भारतीय शेयर मार्केट पर रूस-यूक्रेन युद्ध के प्रभाव का आकलन

11 मार्च,2022

7

399

icon
रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध पर मार्केट की प्रतिक्रिया अच्छी नहीं रही। आइये समझते हैं कि भारतीय शेयर मार्केट पर इसका क्या असर हुआ।

संक्षिप्त सिंहावलोकन

वेस्टर्न हेमिस्फेयर में जो शांति थी वह रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के फरवरी के अंतिम सप्ताह में यूक्रेन पर आक्रमण करने के साथ ख़त्म हो गई। यूक्रेन के विदेश मंत्री ने इसे "फुल-स्केल आक्रमण" कहा और इसके बाद के हफ्तों में अशांति और संघर्ष थमने का नाम नहीं ले रहे। यूक्रेन के विभिन्न हिस्सों में गोलाबारी जारी है क्योंकि रूसी सेना उस पर नियंत्रण हासिल करना चाहती है। वैश्विक मार्केट पर इन घटनाओं का असर हुआ है, और कई प्रमुख सूचकांक लुढ़क गए हैं।

यूरोपीयन यूनियन ने अमेरिका और ब्रिटेन जैसे कई देशों के साथ मिलकर रूस पर प्रतिबंध लगाए हैं। इनमें हर प्रतिबंध इस तरह डिज़ाइन किया गया है कि रूस की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचे।

दुनिया ने अभी-अभी कोरोना वायरस की महामारी से हुए नुकसान से उबरना शुरू ही किया है,लेकिन बाधाओं और कीमतों में बढ़ोतरी के बारे में चिंता बरकरार है।

ऊर्जा की कीमत पर असर का आकलन

अब तक रूस दुनिया भर में ऊर्जा के सबसे बड़े आपूर्तिकर्ताओं में से एक रहा है। यूरोप विशेष रूप से रूस पर अपनी तेल आपूर्ति के एक चौथाई और गैस की एक तिहाई आपूर्ति के लिए काफी हद तक निर्भर रहा है। रूस-यूक्रेन संघर्ष की वजह से, क्रूड ऑयल की कीमतें बढ़ने लगी हैं और फिलहाल अब तक सात साल के उच्चतम स्तर के करीब हैं। यह ब्रेंट ऑयल की कीमतों में सबसे अधिक स्पष्ट है जो 100 अमरीकी डालर प्रति बैरल के पार चला गया है।

जेपी मॉर्गन चेज़ एंड कंपनी के अनुसार, रूस-यूक्रेन संघर्ष को देखते हुए दूसरी तिमाही शुरू होने पर क्रूड ऑयल की कीमत औसतन 110 अमरीकी डालर प्रति बैरल पर पहुँच जाने का अनुमान है। इसके अलावा, बैंक ने यह भी साफ़ किया है कि अगली तिमाही में क्रूड ऑयल की कीमत लगातार बढ़ने आशंका है। इस अवधि के बाद ही कीमत साल के अंत तक औसतन 90 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल पर आने लगेगी।

यूएस एनर्जी इन्फॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन के आंकड़ों के अनुसार, 2020 तक, चीन रूस के तेल-निर्यात के लिए सबसे बड़ा ग्राहक बना रहेगा। रूस ने कुल क्रूड ऑयल और कंडेन्सेट निर्यात के 42 प्रतिशत हिस्से का रुख एशिया और ओशियानिया की ओर कर दिया है, और चीन को क्रूड ऑयल और कंडेन्सेट का सबसे बड़े आयातक बन गया है।

