क्या होगा 21 मिलियन बिटकॉइन माइनिंग के बाद

5.0

15 फरवरी,2022

6

485

icon
बिटकॉइन सप्लाय के अपने टॉप लिमिट तक पहुँच जाने पर और बिटकॉइन नहीं बनाया जाएगा। उम्मीद है कि ट्रांजैक्शन फी बिटकॉइन माइनर्स के लिए इन्कम का एकमात्र स्रोत होगा।

बिटकॉइन (बीटीसीयूएसडी) की सबसे बड़ी विशेषताओं में से एक इसका रिस्ट्रिक्टेड कॉइन सप्लाय। क्रिप्टोकरेंसी के क्रिएटर सतोशी नाकामोतो की नज़र में बिटकॉइन डिजिटल गोल्ड था और वास्तविक गोल्ड के लिमिटेड नेचर की तरह इसकी भी सप्लाय पर लिमिट निर्धारित की।

बिटकॉइन (माइनिंग) की मात्रा 21 मिलियन तक सीमित है। हर 10 मिनट में, बिटकॉइन की सप्लाय में नया बिटकॉइन जुड़ता है। बिटकॉइन का नया ब्लॉक बनाने में औसतन इतना ही समय लगता है। इसका डिज़ाइन इस तरह तैयार किया गया है कि हर 2,10,000 ब्लॉक के बाद, या मोटे तौर पर हर चार साल में, हर ब्लॉक में बिटकॉइन की संख्या 50 प्रतिशत घट जाती है।

क्या कभी कुल 21 मिलियन बिटकॉइन होंगे?

संभव नहीं है कि बिटकॉइन की कुल संख्या 21 मिलियन को पार कर जाएगी। ऐसा इसलिए है कि बिटकॉइन नेटवर्क बिट-शिफ्ट ऑपरेटर का उपयोग करते हैं, जो एरिथ्मैटिक ऑपरेटर होते हैं और डेसीमल पॉइंट को घटाकर सबसे छोटे इन्टिजर तक ले आते हैं।

जब नया बिटकॉइन ब्लॉक बनाने के लिए ब्लॉक रिवॉर्ड को आधे में बांटा जाता है और नए रिवॉर्ड की राशि तय की जाती है, तो यह राउंडिंग डाउन संभव है। एक सतोशी 0.00000001 बिटकॉइन के बराबर होता है, सो रिवॉर्ड सतोशी में व्यक्त किया जाता है। एक सातोशी को आधे में विभाजित नहीं किया जा सकता क्योंकि यह बिटकॉइन नेटवर्क में मेज़रमेंट की सबसे छोटी इकाई है। एक नई रिवॉर्ड राशि निर्धारित करने के लिए एक सातोशी को आधे में विभाजित करते समय, बिटकॉइन ब्लॉकचैन को बिट-शिफ्ट ऑपरेटर का उपयोग करके अगले पूरे इन्टिजर तक राउंड डाउन करने के लिए प्रोग्राम किया जाता है। सतोशी के फ्रैक्शन में बिटकॉइन ब्लॉक इंसेंटिव के निरंतर राउंड डाउन के कारण, वितरित बिटकॉइन की कुल राशि 21 मिलियन से कम रहने की आशंका है।

अनुमान है कि आखिरी बिटकॉइन 2140 से पहले नहीं बन सकता, क्योंकि हर ब्लॉक जारी किए गए नए बिटकॉइन की संख्या के मुकाबले हर चार साल में आधे से कम रह जाता है। जब बिटकॉइन पहली बार बनाया गया था, तो हर ब्लॉक में जारी किए गए नए बिटकॉइन की मात्रा 50 थी, हालांकि यह संख्या अब मई 2020 तक गिरकर 6.25 हो गई है।

हालाँकि 21 मिलियन बिटकॉइन की लिमिट है और इतने बनाए भी जा सकते हैं, लेकिन संभावना है कि प्रचलन में बिटकॉइन की संख्या बहुत कम होगी। यदि बिटकॉइन वॉलेट के मालिक अपने मुख्य पासवर्ड भूल जाते हैं या अपने वॉलेट की जानकारी दिए बिना गुज़र जाते हैं, तो अपने एसेट तक उनकी पहुँच ख़त्म हो जाएगी। क्रिप्टो फोरेंसिक फर्म चेनएनालिसिस द्वारा जून 2020 में जारी एक शोध के अनुसार, जारी किए गए सभी बिटकॉइन का 20 प्रतिशत तक स्थायी रूप से नष्ट किया जा सकता है।

