स्टॉक ट्रेडिंग में मोमेंटम क्या है?

02 Sep, 2021

9 min read

178 Views

icon
इसके तहत बताया गया है कि स्टॉक ट्रेडिंग में मोमेंटम क्या मतलब है, मोमेंटम ट्रेडिंग का मतलब औरमोमेंटम, और इसके फायदे और नुकसान।

शेयर मार्केट में, मोमेंटम का मतलब है किसी एसेट की प्राइस में लगातार बढ़ोतरी या कमी।  लंबे समय तक एसेट की प्राइस की कोई एक दिशा या रुझान, चाहे बढ़ रही हो या घट रही हो तो कुछ इन्वेस्टर इसकी एनालिसिस ट्रेड करने और अधिक से अधिक मुनाफा कमाने के लिए करते हैं।

टेक्निकल टर्म में, स्टॉक्स में मोमेंटम से मतलब उस वेलोसिटी की माप से है जिस पर किसी एसेट की प्राइस में बदलाव होता है। यह एक्चुअल प्राइस के स्तर से अलग होता है।  किसी विशेष स्टॉक की प्राइस की मोमेंटम की आकलन किसी तय अवधि के लिए प्राइस में फर्क को मापकर की जा सकती है

उदाहरण के लिए, 15 दिन का मोमेंटम का जानने के लिए, उस एसेट की मौजूदा क्लोजिंग प्राइस को 15 दिन पहले की क्लोजिंग प्राइस घटाना होगा। इसे ज़ीरो लाइन के इर्द-गिर्द रिजल्ट की प्लॉटिंग कर एक ग्राफ पर दिखाया जा सकता है।  यदि प्राइस बढ़ रही हैं, तो वह ज़ीरो लाइन के ऊपर दिखाई देगी, और नीचे जा रही है तो यह नीचे दिखाई देगी।

स्टॉक में मोमेंटम कैसे काम करता है

इंडिकेटर के तौर पर, वैल्यू मोमेंटम एक अनबाउंड ऑसिलेटर है।  इसका मतलब यह है कि जब किसी एसेट के प्राइस मोमेंटम ग्राफ पर प्लॉट किया जाता है, तो कोई ऊपरी या निचली सीमा नहीं होती है।  चार्ट पर सारे उतार-चढ़ाव दिखाने के बाद इन स्तरों को ऊपरी और निचली सीमाओं के साथ हाथ से तय किया जाता है। जब एसेट थोड़ा ओवरबॉट होता है, तो इंडिकेटर अधिक बढ़ जाता है और जब ओवरसोल्ड होता है, तो यह नीचे होता है।

मोमेंटम इन्वेस्टिंग

मोमेंटम ट्रेडिंग या इन्वेस्टमेंट एक स्ट्रेटेजी है जिसका उपयोग इन्वेस्टर्स किसी एसेट की प्राइस में बदलाव के इस्तेमाल के लिए करते हैं ताकि अधिक से अधिक मुनाफा कमाया जा सके। आमतौर पर, इस तरह की ट्रेडिंग नीचे के स्तर पर अंडरप्राइस्ड एसेट को खरीदने और वैल्यू बढ़ने पर उन्हें बेचने के आम तौर-तरीके से अलग है। इसके बजाय, इसके तहत क्वालिटी स्टॉक्स या अन्य एसेट को ऊंचे स्तर पर खरीदनेऔर उससे भी ऊंचे स्तर पर बेचने को ध्यान में रखा जाता है।

मोमेंटम इन्वेस्टर्स इंडिकेटर ग्राफ को कुछ इस तरह पढ़ते हैं-

  • जब किसी एसेट की प्राइस बढ़ती हुई ज़ीरो लाइन को पार करती है, तो वे उस एसेट को खरीद लेते हैं।
  • यदि डाउनट्रेंड में प्राइस ज़ीरो लाइन से नीचे जाती है, तो इन्वेस्टर्स शॉर्ट शेल करेंगे।
  • यदि प्राइस नए उच्च या निम्न स्तर पर पहुंच जाती हैं, जिसकी पुष्टि मोमेंटम इंडिकेटर नहीं कर सकता, तो यह प्राइस में रिवर्सल का संकेत हो सकता है।
  • मोमेंटम इन्वेस्टर्स ट्रेड करने के लिए इन इंडिकेटर के ज़रिये यह समझने के लिए करते हैं रुझान की दिशा क्या है।

