ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए एक शुरुआती गाइड

04 मई,2022

6

268

icon
ऑप्शंस ट्रेडिंग क्या है और इसमें आमतौर पर किस तरह की स्ट्रेटेजी का उपयोग होता है।

ऑप्शंस ट्रेडिंग 101

ऑप्शंस एक तरह का डेरीवेटिव कॉन्ट्रैक्ट हैं जो उक्त कॉन्ट्रैक्ट के खरीदारों (यानी, ऑप्शंस होल्डर्स) को भविष्य में अपनी पसंद की कीमत पर सिक्योरिटी खरीदने या बेचने का अधिकार प्रदान करता है लेकिन उन पर कोई दायित्व नहीं होता। ऑप्शंस के विक्रेता इन कॉन्ट्रैक्ट के खरीदारों से प्रीमियम नाम की राशि वसूलते हैं जो उन्हें यह अधिकार प्रदान करती है। यदि ऑप्शंस होल्डर्सों के लिए मार्केट प्राइस अनुकूल नहीं है, तो उन्हें ऑप्शंस को मामूली प्राइस पर समाप्त होने देने का अधिकार है और वे इस अधिकार का उपयोग नहीं करने का ऑप्शन चुन सकते हैं। ऐसा कर वे यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि संभावित नुकसान उनके द्वारा भुगतान किए गए प्रीमियम से अधिक न हो। दूसरी तरफ, यदि बाज़ार अनुकूल दिशा में है और इस अधिकार का उपयोग करना महत्वपूर्ण हो तो ऑप्शंस होल्डर्स अपने अधिकार का प्रयोग कर सकते हैं।

ऑप्शंस आमतौर पर "पुट" और "कॉल" कॉन्ट्रैक्ट में बंटे होते हैं। पुट के तहत भविष्य में किसी समय पर पहले से तय कीमत पर अंडरलायिंग एसेट को बेचने का अधिकार होता है। इसके उलट, कॉल ऑप्शंस के तहत ऑप्शंस के खरीदार को पहले से तय कीमत को ध्यान में रखते हुए भविष्य में अंडरलायिंग एसेट को खरीदने के अधिकार होता है। इस पहले से तय कीमत को स्ट्राइक प्राइस या एक्सरसाइज़ प्राइस कहते हैं।

पॉपुलर स्ट्रेटेजी

बेगिनर्स की तरह एफएंडओ ट्रेडिंग पर नज़र डालें तो जहां तक कॉल और पुट ऑप्शंस का सवाल है, निवेशक निम्न स्ट्रेटेजी का उपयोग इस तरह कर सकते हैं कि उनके जोखिम सीमित हो।

कॉल ख़रीदना

यदि आप बाज़ार में डिरेक्शनल बेट लगाना चाहते हैं, तो आप पाएंगे कि ट्रेडिंग ऑप्शंस में कुछ फायदे हैं। यदि आपको लगता है कि किसी एसेट की कीमत बढ़ने की संभावना है, तो आप एसेट की तुलना में कम पूंजी से कॉल ऑप्शंस खरीद सकते हैं। आने वाले दिनों में यदि एसेट की कीमत बढ़ने के बजाय गिरती है, तो आपका नुकसान उस प्रीमियम तक सीमित रहेगा जिसका भुगतान आपने ऑप्शंस को खरीदने के लिए किया था और उन्हें आगे नहीं बढ़ाया था। यह विशेष रूप से उपयोगी है यदि आप एक ऐसे ट्रेडर हैं जिसकी रुचि ईटीएफ, किसी स्टॉक या इंडेक्स फंड में है और कम जोखिम उठाना चाहते हैं।यह उन लोगों के लिए भी अच्छा है जो बढ़ती कीमत से लाभ उठाने के लिए लीवरेज का उपयोग करना चाहते हैं।

पुट खरीदना

कॉल ऑप्शन जहाँ होल्डर्स को कॉन्ट्रैक्ट की समाप्ति से पहले तय कीमत पर अंडरलायिंग एसेट खरीदने का अधिकार प्रदान करता है, पुट ऑप्शन होल्डर्स को तय कीमत पर अंडरलायिंग एसेट बेचने का अधिकार प्रदान करता है। यह विशेष रूप से उपयोगी है यदि आप ऐसे ट्रेडर हैं जिन्हें ईटीएफ, किसी स्टॉक या इंडेक्स फंड में गिरावट की आशंका है और आप शॉर्ट-सेलिंग स्ट्रेटेजी से कम जोखिम उठाना चाहते हैं। यह उन लोगों के लिए भी उपयोगी है जो गिरती कीमतों से लाभ उठाने के लिए लीवरेज का उपयोग करना चाहते हैं।

