निर्मला सीतारमण की सक्सेस स्टोरी

28 मार्च,2022

5

669

icon
इस आर्टिकल में भारत की वित्त मंत्री के शुरुआती जीवन और करियर की चर्चा है और उनकी उपलब्धियों का विवरण है।

निर्मला सीतारमण की स्टोरी पर एक नज़र

यदि आपको पता न हो कि वह कौन हैं, तो यह आर्टिकल आपको भारत की मौजूदा फिनांस मिनिस्टर, निर्मला सीतारमण के जीवन में थोड़ी समझ प्रदान करेगा। भारत में इस पद आसीन होने वाली पहली महिला के रूप में जानी जाने वाली, श्रीमती सीतारमण ने 1 फरवरी, 2022 को लगातार चौथे साल बजट की रूपरेखा पेश की। उनके करियर की दिशा के बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ें।

शुरुआती जीवन और शिक्षा

श्रीमती सीतारमण का जन्म 18 अगस्त, 1959 को हुआ था और उनका परिवार तमिलनाडु से है। उनका जन्म एक तमिल आयंगर ब्राह्मण परिवार में हुआ था और उनके पिता इंडियन रेलवेज़ में काम करते थे। उन्होंने मद्रास (अब चेन्नई) के स्कूलों के साथ-साथ तिरुचिरापल्ली में भी पढ़ाई की। तिरुचिरापल्ली में ही उन्होंने सीतालक्ष्मी रामास्वामी कॉलेज से इकोनॉमिक्स में बैचलर ऑफ़ आर्ट्स की डिग्री ली। 25 साल की उम्र में, निर्मला दिल्ली चली गईं जहाँ उन्होंने प्रतिष्ठित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से इकोनॉमिक्स में मास्टर ऑफ आर्ट्स और एमफिल किया।

जेएनयू में पढ़ाई के दौरान निर्मला सीतारमण की मुलाक़ात परकला प्रभाकर से हुई जिनसे उनकी शादी हुई। अलग-अलग राजनीतिक विचारधारा होने के बावजूद, इस जोड़े ने 1986 में शादी कर ली और आगे चलकर इनकी एक बेटी हुई जिसका नाम है परकला वांग्मयी।

राजनीतिक करियर की मुख्य बातें

साल 2006 में निर्मला सीतारमण भारतीय जनता पार्टी (या भाजपा) में शामिल हुईं और चार साल बाद वह पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता बनीं।

2014 में भाजपा के चुनाव जीतने के बाद, उन्हें प्रधानमंत्री के कैबिनेट में जूनियर मिनिस्टर के रूप में नियुक्त किया गया था।

उसी साल जून तक, वह आंध्र प्रदेश से राज्यसभा सांसद के रूप में चुनी गईं। 

दो साल बाद, उन्होंने चुनाव लड़ा और आखिरकार राज्यसभा चुनाव में कर्नाटक चेयर जीता।

3 सितंबर, 2017 को, उन्हें रक्षा मंत्री का पद संभालने वाली देश की दूसरी महिला के रूप में नियुक्त किया गया। इंदिरा गांधी इस पद को संभालने वाली पहली महिला थीं और निर्मला सीतारमण पहली महिला थीं जिन्होंने इसे पूर्णकालिक आधार पर ग्रहण किया था।

हालांकि निर्मला सीतारमण की सत्ता की सवारी यहाँ नहीं रुकी। 31 मई, 2019 को, उन्हें वित्त और कॉर्पोरेट मामलों के मंत्री के रूप में कार्यालय में शामिल होते देखा गया और वह देश की पहली महिला वित्त मंत्री बनीं। उनका पहला बजट उसी साल5 जुलाई को संसद में पेश किया गया।

निर्मला ने कोविड -19 महामारी का सामना किया

जब कोरोना महामारी शुरू हो गई, तो निर्मला सीतारमण कोविड-19 की इकॉनोमिक रेस्पोंस टास्क फ़ोर्स की प्रभारी बनीं। उन्हें आत्म निर्भर भारत अभियान का अनावरण करने का श्रेय दिया जाता है, जो कि हेल्थ क्राइसिस के विपरीत असर से निपटने से जुड़ा 20 लाख करोड़ रूपये का राहत पैकेज था। इस पैकेज में भारत सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा पहले घोषित किए गए अन्य पैकेज शामिल थे।  देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बनाने के लिए यह तैयार किया गया और इसका लक्ष्य भारत के लोगों को स्थानीय उत्पादों को खरीदने के लिए प्रोत्साहित करने का लक्ष्य रखा गया। भारतीय इकॉनमी को आगे बढ़ाने के लक्ष्य से जुड़ा, यह पैकेज अभी भी प्रासंगिक है क्योंकि वायरस के वेरिएंट अभी समस्या हुए हैं।

राजनीति में प्रवेश करने से पहले का जीवन

राजनीति के क्षेत्र में प्रवेश करने से पहले, निर्मला सीतारमण ने लंदन में हैबिटेट नामक एक होम डेकोर स्टोर में काम किया। उन्होंने एक इकोनॉमिस्ट की असिस्टेंट के तौर पर भी काम किया जो एक ब्रिटेन में एग्रीकल्चरल इंजिनियर्स एसोसिएशन से जुड़े थे। राजनीति की दुनिया में प्रवेश करने से पहले उनका करियर ध्यान देने योग्य है क्योंकि उन्होंने पहले प्राइसवाटरहाउसकूपर्स में सीनियर मेनेजर के रूप में काम किया और बीबीसी वर्ल्ड सर्विस में भी एक पद पर तैनात रहीं। वह 2003 से 2005 तक राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य भी रहीं।

पुरस्कार एवं सम्मान

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी ने 2019 में निर्मला सीतारमण को विशिष्ट पूर्व छात्र पुरस्कार से सम्मानित किया। साल 2019 में भी उन्हें दुनिया की 34 वीं सबसे शक्तिशाली महिला के रूप में स्थान दिया गया, और यह सम्मान उन्हें फ़ोर्ब्स मैगज़ीन की ओर से दिया गया।

निष्कर्ष

कुल मिलाकर, निर्मला सीतारमण ने काफी शानदार जीवन व्यतीत किया है और देश भर के युवाओं के लिए प्रेरणा बनी हुई है। उनकी पोलिटिकल सक्सेस और आर्थिक समझ ने उन्हें पावरफुल पद हासिल करने में मदद की जिसने उन्हें देश में सुधार के उद्देश्य से निर्णय लेने के योग्य बनाया।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है जानकारी देना, न कि इन्वेस्टमेंट के लिए कोई सलाह/टिप्स देना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने या बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account