मोमेंटम इन्वेस्टमेंट के तरीके

मोमेंटम इन्वेस्टमेंट यह मानता है कि ऊपर और नीचे का रुझान एक तय अवधि के लिए बना रह सकता है।  इसका लक्ष्य है इन ट्रेंड्स से मुनाफा कमाना, चाहे इसमें कितना भी समय लगे। जब प्राइस में बढ़त का ट्रेंड होता है, तो मोमेंटम इन्वेस्टर स्टॉक्स, ईटीएफ, फ्यूचर्स या अन्य सीक्योरिटीज़ पर लॉन्ग पोजीशन लेते हैं।  गिरावट के ट्रेंड के समय शॉर्ट पोजीशन लेते हैं।  मोमेंटम स्टॉक्स की ट्रेडिंग सीखने के लिए मोमेंटम ट्रेडर के कुछ तरीकों पर नज़र डालते हैं-

  • ज़्यादा समय तक चलने वाले दो मूविंग एवरेज जिसमें एक यदि दूसरे से थोड़ा छोटा है, तो उसे ट्रेडिंग सिग्नल के तौर पर लिया जाता है। उदाहरण के लिए, जब 70-दिन का एवरेज 200-दिन के औसत को पार कर जाता है तो इन्वेस्टर खरीदारी करते हैं और यदि छोटा वाला फिर से नीचे आता है, तो यह बिक्री का संकेत है।
  • मोमेंटम इन्वेस्टर एक और स्ट्रेटेजी अपनाते हैं। प्राइस-बेस्ड इंडिकेटर का उपयोग करते हैं। जब मोमेंटम अपने सबसे मजबूत स्तर पर रहता है तो वे विशेष के ईटीएफ में लॉन्ग पोजीशन लेते हैं और सबसे कमजोर मोमेंटम की स्थिति में वे इन सिक्योरिटीज़ पर शॉर्ट पोजीशन लेते हैं। वे इसी तरह सेक्टर में खरीद-बिक्री करते रहते हैं।
  • दूसरे तरीकों में मोमेंटम ट्रेडिंग और प्रति शेयर अर्निंग (ईपीएस) जैसे फंडामेंटल फैक्टर्स का मिश्रण है।

खूबी और खामी

मोमेंटम स्टॉक मार्केट में इन्वेस्टर के लिए नफ़ा-नुकसान साथ-साथ चलते हैं। यह भी मोमेंटम ट्रेडिंग का सच है। शेयर मार्केट में विशेष तौर पर मोमेंटम ट्रेडिंग से जुड़े कुछ फायदे और नुकसान यहां दिए गए हैं-

खूबी

खामी

मोमेंटम ट्रेडिंग में कम समय में भारी मुनाफे की संभावना होती है।

मोमेंटम इन्वेस्टर अक्सर ज़्यादा फीस से परेशान रहते हैं क्योंकि स्टॉक टर्नओवर भी काफी होता है।

स्टॉक प्राइस पर इमोशनल प्रतिक्रिया देने के बजाय, मोमेंटम इन्वेस्टर स्टॉक की कीमत में बदलाव का फायदा उठाते हैं जो इमोशनल इन्वेस्टर के कारण पैदा होते हैं।

इस तरह की इन्वेस्टमेंट स्ट्रेटेजी मार्केट के प्रति संवेदनशील होती है क्योंकि यह बुलिश मार्केट में इसका प्रदर्शन अच्छा होता है जब इन्वेस्टर्स में हर्ड मेंटालिटी होती है।  बीयरिश मार्केट में, मुनाफे का मार्जिन कम हो जाता है क्योंकि इन्वेस्टर सतर्क होते हैं।

मोमेंटम इन्वेस्टर मार्केट की उतार-चढ़ाव से परेशान नहीं होते और अपने इन्वेस्टमेंट पर ज़्यादा से ज़्यादा मुनाफा कमाने के लिए इसका फायदा उठा सकते हैं।

मोमेंटम इन्वेस्टमेंट भी बेहद टाइम-सेंसेटिव होता है और इन्वेस्टमेंटर को रोज़ाना मार्केट पर नज़र रखनी होती है।

