म्यूचुअल फंड के प्रकार और उनके लाभ

11 जून,2022

5

82

icon
उन विभिन्न रूपों को समझें जिनमें म्यूचुअल फंड योजनाएं मौजूद हैं और वे अलग-अलग निवेशक प्रोफाइल के अनुकूल हैं।

म्यूचुअल फंड निवेशकों को एक डाइवर्सिफाइड  पोर्टफोलियो बनाने का सबसे आसान और सबसे फ्लेक्सिबल तरीका प्रदान करते हैं।  वर्तमान समय में कई म्यूचुअल फंड मौजूद है जिन्हें निवेशकों के अलग-अलग जोखिम प्रोफाइल को ध्यान में रखते हुए डिज़ाइन किया गया है। एक व्यापक ढंग से, म्यूचुअल फंड को डेट, इक्विटी और/या दोनों के मिश्रण में निवेश करने के लिए समझा जा सकता है। इसके अलावा, उन्हें या तो ओपन-एंडेड या क्लोज-एंडेड योजनाओं के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। इन्हे समझने के लिए पढ़ना जारी रखें।

ओपन-एंडेड म्यूचुअल फंड निवेशक किसी भी समय योजना में निवेश या प्रवेश, रिडीम और/या बाहर निकल सकते हैं क्योंकि मैच्योरिटी का कोई निश्चित पीरियड नहीं होता।

इसके विपरीत, क्लोज-एंडेड म्यूचुअल फंड की मैच्योरिटी का एक निश्चित पीरियड होता है। निवेशक अपने प्रारंभिक पीरियड यानी न्यू फंड ऑफर (या एनएफओ) के पीरियड में होते हैं इस कारण वे केवल इन फंडों में निवेश करने के हकदार होते हैं| फंड की मैच्योरिटी  के समय निवेश ऑटोमेटिकली रिडीम किया जाएगा।  अब जबकि आपने म्यूचुअल फंड के दोनों रूपों को समझ लिया है, निम्नलिखित म्यूचुअल फंड प्रकारों पर विचार करें।

1. ग्रोथ के लिए तैयार इक्विटी योजनाएं

इस प्रकार का म्यूचुअल फंड बहुत लोकप्रिय है क्योंकि यह निवेशकों को शेयर बाजार में भाग लेने की अनुमति देता है।  हालांकि इस तरह के निवेश में उच्च जोखिम होता है, लेकिन यह लंबे समय में सबसे अधिक रिटर्न लाने की क्षमता भी रखता है।  निवेशक जो अपनी प्रमुख कमाई के स्तर पर हैं, वे इनमें निवेश कर  सकते हैं क्योंकि वे लॉन्ग टर्म में बेहतर रिटर्न प्रदान करते हैं। इन योजनाओं को आगे निम्नलिखित श्रेणियों में बांटा जा सकता है

1.1  सेक्टर-स्पेसिफिक फंड - इस प्रकार का म्यूचुअल फंड एक स्पेसिफिक सेक्टर (जैसे माइनिंग या इंफ्रास्ट्रक्चर) या सेगमेंट  (स्मॉल-कैप, मिड-कैप या लार्ज-कैप) में पैसा निवेश करता है।  जोखिम के लिए उच्च सीमा वाले निवेशक इसे चुन सकते हैं। इसमें हाई रिटर्न लाने की क्षमता होती है।

1.2 इंडेक्स फंड - यह उन निवेशकों के लिए सबसे उपयुक्त है जो इक्विटी-ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं, लेकिन फंड मैनेजर पर निर्भर नहीं होना चाहते। ये उन फंड निवेशकों को रिटर्न प्रदान करते हैं जो उनके द्वारा अनुसरण किए जाने वाले इंडेक्स के साथ अलाइन होते हैं। वे उन निवेशकों के लिए अच्छे हैं जो मध्यम जोखिम उठा सकते हैं| 

1.3 टैक्स सेविंग फंड - जैसा कि नाम से पता चलता है, ये फंड अपने निवेशकों को टैक्स लाभ प्रदान करते हैं। इक्विटी से जुड़ी बचत योजनाएं यहां ध्यान देने योग्य हैं। इनमे 3 साल की लॉक-इन पीरियड होता है और वे आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत टैक्स डिडक्शन के हकदार होते हैं

2. मनी मार्केट फंड्स

इस तरह के फंड शॉर्ट टर्म डेट इंस्ट्रूमेंट्स में पैसा निर्देशित हैं और निवेशकों को कम समय में उचित रिटर्न प्रदान करते हैं। जो निवेशक कम जोखिम उठा सकते हैं और वे अपनी अतिरिक्त आय को शॉर्ट टर्म निवेश में लगाना चाहते हैं, उन्हें इस म्यूचुअल फंड निवेश का विकल्प चुनना चाहिए।

3. निश्चित आय म्युचुअल फंड

इस तरह का म्यूचुअल फंड अपने पैसे का एक बड़ा हिस्सा डेट या फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट्स जैसे बॉन्ड, डिबेंचर या सरकारी सिक्योरिटीज़ में निर्देशित करता है। इस निवेश में कम जोखिम होता है और ये कम रिटर्न प्रदान करते हैं। जो निवेशक कम जोखिम उठा सकते हैं और जो आय का एक स्थिर स्रोत उत्पन्न करने की उम्मीद करते हैं, उन्हें इस तरह के म्यूचुअल फंड का विकल्प चुनना चाहिए।  यहां यह ध्यान देने योग्य है कि वे क्रेडिट जोखिमों के अधीन हैं।

4. बैलेंस्ड फंड्स 

इस तरह का म्यूचुअल फंड निवेश को इक्विटी और डेट में बांट देता है। एलोकेशन बाजार जोखिम के अनुसार बदलता रहता हैं। जो निवेशक तुलनात्मक रूप से कम जोखिम के साथ मध्यम रिटर्न की तलाश में हैं, उन्हें इस पर विचार करना चाहिए।

5. हाइब्रिड म्यूचुअल फंड

इन म्यूचुअल फंडों को मासिक आय योजना भी कहा जाता है और यह बैलेंस्ड फंडों की तरह ही काम करते हैं। इक्विटी एसेट्स का प्रोपोरशन उनकी तुलना में कम होता है जिसके कारण उन्हें मार्जिनल इक्विटी फंड कहा जाता है। रिटायर्ड निवेशक जो तुलनात्मक रूप से कम जोखिम उठाते हुए नियमित आय अर्जित करना चाहते हैं, उन्हें इस तरह के म्यूचुअल फंड पर विचार करना चाहिए।

6. गिल्ट फंड

ऐसे फंड केवल सरकारी सिक्योरिटीज़ में निवेश करते हैं। ये उन निवेशकों के लिए हैं जो जोखिम से बचते हैं और नहीं चाहते कि उनके निवेश में कोई क्रेडिट जोखिम हो। यहां यह ध्यान देने योग्य है कि वे हाई इंटरेस्ट रेट जोखिमों के अधीन हैं।

 

समापन 

उपरोक्त म्यूचुअल फंडों में से, विभिन्न प्रकार के निवेशक अपने विविध निवेश लक्ष्यों, जोखिम क्षमता, टाइम एलोकेशन के इच्छुक होते हैं और फंड के उद्देश्यों और रणनीतियों को देखते हुए अलग-अलग फंडों को चुन सकते हैं। किसी भी म्यूचुअल फंड में निवेश करने से पहले आपको पर्याप्त रिसर्च करनी चाहिए और यह पता लगाना चाहिए कि यह आपके लिए उपयुक्त है या नहीं।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने -बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account