कच्चा तेल: इतिहास

3.8

icon icon

अभी तक, हमने आपको कमोडिटी बाज़ार से परिचित कराया है। इस पूरे मॉड्यूल के दौरान, हम कमोडिटी ट्रेडिंग के बारे में डिटेल में जानेंगे और साथ ही कुछ अन्य वस्तुओं को भी गहराई में समझेंगे।

अगर कोई ऐसी चीज़ है जो एक साथ कई क्षेत्रों को प्रभावित कर सकती है, तो वह निश्चित रूप से 'कच्चा तेल' है। हम कह सकते हैं कि वर्तमान समय में पूरी दुनिया जीवाश्म ईंधन पर निर्भर करती है, और कच्चा तेल उनमें से सबसे मूल्यवान है। वास्तव में, यह इतना मूल्यवान है कि इसे कभी-कभी 'काला सोना' या 'तरल सोना' भी कहा जाता है।

इस अध्याय में हम कच्चे तेल के आकर्षक और रोमांचक इतिहास पर नज़र डालते हैं।

कच्चा तेल: परिचय

कच्चा तेल एक पीले काले रंग का तरल पदार्थ है जो पृथ्वी की सतह के नीचे पाया जाता है। इस तरल में हाइड्रोकार्बन और दूसरे ऑर्गेनिक कंपाउंड होते हैं। कच्चा तेल, अपने अनरिफाइंड फॉर्म में, चिपचिपा होता है और पूरी तरह से अनुपयोगी होता है। इसलिए इसे इस्तेमाल करने के लिए रिफाइन करना ज़रूरी होता है।

शायद आपने हाई स्कूल में पढ़ा हो कि जब कच्चे तेल को रिफाइन किया जाता है, तो यह कई पेट्रोकेमिकल प्रोडक्ट्स में बदल जाता है जिन्हें ईंधन के रूप में और लुब्रिकेशन के लिए उपयोग किया जाता है। पेट्रोल, डीज़ल, मिट्टी का तेल और लुब्रिकेंट तेल कच्चे तेल के रिफाइनमेंट प्रोसेस के कुछ बाय प्रोडक्ट्स यानी उप-उत्पाद हैं। यह रोज़ाना इस्तेमाल किए जाने वाले उत्पादों की एक बड़ी रेंज है। कच्चे तेल के बिना पूरी दुनिया निश्चित रूप से रुक जाएगी। यह कहना गलत नहीं होगा कि कच्चे तेल से ही दुनिया चल रही है।

कच्चा तेल: इतिहास

शायद आप सोचते होंगे कि कच्चे तेल की खोज आधुनिक सभ्यता में हुई है, पर ये दरअसल सही नहीं है। कई प्राचीन सभ्यताएं भी संसाधन के लिए तेल पर निर्भर थीं। उदाहरण के लिए हम 3,000 ई.पू.  मध्य पूर्व के प्राचीन लोगों की बात करते हैं। पृथ्वी के अंदर पाया जाने वाला कच्चा तेल अक्सर सतह पर बबल्स के रूप में आ जाता था। बेबीलोन के लोग अपनी अलग-अलग ज़रूरतों के लिए इस तेल का इस्तेमाल करने वाले प्राचीन सभ्यताओं में से एक थे। उन्होंने तेल को मोर्टार की तरह कंस्ट्रक्शन में इस्तेमाल किया और इसे अपनी नावों के लिए वॉटरप्रूफ कोटिंग के रूप में भी इस्तेमाल किया।

अब हम 1850 के दशक के बारे में बात करते हैं जब आधुनिक तेल उद्योग का जन्म हुआ। औद्योगिक क्रांति के समय कच्चे तेल की खोज हुई। उभरती तकनीक की मदद से वैज्ञानिकों ने 'काले सोने' को कई ईंधनों में रिफाइन किया जिनका इस्तेमाल मशीनों को चलाने के लिए किया गया। कच्चे तेल ने काम करने के तरीके में क्रांति लाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई।

तेल पृथ्वी की सतह के नीचे होता है, इसलिए इसे निकालने के लिए ड्रिलिंग नामक प्रक्रिया का इस्तेमाल किया जाता है। इस प्रक्रिया में एक और बहुत ज़रूरी चीज़ बाहर निकलती है जो है प्राकृतिक गैस| इसके बारे में हम आने वाले अध्याय में जानेंगे।

19वीं शताब्दी में कच्चे तेल की खोज के बाद से, 20वीं शताब्दी के मध्य तक संयुक्त राज्य अमेरिका इसके सबसे बड़े उत्पादकों में से एक रहा। परंतु कुछ समय बाद संयुक्त राज्य अमेरिका के कच्चे तेल के उत्पादन में भारी गिरावट आने लगी। यहां तक कि उसे ओपेक (OPEC) जैसे अन्य सप्लायर्स से तेल आयात करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

