कॉल और पुट विकल्पों के लिए डेल्टा का उपयोग कैसे करें

4.0

icon icon

कॉल और पुट ऑप्शन क्या हैं?

इससे पहले कि हम डेल्टा को कॉल और पुट ऑप्शन के लिए उपयोग करना सीखें, चलिए इस अध्याय के लिए कुछ जरूरी बातों को फिर से जान लें। तो शुरू करें ?

विकल्प/ ऑप्शंस: वो कॉन्ट्रैक्ट जो एक्सपायरी से पहले, एक पूर्व निर्धारित मूल्य पर, एक अंतर्निहित संपत्ति के एक हिस्से को खरीदने या बेचने का अधिकार देते हैं।

कॉल ऑप्शन: यह धारक को स्टॉक खरीदने का अधिकार देता है।

पुट ऑप्शन: यह धारक को स्टॉक बेचने का अधिकार देता है।

एक ऑप्शन की कीमत को क्या प्रभावित करता है?

यह समझने के लिए कि किसी ऑप्शन का पूर्व निर्धारित मूल्य कैसे प्रभावित होता है, आपको नीचे दी हुई टेबल 1 पर नजर डालनी होगी। टेबल में कॉल और पुट ऑप्शन की कीमत को प्रभावित करने वाले कारकों को सूचीबद्ध किया हुआ है। यहाँ प्लस और माइनस साइन एक ऑप्शन की मूल्य दिशा को दर्शाता है जो लिस्टेड कारकों में से किसी में बदलाव की वजह से बदलती है।   

टेबल 1: ऑप्शन के मूल्य पर प्रमुख प्रभाव:

ऑप्शन

अस्थिरता में वृद्धि

अस्थिरता में कमी

एक्सपायरी के समय में वृद्धि

एक्सपायरी के समय में कमी

अंडरलाइंग एसेट की कीमत में वृद्धि

अंडरलाइंग एसेट की कीमत में कमी

कॉल

+

-

+

-

+

-

पुट

+

-

+

-

-

+

याद रखें कि यह परिणाम समय अवधि के अनुसार अलग-अलग होंगे। अगर किसी व्यापारी ने एक लॉन्ग कॉल ऑप्शन पोजीशन रखता है, तो निहित अस्थिरता में वृद्धि होगी क्योंकि उच्च अस्थिरता का मूल्य ऑप्शन प्रीमियम में शामिल होता है। दूसरी ओर, अगर व्यापारी एक शॉर्ट कॉल ऑप्शन पोजीशन रखता है, तो निहित अस्थिरता में वृद्धि का उलटा प्रभाव होगा।

राइटर और वह क्या चाहता है ?

राइटर ऑप्शन के विक्रेता हैं। पुट या कॉल ऑप्शन के राइटर या लेखक को अस्थिरता बढ़ने से मुनाफा नहीं होगा क्योंकि वो चाहते हैं कि ऑप्शन की कीमत में कमी आए। जब कॉल ऑप्शन बेचा जाता है, तो लेखक चाहता है कि स्टॉक मूल्य, स्ट्राइक मूल्य से नीचे रहे। ऐसा इसलिए है क्योंकि अगर शेयर की कीमत काफी अधिक बढ़ जाती है, तो बाजार मूल्य अधिक होने पर विक्रेता को स्ट्राइक मूल्य पर ऑप्शनधारक को शेयर बेचना होगा।

क्या आप जानते हैं कि ऑप्शन के विक्रेताओं को एक प्रीमियम का भुगतान किया जाता है ताकि उनके जोखिमों की भरपाई हो सके?

लॉन्ग और शॉर्ट कॉल ऑप्शन

चलिए, टेबल 2 और टेबल 3 को एक बार देखते है। दोनों टेबलों में लॉन्ग और शॉर्ट कॉल ऑप्शंस के साथ-साथ लॉन्ग और शॉर्ट पुट ऑप्शन के लिए समान वेरिएबल रखे गए हैं।  