जब 21 मिलियन बिटकॉइन हो जाएंगे तो क्या होगा

बिटकॉइन की अधिकतम संख्या हो जाने पर अतिरिक्त बिटकॉइन जारी /नहीं किया जाएगा, भले ही तादाद 21 मिलियन से थोड़ी कम क्यों ना हो। बिटकॉइन ट्रांजैक्शन को पूल और ब्लॉक में प्रोसेस करना जारी रहेगा, और बिटकॉइन माइनरों को मुआवजा दिया जाएगा, हालांकि संभावना है कि यह केवल ट्रांजैक्शन प्रोसेस फीस के जरिये होगा है।

जब क्रिप्टोकरेंसी सप्लाय के अपर लिमिट तक पहुंच जाती है, तो संभव है कि बिटकॉइन माइनर प्रभावित होंगे, लेकिन वे कैसे प्रभावित होंगे, यह इस बात पर निर्भर करेगा कि बिटकॉइन क्रिप्टोकरेंसी के रूप में कैसे डिवेलप होता है। यदि क्रिप्टो ब्लॉकचेन 2140 में बड़ी संख्या में ट्रांजैक्शन करता है, तो बिटकॉइन माइनर तब भी ट्रांजैक्शन प्रोसेसिंग शुल्क कमा सकते हैं।

यहां तक कि कम ट्रांजैक्शन की मात्रा और ब्लॉक रिवॉर्ड को हटाने के साथ, माइनर अभी भी 2140 में कमा सकते हैं यदि बिटकॉइन का उपयोग मुख्य रूप से दैनिक ट्रांजैक्शन के बजाय मूल्य के भंडार के रूप में किया जाता है। लाइटनिंग नेटवर्क जैसे अधिक कुशल "लेयर 2" ब्लॉकचेन के साथ रोज़मर्रा के बिटकॉइन खर्च में सहायता करने के साथ, माइनर बड़े ट्रांजैक्शन या ट्रांजैक्शन के बड़े बैच को प्रोसेस करने के लिए भारी-भरकम ट्रांजैक्शन शुल्क ले सकते हैं।

हालांकि, यदि ब्लॉक रिवॉर्ड के अभाव में माइनिंग प्रॉफिटेबल नहीं रह जाता है, तो निम्नलिखित विपरीत परिणाम हो सकते हैं:

  • माइनर माइनिंग रिसोर्स पर नियंत्रण हासिल करने के लिए कार्टेल बना सकते हैं और अधिक ट्रांजैक्शन चार्ज मांग सकते हैं।
  • सेल्फिश माइनिंग तब होती है जब माइनर साथ मिलकर नए वैध ब्लॉकों को छिपाए रखते हैं और फिर उन्हें ऑर्फ़न ब्लॉक के रूप में जारी कर देते हैं जिन्हें किसी बिटकॉइन नेटवर्क ने कन्फर्म न किया हो। यह मेथड ब्लॉक प्रोसेसिंग पीरियड को लंबा कर सकता है और जब नए ब्लॉक आखिरकार ब्लॉकचैन को जारी किए जाएँगे तो उनके साथ बड़ी फीस होगी। 

निष्कर्ष

क्या 2140 में बिटकॉइन कैश या गोल्ड बार की तरह काम करेगा? बिटकॉइन का माहौल अभी भी विकसित हो रहा है, इसलिए यह संभव है, और यदि ऐसा संभव नहीं हुआ, तो यह अगले कुछ दशकों तक विकसित होता रहेगा। हालांकि, 21 मिलियन कॉइन की लिमिट पूरी होने बाद कोई अतिरिक्त बिटकॉइन जारी नहीं किया जाएगा, चाहे बिटकॉइन का सफ़र जैसा भी हो। इस सप्लाय लिमिट तक पहुंचने का असर बिटकॉइन माइनरों पर सबसे अधिक होगा, लेकिन संभव है कि इससे बिटकॉइन इन्वेस्टर्स भी प्रभावित हों।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है जानकारी देना, न कि इन्वेस्टमेंट के लिए कोई सलाह/टिप्स देना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने या बेचने की सिफारिश करना।

एंजेल वन लिमिटेड क्रिप्टोकरेंसी में इन्वेस्टमेंट और व्यापार का समर्थन नहीं करता है। यह लेख केवल शिक्षा और सूचना के उद्देश्यों के लिए है। इस तरह के जोखिम भरे कॉल करने से पहले अपने इन्वेस्टमेंट सलाहकार से चर्चा करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account