विभिन्न प्रकार के स्टॉक

14 मार्च,2022

8

153

icon
इस आर्टिकल में शेयर मार्केट्स में उपलब्ध स्टॉक के अलग-अलग फॉर्म्स की बात की गई है।

विभिन्न प्रकार के स्टॉक्स एक नज़र

शेयर मार्केट आपकी कल्पना से अधिक जटिल हैं और स्टॉक की एक विस्तृत श्रृंखला से बने होते हैं जो किसी स्टॉक एक्सचेंज में कारोबार करने वाले सार्वजनिक रूप से लिस्टेड शेयर के परे होते हैं। इन्वेस्टर्स के रूप में मार्केट में उपलब्ध विभिन्न प्रकार के शेयरों और उन विशेषताओं को समझना ज़रूरी है जो उन्हें एक दूसरे के अलग करती हैं। यह जानकारी आपको यह निर्धारित करने में मदद कर सकती है कि वे वायबल इन्वेस्टमेंट होंगे या नहीं। नीचे लिस्टेड कुछ अलग-अलग प्रकार के स्टॉक हैं जिनका उद्देश्य आपके द्वारा उनसे संबंधित किसी भी भ्रम को दूर करना है।

कॉमन और प्रेफर्ड स्टॉक

ऑर्डिनरी स्टॉक के तौर पर जाने जाने वाले कॉमन स्टॉक रखना किसी कंपनी के आंशिक ओनरशिप रखने जैसा है। इस स्टॉक वर्ग के साथ, इन्वेस्टर्सों के लिए कंपनी द्वारा भुगतान किए गए लाभांश के रूप में कंपनी द्वारा अर्जित लाभ का लाभ उठाना संभव है। कॉमन स्टॉकधारक किसी कंपनी के बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स का चुनाव करने के लिए जिम्मेदार होते हैं और उन नीतियों पर वोट करने के हकदार होते हैं जो कंपनी के कॉर्पोरेट संचालन को प्रभावित करती हैं। ऐसी कंपनियों द्वारा किए गए लिक्विडेशन कार्यक्रम इस स्टॉक वर्ग के धारकों को कंपनी की संपत्ति पर अधिकार प्रदान करते हैं; हालांकि यह केवल तभी लागू होता है जब प्रेफर्ड स्टॉक शेयरधारकों के साथ-साथ अन्य डेट होल्डर्स को भुगतान किया गया हो। कॉमन स्टॉक के प्राप्तकर्ताओं में आमतौर पर कंपनी के संस्थापकों के साथ-साथ कर्मचारी भी शामिल होते हैं।

दूसरा हिस्सा है कि प्रेफर्ड स्टॉक शेयरधारकों को डिविडेंड पेमेंट करते हैं जो नियमित किए जाते हैं और जो आम स्टॉक शेयरधारकों को लाभांश जारी किए जाने से पहले प्रदान किए जाते हैं। यदि कोई कंपनी भंग हो जाती है या दिवालिया हो जाती है, तो प्रेफर्ड शेयरधारक पहले शेयरधारक होते हैं जिन्हें भुगतान किया जाना होता है। इस तरह का स्टॉक उन इन्वेस्टर्स से सबसे उपयुक्त है जो इन्कम का पैसिव ज़रिया बरकरार रखना चाहते हैं। इस स्टॉक के धारकों को वोटिंग का अधिकार प्रदान नहीं किए जाते हैं।

अल्फाबेट इंक जैसी कई कंपनियां कॉमन और प्रेफर्ड दोनों किस्म के स्टॉक जारी करती हैं। GOOGL इसके क्लास ए कॉमन स्टॉक के रूप में काम करता है जबकि GOOG इसके प्रेफर्ड क्लास C स्टॉक के रूप में काम करता है।

ग्रोथ स्टॉक्स बनाम वैल्यू स्टॉक्स

जिन इक्विटी में मार्केट की गति से अधिक तेज़ी से वृद्धि दर्ज़ करने की उम्मीद होती है उन्हें ग्रोथ स्टॉक कहा जाता है। इस तरह के स्टॉक इंटरेस्ट रेट के कम होने के साथ-साथ इकॉनोमिक एक्सपेंशन के समय में भी बेहतर प्रदर्शन करते हैं। उदाहरण के लिए टेक्नोलॉजी शेयरों को लें, जिन्होंने हाल के दिनों में मजबूत अर्थव्यवस्था के कारण सस्ती फंडिंग तक पहुंच के कारण बेहतर प्रदर्शन किया है। थीम्ड एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड इन्वेस्टर्सों को ऐसे स्टॉक पर नजर रखने में मदद करते हैं।

दूसरी ओर वैल्यू स्टॉक वे होते हैं जो उस राशि पर कारोबार करते हैं जो किसी कंपनी के प्रदर्शन से नीचे आती है और अक्सर एक मूल्यांकन होता है जो व्यापक मार्केट के भीतर आकर्षक होता है। कॉमन वैल्यू स्टॉक में फिनांस, हेल्थकेयर और एनर्जी की दुनिया से जुड़े स्टॉक शामिल हैं और वे आम तौर पर इस वजह से इकॉनोमिक रिकवरी के दौरान बेहतर प्रदर्शन करते हैं इसलिए वे इन्कम का विश्वसनीय ज़रिया हैं।

इन्कम स्टॉक

इस तरह की इक्विटी से नियमित इन्कम होती है क्योंकि वे कंपनी की अतिरिक्त नकदी या मुनाफे को विभाजित करते हैं और डिविडेंड जारी करते हैं जो मार्केट के औसत से अधिक होता है। इस तरह के स्टॉक में आमतौर पर कम वोलैटिलिटी होती है और ग्रोथ स्टॉक्स के मुकाबले कम वृद्धि दर्ज़ करते हैं। हालांकि, इससे यह उनके लिए आदर्श स्टॉक बन जाता है जो कम जोखिम ले सकते हैं और इन्कम का नियमित ज़रिया चाहते हैं।