टेबल 2: शॉर्ट और लॉन्ग कॉल ऑप्शन की कीमत पर प्रमुख प्रभाव।

ऑप्शन 

अस्थिरता में वृद्धि

अस्थिरता में कमी

एक्सपायरी के समय में वृद्धि

एक्सपायरी के समय में कमी

अंडरलाइंग एसेट की कीमत में वृद्धि

अंडरलाइंग एसेट की कीमत में कमी

कॉल

+

-

+

-

+

-

पुट

-

+

-

+

-

+

ध्यान दें कि कैसे निहित अस्थिरता में कमी, एक्सपायरी के समय में कमी और अंडरलाइंग एसेट की कीमत में कमी  आने से शॉर्ट कॉल के धारक को फायदा होता है। दूसरी ओर, अस्थिरता में वृद्धि, एक्सपायरी के लिए बढ़ता समय और अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत में वृद्धि से लॉन्ग कॉल धारक को लाभ होगा।

 

लॉन्ग और शॉर्ट पुट ऑप्शन

टेबल 3: एक लॉन्ग और शॉर्ट पुट ऑप्शन की कीमत पर प्रमुख प्रभाव। 

ऑप्शन

अस्थिरता में वृद्धि

अस्थिरता में कमी

एक्सपायरी के समय में वृद्धि

एक्सपायरी के समय में कमी

अंडरलाइंग एसेट की कीमत में वृद्धि

अंडरलाइंग एसेट की कीमत में कमी

कॉल

+

-

+

-

-

+

पुट

-

+

-

+

+

-

ध्यान दें कि कैसे एक शॉर्ट पुट होल्डर निहित अस्थिरता में कमी, एकस्पायरी के लिए कम समय और अंतर्निहित परिसंपत्ति सुरक्षा की कीमत में वृद्धि से लाभ उठाता है, जबकि एक लॉन्ग पुट होल्डर निहित अस्थिरता में वृद्धि और एक्सपायरी तक के लिए लंबा समय होने और अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत में कमी से फायदा कमाता है। 

ब्याज दरों की भूमिका

 यह ध्यान रखना दिलचस्प है कि ब्याज दरें अधिकांश ऑप्शन ट्रेड के जीवन के दौरान एक तरह से ना के बराबर भूमिका निभाती हैं। हालांकि, ग्रीक रो, एक ऑप्शन की कीमत पर ब्याज दरों में बदलाव के प्रभाव को मापता है। आमतौर पर, उच्च ब्याज दरें कॉल ऑप्शन को अधिक महंगा बनाती हैं और पुट ऑप्शन को कम महंगा बनाती हैं, बशर्ते अन्य सभी चीजें समान हो।

निष्कर्ष

उपरोक्त सभी, उस जोखिम श्रेणियों के परीक्षण के लिए संदर्भ देती हैं जो इन वेरिएबल्स का सापेक्ष प्रभाव समझने में उपयोग की जाती हैं। ध्यान रखें कि ग्रीक, व्यापारियों को एक ऑप्शन की कीमत में परिवर्तन को प्रोजेक्ट करने में मदद करते हैं।

अब तक आपने पढ़ा

  • ऑप्शन : वो कॉन्ट्रैक्ट जो एक्सपायरी से पहले, एक पूर्व निर्धारित मूल्य पर एक अंतर्निहित संपत्ति के एक हिस्से को खरीदने या बेचने का अधिकार देते हैं।
  • कॉल ऑप्शन : यह धारक को स्टॉक खरीदने का अधिकार देता है।
  • पुट ऑप्शन: यह धारक को स्टॉक बेचने का अधिकार देता है।
  • जब कॉल ऑप्शन बेचा जाता है, तो लेखक चाहता है कि स्टॉक मूल्य स्ट्राइक मूल्य से नीचे रहे।
  • निहित अस्थिरता में कमी, एक्सपायरी के लिए कम समय रह जाने, और अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत में गिरावट से शॉर्ट कॉल धारक को लाभ होगा।
  • अस्थिरता में वृद्धि, एक्सपायरी के लिए ज्यादा समय होने, और अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत में वृद्धि से लॉन्ग कॉल धारक को लाभ होगा।
  • एक शॉर्ट पुट धारक को निहित अस्थिरता में कमी, एक्सपायरी के लिए कम समय रह जाने और अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत में वृद्धि से लाभ होता है।
  • एक लॉन्ग पुट धारक को निहित अस्थिरता में वृद्धि, एक्सपायरी के लिए ज्यादा समय होने, और अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत में कमी से लाभ होता है।
  • ब्याज दरें अधिकांश ऑप्शन ट्रेड के जीवन के दौरान एक तरह से ना के बराबर भूमिका निभाती हैं।
  • ग्रीक रो, एक ऑप्शन की कीमत पर ब्याज दरों में बदलाव के प्रभाव को मापता है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account