निवेशक के लिए मॉड्यूल

निवेश के मामले - 2

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

उबलते पानी में मेंढक- कुछ नहीं बदला, लेकिन सब कुछ बदल गया

4.5

icon icon

यह एक प्रसिद्ध काल्पनिक कहानी है जो व्यक्तिगत विकास उद्योग (पर्सनल डेवलपमेंट इंडस्ट्री) के इर्द-गिर्द घूमती है, जो उबलते पानी में पड़े एक मेंढकके बारे में बताती है। अगर मेंढक को एक बर्तन में डाला जाए जिसमें उबलता पानी हो, तो वह मेंढक इसमें से कूद कर बाहर निकल जाएगा। पर अगर हम मेंढक को सामान्य तापमान वाले पानी से भरे एक बर्तन में डालें और धीरे-धीरे पानी को गर्म करते हैं, तो मेंढक धीरे-धीरे बढ़ते तापमान से अंजान, अपनी मौत की तरफ बढ़ता जाता है और फिर अंत मे मर ही जाता है।

स्टॉक की कीमतों में अस्थिरता उबलते पानी की तरह ही है। अगर मेंढक को उबलते पानी में डालते हैं, तो वह बाहर कूदता है। जब तक पानी का तापमान धीरे-धीरे बढ़ता गया, तब तक मेंढक ठीक था - यह पिछले दशक की कम अस्थिरता की स्थिति के समान है। उसी तरह जब मेंढक को उबलते पानी में डाला तो वह कूद कर बाहर आ गया, यह मार्च 2020 जैसा था।

इस केस में मेंढक को इंसान के दिमाग जैसा बताया जा सकता है। निवेशकों को मूल्य में एकदम से हुए उतार-चड़ाव, या ज्यादा अस्थिरता से डर लगता है। और इसी वजह से, या तो वह इक्विटी में निवेश करने से दूर रहते हैं या किसी से उधार लेते हैं और शेयर खरीदेते हैं। दूसरे शब्दों में कहा जाये तो निवेशक के दिमाग को लालच और भय जैसी भावनाएं अपने काबू में कर लेती हैं और निवेशक तर्कहीन तरीके से काम करना शुरू कर देते हैं। यहाँ पर निवेशक के सलाहकार को उसे शांत करना चाहिए और यह समझाना चाहिए कि यह उतार-चढ़ाव तो इक्विटी मार्केट की प्रकृति है, इसमें किमतें ऊपर नीचे होती रहती हैं और कभी-कभी तो ऐसा बहुत तेज़ी से होता है।

बॉइलिंग फ्रॉग सिंड्रोम उन मिथकों में से एक है जो व्यावहारिक तौर पर काफी प्रभाव डालते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि हम सभी इंसान कहीं ना कहीं उस मेंढक जैसे ही हैं। उस मेंढक की तरह, हमें भी धीरे-धीरे हो रहे बदलावों को भापने और उसके हिसाब से काम करने की आदत नहीं है।   

और यह बात सिर्फ अंदरूनी लोगों पर ही लागू नहीं होती है, बल्कि वो विश्लेषक जो व्यवसायों पर नज़र रखते हैं, वो भी इन बदलावों को नहीं भाप पाते।  

ऐसा क्यों होता है?

इसका कारण प्रतिबद्धता पूर्वाग्रह है।

और इस कारण का एक हिस्सा दर्द को कम करने वाला मनोवैज्ञानिक इनकार है।

और इसका एक और कारण बॉइलिंग फ्रॉग सिंड्रोम है – ध्यान देने में विफलता, प्रतिस्पर्धात्मक लाभ का धीरे-धीरे कम होना, क्योंकि व्यक्ति दैनिक, साप्ताहिक, त्रैमासिक या वार्षिक परिवर्तनों पर केंद्रित रहता है, दीर्घकालिक बदलावों पर नहीं।

जब शेयर की कीमतें बढ़ती हैं या तेजी से गिरती हैं, जैसा कि नीचे दिए गए ग्राफ में दिखाया गया है, तो  निवेशक उन्हें खरीदते हैं या बेचते हैं। वे तुरंत जान जाते हैं कि पानी पहले से ही बहुत गर्म है, या ठंडा है, इसलिए वे तेजी से बाहर निकल जाते हैं।

