शुरुआती के लिए मॉड्यूल

पोर्टफोलियो प्रबंधन

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

मुद्रा और कमोडिटी बाजारों का परिचय

4.5

icon icon

बहुत सारे इक्विटी और इक्विटी संबंधित बाजारों के बारे में अध्ययन करने के बाद आइए अपना थोड़ा- सा ध्यान दो अन्य वित्तीय बाजारों की तरफ ले चलते हैं - मुद्रा और कमोडिटी मार्केट। भारत में  ये दो वित्तीय बाजार वास्तव में इक्विटी बाजार की तरह   लोकप्रिय नहीं है। हालांकि यह भी अब आम जनता में व्यापारियों के बीच तेज़ी से अपनी पहचान बना रहे हैं। 

यहां मुद्रा और कमोडिटी दोनों मार्केट का परिचय दिया गया है।

मुद्रा बाजार: एक नज़र में

मुद्रा बाजार क्या है?  सीधे शब्दों में कहें तो एक वित्तीय बाजार जहां कई तरह की मुद्राएं खरीदी और बेची जाती हैं, उसे ही 'मुद्रा बाजारकहा जाता है। फाइनेंस की दुनिया में यह आमतौर पर विदेशी मुद्रा बाजार या फॉरेक्स बाजार के रूप में भी जाना जाता है।

इस बाज़ार के बारे में एक मज़ेदार बात बताते हैं, मुद्रा बाजार पूरी दुनिया में सबसे बड़ा वित्तीय बाजार है, जिसमें प्रतिदिन औसतन 5 ट्रिलियन डॉलर का व्यापार होता है।

जैसा कि आपने पहले मॉड्यूल में पढ़ा हैमुद्रा बाजार एक ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) वित्तीय बाजार है। इसका प्रभावी रूप से मतलब है कि कारोबार किसी एक्सचेंज पर नहीं होता। इसके बजाय वह सीधे खरीदार और विक्रेता के बीच होता है।

मुद्रा बाजारों के बारे में अधिक जानकारी

दुनिया भर में सभी बाजार बैंकों के एक विशाल नेटवर्क द्वारा संचालित होते हैं। विश्व भर में चार प्रमुख विदेशी मुद्रा व्यापार केंद्र हैं, जो नीचे दिए गए शहरों में स्थित हैं:

  • टोक्यो
  • सिडनी
  • न्यूयॉर्क
  • लंदन

विदेशी मुद्रा बाजार एक ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) बाजार है।  इसका कोई केंद्रीकृत स्थान नहीं है और यह सोमवार से लेकर शुक्रवार तक 24 घंटे खुला रहता है।

विदेशी मुद्रा बाजार में आप एक मुद्रा खरीदते हैं और दूसरे को बेचते हैं। मुद्राओं को हमेशा जोड़े में कोट किया जाता है। उदाहरण के लिए, अमेरिकी डॉलर- भारतीय रुपया(USD-INR) एक मुद्रा जोड़ी है, जहाँ डॉलर(USD)  को 'आधारमुद्रा के रूप में जाना जाता है और रुपया (INR)  को 'कोट' मुद्रा के रूप में जाना जाता है। आधार मुद्रा वह जो आप खरीदते हैं और कोट मुद्रा वह जो आप बेचते हैं।

इसलिए जब आप डॉलर- रुपया (USD-INR)  मुद्रा जोड़ी में व्यापार कर रहे हैं, तो आप अमेरिकी डॉलर खरीद रहे हैं और भारतीय रुपये बेच रहे हैं।

इक्विटी की तरह ही विदेशी मुद्रा बाजार का भी अपना एक डेरिवेटिव मार्केट है, जिसमें व्यापार के लिए उपलब्ध अनुबंधों में मुद्रा वायदा और मुद्रा विकल्प शामिल होते हैं। ये अनुबंध अंडरलाइंग एसेट, मुद्रा से उनका मूल्य प्राप्त करते हैं।

 

कमोडिटीज बाज़ार: एक नज़र में

कमोडिटी बाजार क्या है? सीधे शब्दों में  कमोडिटीज़ मार्केट एक अन्य वित्तीय बाजार है जहां कृषि और गैर-कृषि, दोनों सामानों की खरीद-बिक्री होती है। जिन गैर-कृषि सामानों का कारोबार यहाँ किया जाता है उनमें सोना, चांदी, कच्चा तेल और तांबा शामिल हैं। जिन कृषि उत्पादों को इस बाजार में खरीदा और बेचा जाता है, उनमें गेहूं, काली मिर्च, अरंडी, चीनी, बादाम और कपास शामिल हैं।

