स्टॉक ट्रेडिंग बॉट

23 नवम्बर,2021

7

804

icon
स्टॉक ट्रेडिंग बॉट स्टॉक ट्रेडर्स को ऑटोमेटिक तरीके से शेयर और अन्य एसेट खरीदने, बेचने और ट्रेड करने की सुविधा प्रदान करते हैं, और ऑटोमेटिक तरीके से मुनाफा तय करने के लिए तय ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी से ट्रेड को अंजाम देते हैं। आज के संदर्भ में उन्हें बेहतर ढंग से समझने के लिए आगे पढ़ें।

परिचय

जैसे-जैसे तकनीक विकसित हुई है, वैसे-वैसे साधन भी विकसित हुए हैं जिससे ट्रेडिंग की संभावना बढ़ी है। विकास की तीव्र गति इंटरनेट के क्षेत्र में एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग को आसान बनाया है। अब जबकि कई व्यापारियों ने खुद को एल्गोरिथमिक ट्रेडर्स के रूप में स्थापित करने की मांग की है, उन्हें अक्सर अपने ट्रेडिंग रोबोटों को सही से कोडिंग करने में कठिनाई होती है। एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग से संबंधित गलत जानकारी ढूंढना आसान है जो विचलित परिणामों के लिए जिम्मेदार है।

स्टॉक ट्रेडिंग बॉटस के बारे में और अधिक जानने के लिए पढ़ें और पता लगाए कि वह कैसे इस तरह के मुद्दों को ठीक करते हैं।

समझें कि ट्रेडिंग रोबोटस क्या हैं

सरल शब्दों में, एक एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग बॉट एक कंप्यूटर कोड को संदर्भित करता है जो वित्तीय बाजारों में खरीदऔर बिक्री संकेतों को उत्पन्न करने और निष्पादित करने में सक्षम है। ऐसे बॉट की मुख्य विशेषताएं निम्नलिखित हैं।

  • एंट्री रूल्स जो खरीदने या बेचने का समय स्पष्ट करने में मदद करते हैं
  • एग्जिट रूल्स जो बताते हैं कि वर्तमान स्थिति को कब बंद करना है
  • पोज़ीशन साइज़िंग - ये नियम खरीदने या बेचने के लिए आवश्यक राशि निर्धारित करते हैं

एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग में भाग लेने के लिए इंटरनेट कनेक्शन और एक कंप्यूटर की आवश्यकता के अलावा, ट्रेडर्स को एक इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का उपयोग करना होगा।

एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग रणनीतियाँ

एक एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग रणनीति विकसित करने से पहले, प्रत्येक रणनीति के कुछ प्रमुख विशेषताओं पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है।

  • शुरुआत के लिए, रणनीति को मूल रूप से आर्थिक और बाजार के दृष्टिकोण से अच्छा होना चाहिए।
  • रणनीति विकसित करने के लिए गणित को शामिल करने वाले संभव स्टैटिस्टिकल मॉडल का उपयोग किया जाना चाहिए।
  • ट्रेडर्स को यह समझना चाहिए कि उनके रोबोट को क्या जानकारी पकड़नी चाहिए। इसके लिए, एक ट्रेडर का रोबोट स्पॉटेबल, नियमित बाजार क्षमता हासिल करने में सक्षम होना चाहिए। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग रणनीतियां ठोस नियमों का उपयोग करती हैं जो बाजार के व्यवहार का लाभ उठाती हैं। बाजार में एक ही अप्रभावीता एक रणनीति बनाने के लिए पर्याप्त नहीं है।

यह निम्नलिखित रणनीतियाँ हैं जिन पर एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग रोबोटों को विचार करना चाहिए - लेकिन इन तक सीमित नहीं हैं।

  • फंडामेंटल एनालिसिस - यह आय डेटा या कमाई रिलीज पर नोट्स पर विचार करके किया जा सकता है।
  • मैक्रोइकॉनॉमिक न्यूज़ - उदाहरण के लिए ब्याज दर में बदलाव को लें।
  • टेक्निकल एनालिसिस - उदाहरण के लिए, मूविंग एवरेज यहां प्रासंगिक हैं।
  • स्टैटिस्टिकल एनालिसिस - यहां एक प्रासंगिक उदाहरण के लिए देखिये को-इंटीग्रेशन या को-रिलेशन।
  • बाजार की माइक्रो संरचना समान रूप से संभव है।

प्रारंभिक शोध एक रणनीति के विकास से संबंधित है जो एक ट्रेडर की व्यक्तिगत विशेषताओं के लिए सबसे उपयुक्त है। यहां, समय की प्रतिबद्धता, पर्सनल रिस्क प्रोफाइल और ट्रेडिंग कैपिटल प्रासंगिक हैं।

