क्या है गुरिल्ला ट्रेडिंग?

5.0

22 नवम्बर,2021

7

649

icon
गुरिल्ला ट्रेडिंग शॉर्ट-टर्म स्ट्रेटेजी है जिसके तहत हर ट्रेड पर कम से कम जोखिम के साथ छोटे लेकिन फटाफट रिटर्न हासिल करने की कोशिश की जाती है। यह एकल ट्रेडिंग सत्र के दौरान मामूली लेनदेन करके किया जाता है। हालांकि यह तरीका अनुभवी इन्वेस्टर्स के लिए उपयुक्त है, जिनके पास संसाधन हैं लेकिन इसके बारे में उपयोगी है।

परिचय

गुरिल्ला ट्रेडिंग एक ट्रेडिंग विधि है जो ट्रेडर्स द्वारा उपयोग की जाती है जो छोटी अवधि के भीतर वित्तीय बाजार में चलते हैं, ताकि कम जोखिम के साथ तेजी से लाभ प्राप्त किया जा सके।

एक ट्रेडिंग विशेषता जो गुरिल्ला ट्रेडर्स के लिए महत्वपूर्ण है - इसमें सीमित समय सीमा (स्केल्पर से भी कम), और ऐसी क्षमता जो डे ट्रेडर को ऐसा दिखाए जैसे की वह लॉन्ग टर्म इन्वेस्टिंग में शामिल हैं।

गुरिल्ला ट्रेडर्स की तुलना में छोटे ट्रेड टाइमलाइन रखने वाली एकमात्र सिस्टम हाई फ़्रीक़वेंसी सिस्टम है।

गुरिल्ला ट्रेडिंग का प्राथमिक उद्देश्य कई ट्रांज़ैक्शन्स में छोटे प्रॉफ़िट्स उत्पन्न करना है। इसका मतलब कि सफल होने के लिए, ऐसे ट्रेडर्स को मिनट कमीशन, मेजर लेवरेज और टाइट ट्रेडिंग स्प्रेड का अनुभव करना चाहिए।

हालांकि गुरिल्ला ट्रेडिंग तकनीकों को किसी भी वित्तीय बाजार में नियोजित किया जा सकता है, पर वह फ़ौरन एक्सचेंज ट्रेड्स के लिए सबसे उपयुक्त हैं। यह मेजर करेंसी पेयर्स के मामले में विशेष रूप से सच है जो ज्यादातर लिकविड होते हैं लो स्प्रेड के साथ।

गुरिल्ला ट्रेडिंग की विशेषताएं

गुरिल्ला ट्रेडर्स प्रत्येक ट्रेड में लौ अब्सोल्युट प्रॉफिट प्राप्त करने के उद्देश्य से काम करते हैं। वे एक ही सत्र में इस तरह कई बार ट्रेड करते हैं ताकि कुल लाभ जो वे प्राप्त करते हैं, वे जोखिमों को अनदेखा करने के लिए पर्याप्त हैं और साथ में वे शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग में शामिल होते हैं।

गुरिल्ला ट्रेडिंग में आमतौर पर निम्नलिखित विशेषताएं होती हैं।

एक्सट्रीमली शॉर्ट-टर्म ट्रेडिंग टाइमफ्रेम - अधिकांश गुरिल्ला ट्रेडर्स ऐसे ट्रेड्स में संलग्न होते हैं जो कुछ मिनटों तक चलते हैं और शायद ही कभी इस समय सीमा से आगे बढ़ते हैं। इसका कारण यह है कि ट्रेड के लिए तैयार किए गए अधिक समय दर्शाता है कि ट्रेडर्स के खिलाफ काम करने वाले ट्रेड के साथ अधिक जोखिम है।

छोटे मुनाफे के साथ और भी छोटे नुकसान - गुरिल्ला ट्रेडर्स को फोरेक्स ट्रेड के माध्यम से केवल 10 से 20 पिप्स कमाने में खुशी होती है, जबकि स्केलपर्स का उद्देश्य 25 से 50 पिप्स नहीं तो इस आंकड़े को दोगुना करना हो सकता है। इसका तात्पर्य यह है कि गुरिल्ला ट्रेडर्स एक ही ट्रेड में पिप्स के एक सीमित सेट से अधिक जोखिम नहीं उठा सकते हैं, ताकि उन्हें होने वाला अधिकतम नुकसान 5 से 10 पिप्स तक सीमित रहे।

ट्रेडर्स की बड़ी संख्या - गुरिल्ला ट्रेडर्स जो सफल होते हैं वे एक ट्रेडिंग सत्र के भीतर 25 से 25 से अधिक ट्रेड्स कर सकते हैं, जहाँ फ्रेन्ज़ीड ट्रेडिंग की अनुमति देते हैं। यह उत्पन्न होने की संभावना महत्वपूर्ण आर्थिक डेटा जारी होने के मामलों में है।

