निवेशक के लिए मॉड्यूल

सेक्टर प्राइमर्स

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

सेक्टोरल इंडेक्स पर एक छोटा प्राइमर

4.0

icon icon

तो, इस चैप्टर में, हम सेक्टोरल इंडिसिस  के कांसेप्ट पर एक नजर डालेंगे -  एक  तरह  का  ओवरव्यू । आगे के चैप्टर्स में इंडियन स्टॉक मार्केट में मौजूद बहुत सारी सेक्टोरल इंडिसिस  के बारे में गहराई से जानेंगे लेकिन पहले बेसिक्स से स्टार्ट करते हैं।  

सेक्टोरल इंडिसिस  का कांसेप्ट में दो चीज़ें इन्वॉल्व होती है- सेक्टर और  इंडिसिस ।  अगर आप स्मार्ट मनी को फॉलो कर रहे हो, तो इस बात में कोई डाउट नहीं है कि आप इन दोनों से परिचित होंगे।   पिछले चैप्टर में, हमने सेक्टर्स के बारे में गहराई से जाना था।  और एक और पिछले मॉड्यूल में,जहां हमने मार्केट के फंडामेंटल को डिस्कस किया था हमने वहां इंडसिस  के बारे में भी सीखा था ऐसा, है ना?

चलिए एक बार तेजी से रिकैप करते हैं कि सेक्टर्स और इंडिसिस  क्या है।  

इंडिसिस क्या है?

आपका दोस्त, जो की एक यंग इन्वेस्टर जिसने अभी अभी स्टॉक मार्केट शुरू किया है, आपसे एक सवाल पूछता है -”आज के दिन स्टॉक मार्केट कैसा चल रहा है?”

इस सवाल का जवाब आप कैसे देंगे? एनएससी आरबीएसई पर हजारों स्टॉक लिस्टेड है प्रत्येक लिस्टेड कंपनी के शेयर की मूवमेंट को ट्रैक करना इंपॉसिबल है। बजाय इसके, मार्केट की परफॉर्मेंस को एक्सेस करने का एक स्मार्ट तरीका यह होगा की एक्सचेंज पर मौजूद कुछ टॉप कंपनी स्कोर देखा जाए और उनके मूवमेंट को ट्रैक किया जाए सही है ना?

  • इसलिए, अगर ज्यादातर टॉप कंपनीज के शेयर अपवर्ड ट्रेंड कर रहे हैं ,तो आप कह सकते हैं की उस दिन मार्केट अच्छा परफॉर्म कर रही थी।  
  • दूसरी तरफ, अगर वो डाउनवार्ड हो रहे हैं तो, आप निर्णय करेंगे की मार्केट खराब परफॉर्म कर रही थी।

यह टॉप कंपनीज, जिनको आपने अभी पिक किया- यह वह है जो मेजर स्टॉक मार्केट इंडिसिस  को बनाती है। अब जब हमने इंडिसिस  के कांसेप्ट को दोबारा से समझ लिया है, तो चलिए देखते हैं इसकी डेफिनेशन क्या है?

इंडिसिस को डिफाइन करना

स्टॉक मार्केट इंडिसिस  इस बात के इंडिकेटर हैं जो मार्केट की परफॉर्मेंस को पूरी तरह से या एक निश्चित सेगमेंट के लिए रिफ्लेक्ट करते हैं। एक स्टॉप स्टॉक मार्केट इंडेक्स कई सारी कंपनी से मिलकर बना होता है। जिनके शेयर एक्सचेंज पर ट्रेड हो रहे होते हैं हर इंडेक्स शेयर की प्राइस मूवमेंट और परफॉर्मेंस को इसकी कांस्टीट्यूएंट कंपनी इसके साथ मिजर करता है। इसका मतलब है की इंडेक्स की परफॉर्मेंस इंडेक्स में मौजूद स्टॉक की परफॉर्मेंस के डायरेक्टली प्रोपोर्शनल है। आसान भाषा में जब इंडेक्स पर मौजूद स्टॉक्स का प्राइस ऊपर जाता है तो पूरा इंडेक्स भी ऊपर जाता है।

सेक्टर क्या है?

सेक्टर, जैसा कि हमने पिछले चैप्टर में देखा, इकोनामी के वह एरियाज हैं जो कंपनियों द्वारा एक तरह के बिजनेस में इंगेज होने पर बनते हैं। इसमें मैन्युफैक्चरिंग प्रोडक्ट की सेल या सर्विसेज हो सकती हैं। स्टॉक मार्केट को इकोनामी की पार्टीशनिंग को रिफ्लेक्ट करने के लिए भी  सेक्टर्स में डिवाइड कर दिया गया है। जो कंपनीज सेन सेक्टर को बिलॉन्ग करती हैं वह जनरली कुछ कॉमन ऑपरेटिंग कैरेक्टर स्टिक्स को शेयर करती हैं।  

इसलिए, सेक्टरल इंडिसिस क्या है?

