निष्पादन सिद्धांत - 2 - समझाया

4.5

icon icon

वर्तमान में, एक तकनीकी विश्लेषक बाजार का विश्लेषण करने के लिए चार्ट और ग्राफ जैसे विभिन्न उपकरणों का उपयोग कर सकता है। उनकी सोचने और निर्णय लेने की प्रक्रिया उन विभिन्न सिद्धांतों पर आधारित होती है जो वर्षों से विकसित किए गए हैं।

लेकिन अगर आप तकनीकी विश्लेषण के इतिहास में वापस जाते हैं तो शेयर निवेश की इस शाखा की नींव का पता चार्ल्स डॉव और उनके लेखन से लगाया जा सकता है।

रेंज की अवधारणा दोहरे और ट्रिपल फॉरमेशन का एक प्राकृतिक विस्तार है। एक रेंज में, शेयर एक ही ऊपरी और निचले मूल्य स्तर को एक लंबी अवधि में कई बार हिट करने का प्रयास करता है। इसे साइडवेज मार्केट के रूप में जाना जाता है। जब मूल्य बिना कोई विशेष ट्रेंड बनाए एक छोटी रेंज में चलता रहता है, इसे साइडवेज मार्केट या साइडवेज ड्रिफ्ट कहा जाता है। इसलिए जब खरीदार और विक्रेता, दोनों बाजार की दिशा के बारे में आश्वस्त नहीं होते हैं तो कीमत आमतौर पर एक रेंज में चलती है और इसलिए विशिष्ट दीर्घकालिक निवेशक इस अवधि के दौरान बाजारों को निराशाजनक पाएंगे।

शेयरों का रेंज ब्रेकआउट 

शेयर लंबे समय तक रेंज में रहने के बाद इसके बाहर निकलते हैं यानी ब्रेकआउट करते हैं। इससे पहले कि हम इसके बारे में और जानें यह समझना दिलचस्प है कि शेयर रेंज में कारोबार ही क्यों करते हैं।

शेयर दो कारणों से किसी रेंज में व्यापार कर सकते हैं:

  1. जब कोई अहम मौलिक ट्रिगर नहीं होता है जिसके कारण शेयर में हलचल हो 

ये ट्रिगर आमतौर पर त्रैमासिक/वार्षिक परिणाम घोषणाएं, नए उत्पाद लॉन्च, नए भौगोलिक विस्तार, प्रबंधन में परिवर्तन, जॉइंट वेंचर, विलय, अधिग्रहण आदि होते हैं। जब कंपनी के बारे में कुछ भी मजेदार या बुरा नहीं हो रहा होता है तो शेयर रेंज में व्यापार करता है। इन परिस्थितियों में रेंज काफी लंबी हो सकती है, जब तक कोई अहम ट्रिगर नहीं आ जाता।

  1. एक बड़ी घोषणा की उम्मीद में

जब बाजार एक बड़ी कॉरपोरेट घोषणा की उम्मीद करता है तो शेयर, घोषणा के परिणाम के आधार पर किसी भी दिशा में मुड़ सकता है। घोषणा होने तक खरीदार और विक्रेता दोनों कार्रवाई करने से हिचकिचाएंगे और इसलिए शेयर रेंज में आ जाता है। इस तरह की परिस्थितियों में रेंज तब तक अल्पकालिक हो सकती है जब तक कि घोषणा नहीं की जाती है।

रेंज में होने के बाद शेयर सीमा से बाहर आ सकता है। ये ब्रेकआउट एक नई ट्रेंड की शुरुआत को नहीं दर्शाता। शेयर किस दिशा में ब्रेकआउट करेगा वह ट्रिगर की प्रकृति या घटना के परिणाम पर निर्भर करता है। जो अहम है वो है ब्रेकआउट और इससे मिलने वाला व्यापारिक अवसर।

जब शेयर मूल्य रेसिस्टेंस स्तर को तोड़ता है तो एक निवेश लॉन्ग पोजीशन लेगा और शेयर के सपोर्ट लेवेल को तोड़ने पर उसे शॉर्ट करेगा।   

रेंज को दबाव वाले एक बंद चेंबर के रूप में सोचें जहां हर गुजरते दिन दबाव बढ़ता रहता है। एक छोटे से गेट से दबाव पूरे बल के साथ बाहर निकलता है। ब्रेकआउट इसी तरह से होता है। हालांकि व्यापारी को एक नकली ब्रेकआउट की अवधारणा के बारे में पता होना चाहिए।

