शीर्ष 5 सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग तकनीकी संकेतक

30 जून,2022

5

183

icon
बहुत से निवेशक और सक्रिय व्यापारी टेक्निकल ट्रेडिंग इंडिकेटर्स की मदद से हाई प्रोबेबिलिटी ट्रेड में प्रवेश और निकास स्थानों की पहचान करते हैं। अधिकांश ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर, सैकड़ों इंडिकेटर उपलब्ध हैं| नतीजतन, बहुत सारे इंडिकेटर्स का उपयोग करना या उन्हें अक्षम रूप से उपयोग करना आसान है।

यदि आप नियमित रूप से शेयर मार्केट की गतिविधि पर नज़र रखते हैं तो आपके लिए टेक्निकल ट्रेडिंग इंडिकेटर्स के मूल सिद्धांतों को समझना काफी फायदेमंद हो सकता है। हालांकि यह माना जाता है कि किसी कंपनी के मूल सिद्धांतों को समझकर अच्छा व्यापार किया जा सकता है। फिर भी स्टॉक मार्केट फंक्शन में विभिन्न प्रकार के इंडिकेटर्स समझने से आपको नए और दिलचस्प अवसर मिल सकते हैं।

ट्रेडिंग इंडिकेटर क्या हैं और आप उनका उपयोग कैसे कर सकते हैं?

ट्रेडिंग इंडिकेटर्स मैथेमैटिकल कॅल्क्युलेशंस हैं जो कि प्राइस  चार्ट पर लाइनों के रूप में प्रस्तुत की जाती हैं ताकि व्यापारियों को शेयर मार्किट में विशेष इंडिकेटर्स और ट्रेंड्स को देखने में मदद मिल सके। वे तकनीकों का एक ऐसा संग्रह है जिसकी मदद से बाज़ार के रहस्य समझना और ट्रेडिंग चार्ट पर अधिक सटीक एनालिसिस किया जा सकता है।

इंडेक्स ट्रेडिंग क्या है और यह कैसे काम करता है?

एक निश्चित स्टॉक मार्केट इंडेक्स की खरीद और बिक्री को इंडेक्स ट्रेडिंग के रूप में जाना जाता है। निवेशक यह अनुमान लगाते हैं कि इंडेक्स की कीमत बढ़ेगी या घटेगी ताकि वे निर्धारित कर सकें कि क्या वे स्टॉक को खरीदेंगे या बेचेंगे। एक इंडेक्स इक्विटी के संग्रह के प्रदर्शन को मापता है, इसलिए आप किसी एक स्टॉक को नहीं, बल्कि समूह का औसत प्रदर्शन खरीदते हैं। एक इंडेक्स का प्राइस इसलिए बढ़ जाता है क्योंकि इसे बनाने वाली फर्मों के शेयरों की कीमत बढ़ जाती है। अगर कीमत कम होती है, तो इंडेक्स का प्राइस गिर जाता है।

विभिन्न प्रकार के इंडिकेटर क्या हैं?

आपको अपनी ट्रेडिंग रणनीति के लिए कौन से ट्रेडिंग इंडिकेटर देखने चाहिए, इसको समझने और इंफोर्मेड सिलेक्शन करने के लिए, आपको पहले जानकारी हासिल करनी चाहिए और अपनी जोखिम उठाने की क्षमता को जांच लेना चाहिए। रिटेल ट्रेडर्स द्वारा सबसे ज़्यादा उपयोग किए जाने वाले इंडिकेटर इस प्रकार हैं:

  • रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स (आरएसआई)

रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स (आरएसआई) एक ऐसा इंडिकेटर है जिसकी मदद से व्यापारी मार्किट का मोमेंटम और स्थिति समझ सकते हैं और साथ ही प्राइस में बहुत अधिक उतार-चढ़ाव की संभावना भी समझ सकते हैं। इसकी वैल्यू 0 से 100 के बीच होती है, जिससे एमएसीडी इंडिकेटर द्वारा प्रदान की गई जानकारी से अलग जानकारी मिल सकती है। सामान्य तौर पर, 70 के स्तर तक पहुंचने वाले एसेट को मार्किट में अधिक खरीदा माना जाता है, जबकि 30 के स्तर तक पहुंचने वाले एसेट को बाज़ार द्वारा ओवरसोल्ड माना जाता है।

  • मूविंग एवरेज कन्वर्जेंस डाइवर्जेंस (एमएसीडी)