कच्चा तेल: सप्लाई चेन का ओवरव्यू

1960 के दशक में बनी, ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ पेट्रोलियम एक्सपोर्टिंग कंट्रीज़ यानी ओपेक (OPEC) कच्चे तेल का सबसे बड़ा सप्लायर है। इसके पास पूरे विश्व के 80% से भी अधिक तेल भंडार हैं। ओपेक ने शुरुआत में सिर्फ 5 सदस्य देशों - ईरान, इराक, कुवैत, सऊदी अरब और वेनेज़ुएला के साथ शुरुआत की थी। वर्तमान में, ओपेक में 15 सदस्य हैं और इसमें अफ्रीकी और अन्य मध्य पूर्वी देश जैसे कुवैत, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात शामिल हैं।

ओपेक के सदस्यों के अलावा, कई अन्य देश भी तेल का उत्पादन करते हैं। इनमें ब्राज़ील, कनाडा, रूस, मैक्सिको और नॉर्वे शामिल हैं। इन देशों को आमतौर पर गैर-ओपेक देशों के रूप में जाना जाता है।

अब आपको एक रोचक बात बताते हैं| ओपेक और गैर-ओपेक देश मिलकर एक दिन में लगभग 90 से 100 मिलियन बैरल कच्चे तेल का उत्पादन करते हैं।

कच्चा तेल: 2020 में कीमतों में गिरावट

वर्ष 2020 के दौरान कोविड-19 महामारी और कई देशों द्वारा लागू किए गए लॉकडाउन की वजह से कच्चे तेल की मांग में भारी गिरावट आई। लगभग इसी समय, दो सबसे बड़े कच्चे तेल उत्पादक देशों, रूस और सऊदी अरब के बीच मूल्य को लेकर लगातार बहस चलती रही।

इन दोनों स्थितियों के कारण कच्चे तेल की सप्लाई उसकी डिमांड से काफी अधिक हो गई। इसी वजह से तेल की कीमतों में भारी गिरावट आ गई।

वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) का फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट प्राइस 17 डॉलर से गिरकर लगभग -35 डॉलर प्रति बैरल हो गया। इसी तरह, ब्रेंट क्रूड ऑयल की कीमतों में भी भारी गिरावट आई और यह लगभग 70 डॉलर से गिरकर 9 डॉलर के करीब आ गया। हालांकि तब से, कच्चे तेल की कीमतों में उछाल आया और अब यह लगभग 60 डॉलर है।

कच्चा तेल: भारत पर प्रभाव

कच्चा तेल भारत और उसकी अर्थव्यवस्था को बहुत प्रभावित करता है। दुर्भाग्य से भारत के पास तेल उत्पादक देशों की तरह गहरे तेल भंडार नहीं हैं। और इसलिए, हमें दूसरे देशों से कच्चा तेल आयात करना पड़ता है। वास्तव में, हमें अपने तेल की ज़रूरत का दो-तिहाई से अधिक हिस्सा आयात करना पड़ता है।

इससे हमारी अर्थव्यवस्था पर भारी असर पड़ता है और देश को राजकोषीय घाटा होता है। कच्चे तेल की कीमत में वृद्धि से राजकोषीय घाटा अधिक होता है जबकि कीमत में गिरावट से हमारा राजकोषीय घाटा कम होता है| इसलिए, कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट आने से देश की अर्थव्यवस्था को फायदा होता है।

सार

तो आज हमने कच्चे तेल के बारे में काफ़ी कुछ जाना। कच्चे तेल का कारोबार ऊंचाइयों पर है, और कई महत्वपूर्ण संस्थाएं इसे चला रही हैं। अगले अध्याय में, हम कच्चे तेल के कारोबार में शामिल सभी प्रमुख संस्थाओं पर गहराई से नज़र डालेंगे।

क्विक रीकैप

  • कच्चा तेल एक पीले काले रंग का तरल है जो पृथ्वी की सतह के नीचे पाया जाता है। इस तरल में हाइड्रोकार्बन और दूसरे ऑर्गेनिक कंपाउंड होते हैं।
  • पेट्रोल, डीज़ल, मिट्टी का तेल और लुब्रिकेंट तेल कच्चे तेल के रिफाइनमेंट प्रोसेस के कुछ बाय प्रोडक्टस हैं।
  • कई प्राचीन सभ्यताएं संसाधन के रूप में तेल पर निर्भर थीं।
  • 1850 के दशक में आधुनिक तेल उद्योग का जन्म हुआ। औद्योगिक क्रांति के इस दौर में कच्चे तेल की खोज हुई।
  • 19वीं शताब्दी में कच्चे तेल की खोज से लेकर 20वीं शताब्दी के मध्य तक संयुक्त राष्ट्र अमेरिका इसके सबसे बड़े सप्लायर्स में से एक रहा।
  • लेकिन फिर, अचानक, संयुक्त राज्य अमेरिका के कच्चे तेल के उत्पादन में भारी गिरावट आई, जिससे उसे ओपेक जैसे दूसरे सप्लायर्स से तेल आयात करने के लिए मजबूर होना पड़ा।
  • 1960 के दशक में बनी आर्गेनाइज़ेशन ऑफ पेट्रोलियम एक्सपोर्टिंग कंट्रीज़ (ओपेक) कच्चे तेल की सबसे बड़ी सप्लायर है। इसके पास पूरे विश्व के 80% से भी अधिक तेल भंडार हैं।
  • भारत को अपनी ज़रूरत के तेल का दो-तिहाई से अधिक हिस्सा आयात करना पड़ता है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account