चलिए दोनों को साथ में रखते हैं। सेक्टोरल इंडिसिस  स्टॉक मार्केट में मौजूद स्पेसिफिक सेक्टर की परफॉर्मेंस को रिफ्लेक्ट करने वाले इंडिकेटर है। यह मार्केट सेक्टर का समरी और बेंचमार्किंग डाटा देते हैं। एक इन्वेस्टर के तौर पर, आप आएंगे किस सेक्टरल इंडिसिस किसी स्टॉक को स्पेसिफिक सेक्टर के आगे अगेंस्ट ट्रैक करना पॉसिबल बनाती हैं।

भारत में सेक्टोरल इंडिसिस

इंडियन स्टॉक मार्केट, में दो मेजर एक्सचेंज हैं- एनएससी और  आरबीएसई- दोनों के अपने सेक्टरल इंडिसिस के सेट है।  यह इंडस्ट्रीज मेजर इकोनामिक सेक्टर को  रिफ्लेक्ट करने के लिए बनाई गई हैं, इसलिए इन्वेस्टर फेयरली आइडिया  सकता है की कैसे सिर्फ इंडेक्स को ट्रैक करके कोई सेक्टर अच्छा परफॉर्म कर रहा है। 

एनएससी और  आरबीएसई के सेक्टोरल इंडिसिस  को नीचे चेक कर सकते हैं

Sector

Sectoral index: NSE

Sectoral index: BSE

Auto

NSE Auto Index

S&P BSE AUTO

Bank

NSE Bank Index

S&P BSE BANKEX

Consumer durables

NSE Consumer Durables Index

S&P BSE CONSUMER DURABLES

Finance

NSE Financial Services Index


NSE Financial Services 25/50 Index

S&P BSE Finance

FMCG

NSE FMCG Index

S&P BSE Fast Moving Consumer Goods

Healthcare

NSE Healthcare Index

S&P BSE Healthcare 

IT

NSE IT Index

S&P BSE Information Technology

Metal

NSE Metal Index

S&P BSE METAL

Oil and gas

NSE Oil & Gas Index

S&P BSE OIL & GAS

Realty

NSE Realty Index

S&P BSE REALTY

Media

NSE Media Index

-

Pharma

NSE Pharma Index

-

Private Bank

NSE Private Bank Index

-

PSU Bank

NSE PSU Bank Index

-

Basic materials

-

S&P BSE Basic materials

Consumer discretionary GS

-

S&P BSE Consumer discretionary Goods & Services

Energy

-

S&P BSE Energy

Industrials

-

S&P BSE Industrials

Telecom

-

S&P BSE Telecom

Utilities

-

S&P BSE Utilities

Capital goods

-

S&P BSE CAPITAL GOODS

Power

-

S&P BSE POWER

Teck

-

S&P BSE TECK

 

आप नोटिस करोगे कि दोनों एनएससी और आरबीएसई ने सेक्टरल इंडस्ट्रीज को टॉप इकोनामिक सेक्टर जैसे ऑटो, आईटी, बैंकिंग, बगैरा के बाद मॉडल किया है। इसलिए, एन ऐसी और बीएसपी पर बहुत सारे सेक्टरल इंडिसिस मैं सेम इकनोमिक सेक्टर के इंडिकेटर हैं।  

  • समझने के लिए, निफ़्टी ऑटो इंडेक्स एनएससी का सेक्टरल इंडेक्स है जो ऑटोमोबाइल सेक्टर के बाद मॉडल है, जबकि बी एस ई का कॉरस्पॉडिंग सेक्टरल इंडेक्स s&p बीएसई ऑटो है।  
  • इसी तरह, निफ़्टी एफएमसीजी इंडेक्स एनएससी का सेक्टर इंडेक्स है जो एफएमसीजी सेक्टर के बाद मॉडल है, जबकि बीएसपी में करस पांडे सेक्टरल इंडेक्स s&p बीएसई फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स है।   

हमें सेक्टरल इंडिसिस की जरूरत क्यों है?

जैसा आप पहले भी देख चुके हैं, की स्टॉक मार्केट में हमारे पास कई सारे इंडस्ट्रीज हैं। जब वहां ऑलरेडी ब्रॉड मार्केट इंडस्ट्रीज जैसे निफ़्टी और सेंसेक्स हैं, तो हमें सेक्टरल इंडिसिस की जरूरत क्यों है? इसके जवाब में दो मुख्य रीजन सामने आते हैं, की सेक्टरल इंडसीस इन्वेस्टर्स और ट्रेडर्स के लिए क्यों बेनिफिशियल हैं। 

