शेयर मार्केट में अर्निंग्स बिफोर इंटरेस्ट एंड टैक्सेस (ईबीआईटी) क्या है?

08 जुलाई,2022

5

161

icon
आपकी कंपनी की फिनेंशिअल हालत का आकलन करना मुश्किल है। ऐसी बहुत सारी संख्याएँ होती हैं जिन्हें समझना कठिन होता है। ऐसे में, एकाउंटेंट्स और फिनेंशिअल एक्सपर्ट्स अक्सर उन विशेषताओं पर निर्भर करते हैं जिनका अनुमान लगाया जा सकता है और जो स्थिर होती हैं, जैसे कि ईबीआईटी।

ईबीआईटी का अर्थ

ईबीआईटी का अर्थ है अर्निंग्स बिफोर इंटरेस्ट एंड टैक्सेस और इससे किसी कंपनी की प्रोफिटेबिलिटी का पता लगाया जाता है| ऑपरेशनल अर्निंग, ऑपरेशनल लाभ, और इंटरेस्ट और टैक्सेस से पहले लाभ जैसे टर्म ईबीआईटी का वर्णन करने के लिए उपयोग किए जाते हैं। ईबीआईटी कैलकुलेशन में कच्चे माल सहित उत्पादन की लागत और समग्र ऑपरेशनल खर्च में कर्मियों का मुआवज़ा शामिल किया जाता है। इन खर्चों को इनकम से काट दिया जाता है। स्टेप्स इस प्रकार हैं:

  1. इनकम स्टेटमेंट के टॉप से रेवेन्यू या सेल्स का आंकड़ा लें।
  2. ग्रॉस प्रॉफिट कैलकुलेट करने के लिए, रेवेन्यू या सेल्स से बेचे गए उत्पादों की लागत घटाएं।
  3. ईबीआईटी की कैलकुलेशन ग्रॉस प्रॉफिट से ऑपरेशनल एक्सपेंडिचर घटाकर की जाती है।

ईबीआईटी का महत्व

ईबीआईटी एक कंपनी की गतिविधियों से उत्पन्न होने वाला प्रॉफिट है, और इसे कभी-कभी ऑपरेशनल प्रॉफिट के नाम से भी जाना जाता है। ईबीआईटी टैक्सेज और इंटरेस्ट एक्सपेंडिचर की अनदेखी करके, टैक्स और कैपिटल स्ट्रक्चर जैसे तत्वों की अवहेलना करते हुए, एक कंपनी के ऑपरेशन्स से उसकी लाभ उत्पन्न करने की क्षमता को दर्शाता है। ईबीआईटी की मदद से किसी कंपनी की पर्याप्त लाभ कमाने, प्रॉफिटेबल रहने, क़र्ज़ चुकाने और निरंतर संचालन बनाए रखने की क्षमता का अंदाज़ा लगाया जा सकता है।

डेट (ऋण) और ईबीआईटी

ईबीआईटी उन संगठनों की जांच करने में उपयोगी है जो कैपिटल इंटेंसिव क्षेत्रों में काम करती हैं क्यूंकि उनकी बैलेंस शीट में काफी सारे फिक्स्ड एसेट्स शामिल होते हैं। फिज़िकल प्रॉपर्टी, प्लांट और उपकरण कुछ ऐसे फिक्स्ड एसेट्स हैं जिन्हें अक्सर डेट के माध्यम से फंड किया जाता है। उदाहरण के लिए, ऑयल एंड गैस व्यवसाय में कंपनियों को बहुत अधिक कैश चाहिए होता है क्योंकि उन्हें अपने ड्रिलिंग उपकरण और तेल रिसाव के लिए फंड की आवश्यकता होती है।

बैलेंस शीट पर भारी मात्रा में डेट के कारण, कैपिटल इंटेंसिव क्षेत्रों की कंपनियों का इंटरेस्ट कॉस्ट काफी ज़्यादा होता है। दूसरी ओर, उद्योग के लॉन्ग टर्म डेवलपमेंट के लिए डेट की आवश्यकता होती है| जब कैपिटल इंटेंसिव क्षेत्र की कंपनियों की एक दूसरे से तुलना की जाती है, तो डेट कम या ज़्यादा हो सकता है। परिणामस्वरूप, तुलना करने पर फर्मों का इंटरेस्ट एक्सपेंडिचर अधिक या कम हो सकता है। ईबीआईटी के ज़रिए, निवेशक डेट और इंटरेस्ट एक्सपेंडिचर को छोड़कर कंपनी के ऑपरेशनल परफॉरमेंस और मुनाफे की क्षमता का मूल्यांकन कर सकते हैं।

टैक्स और ईबीआईटी 

विभिन्न टैक्स कंडीशंस वाली कई फर्मों का मूल्यांकन करने के लिए निवेशक ईबीआईटी का उपयोग करते हैं। उदाहरण के लिए, यदि कोई निवेशक किसी फर्म के शेयर खरीदने पर विचार कर रहा है, तो ईबीआईटी की मदद से बिना टैक्स जोड़े कंपनी के ऑपरेशनल प्रॉफिट को समझा जा सकता है। यदि कंपनी ने हाल ही में टैक्स अवकाश लिया है या कॉर्पोरेट टैक्स का भुगतान किया है, तो उसकी नेट इनकम या लाभ बढ़ जाएगा| 

