मुद्रास्फीति में निवेश करें: मुद्रास्फीति के दौरान निवेश करने के 5 तरीके

04 जुलाई,2022

5

168

icon
इन्फ्लेशन के अर्थ को समझें और जानें कि इससे बचने के लिए किन एसेट्स में निवेश करें।

इन्फ्लेशन- एक संक्षिप्त ओवरव्यू 

इन्फ्लेशन वास्तव में क्या है यह समझने के लिए, निम्नलिखित उदाहरण पर विचार करें। अब से एक दशक बाद INR 100 की वैल्यू उतनी नहीं होगी जितनी कि इस समय है और आप इससे वो सब सामान नहीं खरीद पाएंगे जो कि आज खरीद सकते हैं। इन्फ्लेशन एक अर्थव्यवस्था में उपलब्ध वस्तुओं और सेवाओं के एक सेट के औसत प्राइस लेवल को समझने में मदद करता है। इस शब्द का उपयोग एक तय समय सीमा में कीमतों में बढ़ोतरी को दर्शाने के लिए किया जाता है।

इन्फ्लेशन के कारण किसी दी गई करेंसी से उतनी खरीद नहीं की जा सकती जितनी कि पहले की जा सकती थी| इसलिए इन्फ्लेशन के समय उपयुक्त रणनीतियों और निवेशों की पहचान करना महत्वपूर्ण है जिससे इसके खिलाफ बचाव किया जा सके|

एक अर्थव्यवस्था के भीतर इन्फ्लेशन किस हद तक असर डालती है, यह वर्तमान घटनाओं पर निर्भर करता है। मज़दूरी में वृद्धि और कच्चे माल की कीमतों में तेज़ी से बढ़ोतरी दो ऐसे कारण हैं जिनसे इन्फ्लेशन प्रभावित होती है। यह समझना महत्वपूर्ण है कि इन्फ्लेशन स्वाभाविक है और ऐसे कई तरीके हैं जिनकी मदद से इससे बचा जा सकता है। ये तरीके क्या हैं, यह समझने के लिए पढ़ना जारी रखें।

एसेट्स जो इन्फ्लेशन के खिलाफ बचाव में मदद करते हैं

नीचे दी गई सूची में कुछ ऐसे प्रमुख एसेट्स बताए गए हैं जिन्हें इन्फ्लेशन के दौरान निवेश के लिए बेहतर कहा जा सकता है।

# 1.  सोना

यह एसेट सूची में सबसे ऊपर है क्योंकि इसे अक्सर ऑल्टर्नट करेंसी के रूप में भी देखा जाता है। यह रवैया विशेष रूप से उन देशों में स्पष्ट है जहां देसी करेंसी मज़बूत नहीं है और उसकी कीमत गिर रही है। कहा जाता है कि ऐसे देश अक्सर सोने या किसी अन्य मज़बूत कर्रेंसी का उपयोग तब करते हैं जब उनकी अपनी करेंसी विफल हो जाती है। सोना फिज़िकल रूप में मौजूद है और वास्तविक है, इसलिए इसकी वैल्यू बने रहने की संभावना अधिक होती है।

इन्फ्लेशन के दौरान, केंद्रीय बैंक अपनी मॉनेटरी पॉलिसी को ध्यान में रखते हुए ब्याज दरों में वृद्धि कर सकते हैं। इसलिए अन्य एसेट्स की तुलना में, सोने में निवेश करना इतना लाभप्रद नहीं है| यदि आप सोने जैसे एसेट में निवेश करते हैं, तो आप खुद को ऐसे एसेट्स से वंचित रखते हैं जो अधिक मूल्यवान हैं| यह बात तब अधिक स्पष्ट हो जाती है जब ब्याज दरें अधिक होती हैं, और ऑल्टरनेटिव एसेट्स अधिक रिटर्न देते हैं| 

हालांकि इन्फ्लेशन से सुरक्षित रहने के लिए निवेश के कई बेहतर एसेट्स हैं, लेकिन एक पोर्टफोलियो को मज़बूत बनाने के लिए इसमें विविधता लाना ज़रूरी है और इसलिए सोने पर विचार किया जाना चाहिए।

 #2.  कमोडिटीज़

ऐसे कई सामान हैं जो इस व्यापक श्रेणी के अंतर्गत आते हैं, जिनमें विदेशी कर्रेंसीज़, प्राकृतिक गैस, तेल, बिजली, कीमती धातुएं और अनाज शामिल हैं, लेकिन ये श्रेणी इन्हीं तक सीमित नहीं हैं। कमोडिटीज़ और इन्फ्लेशन के बीच एक अनूठा संबंध होता है क्योंकि कमोडिटीज़ के प्राइस से ही इन्फ्लेशन के आने का पता चलता है| जैसे-जैसे किसी वस्तु की कीमत बढ़ती है, वैसे-वैसे उस वस्तु की कीमत भी बढ़ती है जिसे बनाने के लिए उस वस्तु का उपयोग किया जाता है। शुक्र है कि आप ईटीएफ (या एक्सचेंज ट्रेडेड फंड) के माध्यम से कमोडिटीज़ में अधिक व्यापक रूप से निवेश कर सकते हैं।