1. यह  सेक्टरल असेसमेंट को आसान बनाते हैं।

ब्रॉड मार्केट इंडस्ट्रीज, आपको पूरी मार्केट परफॉर्मेंस का अच्छा आईडिया देते हैं। लेकिन अगर आप यह जानना चाहते हैं कि कोई पर्टिकुलर सेक्टर कैसा परफॉर्म कर रहा है? जैसे मान लीजिए, आप बैंकिंग सेक्टर कैसा परफॉर्म कर रहा है । यह समझना चाहते हैं बिना सेक्टरल इंडिसिस के। आपको सारे टॉप के बैंकिंग स्टॉक्स को पिक करना होगा और इंडिविजुअली उन्हें एनालाइज करना होगा की वह कैसा परफॉर्म कर रहे हैं उस सेक्टर की ओवरऑल स्टेट को समझने के लिए यह उतना कठिन नहीं है। लेकिन इसमें बहुत सारी एर्रर्स हो सकती है।  

सेक्टर इंडस्ट्रीज, हालांकि, इस काम को आपके लिए आसान बना देती है। इन्हें हर सेक्टर के टॉप स्टॉक्स के अगेंस्ट बेंचमार्क किया जाता है। इसलिए, अगर आप जानना चाहते हैं कि एक सेक्टर कैसा कर रहा है, तो आपको बस इतना करने की जरूरत है कि उसके कंपाउंडिंग सेक्टरल इंडेक्स पर एक नजर डालें।

2. यह स्टॉक असेसमेंट को आसान बनाते हैं

अब, एक सेक्टर बेस्ट इंडेक्स आपको सेक्टर की परफॉर्मेंस का अच्छा आईडिया देता है।  लेकिन अगर आप उस सेक्टर के किसी पर्टिकुलर स्टॉक में इन्वेस्ट करने के लिए इंटरेस्टेड हैं, तो बिना किसी डाउट के आप यह जानना चाहेंगे की बेंच मार्क की रिस्पेक्ट में वह स्टॉक अंडरपरफॉर्म कर रहा है या ओवर परफॉर्म।  

उदाहरण के लिए, मान लीजिए आप एक्सिस बैंक के सच में इन्वेस्ट कर रहे हैं।   अब, सिर्फ कंपनी के स्टॉक के प्राइस मूवमेंट को देखकर आपको ज्यादा कुछ पता नहीं चलेगा।   लेकिन, जब आप स्टॉप की परफॉर्मेंस को उसके सेक्टोरियल इंडेक्स से कंपेयर करेंगे, आपको एक बेहतर पर्सपेक्टिव मिल सकता है ।  यह आपको बताता है की एक्सिस बैंक के शेयर उस सेक्टर के दूसरे शेयरों से अच्छा या खराब परफॉर्म कर रहा है।  

रैपिंग अप

तो, इस तरह सेक्टर इंडस्ट्रीज का यह चैप्टर रैपफ हुआ । आगे आने वाले चैप्टर्स में, हम टॉप निफ़्टी सेक्टरल इंडिसिस के डिटेल्स को जानेंगे जिससे आप यह समझ सके कि वह कैसे कांस्टीट्यूट किए गए हैं ,स्मार्ट मनी के साथ और ज्यादा सीखते रहिए।

क्विक रीकैप

  • सेंट्रल इंडस्ट्रीज का कांसेप्ट दो चीजें इंवॉल्व करता है- सेक्टर और इंडिसिस।
  • स्टॉक मार्केट इंडस्ट्रीज किसी पूरी मार्केट या मार्केट के एक शर्ट एंड सेगमेंट की परफॉर्मेंस को रिफ्लेक्ट करने वाले इंडिकेटर होते हैं । स्टॉक मार्केट इंडेक्स ग्रुप ऑफ कंपनी से मिलकर बना होता है जिनके शेयर एक्सचेंज पर ट्रेड होते हैं।  
  • सेक्टर सिमिलर लाइंस ऑफ बिजनेस में इंगेज कंपनियों से बने हुए इकॉनमी के एरियाज हैं।  
  • सेक्टरल इंडिसिस किसी स्टॉक मार्केट के स्पेसिफिक सेक्टर की परफॉर्मेंस को रिफ्लेक्ट करने वाले इंडिकेटर हैं। यह मार्केट सेक्टर के बेंचमार्किंग डाटा और समरी देते हैं ।  
  • इंडियन स्टॉक मार्केट में, दो मेजर एक्सचेंज हैं- एनएससी और बी एस ई दोनों के अपने सेक्टरल इंडिसिस के सेट हैं। यह इंडस्ट्रीज मेजर इकोनामिक सेक्टर को रिफ्लेक्ट करने के लिए क्रिएट किए गए हैं, जिससे इन्वेस्टर्स को आसानी से इंटेक्स को ट्रैक करने पर यह आइडिया मिल सके कि कोई सेक्टर कैसा परफॉर्म कर रहा है।  
  • सेक्टर इंडस्ट्रीज सेक्टरल एसेसमेंट और स्टार्ट असेसमेंट को इन्वेस्टर्स के लिए आसान बना देते हैं।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account