एमएसीडी मोमेंटम में परिवर्तन की पहचान करने के लिए दो मूविंग एवरेज की तुलना करता है। सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल  संभावित खरीद और बिक्री के अवसरों की पहचान में सहायता कर सकते हैं। दो मूविंग एवरेज जब डाइवर्ज होते हैं, तो उन्हें कनवर्जेंट माना जाता है, और जब वे कनवर्ज होते हैं तो उन्हें डाइवेर्जेंट माना जाता है| इसका मतलब यह है कि मूविंग एवरेज कनवर्ज होने पर मोमेंटम कम हो जाता है और डाइवर्ज होने पर मोमेंटम बढ़ जाता है|

किसी भी दिन, मूविंग एवरेज की मदद से यह आसानी से और जल्दी तय किया जा सकता है कि बाज़ार में व्यापार कैसे करना है। हालांकि, अगर हम फाइनेंशियल मार्केट्स में टेक्निकल इंडिकेटर्स का इस्तेमाल करने की बात करें, तो कुछ भी निश्चित नहीं होता है। ये इंडिकेटर व्यापार के सलाहकार नहीं हैं जिनसे ये पता चल सके कि व्यापार किस प्रकार करना है, फिर भी ये काफी उपयोगी हैं और जानकारी प्रदान करते हैं। दूसरी ओर, यदि मूविंग एवरेज को अन्य व्यापारिक इंडिकेटर्स के साथ जोड़ कर देखा जाए, तो यह एक बहुत ही सफल व्यापारिक दृष्टिकोण हो सकता है।

  • एक्स्पोनेंशियल मूविंग एवरेज (ईएमए)

चूंकि ईएमए निकालते समय सबसे हाल के डेटा पॉइंट्स को अधिक महत्व दिया जाता है, यह एसएमए की तुलना में नई जानकारी के प्रति अधिक संवेदनशील होता है। एक्सपोनेंशियल वेटेड मूविंग एवरेज का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसका कारण यह है कि ईएमए हाल के प्राइस परिवर्तनों से विशेष रूप से प्रभावित होते हैं। संक्षेप में, सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले ईएमए 12 और 26 दिन के होते हैं, जबकि ट्रेंड इंडिकेटर्स 50 और 200 दिन के होते हैं। इसके अलावा, जब इन्हे अन्य इंडिकेटर्स के साथ में उपयोग किया जाता है, तो ये किसी बड़े मार्किट मूवमेंट की पुष्टि और जांच कर सकते हैं।

मूविंग एवरेज (एमए)

मूविंग एवरेज एक प्राइस ट्रेंड इंडिकेटर है जो नियमित आधार पर एवरेज कीमत को अपडेट कर बैलेंस प्राइस डेटा निकालता है। यह टेक्निकल एनालिसिस मेथड एक निश्चित समय सीमा के दौरान फिनेंशिअल इंस्ट्रूमेंट्स के प्राइस पॉइंट्स को इकट्ठा करता है। एमए इंडिकेटर किसी रैंडम प्राइस के उतार-चढ़ाव को दूर करते हुए एक ट्रेंड लाइन बनाता है।

ऑन-बैलेंस-वॉल्यूम (OBV)

ऑन-बैलेंस वॉल्यूम (ओबीवी) एक उपयोगी इंडिकेटर है जो बड़ी मात्रा में वॉल्यूम जानकारी को एक सिंगल-लाइन सिग्नल में जोड़ता है। खरीद और बिक्री दबाव की गणना करने के लिए यह "अप" दिनों पर वॉल्यूम जोड़ता है और "डाउन" दिनों पर वॉल्यूम घटाता है। वॉल्यूम को सिद्धांत रूप में ट्रेंड्स की पुष्टि करनी चाहिए। अगर कीमत बढ़ती है, तो ओबीवी भी बढ़ना चाहिए।

समापन

चूंकि व्यापारिक इंडिकेटर्स में अक्सर वेरिएबल्स होते हैं जिन्हें व्यापारी की प्राथमिकताओं के अनुरूप एडजस्ट किया जा सकता है| उनका उपयोग समय पर रिवर्सल वॉर्निंग और ट्रेड सिग्नल्स देने के साथ-साथ प्राइस निर्धारण की जानकारी को सरल बनाने के लिए किया जा सकता है। आप इंडिकेटर्स को कंबाइन करके या अपनी समझ से ट्रेडिंग एंट्री और एग्जिट क्राइटेरिया बना सकते हैं। हालांकि केवल इंडिकेटर्स को समझने और देखने से ट्रेड करना कठिन लग सकता है। नतीजतन, किसी भी रियल टाइम में लेन-देन करने से पहले इसका परीक्षण करना चाहिए।  एक निश्चित सिग्नल आपके निर्णय को प्रभावित कर सकता है। जिन उपभोक्ताओं ने पहले कभी व्यापार नहीं किया है, उनके लिए ब्रोकरेज खाता खोलना एक महत्वपूर्ण पहला कदम है।

 

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज़ जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने -बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account