वॉल्यूम का मूल्य

4.1

icon icon

बाजार विश्लेषण के तीन-आयामी दृष्टिकोण में कीमत, वॉल्यूम और ओपन इंटरेस्ट का अध्ययन शामिल होता है। इसमें कीमत एक बहुत जरूरी स्थान रखती है, लेकिन एक चार्ट पर कीमत की चाल की पुष्टि करने के लिए वॉल्यूम और ओपन इंटरेस्ट भी उतना ही जरूरी है । वे ट्रेंड में होने वाले परिवर्तन का एक प्रमुख संकेत देते हैं।

वॉल्यूम, उन सभी ट्रेडिंग गतिविधि या कॉन्ट्रैक्ट्स का कुल जोड़ है जो बाजार में, एक ट्रेडिंग दिन के दौरान ट्रेड किए जाते हैं।  मार्केट सेशन के दौरान की गयी ट्रेडिंग पर दिन की वॉल्यूम का सीधा प्रभाव पड़ता है । अगर चार्ट एक उच्च वॉल्यूम बार दिखाता है, तो इसका मतलब होता है कि ट्रेडिंग एक्टिविटी उस विशेष दिन के लिए ज्यादा थी ।      

हम इसे एक प्राइस ट्रेंड के पीछे छिपे दबाव या गहनता के माप के रूप में भी समझ सकते हैं । एक ट्रेंड की निरंतरता या उसका रिवर्सल पूरी तरह से वॉल्यूम की इंटेनसिटी यानी गहनता पर निर्भर करता है।

कुछ तकनीशियनों के अनुसार, यह माना जाता है कि रुझान, चाहे ऊपर की ओर हों या नीचे की, बार चार्ट पर दिखने से पहले वॉल्यूम के आंकड़ों में दिखाई देते हैं।

वॉल्यूम रिपोर्ट और लिक्विडिटी

हर फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट की वॉल्यूम को ट्रेडिंग डे के एक दिन बाद की बाजार की कुल वॉल्यूम के साथ रिपोर्ट किया जाता है । हालांकि, वर्तमान दिन के लिए अनुमानों को साथ- साथ पोस्ट किया जाता है, पर कुछ अनुमान को हर घंटे भी पोस्ट किया जाता है।

वॉल्यूम को वायदा बाजारों में तरलता यानी लिक्विडिटी के संबंध का विश्लेषण करने के लिए काम में लिया जाता है । अगर लिक्विडिटी सबसे ज्यादा होती है तो, ऐसा डिलीवरी वाले महीने में होता है क्योंकि वॉल्यूम की वजह से यह सबसे ज्यादा सक्रिय होती है, वायदा के व्यापारियों को सबसे अच्छा निष्पादन मिल जाता है । लेकिन कॉन्ट्रैक्ट के दूसरे महीने के बाद से ही, जब व्यापारी अपने डिलीवरी महीने के काफी करीब आ जाते हैं, इससे वॉल्यूम में एक उछाल आता है । और इसके विपरीत, जैसे-जैसे डिलीवरी की तारीख करीब आती है, वॉल्यूम में गिरावट आती जाती है । अगर आप सिर्फ एक ही महीने का वॉल्यूम देख रहे हैं तो आप बाजार की सिर्फ एक-आयामी स्थिति को ही देख रहे हैं ।

टोटल वॉल्यूम पर नज़र: टिक वॉल्यूम

एक से ज्यादा पहलुओं को देखने के लिए, व्यापारियों को सभी कॉन्ट्रैक्टों की कुल वॉल्यूम का विश्लेषण करना ही चाहिए । गणना की गई टोटल वॉल्यूम, आने और जाने वाले डिलिविरी महीनों के आधार पर भागीदारियों के बढ़ते और घटते पैटर्न को सपाट करती है।

अगर हम शेयर मार्केट के बारे में बात करते हैं, तो बाजार की पूरी स्थिति का जायजा लेने के लिए, सभी शेयरों के वॉल्यूम को, किसी इंडस्ट्री ग्रुप के लिए, एक समान समूह में जोड़ा जाना चाहिए। यह उस समय अवधि में सुव्यवस्थित हुआ जब एक विशेष कॉन्ट्रैक्ट की मात्रा बहुत कम थी।

 चूंकि वायदा बाजार के अधिकांश दिनों में टोटल वॉल्यूम तुरंत उपलब्ध नहीं होती है, इसलिए टिक वॉल्यूम का उपयोग विकल्प के रूप में किया जाता है। टिक वॉल्यूम को दिन के दौरान वॉल्यूम की परवाह किए बिना, मूल्य परिवर्तन की संख्या के रूप में निर्धारित किया जाता है।

टिक वॉल्यूम, वास्तविक वॉल्यूम से संबंधित होती है क्योंकि कीमतें बाजार में तेजी और मंदी के साथ आगे और पीछे बदलती रहती हैं।

उदाहरण के लिए, 30 मिनट के वॉल्यूम पैटर्न वाले चार्ट के दौरान टिक की संख्या की तुलना, दिन के पहले 30 मिनट से की जाती है और इसे प्रारंभिक टिक वॉल्यूम प्रतिशत के रूप में रिकॉर्ड किया जा सकता है। अब यह प्रतिशत वह रूपरेखा हो सकती है जिससे किसी भी दिन के लिए वॉल्यूम के टिक्स को रिलेट किया जा सकता है।

