कमोडिटी विकल्प

3.6

icon icon

अब तक हमने कमोडिटीज़ से संबंधित सभी अध्यायों और मॉड्यूलों में, केवल फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट पर एक नज़र डाली है। हालांकि, ऐसा नहीं है कि फ्यूचर्स एक्सचेंजों में व्यापार के लिए सिर्फ डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट ही उपलब्ध है। भारत में, हमारे पास कमोडिटी ऑप्शंस में ट्रेड करने का विकल्प भी है। और यही हम इस अध्याय में भी जानेंगे।

कमोडिटी विकल्प: एन ओवरव्यू

आइए आपको एक मज़ेदार तथ्य बताते हैं। अक्टूबर, 2017 की शुरुआत तक, भारत में कमोडिटी विकल्प बिल्कुल भी नहीं थे। हमारे पास व्यापार करने के लिए केवल कमोडिटी फ्यूचर्स थे। देश में निवेशक और व्यापारी समुदाय के बहुत विचार-विमर्श और आग्रह के बाद, 17 अक्टूबर, 2017 को पहली बार कमोडिटी विकल्प कॉन्ट्रैक्ट पेश किया गया था। यह कॉन्ट्रैक्ट, गोल्ड ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट था जिसमें सोने (गोल्ड) का फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट आधारभूत यानी अंडरलाइंग एसेट था।

तीन साल पहले कमोडिटी ऑप्शंस की शुरुआत के बाद से, औसत दैनिक कारोबार में ज़बरदस्त वृद्धि हुई है, जो कि कमोडिटी ट्रेडर समुदाय के बीच विकल्प यानी ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट्स की लोकप्रियता को दर्शाता है।

कमोडिटी ऑप्शन: ये कैसे काम करते हैं?

आपको याद होगा कि हम पिछले मॉड्यूल में पहले से ही एक ऑप्शन कॉन्ट्रैक्टस के पूरे कामकाज को गहराई से समझ चुके हैं।  इसमें डेरिवेटिव के साथ काम किया जाता है जिनमें स्टॉक मुख्य होते हैं। वास्तव में, कमोडिटी ऑप्शन, स्टॉक ऑप्शंस से बहुत अलग नहीं हैं।  उन दोनों के बीच केवल कुछ ही अंतर हैं जैसे:

  • अंडरलाइंग एसेट
  • एक्सपायरी मैकेनिज्म

जब अंडरलाइंग एसेट की बात आती है, तो स्टॉक ऑप्शंस के लिए, अंडरलाइंग एसेट एक स्टॉक होता है।  दूसरी ओर, कमोडिटी ऑप्शंस के लिए, अंडरलाइंग एसेट या तो कमोडिटी या कमोडिटी फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट होता है।

एक्सपायरी मैकेनिज्म के संबंध में, स्टॉक ऑप्शंस में, समाप्ति पर, आपको अंडरलाइंग स्टॉक प्राप्त होता है। जबकि, कमोडिटी ऑप्शंस में, समाप्ति पर, आपको संबंधित कमोडिटी का फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट प्राप्त होता है।  कन्फ्यूज़ हो गए? चिंता न करें, यहां कुछ जानकारी दी गई है जिससे आप इस विषय को अधिक स्पष्टता से समझ पाएंगे।

अंडरलाइंग कमोडिटी की समाप्ति पर कमोडिटी ऑप्शन फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में बदल जाता है, इसलिए ऑप्शंस की समाप्ति तिथि या एक्सपायरी डेट लगभग हमेशा फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट की समाप्ति तिथि से दो से तीन दिन पहले होती है।

उदाहरण के लिए, आइए कच्चे तेल के ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट को लेते हैं, जिसमें कच्चे तेल का फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट अंडरलाइंग है। मान लेते हैं कि कच्चे तेल का फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट 19 मार्च, 2021 को समाप्त हो रहा है। फिर, कच्चे तेल के ऑप्शन लगभग 2 दिन पहले समाप्त हो जाएंगे, जो कि 17 मार्च, 2021 होगा। इस उदाहरण से आप इसे समझ पाए होंगे। आइए, आगे बढ़ते हैं।

अब, कमोडिटी ऑप्शंस एक्सपायरी पर, सभी ओपन पोज़ीशन अंडरलाइंग कमोडिटी के फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में शामिल हो जाते हैं। ऑप्शन देने के लिए एक्सचेंज जिस तर्क का पालन करते हैं, वह इस प्रकार है।

  • यदि आपके पास किसी कमोडिटी में लॉन्ग कॉल ऑप्शन है, तो समाप्ति पर, आपकी पोज़ीशन उस कमोडिटी के फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में लॉन्ग पोज़ीशन में बदल जाएगी।
  • यदि आपके पास किसी कमोडिटी में शॉर्ट कॉल ऑप्शन है, तो समाप्ति पर, आपकी स्थिति उस कमोडिटी के फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में शॉर्ट पोज़ीशन में बदल जाएगी।
  • यदि आपके पास किसी कमोडिटी में लॉन्ग पुट ऑप्शन है, तो समाप्ति पर, आपकी पोज़ीशन उस कमोडिटी के फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में शॉर्ट पोज़ीशन में बदल जाएगी।
  • यदि आपके पास किसी कमोडिटी में शॉर्ट पुट ऑप्शन है, तो समाप्ति पर, आपकी पोज़ीशन उस कमोडिटी के फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में लॉन्ग पोज़ीशन में बदल जाएगी।