मोमेंटम की विसंगति

किसी एसेट की प्राइस में मोमेंटम को मार्केट की विसंगति के तौर पर देखा जाता है। एफिशिएंट मार्केट की परिकल्पना, एक इन्वेस्टमेंट सिद्धांत जो यूजीन फामा के काम पर आधारित है। इसके मुताबिक किसी एसेट की कीमत फिलहाल इसके बारे में उपलब्ध हर तरह की जानकारी का संकेत है।

इसमें आगे कहा गया है कि किसी एसेट की प्राइस में बदलाव नई इन्फॉर्मेशन आने के कारण होता है।  इसलिए, किसी एसेट का पिछला प्रदर्शन उसके भावी प्रदर्शन को स्पष्ट नहीं करना चाहिए। शेयर की कीमत फिलहाल बढ़ने का मतलब यह नहीं कि भविष्य में भी बढ़ेगी। एफिशिएंट मार्केट की परिकल्पना के मुताबिक, कोई मोमेंटम नहीं होनी चाहिए।

कुछ एक्सपर्ट्स का मानना है कि इन्वेस्टर की नासमझी के कारण मोमेंटम पैदा होता है क्योंकि एफिशिएंट मार्केट की परिकल्पना के मुताबिक, केवल तर्कसंगत व्यवहार ही मार्केट को नियंत्रित करता है। उनका मानना है कि इन्वेस्टर का कोग्निटिव बायस, कन्फर्मेशन बायस और अन्य किस्म की धारणाएं और व्यवहार मोमेंटम पैदा करते हैं।

निष्कर्ष

मोमेंटम ट्रेडिंग के लिए इन्वेस्टर का बेहद अनुशासित रहना ज़रूरी है। इस पर जो कमीशन देना होता है उसके कारण यह मंहगा हो सत्का है और यह 'सस्ता खरीदो, मंहगा बेचो' की आम समझ से दूर है। हालांकि इन फैक्टर्स के कारण बहुत से ट्रेडर इससे बचते हैं हालांकि कम लागत वाली ब्रोकरेज सर्विसेज़ ने इन मुश्किलों को दूर कर दिया है।  जब ट्रेडर और इन्वेस्टर यह समझ लें कि क्या ऐसी स्ट्रेटेजी उनके इन्वेस्टमेंट लक्ष्यों के मुताबिक है और साथ ही मोमेंटम स्टॉक्स को ट्रेड करना सीख लें, तो यह स्ट्रेटेजी फायदेमंद हो सकती है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

आप किसी स्टॉक के मोमेंटम का पता कैसे लगाते हैं?

किसी स्टॉक का मोमेंटम का आकलन तय अवधि में लगातार प्राइस के डिफरेंस को लेकर किया जाता है। 10 दिन मोमेंटम का आकलन 10 दिन पहले के लास्ट क्लोजिंग प्राइस में क्लोजिंग प्राइस को घटाकर लगाया जा सकता है। 

हाई मोमेंटम स्टॉक क्या है?

हाई मोमेंटम वाले स्टॉक का मतलब उन स्टॉक से है जिनकी प्राइस कम समय में तेजी से बढ़ सकती हैं। हालांकि, ऐसे स्टॉक जोखिम भरे होते हैं और अचानक क्रैश हो सकते हैं। 

ट्रेडिंग में मोमेंटम का इस्तेमाल कैसे किया जाता है?

मोमेंटम ट्रेडर्स तेजी से बढ़ रहे शेयरों के लिए शॉर्ट टर्म पोजीशन लेकर बाजार में उतार-चढ़ाव का फायदा उठाते हैं। जैसे ही इनमें गिरावट का रुझान दिखने लगता है, इन्हें बेच दिया जाता है।

How would you rate this blog?

Comments (0)

Add Comment

Related Blogs

  • icon

    पेयर ट्रेडिंग लॉजिक

    29 Sep, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    भारत के कमॉडिटी मार्केट से...

    20 Sep, 2021

    12 min read

    READ MORE
  • icon

    ट्रेडिंग का भविष्य

    20 Jun, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    कमॉडिटी की कीमतों में उछाल...

    23 Jun, 2021

    7 min read

    READ MORE
  • icon

    गो एयर आईपीओ: गो एयर आईपीओ...

