स्विंग ट्रेडिंग क्या है?

07 जून,2022

5

87

icon
स्विंग ट्रेडिंग की मूल बातें समझें और जाने कि यह कैसे लाभ के लिए बाज़ार की अस्थिरता का उपयोग करता है।

स्विंग ट्रेडिंग की परिभाषा

स्विंग ट्रेडिंग मौलिक ट्रेडिंग का एक रूप है जिसमें व्यापारी एक दिन से अधिक की अवधि के लिए अपनी पोज़िशन होल्ड करता है।.व्यापारी तकनीकी विश्लेषण की मदद से बिड में अल्पकालिक लाभ के लिए पोज़िशंस लेता है। बाहर निकलने से पहले इन पोज़िशंस को कई दिनों या सप्ताहों के लिए होल्ड किया जा सकता है।

मौलिक ट्रेडिंग करने वाले बहुत से व्यापारी स्विंग ट्रेडिंग में भाग लेते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि कॉर्पोरेट मूल सिद्धांतों में परिवर्तन आमतौर पर कुछ समय में होता है, जिसके परिणामस्वरूप पर्याप्त प्राइस मूवमेंट्स का लाभ कुछ समय में उठाया जा सकता है।

विभिन्न ट्रेडिंग स्टाइल्स का आकलन

स्विंग ट्रेडिंग डे ट्रेडिंग और ट्रेंड ट्रेडिंग के बीच एक बढ़िया माध्यम है। इसे बेहतर ढंग से समझने के लिए, आइये हम अलग अलग ट्रेडिंग स्टाइल्स के बारे में जानें।

डे ट्रेडिंग में होल्डिंग पीरियड अक्सर छोटे होते हैं जिनकी अवधि एक दिन से कम समय तक होती है। ऐसा देखा गया है कि इस ट्रेडिंग स्टाइल में प्रति लेनदेन कम से कम लाभ कमाने की संभावना रहती है।

इसके विपरीत स्विंग ट्रेडिंग में होल्डिंग पीरियड की अवधि थोड़ी ज़्यादा होती है। इसलिए डे ट्रेडिंग के मुकाबले इसमें प्रति लेनदेन लाभ भी थोड़ा अधिक होता है, लेकिन यह ट्रेंड ट्रेडिंग से कम रहता है।

ट्रेंड ट्रेडिंग में होल्डिंग पीरियड की अवधि सबसे ज़्यादा होती है। कम से कम लेनदेन के कारण इस ट्रेडिंग शैली में एक व्यापारी प्रति लेनदेन सबसे अधिक लाभ कमा सकता है।

स्विंग ट्रेडिंग के लिए उपयुक्त स्टॉक का चयन

स्विंग ट्रेडिंग में सफल होने के लिए, आपको सही स्टॉक का चयन करना चाहिए और इसके लिए आपको दो बातों का ध्यान देना चाहिए - तरलता और अस्थिरता| 

लार्ज-कैप स्टॉक - ऐसे स्टॉक जिनका प्रमुख एक्सचेंजों पर सबसे अधिक फ्रीक्वेंसी के साथ कारोबार होता है - स्विंग ट्रेडिंग के लिए आदर्श माने जाते हैं। सक्रिय बाज़ारों में इन स्टॉक का लेनदेन काफी ज़्यादा होता है। स्टॉक जो पर्याप्त रूप से तरल नहीं हैं, उन्हें बेचना मुश्किल हो सकता है और इसके लिए अतिरिक्त मूल्य छूट की आवश्यकता हो सकती है।

स्विंग ट्रेडिंग में व्यापारी बाज़ार की अस्थिरता का लाभ उठा सकते हैं। अगर कीमतें स्थिर रहती हैं, तो लाभ कमाने के अवसर भी कम हो जाते हैं। हालांकि बाज़ार की अस्थिरता को एक नकारात्मक अंदाज़ में देखा जाता है, स्विंग व्यापारी इस पर निर्भर रहते हैं क्योंकि वे स्टॉक की बढ़ी कीमत का लाभ उठा सकते हैं। इसलिए ऐसे स्टॉक जो अस्थिरता से सबसे ज़्यादा प्रभावित होते हैं, स्विंग ट्रेडिंग के लिए सबसे उपयुक्त माने जाते हैं क्योंकि वे अधिक लाभ दिला सकते हैं।

