शिव खेड़ा | हर सक्सेस स्टोरी बड़ी फेलियर की भी कहानी है

5.0

22 अप्रैल,2022

5

247

icon
शिव खेड़ा के मोटिवेशनल स्पीकिंग ने लोगों को प्रेरित किया है। उनके लाइफ स्टोरी पढ़ें और जानें कि यह गौर करने लायक मामला क्यों है जो पॉजिटिव थिंकिंग की शक्ति को रेखांकित करता है।

शिव खेड़ा - एक नज़र में

शिव खेड़ा राइटिंग से लेकर पब्लिक स्पीकिंग तक कई प्रतिभाओं के धनी हैं। मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में, वह अपने दर्शकों को इस तथ्य से अवगत कराने में सक्षम रहे हैं कि लगभग कुछ भी हासिल करना संभव है, बशर्ते आप पॉजिटिव थिंकिंग के साथ खुद को मानसिक रूप से तैयार करें। उनका जीवन इसी कथन का प्रमाण है क्योंकि उनकी अपनी सक्सेस आसान नहीं थी। उन्होंने कई फेलियर के आगे घुटने टेक दिए, इसके बावजूद वे अपना नाम बनाने में कामयाब रहे। इसमें बड़ा योगदान उनके बॉन्ड बनाने और पीपल स्किल का रहा। उनके शुरुआती फेलियर के बारे में जानें और कैसे उन्होंने व्यवस्थित रूप से उनमें से हर एक को दूर करने की कोशिश की।

शिव ने जिन शुरुआती झटकों पर काबू पाया

शिव खेड़ा का जन्म 13 अगस्त, 1961 को झारखंड के धनबाद में बिज़नेस फैमिली में हुआ था। "बिज़नेस फैमिली" से आपको लग सकता है कि वह अमीरी में पैदा हुए थे, लेकिन मिस्टर खेड़ा के मामले में ऐसा नहीं था। हालाँकि उनके परिवार के पास भारत में कोयले की खदानें थीं, लेकिन इन खदानों का राष्ट्रीयकरण हो गया और सरकार ने इन्हें अपने कब्जे में ले लिया। रातोंरात, खेड़ा परिवार गरीब हो गया, और शिव खेड़ा को अपने और अपने परिवार के लिए संघर्ष करना पड़ा। पारिवारिक कोयला खदानों को जब्त किए जाने से एक साल पहले उनके पिता का निधन हो गया था और वह अपने पीछे बड़ा कर्ज़ छोड़ गए, और उम्मीद थी कि शिव इन्हें चुकायेंगे। इन दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं से कुछ हफ्ते पहले शिव की शादी हो गई थी, उनकी एक नई दुल्हन थी, वह जल्द ही गर्भवती हो गईं और उनकी एक बेटी हुई । खर्च और दबाव बढ़ने के साथ, शिव ने तीन अलग-अलग व्यावसायिक उपक्रमों में हाथ आज़माया, और ये सभी विफल हो गए।

खेड़ा ने भारत में अपना कारोबार बंद करने का विकल्प चुना और विदेश में संभावनाओं की तलाश शुरू करने की कोशिश की। उन्होंने 13 नवंबर, 1975 भारत छोड़ टोरंटो चले गए, जहां उन्होंने कार की धुलाई का काम किया। यह काम उन्होंने डेढ़ साल तक किया, फिर उन्होंने इंश्योरेंस बेचा और अच्छा प्रदर्शन न करने के कारण लगभग तीन महीने में ही उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया।

जीवन को लेकर रवैये में बदलाव

कुछ महत्वपूर्ण क्षण थे जिन्होंने शिव के जीवन की दिशा बदल दी। इन क्षणों में से एक वह था उन्होंने डॉ नॉर्मन विंसेंट पील के एक कार्यक्रम में भाग लिया, जिन्होंने "द पावर ऑफ पॉजिटिव थिंकिंग" नामक पुस्तक लिखी है। यह उनके जीवन का एक महत्वपूर्ण क्षण था क्योंकि शिव खेड़ा ने महसूस किया कि दुनिया के बारे में उनकी धारणा गलत थी। वह पहले अपनी फेलियर के लिए दुनिया को दोषी ठहराते थे, जब वह यह भूल रहे थे कि वही अपने लिए सबसे बड़ी परेशानी हैं। बाहर से चीजें नहीं बदलीं, उनका रवैया काफी बदल गया। इस व्यवहारिक बदलाव ने शिव खेड़ा के जीवन की दिशा बदल दी। वह जल्द ही अमेरिका चले गए और तीन अलग-अलग बिज़नेस वेंचर शुरू किए। उन्होंने 1984 में कैलिफ़ोर्निया स्थित एक कंपनी के साथ गठजोड़ भी किया। उन्होंने इस कंपनी के न्यू जर्सी ऑपरेशन को बिना किसी ग्राहक के शुरू किया, लेकिन अंततः इसे लगभग 500 ग्राहकों के साथ बेच दिया।

शिव के रवैये में बदलाव ने उन्हें अपने पिछले इंश्योरेंस कार्यक्रम को एक अलग नजरिए से देखा। इंश्योरेंस कंपनी में काम करने के दौरान, उसे केवल कमीशन मिलता था और उन्हें भुगतान तभी मिलता था जब वह इंश्योरेंस पॉलिसी बिकती थीं। इस दौरान, वह ऐसे लोगों से भी मिले, जिन्हें दरअसल बिना काम के पैसे मिलते थे। इससे उन्हें समझ में आया कि पैसा बनाने और पैसा कमाने में बहुत बड़ा अंतर है। पैसा बनाने के लिए ज़रूरी नहीं कि आप खुद मेहनत करें, कमाने के लिए ऐसा करना ज़रूरी है क्योंकि ऐसा करने के लिए आपको अपनी नैतिकता और ऊर्जा लगानी पड़ती है। इसलिए पैसा कमाना कहीं अधिक फायदेमंद था।

समाज के लिए कुछ करना

शिव खेड़ा को जब अपने व्यक्तिगत, प्रोफेशनल और सामाजिक जीवन में बदलाव दिखने लगा, तो उन्हें लगा कि उन्हें समाज के लिए कुछ करना चाहिए। उन्हें जीवन में किसी ने दिशा दी, वे इसके लिए बहुत आभारी थे। अब उन्होंने दूसरों को दिशा देने की सोची। उन्होंने अमेरिका की बेहद सख्त जेलों में स्वैच्छिक रूप से ऐसा किया। वह जिन अपराधियों के संपर्क में आए, वे कोई छोटे-मोटे अपराधी नहीं थे, बल्कि खूंखार अपराधी थे जिन्होंने गंभीर अपराध किए थे। खेड़ा ने उन्हें आत्म-सम्मान और ऐटीच्यूड कार्यक्रम सिखाना शुरू किया और उनके जीवन के प्रति उनकी धारणा को बदलने में उनकी मदद की। उनकी समझ को सफलता मिली और फिर उन्होंने दुनिया भर के साथ अपनी यह समझ साझा की। उनके ग्राहकों में आज कैनन, सिटीबैंक, डीएचएल, एचपी, मर्सिडीज-बेंज, नेस्ले, टाटा स्टील, सनोफी और मारुति सुजुकी आदि शामिल हैं।

उनका दृढ़ विश्वास है कि विनर्स अलग काम करने के बजाय वही काम करते हैं जो हर कोई करता है, वे बस उन्हें अलग तरह से करते हैं।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है सिर्फ जानकारी देना न कि कोई सलाह/इन्वेस्टमेंट के बारे में सुझाव देना या किसी स्टॉक की खरीद-बिक्री की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account