टैक्स फ्री बॉन्ड्स: टैक्स सेविंग बॉन्ड्स 2022

09 जून,2022

5

81

icon
समझें कि टैक्स सेविंग बॉन्ड क्या हैं, उन पर लागू टैक्स के बारे में जानें और साथ ही समझें कि वे टैक्स फ्री बॉन्ड से कैसे भिन्न हैं।

टैक्स की भूमिका को समझना

भारत दुनिया का दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला देश है। इसकी सरकार यह मानती है कि उसे अपने नागरिकों को कई तरह की सुविधाएं प्रदान करने के लिए उन पर टैक्स लगाना चाहिए, जिनका जनता बाद में आनंद ले सके।  सभी टैक्सपेयर्स इनकम टैक्स देने के लिए बाध्य हैं। वर्तमान में देश 35 मिलियन से अधिक टैक्सपेयर्स हैं जिनसे सामूहिक रूप से बड़ी मात्रा में टैक्स मिलता है। हालांकि कुछ लोग टैक्स को एक खर्च के रूप में देखते हैं जिसे उन्हें भरना लगता है| कई तरह के टैक्स का उनके जीवन पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ सकता है। भारत सरकार इस तथ्य को पहचानती है कि वह अपने नागरिकों पर टैक्स का बोझ नहीं डालना चाहती है, जिसके कारण वह टैक्स सेविंग बॉन्ड की पेशकश करती है ताकि लोगों के पास अन्य योजनाओं के बीच टैक्स बचाने का एक साधन हो।

टैक्स सेविंग बॉन्ड की परिभाषा 

टैक्स सेविंग बॉन्ड को सरकार द्वारा पेश किए जाने वाले इंस्ट्रूमेंट्स के रूप में समझा जा सकता है जो लोगों को टैक्स बचाने में मदद करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। ये विशेष डॉक्यूमेंट उनके मालिकों को इनकम टैक्स अधिनियम के तहत निर्धारित टैक्स के अनुसार टैक्स बेनिफिट्स प्रदान करते हैं। यदि आप इन बॉन्ड्स में निवेश करना चुनते हैं तो आपको उन्हें लॉक-इन पीरियड के लिए रखना होगा जो वर्तमान में 5 वर्ष है। इस तथ्य के कारण उन्हें मीडियम से लॉन्ग टर्म के निवेश साधनों के रूप में बांटा गया है।

बॉन्ड एक डॉक्यूमेंट है जो अपने होल्डर्स को इसमें निवेश करने के बदले में रिवॉर्ड और बेनिफिट्स देने का वादा करता है। एक इशूअर इन बॉन्ड्स को ओनर को इशू करने के लिए जिम्मेदार होता है, जिसके नाम के तहत ये बॉन्ड मौजूद हैं।

टैक्स सेविंग बॉन्ड के साथ, बॉन्डहोल्डर्स के लिए यह संभव है कि वे कुल टैक्स में से एक निश्चित राशि की बचत कर सकें जिसका उन्हें  भुगतान करना है। इन बॉन्ड्स को खरीदकर, व्यक्ति उन पर एक निश्चित ब्याज अर्जित कर सकते हैं।

हालांकि टैक्स सेविंग बॉन्ड शुरू में किसी की नजर में नहीं आते हैं, जबकि वे अच्छे रिटर्न प्रदान करते हैं और उनमें जोखिम नहीं होता जैसा कि आमतौर पर अन्य निवेशों में होता है। यह उन्हें उन लोगों के लिए सबसे अच्छा निवेश है जो जोखिम बिना पैसा बचाना चाहते हैं। यदि तत्काल रिटर्न से अधिक के बाद लॉन्ग टर्म रिटर्न की मांग की जाती है, तो टैक्स सेविंग बॉन्ड इस मामले में बेहतरीन हैं।

टैक्स सेविंग बॉन्ड पर लागू टैक्सेशन 

इनकम टैक्स अधिनियम की धारा 80CCF टैक्स सेविंग बॉन्ड का आनंद लेने वाले विशेषाधिकारों की रूपरेखा तैयार करती है। यहां, व्यक्ति अपने स्वयं के बॉन्ड पर INR 20,000 तक की डिडक्शन के हकदार होते हैं। इसका मतलब यह है कि बॉन्ड होल्डर अपनी टैक्सेबल इनकम  को प्रत्येक वर्ष 20,000 रुपये तक कम कर सकते हैं, जो कि उनकी टैक्स की कुल राशि से बचत होगी| और जिसे अन्यथा उन्हें  टैक्स  के रूप में भुगतान करना होता। यहां यह ध्यान देने योग्य है कि इस डिडक्शन में INR 1.5 लाख शामिल नहीं है जो कि इनकम टैक्स  अधिनियम की धारा 80C के तहत उल्लिखित है।

टैक्स-फ्री बॉन्ड और टैक्स सेविंग बॉन्ड के बीच अंतर 

वर्तमान में बाजार टैक्स सेविंग बॉन्ड के अलावा टैक्स-फ्री बॉन्ड भी ऑफर करता है।  कि नाम से पता चलता है, टैक्स-फ्री बॉन्ड वे होते हैं जो टैक्स से मुक्त होते हैं यानी ये बॉन्डहोल्डर होते हैं जो कोई टैक्स देने के लिए बाध्य नहीं होते। यह देखते हुए कि बॉन्ड के दो रूपों के समान नाम हैं, दोनों में कंफ्यूज़ होना संभव है। नीचे दी गई तालिका से आप टैक्स सेविंग बॉन्ड और टैक्स-फ्री बॉन्ड के बीच के अंतर को समझ सकेंगे।

विचार का क्षेत्र

टैक्स सेविंग बॉन्ड 

टैक्स-फ्री बॉन्ड 

व्यापक परिभाषा

इन बॉन्ड्स पर टैक्स लागू होते हैं, लेकिन ये निवेश टैक्स डिडक्शन के लिए एलिजिबल हैं

इन बॉन्ड्स पर उनके द्वारा अर्जित ब्याज पर कोई टैक्स नहीं लगाया जाता है

इनकम टैक्स सेक्शन एप्लीकेबल  

इन बॉन्ड्स पर लागू डिडक्शन प्रावधान धारा 80CCF के तहत उल्लिखित है

इनकम टैक्स अधिनियम की धारा 80सी में उल्लिखित टैक्स डिडक्शन  यहां लागू नहीं होता है



ब्याज 

सरकार इन बॉन्ड्स पर अर्जित ब्याज पर टैक्स लगाती है

सरकार इन बॉन्ड्स पर अर्जित ब्याज पर कोई टैक्स नहीं लगाती है

डिडक्शन की अनुमति 

बॉन्डहोल्डर प्रत्येक वर्ष INR 20,000 के अधिकतम डिडक्शन के हकदार होते हैं

यहां किसी डिडक्शन की अनुमति नहीं है

समापन 

टैक्स सेविंग बॉन्ड उन लोगों के लिए एक अच्छा है जो सीमित जोखिमों उठाते हुए लॉन्ग टर्म में निवेश करना चाहते हैं। इन बॉन्ड्स में निवेश की वैल्यू इसलिए है क्योंकि ये सरकार द्वारा जारी किए जाते हैं, और  इसलिए बॉन्ड ओनर इस बात से निश्चिन्त हो सकते हैं कि बॉन्ड खरीदते  समय उनसे वादा किए गए रिवार्ड्स उन्हें प्रदान किए जाएंगे।



डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने -बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account