स्विंग ट्रेडिंग और मार्केट एनवायरनमेंट

स्विंग ट्रेडिंग बाजार की प्रवृत्ति के अनुसार अलग-अलग होती है।

एक बेयर मार्केट के भीतर स्विंग ट्रेडिंग

इस बाजार की प्रवृत्ति के भीतर, सामान्य खरीद-बिक्री ट्रेडों के मामले में स्विंग ट्रेडिंग को लागू करना मुश्किल हो सकता है।  जब डाउनट्रेंड होता है, तो इक्विटी मार्केट की कीमतों के मामले में लंबी अवधि में गिरावट होती है।  इस तथ्य के कारण, एक सिक्योरिटी खरीदना और उसे इस उम्मीद में होल्ड करना कि समय के साथ इसकी कीमत बढ़ जाएगी, लाभप्रद नहीं है। इस परिदृश्य के उत्पन्न होने से बचने के लिए, व्यापारी निम्नलिखित स्विंग ट्रेडिंग रणनीतियों का उपयोग कर सकते हैं।

उनके व्यापार की अवधि को कंडेन्स करें। इसके बजाय कि कई हफ्तों तक होल्ड करने के बजाय, व्यापारियों को अपनी सिक्योरिटीज़ पर तेजी से बदलाव करने के लिए तैयार रहना चाहिए।

व्यापारियों को अधिक कैश रखना चाहिए और पूंजी की मात्रा को कम करना चाहिए जो अन्यथा वे व्यापार पर खर्च करेंगे।

पुट्स खरीदने और ऑप्शंस में बदलने की सलाह दी जाती है।

बुल मार्केट के भीतर स्विंग ट्रेडिंग

बेयर मार्केट के विपरीत, बुल मार्केट्स के भीतर स्विंग ट्रेडिंग करना सरल है| इस तथ्य का कारण यह है कि कीमतों की बढ़ने की संभावना होती है। इससे व्यापारियों के लिए सिक्योरिटीज़  खरीदना और थोड़े समय के भीतर मुनाफे तक पहुंच प्राप्त करना आसान हो जाता है। जब व्यापारी एक बुल मार्केट के भीतर स्विंग ट्रेडों को एक्ज़िक्युट करते हैं तो उन्हें निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए|  

बाजार का यह ट्रेंड प्रचलित है कि व्यापारियों से सिक्योरिटीज़  का लाभ उठाने के लिए उच्च कीमतों का भुगतान करने की उम्मीद की जाएगी।

बुल मार्केट के मौजूद रहने पर खराब ट्रेडिंग आदतों के बनने की संभावना अधिक होती है। व्यापारियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे सर्वोत्तम सिक्योरिटीज़ पर पर्याप्त मार्केट रिसर्च और उचित परिश्रम करें। इसके अलावा, यदि कोई सिक्योरिटी अच्छी दिखाई देती है,तो जरूरी नहीं कि वह लाभकारी हो।

बशर्ते व्यापारियों के पास लाभ उठाने के लिए आवश्यक जोखिम की सीमा हो, उन्हें इसका उपयोग करना चाहिए।

बाजार की स्थितियों के बीच में स्विंग ट्रेडिंग

जब बाजार तेजी और मंदी के ट्रेंड के बीच की स्थिति में होता है, तो स्विंग ट्रेडिंग सबसे अच्छी तरह से एक्ज़िक्युट होती है।  अनिश्चितता बाजार को प्रभावित करती है, जबकि व्यापारियों के पास खुद को सर्वश्रेष्ठ पोज़िशंस पर उतारने की अधिक संभावना होती है। बाजार की इस स्थिति में व्यापारियों को निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए।

यहां होने वाली अस्थिरता का विशेष रूप से लाभ उठाया जा सकता है जब यह दोनों दिशाओं में मौजूद हो। जब अस्थिरता अकेले एक बाजार दिशा की तरफ होती है, तो ट्रेडों को एक्ज़ीक्युट करना कठिन हो सकता है।

अधिकांश स्विंग ट्रेडों के लिए इनके बीच की बाजार की स्थिति सबसे सुरक्षित होती है।

शुरुआत करने वालों के लिए स्विंग ट्रेडिंग - विशेष नोट्स

शुरुआत में, आपको स्विंग ट्रेडिंग पोजीशन में प्रवेश करने के लिए पूंजी की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, आपको चार्टिंग सॉफ्टवेयर में निपुण होना होगा और एक तकनीकी विश्लेषण व्यवस्थित करना होगा। अंत में, यदि आप स्विंग ट्रेडिंग करना चाहते हैं, तो आपको पहले यह सुनिश्चित करना होगा कि आप सिंपल मूविंग एवरेज और ट्रेडिंग चैनलों की मूल बातें समझते हैं।

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने -बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account