भारत में शेयर मार्केट पर रूस -यूक्रेन युद्ध के असर का आकलन

भारत की वित्त मंत्री, निर्मला सीतारमण ने कहा है कि दोनों देशों के बीच चल रहे संघर्ष और क्रूड ऑयल की बढ़ती कीमत का भारत की फिनांशियल स्टेबिलिटी पर विपरीत असर पड़ सकता है। भारत रूस के क्रूड ऑयल के निर्यात का 1 प्रतिशत से भी कम आयात करता है। अधिकांश रिफाइनरियों के बाद से यह आंकड़ा नगण्य हैभारत में स्थित हैं, रूस द्वारा निर्यात किए जाने वाले भारी क्रूड को संसाधित करने में सक्षम नहीं हैं। इसके अलावा, रूस से भारत में तेल परिवहन से जुड़ी लागत बहुत अधिक है।

ब्रोकरेज फर्म, आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के अनुसार, यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के दो महत्वपूर्ण असर होंगे। क्रूड ऑयल की कीमतों में वृद्धि के परिणामस्वरूप सीपीआई इन्फ्लेशन लॉन्ग टर्म के लिए उच्च बनी रहेगी। इसका मतलब यह होगा कि आरबीआई को अगस्त से दिसंबर 2022 की अवधि में दरों को पहले की तुलना में अधिक बढ़ाने की ज़रुरत हो सकती है। यह तब तक संभव है जब तक सरकार पेट्रोल और डीजल पर लागू होने वाले एक्साइज़ ड्यूटी में कटौती करे ताकि ईंधन इन्फ्लेशन पर लगाम रखी जा सके है।

ब्रोकरेज फर्म का मानना है कि अगला असर यह होगा है कि यूरोपीयन यूनियन जो फिलहाल भारत से काफी कुछ आयात करता है, और आपूर्ति में बाधा से यह मांग और बढ़ाने की संभावना है। उदाहरण के लिए, भारत में बने स्टील और इंजीनियरिंग के सामान की मांग यूरोप में अब और बढ़ने की संभावना है।

भारत का तेल-आयात बिल भारी-भरकम हो सकता है लेकिन भारतीय अर्थव्यवस्था इन बाधाओं का असर कम-से-कम होने का अनुमान है।

रूस पर प्रतिबंध का जो भी देश उनका उल्लंघन करेगा, उस पर वेस्टर्न बैंकिंग सिस्टम की ओर से प्रतिशोध का आरोप लगाया जाएगा। इन प्रतिबंध चीन की वैश्विक व्यापार प्रणाली में भाग लेने की क्षमता प्रभावित हो सकती है। भारत को इसका लाभ हो सकता है क्योंकि इसे एक व्यावहारिक विकल्प के रूप में देखा जा सकता है और यह अधिक मात्रा में मैन्युफैक्चर्ड गुड्स का निर्यात कर सकता है। इसका मतलब यह है कि जापान, कोरिया, ताइवान और आसियान जैसे देशों को सबसे पहले फायदा होने की संभावना है।

इन्वेस्टर्स जो पहल कर सकते हैं

ऑयल मार्केटिंग कंपनियों को ईंधन की कीमत बढ़ने की आशंका है और भारतीय रिजर्व बैंक जैसे वैश्विक सेंट्रल बैंकों को अब अपने नीतिगत रुख पर फिर से विचार करने की ज़रुरत है। इन्वेस्टर्स को सलाह दी जाती है कि वे डर से बिकवाली न करें और इस समय ट्रेडर्स को अपनी होल्डिंग बेचने पर विचार करना चाहिए। ऐसा इसलिए है कि अभी दहशत में आने असर बुरा हो सकता है। स्टॉक खरीदते समय जोखिम सह पाने की क्षमता का ध्यान रखना चाहिए, यदि आप इस दौरान खरीदने का निर्णय लेते हैं तो जानी-मानी बड़ी कंपनियों में ही पैसा लगाना चाहिये। शांति कायम होने पर और चीजें सुलझ जाती हैं तो आप और तत्परता से इन्वेस्टमेंट करने के लिए आगे बढ़ सकते हैं।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है सिर्फ जानकारी देना न कि कोई सलाह/इन्वेस्टमेंट के बारे में सुझाव देना या किसी स्टॉक की खरीद-बिक्री की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account