    18 Jul, 2021

    11 min read

    READ MORE
  • icon

    सक्सेस स्टोरी - अनिल अंबानी

    30 Sep, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    ​​सेंसेक्स में गिरावट के...

    19 Nov, 2021

    7 min read

    READ MORE
  • icon

    फार्मईज़ी की सफलता की कहानी

    15 Jul, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    इलॉन मस्क की सक्सेस...

    06 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    कमॉडिटी ट्रेडिंग: एक सिंहावलोकन

    15 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    ब्लू चिप्स ईंधन रिकॉर्ड

    15 Nov, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    इक्सिगो आईपीओ: इक्सिगो की...

    14 Jul, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    क्या है गुरिल्ला ट्रेडिंग?

    22 Nov, 2021

    7 min read

    READ MORE
  • icon

    जेफ बेजॉस की सक्सेस...

    03 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    स्टॉक मार्केट में...

    17 Jul, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    मार्जिन ट्रेड फंडिंग (एमटीएफ)

    13 Sep, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    ध्यान रखने लायक स्टॉक्स:...

    28 Sep, 2021

    5 min read

    READ MORE
  • icon

    एसआईपी के बारे में हर बात...

    21 Jun, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    टॉप 10 क्रिप्टोकरेंसी...

    19 Jul, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    2021 में बेगिनर्स के लिए...

    01 Sep, 2021

    11 min read

    READ MORE
  • icon

    नए ट्रेडर्स के लिए सरल...

    13 Jul, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    एकमुश्त इन्वेस्टमेंट के...

    22 Jun, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    स्टॉक मार्केट में सीएमपी क्या है?

    21 Jul, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    स्टॉक डिविडेंड पर टैक्स...

    07 Sep, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    कैपिटल गेन्स टैक्स क्या है...

    21 Sep, 2021

    11 min read

    READ MORE
  • icon

    ईएलएसएस फंड क्या हैं?

    10 Sep, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    एलआईसी सीएफओ को नियुक्त...

    12 Nov, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    आईपीओ अलर्ट! देवयानी...

    16 Jul, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    वॉरेन बफे का 2021 का...

    01 Jul, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    स्टॉक मार्केट में 2021 में...

    04 Jul, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    क्लीन साइंस, जीआर...

    27 Sep, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    टर्म इंश्योरेंस के बारे...

    24 Jun, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    बाय एंड नेवर सेल किस्म के इन्वेस्टर

    02 Jul, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    ज़ोमैटो के आईपीओ प्लान पर एक नज़र

    25 Jun, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    किसी भी आईपीओ में इन्वेस्ट...

    05 Jul, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    चौथी तिमाही के परिणामों के...

    19 Jun, 2021

    7 min read

    READ MORE
  • icon

    पेटीएम के फाउंडर और सीईओ...

    09 Sep, 2021

    10 min read

    READ MORE
  • icon

    इंडियन रेलवेज़ ने साझा किया...

    01 Oct, 2021

    7 min read

    READ MORE
  • icon

    भारत में टैक्स फ्री इंटरेस्ट इन्कम

    14 Sep, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग: बेगिनर्स गाइड

    16 Sep, 2021

    6 min read

    READ MORE
  • icon

    क्या आपको पेटीएम के आईपीओ...

    08 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    कंपनियां क्यों चुन रही हैं...

    22 Sep, 2021

    9 min read

    READ MORE
  • icon

    ओयो की सक्सेस स्टोरी:...

    17 Sep, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    लॉरस लैब्स के शेयर: 3...

    31 Aug, 2021

    8 min read

    READ MORE
  • icon

    2021 में आ रहे हेल्थकेयर...

    03 Jul, 2021

    8 min read

    READ MORE

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

Latest Blog

दिमागीपन! जानकारी लो

बाजार के साथ पकड़

60 सेकंड में समाचार।


किसी भी समय और कहीं भी अपनी सीखने की यात्रा शुरू करने और उसके साथ बने रहने के लिए एकदम सही स्टार्टर।

वेबसाइट देखे
smartbuzz_logo smartbuzz_promotion_img

दिमागीपन! जानकारी लो

बाजार के साथ पकड़

60 सेकंड में समाचार।

smartbuzz_logo

किसी भी समय और कहीं भी अपनी सीखने की यात्रा शुरू करने और उसके साथ बने रहने के लिए एकदम सही स्टार्टर।

smartbuzz_promotion_img

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account