 एक और तर्क यह भी है कि यदि आप समाप्ति पर अपने ऑप्शंस का प्रयोग करना चाहते हैं तो एक्सचेंजों का पालन करना होता है।

  • यदि आप एक आई-टी-एम (इन-द-मनी) ऑप्शन रखते हैं, तो आपको कमोडिटी के फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट के साथ कमोडिटी फ्यूचर्स प्राइस और कमोडिटी ऑप्शन स्ट्राइक प्राइस के बीच का अंतर नकद में प्राप्त होगा।
  • यदि आपके पास ओ-टी-एम (आउट-ऑफ-द-मनी) ऑप्शन है, तो ऑप्शन बेकार हो जाएगा।
  • यदि आपके पास सी-टी-एम (क्लोज़-टू-द-मनी) ऑप्शन है और स्ट्राइक मूल्य फ्यूचर्स मूल्य से अधिक है, तो आपको कमोडिटी का फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट प्राप्त करने के लिए दोनों के बीच के अंतर का भुगतान नकद में करना होगा।
  • यदि आपके पास सी-टी-एम (क्लोज़-टू-द-मनी) ऑप्शन है और फ्यूचर्स मूल्य स्ट्राइक मूल्य से अधिक है, तो आपको कमोडिटी के फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट के साथ-साथ नकद में दोनों के बीच का अंतर प्राप्त होगा।

कमोडिटी ऑप्शंस का सेटलमेंट और प्रयोग स्टॉक ऑप्शंस की तुलना में अधिक जटिल मामला है, इसलिए समाप्ति की तारीख से पहले अपनी सभी पोज़ीशन के बारे में बातचीत कर लेना  एक अच्छा विचार है।

कमोडिटी ऑप्शन: उदाहरण

ठीक है, तो अब जब आप समझ गए हैं कि कमोडिटी ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट कैसे काम करता है, तो आइए इस कॉन्सेप्ट को बेहतर ढंग से समझने के लिए एक उदाहरण लेते हैं।

मान लीजिए कि कच्चे तेल पर आपकी पारखी नज़र है, और आप मार्च, 2021 के महीने में कच्चे तेल की कीमत में तेज़ी की उम्मीद करते हैं।

एमसीएक्स पर कच्चे तेल के फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट की मौजूदा ट्रेडिंग कीमत 4,2931 रुपये है। आपके पास एक पारखी नज़रिया है, इसलिए आप एक कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट ही खरीदेंगे, है ना? अब, मान लें कि आप कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट खरीदना चाहते हैं जिसका स्ट्राइक मूल्य 4,300 है। 17 मार्च, 2021 को निर्धारित समाप्ति तिथि के साथ कच्चे तेल के कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट का वर्तमान व्यापारिक मूल्य यहां दिया गया है।

जैसा कि आप ऊपर स्नैपशॉट में देख सकते हैं, कॉल ऑप्शन वर्तमान में 170 रुपये पर कारोबार कर रहा है। यह कीमत कॉल ऑप्शन प्रीमियम है जो आपको एक बैरल कच्चे तेल के लिए चुकानी होगी। आपको याद होगा कि हमने पहले के मॉड्यूल में एक अध्याय में ऑप्शन प्रीमियम पर चर्चा की थी।  कच्चे तेल के कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट का न्यूनतम लॉट साइज़ 100 बैरल है।

यदि आप कच्चे तेल पर हमारे पिछले अध्याय को याद करें, तो कच्चे तेल के न्यूनतम लॉट साइज़ के कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट का मूल्य 100 बैरल का होता है। कमोडिटी फ्यूचर्स और कमोडिटी ऑप्शन दोनों का लॉट साइज़ एक जैसा होता है

 हमारे उदाहरण को जारी रखते हुए, 1 लॉट क्रूड ऑयल कॉल ऑप्शंस खरीदने के लिए, आपको लगभग रु. 17,000 (रु. 170 x 100 बैरल) देने होंगे। अब यह कॉल विकल्प आपको समाप्ति पर कच्चे तेल के 1 लॉट फ्यूचर्स प्राप्त करने का अधिकार देता है। आप एक कॉल विकल्प खरीद रहे हैं इसलिए अनिवार्य रूप से एक लॉन्ग कॉल विकल्प में, समाप्ति पर आपकी स्थिति कच्चे तेल के वायदा कॉन्ट्रैक्ट में एक लॉन्ग पोज़ीशन में बदल जाएगी।

आइए, ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की समाप्ति तिथि को थोड़ा आगे बढ़ाएं। ऐसी तीन चीजें हैं जो हो सकती हैं।