कमोडिटीज़ में निवेश करने का निर्णय लेने से पहले, आपको इनसे जुड़ी अस्थिरता के बारे में पता होना चाहिए और इसलिए कमोडिटी ट्रेडिंग करते समय सावधानी के साथ आगे बढ़ना चाहिए। कमोडिटीज़ डिमांड और सप्लाई कारकों पर निर्भर करती हैं, इसलिए किसी भी प्रकार का कॉन्फ्लिक्ट या भू-राजनीतिक तनाव के कारण सप्लाई में मामूली बदलाव कमोडिटी की कीमतों पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

#3.  60/40 स्टॉक/बॉन्ड पर विचार करें

अपने पोर्टफोलियो में 60 फीसदी स्टॉक और 40 फीसदी बॉन्ड शामिल कर, आप अपने लिए एक कंज़र्वेटिव पोर्टफोलियो बना सकते हैं। यह निवेश की रणनीति काफी आसान है लेकिन इसमें कुछ कमियां भी हैं। अगर हम 60/40 स्टॉक और बॉन्ड पोर्टफोलियो की तुलना एक ऐसे पोर्टफोलियो से करें जिसमें केवल इक्विटी शामिल हैं, तो ये कम रिटर्न देता है। इसके अलावा, लंबे समय में ऐसे पोर्टफोलियो का प्रदर्शन केवल इक्विटी वाले पोर्टफोलियो की तुलना में कम रहने की संभावना है, जिसका प्रदर्शन कंपाउंड इंटरेस्ट से प्रभावित होता है।

हालांकि यह पोर्टफोलियो आपको इन्फ्लेशन से बचने में मदद कर सकता है, लेकिन इसमें आपको ऐसा रिटर्न नहीं मिल सकता जो कि एक ऐसे पोर्टफोलियो से मिल सकता है जिसमें स्टॉक का प्रतिशत अधिक हो|

#4. रियल एस्टेट निवेश ट्रस्ट (या आरईआईटी)

ये ट्रस्ट उन कंपनियों द्वारा बनाए जाते हैं जो इनकम उत्पन्न करने वाले रियल एस्टेट के मालिक हैं और उसका संचालन करते हैं।   

इन्फ्लेशन बढ़ने पर प्रॉपर्टी की कीमतों और किराए से होने वाली इनकम में वृद्धि होना सामान्य है। आरईआईटी रियल एस्टेट का एक पूल है जो अपने निवेशकों के लिए डिविडेंड्स उत्पन्न करता है।

आरईआईटी से जुड़ी कमियां अन्य हाई यील्ड सिक्योरिटीज़ की आवश्यकता के प्रति उनकी संवेदनशीलता से संबंधित हैं। एक बार जब इंटरेस्ट रेट्स बढ़ते हैं, तो ट्रेज़री सिक्युरिटीज़ आकर्षक हो जाती हैं। इससे फंड आरईआईटी से दूर जा सकते हैं और उनके शेयर की कीमतों में गिरावट आ सकती है।

यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि आरईआईटी को प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान करना पड़ता है जो कि ऑपरेटिंग एक्सपेंस का 25 प्रतिशत हिस्सा हो सकता है। यदि नगरपालिका प्राधिकरण बजट की कमी को दूर करने के लिए प्रॉपर्टी टैक्स में वृद्धि कर देती है, तो इससे शेयर होल्डर्स को मिलने वाला कैश फ्लो कम हो सकता है।

#5.  रियल एस्टेट से आय

यह इनकम आप अपनी प्रॉपर्टी को किराए पर देने से प्राप्त करते हैं। जैसा कि पिछले पॉइंट में स्पष्ट किया गया है, इन्फ्लेशन रियल एस्टेट के पक्ष में काम करती है। यह इस तथ्य के आधार पर है कि जैसे-जैसे इन्फ्लेशन बढ़ता है, वैसे-वैसे प्रॉपर्टी की कीमतें भी बढ़ती हैं। इसलिए लैंडलॉर्ड्स समय के साथ ज़्यादा किराया प्राप्त कर सकते हैं| 

अंतिम विचार

हालांकि ऊपर बताई गयी पांच सेक्युरिटीज़ इन्फ्लेशन के खिलाफ अच्छा बचाव कर सकती हैं, लेकिन इनमें कुछ कमियां भी हैं| ऐसा इसलिए है क्योंकि इन्फ्लेशन के कई अलग-अलग प्रकार होते हैं। इसलिए इनमें से किसी भी सिक्योरिटी में निवेश करने से पहले हमेशा अपने निवेश का प्रोफाइल, जोखिम उठाने की क्षमता और कैपिटल की मात्रा को ध्यान में रखें। निवेश संबंधी उचित निर्णय लेने के लिए और इसके बारे में अधिक जानने के लिए एंजल वन की वेबसाइट पर जाएं।

 

 

डिस्क्लेमर: इस ब्लॉग का उद्देश्य है, महज़ जानकारी प्रदान करना न कि इन्वेस्टमेंट के बारे में कोई सलाह/सुझाव प्रदान करना और न ही किसी स्टॉक को खरीदने-बेचने की सिफारिश करना।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

संबंधित ब्लॉग

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

नवीनतम ब्लॉग

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img

#स्मार्टसौदा न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Open an account