एक नकली ब्रेकआउट तब होता है जब ट्रिगर एक विशेष दिशा में शेयर को खींचने के लिए पर्याप्त रूप से मजबूत नहीं होता है। दूसरे शब्दों में, एक नकली ब्रेकआउट तब होता है जब एक अहम ट्रिगर वाली घटना नहीं होती और बेचैन खुदरा बाजार प्रतिभागी इस पर प्रतिक्रिया करते हैं। आमतौर पर, नकली रेंज ब्रेकआउट पर वॉल्यूम कम होती है जो यह संकेत देता है कि इस चाल में कोई स्मार्ट मनी शामिल नहीं है। नकली ब्रेकआउट के बाद शेयर आमतौर पर रेंज के भीतर वापस आ जाता है।

एक अलग ब्रेकआउट की दो भिन्न विशेषताएं हैं:

  1. उच्च वॉल्यूम
  2. ब्रेकआउट के बाद तेज मोमेंटम (मूल्य परिवर्तन की दर) 

नीचे दिए गए चार्ट पर एक नजर डालें:

शेयर ने तीन बार रेंज से बाहर जाने का प्रयास किया हालांकि पहला दो प्रयास नकली ब्रेकआउट थे। पहले ब्रेकआउट (बाएं से शुरू) में कम वॉल्यूम और कम मोमेंटम था। दूसरे ब्रेकआउट की विशेषता प्रभावशाली वॉल्यूम लेकिन कम गति थी।

हालांकि तीसरे ब्रेकआउट में आदर्श ब्रेकआउट विशेषताएं थीं यानी उच्च वॉल्यूम और उच्च स्पीड।

 

रेंज ब्रेकआउट में व्यापार करना

जैसे ही शेयर अच्छी वॉल्यूम पर ब्रेकआउट करता है वैसे ही व्यापारी शेयर खरीद लेते हैं। अच्छी वॉल्यूम, रेंज ब्रेआउट के पहली आवश्यकता की पुष्टि करती है। हालांकि व्यापारी के पास यह पता लगाने का कोई तरीका नहीं है कि क्या मोमेंटम (दूसरी शर्त) जारी रहेगा। इसलिए व्यापारी को रेंज ब्रेकआउट ट्रेड में स्टॉप लॉस रखना चाहिए।

उदाहरण के तौर पर, मान लें कि शेयर एक रेंज में ₹128 और ₹165  के बीच कारोबार कर रहा है। शेयर ब्रेकआउट करता है और ₹165 से ऊपर बढ़ता है और अब ₹170 पर कारोबार करता है। तब व्यापारियों को सलाह दी जाएगी कि वे ₹170 पर लॉन्ग पोजीशन लें और ₹165 पर स्टॉप लॉस लगाएं।

वैकल्पिक रूप से, मान लें कि शेयर ₹128 पर ब्रेकआउट होता है (जिसे ब्रेकडाउन भी कहा जाता है) और ₹123 पर कारोबार करता है। व्यापारी ₹123 पर एक शॉर्ट ट्रेड कर सकता है और ₹128 के स्तर को स्टॉप लॉस के रूप में मान सकता है।  

व्यापार शुरू करने के बाद अगर ब्रेकआउट वास्तविक है तो व्यापारी शेयर में एक मोमेंटम की उम्मीद कर सकता है जो कम से कम रेंज की चौड़ाई के बराबर हो। उदाहरण के लिए ₹168 के ब्रेकआउट के साथ न्यूनतम लक्ष्य की उम्मीद 43 अंक होगी। क्योंकि चौड़ाई 168-125 = ₹43 है। यह ₹168+₹43= ₹211 के मुख्य लक्ष्य में परिवर्तित होगी।  

निष्कर्ष

अब जब आप डॉव सिद्धांत के मूल ज्ञान को समझ गए हैं अब इस सिद्धांत को लागू करने के बारे में विस्तार से समझते हैं। ये जानने के लिए अगले अध्याय पर चलें। 

अब तक आपने पढ़ा

- जब एक शेयर दो मूल्य बिंदुओं के बीच कारोबार करता रहता है, तो एक रेंज बनती है।

- एक व्यापारी कम मूल्य बिंदु पर खरीदारी कर सकता है और उच्च मूल्य बिंदु पर बिक्री कर सकता है।

- शेयर किसी विशिष्ट कारण के लिए रेंज में जा सकता है, जैसे कि मौलिक ट्रिगर की कमी या किसी घटना की अपेक्षा। 

- शेयर रेंज से बाहर आकर ब्रेकआउट कर सकता है। एक अच्छे ब्रेकआउट की विशेषता औसत से ऊपर वॉल्यूम और कीमतों में तेज उछाल है।

icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account