शुरुआती के लिए मॉड्यूल

निवेश विश्लेषण 101

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

निवेश विश्लेषण की शब्दावली और परिभाषाएँ

4.3

1. उद्योग/ इंडस्ट्री

उद्योग या इंडस्ट्री शब्द का उपयोग ऐसी कंपनियों को सामूहिक रूप के लिए किया जाता है जो समान उत्पाद या सेवाएं प्रदान करते हैं। यह कंपनियों के एक समूह को दर्शाता है जो समान क्षेत्र या सेक्टर में काम करते हैं।

2. क्षेत्र/ सेक्टर

क्षेत्र संबंधित उद्योगों के एक समूह को कहते हैं। यह अर्थव्यवस्था का एक ऐसा भाग है जिसके भीतर कंपनियों के एक बड़े समूह को पहचाना और वर्गीकृत किया जाता है। एक अर्थव्यवस्था में कई क्षेत्र या सेक्टर शामिल होते हैं, और ये एक साथ मिलकर उस अर्थव्यवस्था में हो रही लगभग सभी व्यापारिक गतिविधियों को दर्शाते हैं। 

3. उद्योग विश्लेषण/ इंडस्ट्री एनालिसिस

उद्योग विश्लेषण/ इंडस्ट्री एनालिसिस एक तरह का इन्वेस्टमेंट रिसर्च है जिसका उद्देश्य उन उद्योगों की पहचान करना है जो आपके निवेश को बढ़ाने की अधिकतम संभावना रखते हैं। इसमें एक निश्चित समय में किसी उद्योग के जीवन चक्र के आधार पर निवेश का निर्णय लेने की प्रक्रिया शामिल होती है।

4. कंपनी एनालिसिस

कंपनी एनालिसिस या विश्लेषण निवेशकों द्वारा किसी कंपनी की लाभ देने की सम्भावना और निवेश क्षमता का मूल्यांकन करने के लिए की जाने वाली प्रक्रिया है। इसमें कंपनी के प्रोफाइल, उसके उत्पादों और सेवाओं, उसके लक्ष्यों, मूल्यों और कंपनी के इतिहास के साथ अन्य चीजों का आकलन करने जैसे विभिन्न पहलू शामिल होते हैं।

5. फ़ाइनेंशियल स्टेटमेंट

फ़ाइनेंशियल स्टेटमेंट वित्तीय गतिविधियों और व्यवसाय, व्यक्ति या अन्य संस्था की स्थिति के औपचारिक रिकॉर्ड होती हैं। फ़ाइनेंशियल स्टेटमेंट में, सभी ज़रूरी वित्तीय जानकारी एक व्यवस्थित तरीके से प्रस्तुत की जाती है जिससे उसे समझना और विश्लेषण करना आसान हो जाता है।

6. प्रॉफिट और लॉस स्टेटमेंट

प्रॉफिट और लॉस स्टेटमेंट एक निश्चित अवधि के लिए कंपनी के वित्तीय प्रदर्शन को नेट मुनाफ़े या घाटे  के रूप में दिखाता है, जो कि आम तौर पर 12 महीने के लिए होता है। इस स्टेटमेंट के दो मुख्य भाग हैं: आय और व्यय।

7. बैलेंस शीट

बैलेंस शीट एक निश्चित समय में एसेट, देनदारियों और शेयरधारकों की इक्विटी की विस्तृत जानकारी है। यह इस बात की जानकारी प्रदान करती है कि किसी कंपनी के पास क्या कुछ अपना है, साथ ही साथ शेयरधारकों द्वारा निवेश की गई राशि कितनी है।

8. कैश फ्लो स्टेटमेंट

कैश फ्लो स्टेटमेंट उन सभी कैश लेन-देन के बारे में जानकारी देता है जो एक कंपनी अपने कार्य, निवेश और वित्तीय  गतिविधियों से प्राप्त करती है। यह उन सभी कैश आउटफ्लो को भी दिखाता है जो इन तीन प्रकार की गतिविधियों के लिए किया जाता है।

9. फाइनेंशियल स्टेटमेंट में शामिल नोट्स

फाइनेंशियल स्टेटमेंट में शामिल नोट्स इन स्टेटमेंट्स से जुड़ी अहम बिंदुओं और आंकड़ों पर ज़्यादा जानकारी देते हैं। ये नोट आपको प्रॉफिट और लॉस स्टेटमेंट, बैलेंस शीट और कैश फ्लो स्टेटमेंट में निहित विभिन्न मुद्दों पर जानकारी देते हैं।

10. वार्षिक रिपोर्ट/ एनुअल रिपोर्ट

एक वार्षिक रिपोर्ट पूरे वित्तीय वर्ष में कंपनी की गतिविधियों पर एक व्यापक रिपोर्ट होती है। इसमें मात्रात्मक (क्वांटिटेटिव) और गुणात्मक (क्वालिटेटिव) दोनों जानकारी होती है जो शेयरधारकों और कंपनी में रूचि रखने वाले अन्य लोगों को कंपनी की वित्तीय और अन्य गतिविधियों के बारे में जानकारी देती है।

 

