ईएलएसएस फंड क्या हैं?

10 सितम्बर,2021

8

508

icon
यह एक तरह का म्यूचुअल फंड है। इक्विटी-लिंक्ड सेविंग स्कीम (या ईएलएसएस) के तहत इन्वेस्टर अपना पैसा टैक्स-सेविंग म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करते हैं।

ईएलएसएस फंड क्या हैं?

इन्वेस्ट किया गया फंड मुख्य रूप से शेयर मार्केट या इक्विटी लगाया जाता है। ये अनुकूल सेविंग इंस्ट्रूमेंट के तौर पर काम करते हैं और उनकी समय सीमा कम होती है जिस दौरान इन्वेस्टमेंट को भुनाया नहीं जा सकता है। इस समय सीमा मात्र तीन साल है। यहाँ दिए गए ईएलएसएस फंडों को समझने के लिए आगे पढ़ें।

ईएलएसएस म्यूचुअल फंड्स कैसे काम करते हैं 

ईएलएसएस फंड ऐसा इक्विटी फंड है जिसका प्रोफाइल डाइवर्स होता है। फंड के व्यापक इन्वेस्टमेंट लक्ष्यों को ध्यान में रखते हुए ये फंड कुछ तय अनुपात में लिस्टेड कंपनियों के शेयरों में इन्वेस्ट करते हैं।

मार्केट कैपिटलाइज़ेशन और अलग-अलग इंडस्ट्री से ये स्टॉक चुने जाते हैं। ऐसे हर फंड का उद्देश्य होता है इन्वेस्ट की गई राशि पर लॉन्ग टर्म में अधिकतम मुनाफा कमाना। फंड मैनेजरों की ज़िम्मेदारी होती है कि वे ठोस रिसर्च के बाद स्टॉक्स चुनें, ताकि वे इसमें शामिल जोखिमों को ध्यान में रखते हुए पोर्टफोलियो रिटर्न हासिल किया जा सके।

ईएलएसएस म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करने से पहले ध्यान देने योग्य बातें 

ईएलएसएस म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करने से पहले इन फैक्टर्स पर विचार करना महत्वपूर्ण है।

फंड रिटर्न - फंड चुनने से पहले, अपने प्रतिद्वंद्वियों के मुकाबले फंड के प्रदर्शन पर विचार करना और यह समझना महत्वपूर्ण है कि फिलहाल यह किस स्थिति में है ताकि यह पता लगाया जा सके कि इसका प्रदर्शन लगातार अच्छा रहा है या नहीं। यदि फंड ने अपने बेंचमार्क या प्रतिद्वंद्वियों से बेहतर प्रदर्शन किया है तो यह भारी-भरकम रिटर्न दे सकता है। 

हिस्ट्री - ऐसे फंड हाउस जिन्होंने लंबे समय यानी 5 से 10 साल तक लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है, उनमें इन्वेस्ट करना बेहतर होता है। 

एक्सपेंस रेशियो - यह रेशियो आपके इन्वेस्टमेंट के उस हिस्से को तय करने में मदद करता है जो फंड के प्रबंधन के लिए सुनिश्चित किया गया है। यदि किसी फंड में एक्सपेंस रेशियो कम होता है तो इसका मतलब है कि आपका टेक-होम रिटर्न अधिक होगा और इस तरह यह आइडियल इन्वेस्टमेंट बन जाता है।

फिनांशियल पैरामीटर - किसी फंड के प्रदर्शन को बेहतर तरीके से समझने के लिए कई तरह के फिनांशियल पैरामीटर पर विचार करना महत्वपूर्ण है, जिनमें अल्फा और बीटा, शार्प रेशियो और स्टैंडर्ड डेविएशन शामिल हैं लेकिन यह इन्हीं पैरामीटर तक सीमित नहीं हैं। जिन फंडों में स्टैंडर्ड डेविएशन और बीटा अधिक होता है, वे कम स्टैंडर्ड डेविएशन और बीटा वाले फंड मुकाबले जोखिम भरे इन्वेस्टमेंट होते हैं। जिन फंडों में शार्प रेशियो ज्यादा होता है, वे इन्वेस्टमेंट करने लायक होता है।

फंड मैनेजर - ईएलएसएस फंड में फंड मैनेजर की महत्वपूर्ण भूमिका होती है क्योंकि उन पर आपके फंड के प्रबंधन की ज़िम्मेदारी होती है। आपके फंड मैनेजर को मार्केट्स से अच्छी तरह वाकिफ होना चाहिए और एक मजबूत पोर्टफोलियो बनाने के लिए ज़रूरी शेयर चुनने का पर्याप्त अनुभव होना चाहिए।

ईएलएसएस म्यूचुअल फंड में इन्वेस्टमेंट से जुड़े लाभ

ईएलएसएस म्युचुअल फंड अपने साथ कई फायदे लेकर आते हैं, जिनमें से कुछ के बारे में नीचे बताया गया है। 