इसके बाद बाजार में बार-बार होने वाली अक्षमताओं पर ज़ूम इन करना संभव है। एक बार जब यह पहचाना जाता है, तो एक ट्रेडिंग रोबोट को कोड करना संभव है जो एक ट्रेडर की व्यक्तिगत विशेषताओं के अनुरूप है।

बैकटेसटिंग और ऑप्टिमाइजेशन के महत्व

बैकटेस्टिंग में एक ट्रेडर के ट्रेडिंग रोबोट को मान्य करना शामिल है जिसमें एक कोड को क्रॉस-चेक किया जाता है ताकि यह सुनिश्चित किया जाये यह वही करे जो ट्रेडर चाहता है। इसका मतलब यह भी है कि ट्रेडर को यह समझना होगा कि रणनीति, अलग-अलग समय में, बाजार की स्थितियों और विविध संपत्ति वर्गों पर कैसे प्रदर्शन करेगी।

जब कोई व्यापारी काम करने वाले रोबोट को कोड करता है, तो उसे ओवरफिटिंग बायस को कम करते हुए अपने प्रदर्शन को अधिकतम करने की कोशिश करनी चाहिए। ट्रेडिंग रोबोट के प्रदर्शन को अधिकतम करने के लिए, ट्रेडर को सबसे पहले एक संभव प्रदर्शन माप चुनना होगा जो रिस्कऔर रिवॉर्ड जैसे तत्वों को जानने में सक्षम है।

ओवरफिटिंग बायस उन मामलों में उत्पन्न होती है जब एक ट्रेडिंग बॉट पिछले डेटा पर बहुत करीब से आधारित होता है। इस प्रकार का बॉट अपने ट्रेडर्स को उच्च प्रदर्शन का आभास देगा। हालांकि, क्योंकि भविष्य कभी भी अतीत को पूरी तरह से प्रतिबिंबित नहीं कर सकता है, यह रणनीति विफल हो सकती है। अतिरिक्त डेटा के साथ प्रशिक्षण करके, अनावश्यक इनपुट तत्वों को हटाना और मॉडल को सरल बनाना ओवरफिटिंग को रोक सकता है।

लाइव एग्ज़िक्यूशन

बशर्ते उपरोक्त कारकों पर विचार किया जाए और लागू किया जाए, तो ट्रेडर्स वास्तविक धन के साथ लाइव ट्रेड कर सकते हैं। लेकिन उन्हें भावनात्मक उतार-चढ़ाव का सामना करने के लिए और तकनीकी मुद्दों का समाधान करने के लिए तैयार रहना चाहिए। इसमें सही ब्रोकर का चयन करने और बाजार जोखिमों के साथ-साथ ओपेरशनल जोखिमों को प्रबंधित करने में सक्षम तंत्र को लागू करने की क्षमता शामिल होनी चाहिए। 

उतना ही महत्वपूर्ण है रोबोट के साथ जुड़े प्रदर्शन की पुष्टि करने की क्षमता और क्या यह परीक्षण चरण के दौरान अनुभव की गई चीजों के समान है।

इसके बाद, ट्रेडर बॉट की निगरानी यह सुनिश्चित करने के लिए की जानी चाहिए कि बाजार की दक्षता, जिसके कारण रोबोट को डिजाइन किया गया था वह अभी भी कार्यात्मक है।

निष्कर्ष

जब तक अनुभवहीन ट्रेडर सख्त दिशानिर्देशों का पालन करते हैं, वह सफल हो सकते हैं। आकांक्षी व्यापारियों को हमेशा अपनी उम्मीदों पर नियंत्रण रखना चाहिए।

एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग लाभदायक हो सकती है पर इसकी सफलता इसे समझने की क्षमता में है। कोर्सेज या शिक्षक जो पर्याप्त समझ के बिना हाई रिवार्ड्स की गारंटी देते हैं, उन्हें सावधानी से समझा जाना चाहिए।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न1. क्या होता है एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग बॉट?
उत्तर1. एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग बॉट एक कंप्यूटर कोड को संदर्भित करता है जो वित्तीय बाजारों में खरीद और बेचने के संकेतों को उत्पन्न करने और निष्पादित करने में सक्षम है।

प्रश्न २. ट्रेडिंग रोबोट से जुड़ी कुछ विशेषताओं के नाम बताएं?
उत्तर 2 . ट्रेडिंग बॉट से जुड़ी विशेषताओं में एंट्री रूल्स, एग्ज़िट रूल्स और पोज़िशन साइज़िंग शामिल है।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account