कवर्ड कॉल्स

पिछली दो स्ट्रेटेजी से बहुत अलग इस कवर कॉल में अंडरलायिंग एसेट से जुड़ी पहले से मौजूद लॉन्ग पोजीशन पर कॉन्ट्रैक्ट शामिल होता है। इसे अपसाइड कॉल के रूप में देखा जा सकता है जो उस राशि के लिए बेचा जाता है जो मौजूदा पोजीशन के आकार को ऑफसेट करने में मदद करता है। इस तरीके से कवर किए गए कॉल राइटर को अंडरलायिंग पोजीशन की अपसाइड क्षमता को सीमित करते हुए आय के रूप में ऑप्शंस प्रीमियम इकठ्ठा करने की सुविधा होती है। यदि आप ट्रेडर के रूप में अंडरलायिंग एसेट की कीमत में कोई बदलाव या मामूली बढ़ोतरी की उम्मीद नहीं करते और पूरा ऑप्शन प्रीमियम इकठ्ठा करते हैं तो यह आपके लिए अनुकूल है। यह उन ट्रेडर्स के लिए भी उपयुक्त है जो कुछ डाउनसाइड प्रोटेक्शन के बदले अपसाइड पोटेंशिअल को सीमित कर सकते हैं।

प्रोटेक्टिव पुट

इसके तहत आपको उस राशि के लिए डाउनसाइड पुट खरीदना होगा जो अंडरलायिंग एसेट की मौजूदा पोजीशन को कवर करने के लिए पर्याप्त हो। इसका सीधा मतलब है कि आप एक न्यूनतम सीमा तय करते हैं जिससे नीचे का नुकसान नहीं झेल सकते। इसका मतलब यह है कि आप ऑप्शन से जुड़े प्रीमियम का भुगतान करने के लिए बाध्य हैं। यह स्ट्रेटेजी मूल रूप से नुकसान के खिलाफ बीमा पॉलिसी की तरह काम करती है। अंडरलायिंग एसेट के मालिक और डाउनसाइड सिक्योरिटी के इच्छुक ट्रेडर इस स्ट्रेटेजी को अपनाते हैं।

मैरिड पुट स्ट्रैटेजी

यह पिछली स्ट्रेटेजी (यानी, प्रोटेक्टिव पुट) की तरह ही काम करती है और आपको स्टॉक में मौजूदा लॉन्ग पोजीशन को कवर करने वाली राशि पर एट-द-मनी (या एटीएम) पुट ऑप्शन खरीदना होता है।

प्रोटेक्टिव कॉलर स्ट्रेटेजी

इसके तहत जिस इन्वेस्टर के पार डरलायिंग एसेट में लंबी पोजीशन होती है, वे एक ही स्टॉक के लिए अपसाइड या आउट-ऑफ-द-मनी कॉल ऑप्शन राइट करते समय डाउनसाइड या आउट-ऑफ-द-मनी पुट ऑप्शन खरीदते हैं।

ऑप्शंस ट्रेडिंग के लेवल का आकलन

ब्रोकर के लिए उनके साथ ऑप्शंस ट्रेडिंग जोखिम और जटिलता को ध्यान में रखते हुए इनके लिए विभिन्न लेवल तय करना बहुत असामान्य बात नहीं है।

  • आमतौर पर, लेवल 1 कवर्ड कॉल्स और प्रोटेक्टिव पुट से जुड़ा होता है, जिसमें निवेशक के पहले से ही अंडरलायिंग एसेट होता है
  • लेवल 2 में लॉन्ग कॉल और पुट के साथ-साथ स्ट्रैडल्स और स्ट्रैंगल्स की सुविधा है
  • लेवल 3 में ऑप्शंस फैलता है जिसमें ट्रेडर को एक या एक से अधिक ऑप्शन खरीदना होता है, साथ ही साथ एक ही अंडरलायिंग एसेट से संबंधित एक या अधिक अलग-अलग ऑप्शन बेचना होता है।
  • लेवल 4 में बिना हेज किए ऑप्शनों को बेचना शामिल है। इसका मतलब यह है कि ट्रेडर खुद को यहां असीमित नुकसान के लिए तैयार रखता है जिसके कारण यह सबसे जटिल स्तर है

निष्कर्ष

ऑनलाइन ऑप्शंस ट्रेडिंग करना संभव है जिसके लिए आपको बस आवेदन करना होता है और अप्रूवल मिलने पर अपनी ट्रेडिंग यात्रा शुरू की जा सकती है। आज ही एंजेल वन वेबसाइट पर जाएं ताकि और जानकारी हासिल कर सकें।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने -बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account