लॉक-इन की सीमित समय सीमा - ईएलएसएस म्यूचुअल फंड अपनी कम से कम समय लेने वाली लॉक-इन अवधि के लिए जाने जाते हैं, जो कि तीन साल की है। इस तरह, ईएलएसएस म्यूचुअल फंड अपने इन्वेस्टर्स को मीडियम टर्म में अधिक लिक्विडिटी प्रदान करते हैं।

अधिक रिटर्न की संभावना - अन्य टैक्स-फ्रेंडली इन्वेस्टमेंट विकल्प जो इन्कम टैक्स एक्ट 196 1 के सेक्शन 80 सी के तहत राहत के दायरे में आते हैं, जैसे फिक्स्ड डिपॉजिट या पब्लिक प्रॉविडेंट फंड, वे फिक्स्ड इन्कम प्रॉडक्ट हैं। इसके उलट ईएलएसएस म्यूचुअल फंड मार्केट से जुड़े हुए हैं। इनमें मीडियम से लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट की समय सीमा के दौरान अधिक से अधिक रिटर्न हासिल करने की क्षमता होती है।

बेहतर पोस्ट-टैक्स रिटर्न - ईएलएसएस म्यूचुअल फंड के माध्यम से हासिल लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स एक लाख रूपये तक टैक्स-फ्री हैं। यदि आपका रिटर्न इससे अधिक है तो उस पर 10 प्रतिशत टैक्स देना होगा। बेहतर रिटर्न के साथ कमतर टैक्स रेट से आपका पोस्ट-टैक्स रिटर्न बढाने में मदद करता है।

आसान इन्वेस्टमेंट - मंथली सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान के तौर पर ईएलएसएस म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करना इतना आसान कभी नहीं रहा।

ईएलएसएस म्यूचुअल फंड में इन्वेस्टमेंट के विकल्प

इन्वेस्टर के तौर पर आप ईएलएसएस म्यूचुअल फंड में नीचे दिए गए किसी भी तरीके से इन्वेस्ट कर सकते हैं।

ग्रोथ ऑप्शन – यहां आपको डिविडेंड की तरह कोई बेनिफिट नहीं मिलता है। इसके बजाय, आप केवल होल्डिंग को भुनाने के समय ही कैपिटल गेन्स होंगे। इससे कुल एनएवी को बढ़ने में मदद मिलती है जिससे आपका प्रॉफिट बढ़ता है।

डिविडेंड ऑप्शन - यहां इन्वेस्टर के तौर पर, आप डिविडेंड के रूप में बेनिफिट लेते हैं जो पूरी तरह से टैक्स-फ्री होता है। ये डिविडेंड तभी दिए जाते हैं जब प्रॉफिट बहुत अधिक हो।

डिविडेंड रीइन्वेस्टमेंट ऑप्शन - इसके तहत इन्वेस्टर के तौर पर आप अपने एनएवी को बढ़ाने के लिए अपने डिविडेंड को रीइन्वेस्ट करते हैं। यह सबसे अधिक फायदेमंद तब होता है जब बाजार में तेजी का रुझान हो और इसके जारी रहने की संभावना हो।

निष्कर्ष  

ईएलएसएस म्यूचुअल फंड में इन्वेस्टमेंट करने से पहले, पर्याप्त रिसर्च करना ज़रूरी है ताकि आप अपने पैसे को बेहतर तरीके से इन्वेस्टमेंट कर सकें। इन्कम टैक्स एक्ट, 1961 के सेक्शन 80 सी के तहत प्रस्तावित टैक्स छूट के मद्देनज़र ईएलएसएस म्यूचुअल फंड आकर्षक इन्वेस्टमेंट ऑप्शन नज़र आता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न1. ईएलएसएस म्यूचुअल फंड से हासिल कैपिटल गेन्स पर कौन से टैक्स लागू होते हैं?
उत्तर1. ईएलएसएस म्यूचुअल फंड हासिल शॉर्ट-टर्म कैपिटल गेन्स पर 15 प्रतिशत टैक्स लगता है, लॉन्ग-टर्म कैपिटल गेन्स पर तभी टैक्स लगता है जबकि राशि एक लाख रूपये से अधिक हो। ऐसी स्थिति में कैपिटल गेन्स पर 10 प्रतिशत टैक्स लगता है। 

प्रश्न2. ईएलएसएस म्यूचुअल फंड किसके लिए आइडियल इन्वेस्टमेंट है?
उत्तर2. ईएलएसएस म्यूचुअल फंड नए इन्वेस्टर के साथ-साथ सैलरीड लोगों के लिए आइडियल इन्वेस्टमेंट हैं।

प्रश्न3. मुझे ईएलएसएस म्यूचुअल फंड में इन्वेस्टमेंट क्यों करना चाहिए?
उत्तर3. आपको ईएलएसएस म्युचुअल फंड में इन्वेस्ट करने पर विचार करना चाहिए क्योंकि इसके कई बेनिफिट हैं जो फिक्स्ड डिपॉजिट और एनपीएस से होने वाली टैक्स सेविंग के मुकाबले बहुत फायदेमंद हैं। आपको कम लंबी लॉक-इन अवधि बेनिफिट होता और दूसरी टैक्स-सेविंग योजनाओं के मुकाबले अधिक रिटर्न मिलता है।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account