11. कॉर्पोरेट सामाजिक ज़िम्मेदारी

कॉर्पोरेट सामाजिक ज़िम्मेदारी (CSR) एक कंपनी की कार्यों के सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरणीय प्रभावों को ज़िम्मेदारी से निभाने की प्रतिबद्धता बताती है। यह एक उभरता हुआ व्यावसायिक मॉडल है जो कंपनी के व्यवसाय और ऑपरेशन में सतत विकास को दिखाता है। किसी कंपनी की वार्षिक रिपोर्ट में आमतौर पर CSR के लिए एक हिस्सा सुरक्षित होता है।

12. प्रबंधन चर्चा और विश्लेषण

यह वार्षिक रिपोर्ट का एक भाग होता है जिसमें किसी कंपनी का प्रबंधन बताता है कि उस कंपनी ने पिछले एक साल में वित्तीय और अन्य क्षेत्रों में कैसा प्रदर्शन किया। इसमें आगामी वर्ष के लिए प्रबंधन के अनुमानों को भी शामिल किया जा सकता है।

13. विश्लेषक की रिपोर्ट

इसे रिसर्च रिपोर्टों के रूप में भी जाना जाता है, विश्लेषक रिपोर्ट विशेषज्ञों द्वारा तैयार किए गए दस्तावेज़ हैं जो निवेशकों को कुछ कंपनियों, उद्योगों या क्षेत्रों में निवेश करने या न करने के बारे में महत्वपूर्ण मार्गदर्शन प्रदान करते हैं। ये रिपोर्ट कंपनियों की हालिया वित्तीय और उनके अनुमानित शेयर मूल्य के रूझानों पर ध्यान आकर्षित करते हैं।

14. स्टॉक की सलाह

यह एक विश्लेषक की रिपोर्ट का ही एक हिस्सा होता है जहां विश्लेषक कंपनी के स्टॉक को रेटिंग देता है और इस बारे में विचार पेश करता है कि निवेशक को कंपनी के शेयर को 'खरीदना, ‘बेचना' या 'होल्ड' करना चाहिए या नहीं। स्टॉक की सलाह के अलावा, इस भाग में शेयर मूल्य टारगेट, स्टॉप लॉस टारगेट और उन लक्ष्यों के लिए समय सीमा के बारे में विश्लेषक के अनुमानों का जिक्र रहता है।

15. निवेश का आधार

यह विश्लेषक रिपोर्ट का एक भाग होता है जो ऊपर उल्लिखित शेयर की सिफारिश पर पहुंचने के लिए विश्लेषक के कारण की जानकारी देता है। यह निवेशकों को स्टॉक विश्लेषक की सोच और विश्लेषणात्मक प्रक्रियाओं की गहरी समझ प्रदान करता है। चूंकि विश्लेषण की तकनीकें हर किसी के लिए अलग हो सकती हैं, इस भाग में विश्लेषक अपने निष्कर्ष पर पहुंचने की जानकारी देते हैं।

16. ऐतिहासिक कीमत की जानकारी

यह पिछले कुछ महीनों या वर्षों में शेयरों की कीमतों से संबंधित डाटा और जानकारी होती है। ऐतिहासिक मूल्य की जानकारी विभिन्न समय अवधि के लिए प्राप्त की जा सकती है, जैसे कि पिछले 6 महीने, पिछले वर्ष, या पिछले 5 वर्षों  के लिए इत्यादि।

17. कुशल बाज़ार परिकल्पना

कुशल बाज़ार परिकल्पना (इफिशिएंट मार्केट हाइपोथिसिस - EMH) एक सिद्धांत है जिसमें कहा गया है कि शेयर की कीमतों में ऐतिहासिक जानकारी, मौजूदा सार्वजनिक रूप से उपलब्ध जानकारी और सार्वजनिक रूप से उपलब्ध नई जानकारी और निजी जानकारी, ये तीनों ही सम्मिलित होती हैं। इसके तीन रूप हैं: वीक फॉर्म, सेमी-स्ट्रांग फॉर्म और स्ट्रांग फॉर्म।

18. EMH का वीक फॉर्म

EMH का वीक फॉर्म कुशल बाज़ार की परिकल्पना के प्रकारों में से एक है। यह दावा करता है कि किसी शेयर के पिछले सभी मूल्य स्टॉक की मौजूदा कीमत में दर्शाए जाते हैं। इससे यह भी पता चलता है कि निवेश का विश्लेषण करने में टेक्निकल एनालिसिस मददगार नहीं हो सकता है।

19. EMH का सेमी-स्ट्रांग फॉर्म

EMH का सेमी-स्ट्रांग फॉर्म कुशल बाज़ार की परिकल्पना का एक अन्य रूप है। इसके अनुसार एक शेयर की कीमत की चाल सार्वजनिक रूप से उपलब्ध सभी भौतिक जानकारी को दर्शाती है। इससे पता चलता है कि स्टॉक के भविष्य के मूल्य के रूझान बताने के लिए फंडामेंटल और टेक्निकल एनालिसिस से कोई मदद नहीं मिलती है।

20. EMH का स्ट्रांग फॉर्म

कुशल बाज़ार की परिकल्पना का स्ट्रांग फॉर्म यह बताता है कि सभी जानकारी, जिसमें जनता के लिए उपलब्ध जानकारी और कोई भी जानकारी जो सार्वजनिक रूप से मौजूद नहीं है, सभी पहले से ही स्टॉक की मौजूदा कीमतों में शामिल रहती हैं। इसके अनुसार ऐसी कोई जानकारी नहीं है जो एक निवेशक को दूसरे निवेशक के मुकाबले बढ़त दे।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account