दूसरी ओर, ईबीआईटी के एनालिसिस में टैक्स कट के लाभों पर विचार नहीं किया जाता है। इसलिए ईबीआईटी की मदद से निवेशक दो ऐसे बिज़नेस की तुलना कर सकते हैं जो एक ही इंडस्ट्री में ऑपरेट करते हैं लेकिन जिनका टैक्स रेट अलग-अलग है|

ईबीआईटी के लिए आवेदन

ईबीआईटी की गणना विभिन्न तरीकों से की जा सकती है| चूंकि यह GAAP आंकड़ा नहीं है, इसलिए इसे फिनेंशिअल विवरणों में हमेशा शामिल नहीं किया जाता। शुरुआत में हमेशा कुल रेवेन्यू या टोटल सेल देखें और इसमें से ऑपरेशनल एक्सपेंडिचर, जैसे कि बेची गई वस्तुओं की लागत घटा लें। एक बार हुई घटना या कोई असामान्य घटना, जैसे कि संपत्ति की बिक्री से होने वाली इनकम या मुकदमेबाजी का खर्च, बाहर रखा जा सकता है क्योंकि उनका व्यवसाय की मुख्य गतिविधियों से संबंध नहीं है|

नॉन-ऑपरेटिंग रेवेन्यू, जैसे कि निवेश से होने वाली आय, को भी शामिल किया जा सकता है। इस परिदृश्य में, ईबीआईटी ऑपरेशनल इनकम से अलग है, जिसमें नॉन-ऑपरेशनल इनकम शामिल नहीं है जैसा कि नाम से स्पष्ट है। इंटरेस्ट इनकम को अक्सर ईबीआईटी में शामिल किया जाता है, हालांकि इसके सोर्स के आधार पर इसे बाहर भी रखा जा सकता है। यदि कोई कॉर्पोरेशन अपने रेगुलर संचालन में ग्राहकों को क्रेडिट यानी उधार देता है, तो इंटरेस्ट रेवेन्यू ऑपरेशनल इनकम का एक कॉम्पोनेन्ट है और इसको हमेशा शामिल किया जाना चाहिए। दूसरी ओर, बांड निवेश से प्राप्त इंटरेस्ट रेवेन्यू, या अपने बिलों का देर से भुगतान करने वाले ग्राहकों से लिए गए जुर्माने को हटाया जा सकता है। यह एडजस्टमेंट अन्य की तरह, निवेशक के विवेक पर है और सभी फर्मों की तुलना में समान रूप से की जानी चाहिए। इनकम स्टेटमेंट से नेट इनकम संख्या लेना और इनकम टैक्स एक्सपेंस और इंटरेस्ट एक्सपेंडिचर को नेट इनकम में वापस जोड़ देने से भी ईबीआईटी की गणना की जा सकती है।

ईबीआईटी की सीमाएं

डेप्रिसिएशन को ईबीआईटी कैलकुलेशन में शामिल किया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप विभिन्न क्षेत्रों की फर्मों के बीच असमानता हो सकती है। जब एक निवेशक एक ऐसे फर्म की तुलना जिसके बहुत सारे फिक्स्ड एसेट्स हैं किसी और फर्म के साथ करता है जिसके फिक्स्ड एसेट्स कम हैं, तो डेप्रिसिएशन एक्सपेंडिचर ज़्यादा फिक्स्ड एसेट्स वाली कंपनी को नुकसान पहुंचाता है क्योंकि इससे नेट इनकम या लाभ कम हो जाता है।

इसके अलावा, बहुत अधिक कर्ज़ लेने वाली संगठनों का इंटरेस्ट एक्सपेंडिचर निश्चित रूप से बहुत अधिक होता है। ईबीआईटी इंटरेस्ट एक्सपेंडिचर को हटा देता है, जिससे कंपनी के मुनाफे की संभावना बढ़ जाती है, खासकर अगर उस पर बहुत अधिक कर्ज़  हो। यदि कॅश फ्लो की कमी या खराब बिक्री प्रदर्शन के कारण फर्म का क़र्ज़ बढ़ जाता है, तो ऐसे में स्टडी में डेट को शामिल नहीं करना हानिकारक हो सकता है। यह भी ध्यान देने योग्य है कि बढ़ती दर के माहौल में, क़र्ज़ लेने वाली कंपनियों की बैलेंस शीट पर इंटरेस्ट एक्सपेंडिचर बढ़ जाएगा, और इसलिए इसे कंपनी के फिनांशियल एनालिसिस में शामिल किया जाना चाहिए। अंत में, ईबीआईटी की कैलकुलेशन करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, खासकर उन व्यक्तियों के लिए जिनके लिए यह कॉन्सेप्ट नया है। जिस किसी को भी इस वैल्यू का अनुमान लगाने में परेशानी हो रही है, उसे किसी टॉप ऑनलाइन एकाउंटिंग सर्विसेस से संपर्क करना चाहिए।

समापन 

चाहे आप किसी व्यवसाय के मालिक हो या एक निवेशक जो किसी कंपनी की सफलता से लाभ उठाना चाहता है, आपके लिए ईबीआईटी महत्वपूर्ण है। इसके कैलकुलेशन और एंटरप्राइज़ वैल्यू के ज़रिये निवेशक किसी फर्म को एनालाइज़ कर सकते हैं और यह निर्धारित कर सकते हैं कि सबसे अच्छी इन्वेस्टमेंट कहां हैं।

 

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज़ जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने -बेचने की सिफारिश करना।

 

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account