ट्रेडिंग-डे के अंत में वॉल्यूम क्लस्टर

सुबह के ऑर्डर पूरी तरह से रात भर की खबरों और घटनाओं की प्रतिक्रिया पर आधारित होते हैं, और इसीलिए ट्रेडर्स मार्केट में जल्दी एंट्री लेते है क्योंकि वह बाजार बंद होने के बाद पिछले दिन के डाटा की गणना और विश्लेषण कर चुके होते है ।       

दिन एक सक्रिय नोट पर खत्म होता है क्योंकि व्यापारी वर्तमान दिन की कीमत की चाल के आधार पर पोजीशन के लिए हेर-फेर करते रहते हैं। समापन मूल्य को दिन के सबसे भरोसेमंद मूल्य के रूप मे माना जाता है।

चार्ट पैटर्न को समझना

चार्ट पैटर्न, इंट्राडे वॉल्यूम पर निर्भर करता है । उदाहरण के लिए, एक राउंड बॉटम फॉर्मेशन कम वॉल्यूम को दिखाता है जब व्यापारी एक ब्रेक लेते हैं, आमतौर देर सुबह के समय।

 

ओपन इंटरेस्ट का उपयोग करके वॉल्यूम को समझना 

ओपन इंटरेस्ट, फ्यूचर मार्केट में उन प्रतिभागियों के माप को दिखाता है जिनके पास शानदार ट्रेडस का रिकॉर्ड होता है । ओपन इंटरेस्ट किसी मार्केट में कुल ओपन पोजिशन की वैल्यू होता है। यह बाजार की संभावित वॉल्यूम को दर्शाता है। अगर बाजार में एक दिन कम कॉन्ट्रैक्ट हुए हों पर उसी दिन बड़े ओपन इन्टरेस्ट भी दिखते हों, तो यह व्यापारी को दिखाता है कि कई प्रतिभागी बाजार में तभी प्रवेश करेंगे जब कीमत सही होगी।

नए खरीदार और विक्रेता बाजार में नए इंटरेस्ट के लिए आकर्षित होते हैं, और इससे ओपन इंटरेस्ट के मूल्य में वृद्धि होती है। जब ओपन इंटरेस्ट बढ़ता है, तो अधिक व्यापारी लॉन्ग पोजीशन ले लेते हैं। 

तो, हर खरीदार के लिए एक विक्रेता होना चाहिए। लेकिन विक्रेता मूल्य चार्ट में बदलाव से कुछ मुनाफा कमाने के लिए कुछ घंटों या दिनों के लिए पोजीशन को होल्ड करना पसंद करता है। 

पोजीशन ट्रेडर्स को ओपन इंटरेस्ट के लिए नियुक्त किया जाता है। फिर भी, व्यापारी, शॉर्ट की तुलना में, पोजीशन को लंबे समय तक होल्ड करना पसंद करता है ताकि वह बढ़ती कीमतों का फायदा उठा सकें, जबकि शॉर्ट वाले व्यापारियों को पोजीशन से हटा दिया जात है।  

आइए बाजार में वॉल्यूम और ओपन इंटरेस्ट में बदलाव को समझने के जरूरी नियमों को जानें

  • बढ़ती हुई वॉल्यूम और बढ़ता ओपन इंटरेस्ट से ट्रेंड की पुष्टि की जाती है।
  • पोजीशन लिक्विडेशन को एक बढ़ती वॉल्यूम और एक गिरते हुए ओपन इंटरेस्ट के साथ निर्धारित किया जा सकता है।
  • एक स्लो एक्यूमुलेशन को वॉल्यूम में गिरावट और ओपन इंटरेस्ट में वृद्धि द्वारा दर्शाया जाता है।
  • गिरती वॉल्यूम मात्रा और ओपन इंटरेस्ट के आधार पर कंजेशन फेज निर्धारित किया जाता है। 

निष्कर्ष

वॉल्यूम और ओपन इंटरेस्ट, वायदा बाजार में व्यापारिक निर्णय को चित्रित करने के लिए महत्वपूर्ण हैं, लेकिन इन संकेतकों को बहिष्कृत बाजार की घटनाओं के बारे में विचार करते वक्त इस्तेमाल किया जाना चाहिए। बाजार की स्थितियों की स्पष्ट तस्वीर पाने के लिए कई पहलुओं और आयामों पर विचार करना चाहिए।

अब तक आपने पढ़ा

  • ट्रेडिंग वॉल्यूम स्टॉक मूल्य चार्ट में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि रखने के लिए एक भरोसेमंद पहलू है।
  • कुछ वायदा कॉन्ट्रैक्टों के इंट्राडे वॉल्यूम को मापने के लिए टिक वॉल्यूम को एक बेहतर उपकरण माना जाता है।
  • ओपन इंटरेस्ट लिक्विडिटी और व्यापारियों द्वारा अंडरलाइंग एसेट में निवेश की गई राशि को  निर्धारित करने के लिए एक महत्वपूर्ण मात्रा सूचक है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account