ब्लू-चिप स्टॉक

अच्छी तरह से स्थापित कंपनियों के स्टॉक जिनका मार्केट कैपिटलाइज़ेशन बड़ा होता है, उन्हें ब्लू-चिप स्टॉक कहते हैं। ऐसी कंपनियों का अच्छे मुनाफे का लंबा इतिहास होता है और उनके उस उद्योग या क्षेत्र में अग्रणी होने की संभावना होती है जिनमें वे परिचालन करते हैं। अनिश्चितता की अवधि के दौरान,कंज़र्वेटिव इन्वेस्टर्सों के लिए ऐसे शेयरों के साथ अपने पोर्टफोलियो को टॉप-वेट करना असामान्य नहीं है। ब्लू-चिप स्टॉक में माइक्रोसॉफ्ट कारपोरेशन (एमएसएफटी) और मैकडोनाल्ड्स कॉर्पोरेशन (एमसीडी) जैसे स्टॉक शामिल हैं।

सिक्लिकल और नॉन-सिक्लिकल स्टॉक

सिक्लिकल स्टॉक वे हैं जो इकॉनमी के प्रदर्शन से सीधे प्रभावित होते हैं और आमतौर पर एक्सपेंशन, पीक, रिसेशन और रिकवरी के इकॉनोमिक साइकिल का पालन करते हैं। ऐसे शेयर आम तौर पर अस्थिर होते हैं और जब उपभोक्ताओं के पास हाथ में अधिक डिस्पोजेबल आय होती है और जब आर्थिक मजबूती होती है तो वे अन्य शेयरों से आगे निकल जाते हैं।

दूसरी ओर नॉन-सिक्लिकल स्टॉक "मंदी-सबूत" उद्योगों के भीतर कार्य करते हैं जो अर्थव्यवस्था की स्थिति की परवाह किए बिना काफी अच्छा प्रदर्शन करने की संभावना रखते हैं। ऐसे स्टॉक आर्थिक मंदी या मंदी की स्थिति में सिक्लिकल स्टॉक्स से बेहतर प्रदर्शन करते हैं क्योंकि एसेंशियल प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की मांग लगातार बनी रहने की संभावना रहती है।

डिफेंसिव स्टॉक

ये शेयर ज्यादातर शेयर मार्केट के माहौल और आर्थिक हालात में लगातार रिटर्न देने के लिए जाने जाते हैं। ऐसे स्टॉक जारी करने वाली कंपनियां आमतौर पर एसेंशियल प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बेचती हैं जिनमें यूटिलिटी, हेल्थकेयर और कंज़्यूमर स्टेपल शामिल हैं। ऐसे शेयरों में इन्वेस्टमेंट करके, इन्वेस्टर्स के पोर्टफोलियो को संभावित रूप से बेयर मार्केट की स्थिति में बड़े नुकसान से बचाया जा सकता है। डिफेंसिव स्टॉक ब्लू-चिप, वैल्यू, नॉन-सिक्लिकल या इन्कम स्टॉक के दायरे में भी आ सकते हैं।

आईपीओ स्टॉक

यह स्टॉक तब जारी किया जाता है जब कोई कंपनी इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग के ज़रिये पब्लिक होती है। आईपीओ स्टॉक आमतौर पर कंपनी के स्टॉक को स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होने से पहले छूट पर जारी किया जाता है। शेयरों का कारोबार शुरू होने के बाद इन्वेस्टर्स को अपनी पूरी होल्डिंग्स बेचने से रोकने के लिए ऐसे स्टॉक पर वेस्टिंग शेड्यूल लागू हो सकते हैं। हाल ही में लिस्टेड शेयरों को अक्सर मार्केट कमेंटेटर आईपीओ स्टॉक कहते हैं।

पेनी स्टॉक्स

आमतौर पर 25 रूपये से कम के स्टॉक को पेनी स्टॉक कहते हैं और माना जाता है कि इनकी प्रकृति सट्टे जैसी होती है। प्रमुख एक्सचेंजों पर मुट्ठी भर पेनी शेयरों का कारोबार होता है, जबकि ऐसे अधिकांश शेयरों का कारोबार ओवर द काउंटर होता है।

ईएसजी स्टॉक

ईएसजी स्टॉक या एनवायरनमेंट, सोशल और कॉर्पोरेट गवर्नेंस स्टॉक वे हैं जो एनवायरनमेंट के संरक्षण से जुड़े आदर्शों को बढ़ावा देना चाहते हैं, सोशल जस्टिस को महत्व देते हैं और एथिकल मैनेजमेंट में विश्वास करते हैं। इस स्टॉक को बेहतर ढंग से इस तरह समझा जा सकता है कि ऐसी कंपनी जो उद्योग के लक्ष्यों से परे अपने कार्बन एमिशन को कम करने में दृढ़ विश्वास रखती है, उसे ईएसजी स्टॉक कहा जाएगा।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद अब आप शेयर मार्केट के विभिन्न प्रकार के स्टॉक से बेहतर तरीके से परिचित हो गए होंगे। इनमें से हर तरह के स्टॉक में इन्वेस्टमेंट का फैसला करने से पहले हमेशा जोखिमों को ठीक से समझें।

 

​​डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है जानकारी देना, न कि इन्वेस्टमेंट के लिए कोई सलाह/टिप्स देना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने या बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account