनुसार टैक्स डिडक्शन के हकदार हैं जो प्रत्येक वित्तीय वर्ष के लिए अधिकतम 1.5 लाख रुपये पर लागू होता है और उल्लिखित वित्तीय साधनों के लिए सही है, जिनमें से टैक्स-बचत म्यूचुअल फंड एक हैं। इक्विटी से जुड़ी बचत योजनाएं (या ईएलएसएस) सबसे कम तीन साल के लॉक-इन पीरियड के साथ उच्च रिटर्न प्रदान करती हैं|

व्यावसायिक रूप से प्रबंधित - म्यूचुअल फंड में निवेश करके आप इस बात में विश्वास कर सकते हैं कि आपका पैसा एक प्रोफेशनल फंड मैनेजर द्वारा निवेश किया जा रहा है, जिसके पास शोधकर्ताओं की एक स्किल्ड टीम का सपोर्ट है। फंड मैनेजर यह निर्धारित करता है कि निवेश की रणनीति क्या होनी चाहिए, जबकि रिसर्च टीम फंड के निवेश उद्देश्यों से मेल खाती सिक्योरिटीज़ को चुनती है।

शुरुआत करने वाले लोगों के लिए के लिए म्युचुअल फंड - विचार करने योग्य क्षेत्र

शुरुआत करने के लिए आपको निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए।

एक निवेश लक्ष्य चुनें - यह समझना महत्वपूर्ण है कि आपके वित्तीय लक्ष्य क्या हैं, जैसे कि वह बजट जो आपने अपने निवेश के लिए बनाया है और वह समय सीमा जो आप अपने निवेश के लिए तय करना चाहते हैं। इससे आप जान पाएंगे कि आपको निवेश करने के लिए कितना पैसा अलग रखना चाहिए| साथ ही  आपको एक स्पष्ट विचार मिलेगा कि जोखिम को ध्यान में रखते हुए आपके लिए कौन से निवेश सबसे उपयुक्त हैं।

सही फंड प्रकार चुनें  - उपयुक्त श्रेणी निर्धारित करने के लिए विभिन्न म्यूचुअल फंड प्रकारों के बारे में केवल पढ़ने के अलावा आपको पर्याप्त रिसर्च करने की आवश्यकता है| शुरुआत करने वाले लोगों को अक्सर बैलेंस्ड या डेट फंड की सलाह दी जाती है क्योंकि स्थिर रिटर्न देने के बावजूद उनमें सीमित जोखिम होता है है|

अपने विकल्पों को कम करें - यह देखते हुए कि प्रत्येक श्रेणी के तहत उपलब्ध म्यूचुअल फंड की एक विस्तृत श्रृंखला मौजूद है, उनका विश्लेषण करना और किसमें निवेश करना है, यह चुनने से पहले तुलना करना महत्वपूर्ण है। यहां ध्यान देने योग्य कारकों में एक्सपेंस रेश्यो, मैनेजमेंट के तहत एसेट्स, फंड मैनेजर के क्रेडेंटिअल्स और पोर्टफोलियो कंपोनेंट्स शामिल हैं।

पोर्टफोलियो डायवर्सिफिकेशन  महत्वपूर्ण है - आपको कई म्यूचुअल फंडों में निवेश से जुड़े लाभों पर विचार करना चाहिए ताकि आप अपनी होल्डिंग्स में विविधता ला सकें और रिस्क एडजस्टेड रिटर्न अर्जित करने में सक्षम हों सकें।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने -बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account