लेकिन जब शेयर के मूल्य में वृद्धि या गिरावट धीर-धीरे होती है (जैसे धीरे-धीरे पानी गर्म होता है),तो  निवेशक इसे लापरवाही से लेते हैं।

वह उसी मेंढक की तरह निष्क्रिय हो जाते हैं, जो गर्म पानी में डूबा रहता है, इस बात से पूरी तरह  अंजान कि इसी पानी की गर्मी में वह उबल कर मर जाएगा।  

निवेशकों के लिए, धीरे-धीरे लेकिन लगातार बढ़ने वाला बाजार उस गर्म पानी की तरह ही है, और शेयर की कीमतों का शिखर पानी के उबलने के अधिकतम बिंदु की तरह है।

हमने 2008 और 2009 की शुरुआत में मंदी के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था को वापस मजबूत होते देखा है। हमने शेयरों को मार्च 2009 के निचले स्तरों से उनकी कीमतों में होता सुधार भी देखा है।

लेकिन यहाँ पर आपको ध्यान देना चाहिए कि इस रिकवरी का एक बड़ा हिस्सा दुनिया भर में सस्ते पैसे (पश्चिमी केंद्रीय बैंकों द्वारा मुद्रित) के फैलने से हुआ है। और जब बहुत अधिक (फ्री) धन कुछ हाई रिटर्न एसेट (जैसे भारतीय और अन्य उभरते बाजार शेयरों) का पीछा करते हैं, तो इसका परिणाम संपत्ति में मुद्रास्फीति होता है।

हालांकि अक्टूबर 2010 में भारतीय शेयरों ने अपने उच्च स्तर पर जाने के बाद कोई बड़ी गिरावट नहीं देखी है, लेकिन फिर भी मूल्यांकन उचित बना हुआ है, खासकर तब जब इसे आर्थिक रिकवरी के खिलाफ उभरते खतरों के संदर्भ में देखा जाए।  

 

उदाहरण के लिए:

डिजिटल कैमरा उद्योग ने एक दिन या एक साल में कोडक को नहीं पछाड़ा। और स्मार्टफोन उद्योग एक दिन, या एक साल में डिजिटल कैमरा उद्योग के कारोबार पर ताले नहीं लगाए। और इलेक्ट्रिक वाहन भी छोटी अवधि में इंटरनल कंबश्चन इंजन पर निर्भर कई उद्योगों की अर्थव्यवस्था को नहीं बिगाड़ेंगे। 

क्षय धीरे-धीरे होगा। यह गिरावट इतनी धीमी गति से होती है कि इसका पता लगाना मुश्किल होता है, और यह अक्सर "बोझ को शिफ्ट करने" के पर्दे से छिपा दिया जाता है,  जैसे बढ़े हुए विज्ञापन, छूट, "पुनर्गठन" या टैरिफ सुरक्षा। दो चीजें इस पैटर्न को देखना मुश्किल बनाती हैं। पहला तो यह कि यह धीरे-धीरे होता है । अगर यह सब एक महीने में होता, तो इसे रोकने के लिए पूरे संगठन या उद्योग जुट जाते। लेकिन धीरे-धीरे धूमिल होते लक्ष्य और गिरता विकास इतनी आसानी से नज़र नहीं आता। 

कुछ रुझान नियति होते हैं। कुछ रुझान सिर्फ शोर होते हैं। और कुछ कठोर प्रतिक्रिया देते हैं। निवेशकों के लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि कौन-सा रुझान क्या है।

निष्कर्ष

अब जब आप उबलते पानी में मेंढक का अर्थ जानते हैं, तो चलिए हम अगले बड़े विषय पर आगे बढ़ें - डूबने की लागत। अधिक जानने के लिए अगले अध्याय पर जाएँ।

अब तक आपने पढ़ा

  • उस पौराणिक मेंढक की तरह, हम धीमे, धीरे-धीरे होने वाले परिवर्तनों को नहीं पहचान पाते। 
  • यह केवल अंदरूनी लोग ही नहीं है, बल्कि कारोबार पर पैनी नज़र रखने वाले विश्लेषक भी इन बदलावों के देखने से चूक जाते हैं ।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account