प्रेफरेंस शेयर क्या हैं?

22 मार्च,2022

6

423

icon
इस आर्टिकल में परिभाषा, टाइप, खूबी और खामी समेत प्रेफर्ड स्टॉक से जुड़ी हर चीज़ पर रोशनी डाली गई है।

शेयर बाजार की ऑफरिंग्स

शेयर बाजार में कई प्रकार के स्टॉक होते हैं, जिनमें कॉमन स्टॉक, प्रेफरेंस स्टॉक और सिक्लिकल स्टॉक से लेकर नॉन-सिक्लिकल स्टॉक, ग्रोथ स्टॉक और वैल्यू स्टॉक आदि शामिल हैं। ये शेयर अलग उद्देश्य पूरा करते हैं और इकॉनमी के साइकल के समय में इसका प्रदर्शन अलग-अलग हो सकता है। इसके अलावा, अलग-अलग स्टॉक, अलग-अलग इन्वेस्टर प्रोफाइल के लिए सबसे उपयुक्त हैं क्योंकि हर इन्वेस्टर की जोखिम झेलने की सीमा अलग-अलग होती हैं। इस आर्टिकल में आपको एक विशेष प्रकार के स्टॉक यानी प्रेफरेंस स्टॉक के बारे में बताने की कोशिश की गई है।

प्रेफरेंस शेयर - अर्थ

प्रेफरेंस स्टॉक के नाम से भी जाने जाने वाले इन प्रेफरेंस शेयर का मतलब किसी कंपनी के उन स्टॉक से है जो कॉमन शेयरहोल्डर्स को जारी डिविडेंड से पहले शेयरहोल्डर्स को डिविडेंड का भुगतान करते हैं। यदि कोई कंपनी दिवालिया हो जाती है, तो कंपनी की एसेट की बिक्री से होने वाले आय के भुगतान में प्रेफरेंस स्टॉकहोल्डर्स को प्राथमिकता दी जाती है। प्रेफरेंस स्टॉकहोल्डर्स के भुगतान के बाद ही सामान्य स्टॉकहोल्डर्स को भुगतान किया जाता है।

मोटे तौर पर, प्रेफरेंस स्टॉक से जुड़ा डिविडेंड निश्चित होता है जो कॉमन स्टॉक के विपरीत होता है, जिनके पास निश्चित डिविडेंड नहीं होता है। प्रेफरेंस स्टॉक से जुड़ी एक और विशेषता यह है कि वे आम तौर पर शेयरहोल्डर्स को वोटिंग अधिकार प्रदान नहीं करते हैं जो कॉमन स्टॉक करता है।

प्रेफरेंस शेयरों के प्रकार

प्रेफरेंस स्टॉक को चार अलग-अलग खंड में बांटा जा सकता है यानी कनवर्टिबल प्रेफरेंस स्टॉक, पार्टिसिपेटिंग प्रेफरेंस स्टॉक, क्युम्युलेटिव प्रेफरेंस स्टॉक, और नॉन-क्युम्युलेटिव प्रेफरेंस स्टॉक। इनमें से हर एक की नीचे बात की गई है।

क्युम्युलेटिव प्रेफरेंस स्टॉक

क्युम्युलेटिव प्रेफरेंस स्टॉक में एक शर्त होती है कि कंपनी के लिए पहले छोड़ गए शेयरहोल्डर समेत अपने सभी शेयरहोल्डर्स को सभी डिविडेंड का भुगतान करना ज़रूरी होता है, लेकिन कॉमन शेयरहोल्डर्स से पहले उन्हें डिविडेंड का भुगतान करना होता है। हालांकि इन डिविडेंड भुगतानों की गारंटी है लेकिन इनका भुगतान हमेशा समय पर भुगतान नहीं होता है। ऐसे डिविडेंड भुगतानों को "डिविडेंड इन अरियर्स" कहते हैं और ये भुगतान के समय स्टॉक के मौजूदा लीगल ओनर को दिया जाता है। कभी-कभी, क्युम्युलेटिव प्रेफरेंस स्टॉकहोल्डर्स को इंटरेस्ट दिया जा सकता है।

नॉन-क्युम्युलेटिव स्टॉक

दूसरी ओर, नॉन-क्युम्युलेटिव स्टॉक के तहत कोई अनपेड या ओमिटेड डिविडेंड जारी नहीं किये जाते हैं। यदि कोई कंपनी किसी साल के लिए डिविडेंड का भुगतान नहीं करने का निर्णय लेती है, तो ऐसे शेयरहोल्डर भविष्य में ऐसे फोरगोन डिविडेंड का दावा करने के हकदार नहीं हैं।