टेक्निकल एनालिसिस  - संक्षिप्त समय सीमाओं के कारण, गुरिल्ला ट्रेडर्स आमतौर पर अपने ट्रेड्स को समय देने के लिए टेक्निकल एनालिसिस पर भरोसा करते हैं। वे टिक चार्ट या 1-मिनट चार्ट के साथ प्रचलित हैं जो उनके प्रत्येक ट्रेड्स के लिए एंट्री और एग्ज़िट पॉइंट्स की पहचान करते हैं।

लौ कमीशन और स्प्रेडस - ट्रेड्स की अधिक संख्या और कम रिटर्न प्राप्त होने के कारण, गुरिल्ला ट्रेडिंग मुख्य रूप से कम कमीशन और टाइट ट्रेडिंग स्प्रेडस पर निर्भर है। इस तथ्य के कारण, ऐसे ट्रेडर्स खुद को सीमित रखते हैं प्रोनाउंसड करेंसी पेयर्स तक जिसमे हाई लिक्विडिटी लेवल्स हैं। इसके विपरीत में शायद ही कभी इस्तेमाल की जाने वाली मुद्राओं लाभ का एक बड़ा स्रोत हो सकता है लेकिन लिक्विडिटी की कमी होती है।

अनुभवी ट्रेडर्स - आमतौर पर, केवल अनुभवी ट्रेडर्स ही गुरिल्ला ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी का उपयोग करते हैं और कई वर्षों तक सफलतापूर्वक ट्रेड कर रहे हैं। वे जो बाजार में नए हैं और उन्हें इस प्रकार के ट्रेड में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित नहीं किया जाता है क्योंकि वे अपनी रिस्क कैपिटल को कुछ ही समय में समाप्त कर सकते हैं।

जोखिम लेने की गणना - क्योंकि गुरिल्ला ट्रेडर्स की गणना उनके द्वारा किए जाने वाले जोखिमों में की जानी चाहिए, उनके पास एक स्टॉप-लॉस होना चाहिए जो पिप्स/ट्रेड की मामूली संख्या के बराबर हो। इसलिए वे अस्थिर बाजारों और नुकसान के जोखिम के बहुत स्पष्ट होने की स्थिति में साइड लाइन पर बने रहने की कोशिश कर सकते हैं।

गुरिल्ला ट्रेडर्स कि खूबियाँ

सफल गुरिल्ला ट्रेडर्स में अक्सर निम्नलिखित विशेषताएं रखते हैं।

तीव्र निर्णय लेना - फोरेक्स बाजारों को अस्थिरता के लिए जाना जाता है और सफल ट्रेडर्स को तेजी से ट्रेडिंग निर्णय लेने में सक्षम होना चाहिए ताकि वे अपने लाभ को अधिकतम कर सकें और अपने नुकसान को कम कर सकें।

भावनात्मक रूप से अलग - ट्रेडर्स को अपने प्रत्येक ट्रेड्स से भावनात्मक रूप से अलग होना चाहिए और अपने ट्रेड्स के लिए कोई लगाव नहीं रखना चाहिए जो उन्हें नुकसान की स्थिति में डाल सके। न ही उन्हें अपने ट्रेडिंग निर्णयों के संबंध में कोई पछतावा होना चाहिए।

पर्याप्त जोखिम पूंजी (रिस्क कैपिटल) - सफल गुरिल्ला ट्रेडर्स के पास एक महत्वपूर्ण मात्रा में रिस्क कैपिटल होती है और वे जानते हैं कि उन्हें व्यक्तिगत ट्रेड्स के साथ-साथ पूरी तरह से ट्रेड्स पर कितना जोखिम उठाना चाहिए।

ट्रेडिंग अनुभव - सफल गुरिल्ला ट्रेडर्स को कई वर्षों के दौरान उच्च दबाव वाले ट्रेडिंग इवेंट्स में पर्याप्त अनुभव होने की संभावना है।

समापन

गुरिल्ला ट्रेडिंग में सफल होने के लिए, ट्रेडर्स के लिए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि उनके व्यापारिक नुकसान कम से कम हों और उम्मीद करें कि लाभ के मामले में उनके प्रॉफ़िट्स ऐसे नुकसान को काफी हद तक प्रतिबिंबित कर सकते हैं। आटोमेटिक स्टॉप लॉस एक उपयुक्त और संभव गुरिल्ला ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न1. गुरिल्ला ट्रेडिंग का मुख्य उद्देश्य क्या है?
उत्तर1. गुरिल्ला ट्रेडिंग का मुख्य उद्देश्य कई लेन-देन में छोटे प्रॉफ़िट्स उत्पन्न करना है। इसका मतलब कि सफल होने के लिए, ऐसे ट्रेडर्स को मिनट कमीशन, मेजर लेवरेज और टाइट ट्रेडिंग स्प्रेड का अनुभव करना चाहिए।

प्रश्न २ गुरिल्ला ट्रेडर की ट्रेड टाइमलाइन क्या होती है?
उत्तर. गुरिल्ला ट्रेडर की ट्रेड टाइमलाइन बेहद कम होती है। इसमें ट्रेडर्स के लिए एक दिन के ट्रेडर की टाइमफ्रेम, गुरिल्ला ट्रेडर की टाइमफ्रेम की तुलना में लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट की तरह दिखती है।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account