इक्विटी के तरह ही कमोडिटी मार्केट एक एक्सचेंज-रेगुलेटेड मार्केट है, जहां कमोडिटी को एक्सचेंज के माध्यम से ख़रीदा और बेचा जाता है। 

यहां आपके लिए एक और मज़ेदार बात है कि भारत में वर्तमान में छह प्रमुख कमोडिटी ट्रेडिंग एक्सचेंज हैं।

  1. मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज - एमसीएक्स
  2. नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज - एनसीडीईएक्स
  3. इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज आईसीइएक्स
  4. यूनिवर्सल कमोडिटी एक्सचेंज - यूसीएक्स
  5. ऐस डेरिवेटिव्स एक्सचेंज - ऐसीई
  6. नेशनल मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज एनएमसीई

कमोडिटी मार्केट के बारे में अधिक जानकारी 

इक्विटी मार्केट की तरह  कमोडिटी मार्केट में दो सेगमेंट होते हैं - कैश सेगमेंट और डेरिवेटिव सेगमेंट। डेरिवेटिव सेगमेंट में कमोडिटी फ्यूचर्स और कमोडिटी ऑप्शंस, दोनों शामिल हैं।

जब आप कैश सेगमेंट में एक कमोडिटी खरीदते हैं और आपके और विक्रेता के बीच ट्रेड पूरा होता है, तो विक्रेता उस कमोडिटी को भौतिक रूप से खरीदार तक पहुंचाने के लिए ज़िम्मेदार होता है। इसके बदले  आप उस वस्तु को प्राप्त करने और उसे संग्रहित करने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

आइए अब बेहतर तरीके से समझते हैं कि कमोडिटी में डायरेक्ट निवेश कैसे होता है:

मान लें कि आप एक खरीदार हैं जो एक ग्राम सोना चाहते हैं। आप कमोडिटी एक्सचेंज के माध्यम से एक विक्रेता को ढूँढते हैं  व्यापार कर लेते हैं। अब विक्रेता आपको सुरक्षित रूप से एक ग्राम सोना पहुंचाने के लिए ज़िम्मेदार है। खरीदार के रूप में  यह आपकी ज़िम्मेदारी है कि आप सोने की भौतिक डिलीवरी प्राप्त करें और इसे सुरक्षित रूप से रखें। 

चूंकि यह उदाहरण सिर्फ एक ग्राम सोने से संबंधित है इसलिए इसकी डिलीवरी तुरंत संभव है। लेकिन अगर आप किसी चीज़ को किलोग्राम में खरीदते हैं तो उसकी डिलीवरी में समस्या हो सकती है। इसलिए यह मुख्य कारण है कि कमोडिटी मार्केट में ज़्यादातर ट्रेड मुख्य रूप से डेरिवेटिव सेगमेंट मे होते हैं जहाँ कॉन्ट्रैक्ट कैश के माध्यम से सेटल होते हैं और कोई भौतिक डिलीवरी शामिल नहीं होती है।

निष्कर्ष

ये बेहद दिलचस्प है नामुद्रा और कमोडिटी पर हमारा मॉड्यूल इन दो वित्तीय बाजारों को लेकर और अधिक जानकारियों वाला होगा। अभी के लिए जानते हैं कि आप, अपने लिए सही पोर्टफोलियो कैसे बना सकते हैं।

अब तक आपने पढ़ा 

  • एक वित्तीय बाजार जहां विभिन्न प्रकार की मुद्राएं खरीदी और बेची जाती है, उसे 'मुद्रा बाजार' कहा जाता है।
  • फाइनेंस की दुनिया में इसे आमतौर पर विदेशी मुद्रा बाजार या फॉरेक्स मार्केट के रूप में भी जाना जाता है।
  • मुद्रा बाजार एक ओवर-द-काउंटर (ओटीसी)  वित्तीय बाजार है। इसका प्रभावी रूप से मतलब है कि यहां ट्रेड एक्सचेंज के माध्यम से होता है। इसके बजाय यहाँ कारोबार  सीधे खरीदार और विक्रेता के बीच होता हैं।
  • चूंकि विदेशी मुद्रा बाजार एक ओवर-द-काउंटर बाजार है, इसका कोई केंद्रीकृत स्थान नहीं है और यह 24 घंटे खुला रहता है।
  • कमोडिटी मार्केट एक अन्य वित्तीय बाजार है जहां कृषि और गैर-कृषि उत्पादों की खरीद-बिक्री होती है। 
  • इक्विटी के समान कमोडिटी मार्केट एक एक्सचेंज-रेगुलेटेड मार्केट है, जहां कमोडिटी को एक्सचेंज के माध्यम से ख़रीदा और बेचा जाता है।
  • वर्तमान में  भारत में छह प्रमुख कमोडिटी ट्रेडिंग एक्सचेंज हैं।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account