1) फ्यूचर्स कीमत 4350 रुपये तक जाती है।

इस मामले में, आपकी लॉन्ग कॉल ऑप्शन जिसका स्ट्राइक मूल्य 4300 रुपये है, आई-टी-एम ऑप्शन बन जाता है।  एक्सचेंज के तर्क के अनुसार, आपको फ्यूचर्स मूल्य और स्ट्राइक मूल्य के बीच का अंतर नकद में प्राप्त होगा।

  • यह 50 (रु. 4,350 - रु. 4,300) प्रति बैरल तक आता है।
  • इसे लॉट साइज़ से गुणा करने पर आपको सही आंकड़ा मिलने की संभावना है, और जो कि रु 5000 (50x100) होगा।
  •  इसके साथ ही आपकी पोज़ीशन कच्चे तेल के फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में लॉन्ग पोज़ीशन में भी बदल जाएगी।

2) फ्यूचर्स कीमत 4293 रुपये पर बनी हुई है।

 इस मामले में, आपका लॉन्ग कॉल ऑप्शन जिसका स्ट्राइक 4300 मूल्य है, सी-टी-एम ऑप्शन बन जाता है।  एक्सचेंज के तर्क के अनुसार, ऑप्शन मूल्य स्ट्राइक, मूल्य से अधिक है, इसलिए आपको फ्यूचर्स मूल्य और स्ट्राइक मूल्य के बीच के अंतर का भुगतान नकद में करना होगा।

  • यह  7 (रु. 4,300 - रु. 4,293) प्रति बैरल तक आता है।
  • इसे लॉट साइज़ से गुणा करने पर आपको सही आंकड़ा मिलेगा जो आपको चुकाना होगा, जो कि रु 700 (रु. 7 x 100) होगा।
  • इसके साथ ही आपकी पोज़ीशन कच्चे तेल के फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में लॉन्ग पोज़ीशन में भी बदल जाएगी।

 3) फ्यूचर्स भाव रु.4,200 तक गिरेगा|

इस मामले में, आपका लॉन्ग कॉल ऑप्शन जिसका स्ट्राइक मूल्य 4300 है, ओ-टी-एम ऑप्शन बन जाता है।  तो, आपके कच्चे तेल के कॉल ऑप्शन बेकार हो जाएंगे। आपके नुकसान के पूरे प्रीमियम की राशि 17,000 रुपए होगी, जो आपने ऑप्शंस को प्राप्त करने के लिए भुगतान की थी।

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, कमोडिटी ऑप्शन्स की समाप्ति और सेटलमेंट की प्रक्रिया थोड़ी जटिल है। और इसलिए, परेशानी से बचने के लिए हमेशा सुनिश्चित करें कि आप समय सीमा समाप्त होने से पहले अपनी पोज़ीशन को समय से बातचीत के जरिए समाप्त कर लें।

कमोडिटी ऑप्शन: कहां व्यापार करें?

 जैसा कि आप पहले से ही जानते हैं, भारत में तीन प्राथमिक कमोडिटी एक्सचेंज हैं:

  • मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स)
  • नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज (एनसीडीईएक्स)
  • इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज (आईसीईएक्स)

एमसीएक्स बेस मेटल्स, एनर्जी और कीमती धातुओं (बुलियन) के सेगमेंट में कमोडिटी ऑप्शन प्रदान करता है। दूसरी ओर, एनसीडीईएक्स विभिन्न प्रकार के कृषि उत्पादों के लिए कमोडिटी ऑप्शन प्रदान करता है।  हालांकि,आईसीईएक्स कोई कमोडिटी ऑप्शन प्रदान नहीं करता है।

इनके अलावा, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) ने हाल ही में कीमती धातुओं (बुलियन) के सेगमेंट में भी कमोडिटी ऑप्शन की शुरुआत की है।

रैपिंग अप यानी समापन

इसके साथ, हम वस्तुओं पर एक और रोमांचक अध्याय के समापन पर आ गए हैं।  यहां हम एक अंतिम जानकारी दे रहे हैं। यदि आप वास्तव में कमोडिटी ऑप्शंस पर ट्रेडिंग कर रहे हैं तो यह एक अच्छा विचार है कि आप पहले एक छोटे से निवेश के साथ शुरुआत करें जब तक कि आपको ऑप्शन एक्सपायरी और सेटलमेंट प्रक्रिया की अच्छी समझ न हो जाए।

ए क्विक रीकैप

  • अक्टूबर, 2017 की शुरुआत तक, भारत में कमोडिटी ऑप्शन अस्तित्व में नहीं थे। हमारे पास व्यापार करने के लिए केवल कमोडिटी फ्यूचर्स थे।
  • पहला कमोडिटी ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट 17 अक्टूबर, 2017 को पेश किया गया था।
  • कॉन्ट्रैक्ट एक सोने का ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट था जिसमें अंडरलाइंग एसेट के रूप में सोना फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट था।
  • लॉन्ग कॉल ऑप्शन और शॉर्ट पुट ऑप्शन संबंधित कमोडिटी फ्यूचर्स में लॉन्ग पोज़ीशन में बदल जाते हैं।
  • शॉर्ट कॉल ऑप्शन और लॉन्ग पुट ऑप्शन संबंधित कमोडिटी फ्यूचर्स में शॉर्ट पोज़ीशन में बदल जाते हैं।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account