कनवर्टिबल प्रेफरेंस स्टॉक

इस तरह के स्टॉक में एक विकल्प होता है जो शेयरहोल्डर्स को तय संख्या में अपने प्रेफरेंस शेयरों को कॉमन शेयरों में बदलने की अनुमति देता है। आमतौर पर, यह कन्वर्जन पहले से तय तारीख के बाद किसी भी समय हो सकता है। आमतौर पर, कनवर्टिबल प्रेफरेंस शेयरों को शेयरहोल्डर के अनुरोध पर इस तरीके से कनवर्ट किया जाता है। कंपनी में ऐसा प्रोविज़न हो सकता है जो ऐसे स्टॉक के शेयरहोल्डर्स को ऐसा करने पर मज़बूर कर सकता है। कनवर्टिबल कॉमन स्टॉक की वैल्यू कॉमन स्टॉक के प्रदर्शन से जुड़ी रहती है।

पार्टिसिपेटिंग प्रेफरेंस स्टॉक

इस स्टॉक के शेयरहोल्डर्स को डिविडेंड का भुगतान पाने का अधिकार दिया जाता है, जो अतिरिक्त डिविडेंड के अतिरिक्त प्रेफरेंस डिविडेंड की सामान्य रूप से तय दर के समान मूल्य के बराबर होता है, और यह पहले से तय शर्त को ध्यान में रखते हुए निर्धारित किया जाता है। यह अतिरिक्त डिविडेंड आम तौर पर केवल तभी भुगतान किया जाता है जब आम शेयरहोल्डर्स द्वारा प्राप्त डिविडेंड की संख्या पूर्व निर्धारित प्रति शेयर मूल्य से अधिक हो। यदि कोई कंपनी लिक्विडेट हो जाती है, तो ऐसे शेयरहोल्डर्स को कॉमन शेयरहोल्डर्स को दी गई शेष आय के प्रो-राटा शेयर के अलावा स्टॉक के खरीद मूल्य का भुगतान करने का अधिकार हो सकता है।

प्रेफरेंस स्टॉक की खूबी और खामी

प्रेफरेंस स्टॉक की खूबी संक्षेप में नीचे बताई गई है।

कंपनी की एसेट पर अधिक दावा - कंपनी के दिवालिया होने की स्थिति में प्रेफरेंस शेयरहोल्डर्स का कंपनी के एसेट पर कॉमन शेयरहोल्डर्स के मुकाबले अधिक दावा होता है।

अतिरिक्त इन्वेस्टर लाभ - कनवर्टिबल प्रेफरेंस स्टॉक इन्वेस्टर्स को निश्चित संख्या में कॉमन शेयरों के बदले में इस तरह के प्रेफरेंस शेयर में ट्रेड करने का अधिकार देता है। यदि इन सामान्य शेयरों का मूल्य बढ़ना शुरू हो जाता है, तो यह ट्रेड विशेष रूप से आकर्षक हो सकता है।

प्रेफरेंस स्टॉक की पहली खामी यह है कि प्रेफरेंस स्टॉकहोल्डर्स के पास वोटिंग का अधिकार नहीं होता है जो कॉमन स्टॉकहोल्डर्स के पास होता है। इसलिए कंपनी को ऐसे शेयरहोल्डर्स से ऐसे जुड़ी नहीं रहती है जैसे वह पारंपरिक इक्विटी शेयरहोल्डर्स से जुड़ी रहती है।

निष्कर्ष

कंपनियां अक्सर प्रेफरेंस स्टॉक इशू करती हैं क्योंकि इससे उन्हें कई तरह से फायदा होता है। ऐसे शेयरहोल्डर्स को वोटिंग अधिकार न होने से कंपनी के पास ताकत होती है क्योंकि उनके पास कामकाज में ज़्यादा कंट्रोल होता है। इसके अलावा, कॉलेबल प्रेफरेंस स्टॉक के साथ, कंपनियों के पास अपने हिसाब से शेयरों की पुनर्खरीद का अधिकार होता है। इन्वेस्टर के रूप में, प्रेफरेंस स्टॉक में इन्वेस्टमेंट करने से पहले अपने इन्वेस्टर प्रोफाइल का अच्छी तरह से आकलन करना महत्वपूर्ण है।


डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है जानकारी देना, न कि इन्वेस्टमेंट के लिए कोई सलाह/टिप्स देना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने या बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account