मार्जिन गणना की बारीकियां

4.4

icon icon

एक आम दिन पर भी, हम मौसम की स्थिति कैसी रहेगी और जरूरी मीटिंग के लिए जाने पर रास्ते का ट्राफिक कैसा होगा, ऐसी कई चीज़ों को लेकर अस्पष्ट रहते हैं। यह जानते हुए कि हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन में अनिश्चितताएं हैं, हम सोच-समझकर कदम उठाते हैं और अपने लक्ष्यों तक पहुंचते हैं। ठीक इसी तरह, जब शेयरों की कीमत की चाल की बात आती है तो शेयर बाजार भी अनिश्चितताओं से भरा है।

शेयर बाजार में मार्जिन प्रणाली अनिश्चितता को कम करती है, और जोखिम की देखभाल करने में मदद करती है। इसे एक उदाहरण से समझते हैं- मानिए कि राजेश एक्स लिमिटेड कंपनी  के 1000 शेयरों में निवेश करना चाहते हैं। शेयर का मूल्य 1 जनवरी 2019 को ₹200 है। उसे 2 जनवरी 2019 को या उससे पहले ₹2,00,000 की राशि ब्रोकर को देनी होगी। वह पैसा, ब्रोकर को 2 जनवरी 2019 तक स्टॉक एक्सचेंज को देना होगा। 

अब हो सकता है कि वह दी गई तारीख पर आवश्यक धनराशि ना जुटा सके। एक निवेशक के रूप में, शेयर खरीदने के लिए राजेश को ऑर्डर देने पर दो लाख रुपये का एक निश्चित प्रतिशत चुकाना होता है। ऑर्डर देने के लिए ब्रोकर को स्टॉक एक्सचेंज को उतनी ही रकम देनी होगी। इस प्रारंभिक भुगतान को मार्जिन कहा जाता है।

मार्जिन वह धन है जो यह सुनिश्चित करता है कि ब्रोकर खरीदार को शेयर दे और शेयरों के लिए स्टॉक एक्सचेंज को पैसे का भुगतान भी करे।

आइए हम राजेश के उदाहरण को एक बार फिर देखें और मानें कि मार्जिन 15% है। अब राजेश को शेयर खरीदने के लिए ब्रोकर को ₹30,000 देने होंगे। इस मामले में राजेश ने 1 जनवरी 2019 को शेयर खरीदा है। शेयरों की कीमत दिन के अंत तक ₹50 गिर जाती है। इसलिए कमी के बाद शेयर का कुल मूल्य ₹1,50,000 हुआ। राजेश को जो नुकसान हुआ है, वह ₹50,000 का है।

उपरोक्त उदाहरण में  मान लें कि मार्जिन 15% था। यानी निवेशक को खरीदने से पहले ब्रोकर को ₹15,000 /- (₹1,00,000 का 15%) देने होंगे। अब मान लीजिए कि निवेशक ने 1 जनवरी 2008  को सुबह 11 बजे शेयर खरीदा है। मान लें कि दिन के अंत तक शेयर की कीमत में ₹25 की गिरावट आती है। यही कारण है कि शेयरों का कुल मूल्य घटकर ₹75,000 हो गया है। उस खरीदार को ₹25,000 का आकस्मिक नुकसान (नॉमिनल लॉस) हुआ है। हमारे उदाहरण में खरीदार ने मार्जिन के रूप में ₹15,000 का भुगतान किया है लेकिन मूल्य में गिरावट के कारण आकस्मिक नुकसान ₹25,000 है। यह दी जाने वाली मार्जिन की तुलना में अधिक है।

ऐसी स्थिति में खरीदार उन शेयरों के लिए ₹1,00,000 का भुगतान नहीं करना चाहेगा, जिनका मूल्य ₹75,000 तक कम हो गया है। इसी तरह अगर कीमत में ₹25 की वृद्धि हुई है तो हो सकता है कि विक्रेता ₹1,00,000 पर शेयर नहीं देना चाहे। यह सुनिश्चित करने के लिए कि खरीदार और विक्रेता, दोनों, मूल्य गतिविधियों के बावजूद दोनों अपने दायित्वों को पूरा करें, आक्समिक नुकसानों को भी वसूलना जरूरी होता है।

शेयरों की कीमतें बदलती रहती हैं। यह कभी स्थिर नहीं रहती। ऐसी स्थिति में मार्जिन सुनिश्चित करता है कि लेन-देन को पूरा करने के लिए खरीदार पैसा और विक्रेता शेयर ला रहा है, भले ही कीमत में उतार-चढ़ाव होता रहे। 

दो प्रकार के मार्जिन हैं जो फ्यूचर्स और ऑप्शंस खंड में लगाए जाते हैं:

1) प्रारंभिक (इनिशियल) मार्जिन

2) एक्सपोजर मार्जिन

ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट के मामले में, प्रारंभिक और एक्सपोजर मार्जिन के साथ निम्नलिखित अतिरिक्त मार्जिन भी लिए जाते हैं।

1) प्रीमियम मार्जिन

2) असाइनमेंट मार्जिन

आप प्रारंभिक मार्जिन की गणना कैसे कर सकते हैं?

एक पोर्टफोलियो (फ्यूचर्स और ऑप्शंस पोजीशन का एक संग्रह) दृष्टिकोण के आधार पर एफ एंड ओ के लिए प्रारंभिक मार्जिन की गणना की जाती है। स्पैन (स्टैंडर्ड पोर्टफोलियो एनालिसिस ऑफ रिस्क) वह सॉफ्टवेयर है जिसे शिकागो मर्केंटाइल एक्सचेंज (सीएमई) द्वारा विकसित किया गया था और इसका इस्तेमाल प्रारंभिक मार्जिन की गणना के लिए किया जाता है।

मार्जिन की गणना करने के लिए स्पैन में परिदृश्य-आधारित दृष्टिकोण का उपयोग किया जाता है। स्पैन परिदृश्यों की एक श्रृंखला उत्पन्न करके मार्जिन की गणना करता है। प्रारंभिक मार्जिन की गणना करने के लिए हम सबसे अधिक नुकसान परिदृश्य का उपयोग करते हैं। खरीद/बिक्री ऑर्डर देते समय मार्जिन की निगरानी और इसे इकट्ठा करने की आवश्यकता होती है। स्पैन द्वारा गणना की गई मार्जिन एक दिन में छह बार संशोधित की जाती है। एक बार जब दिन शुरू होता है तब, बाजार के घंटों के दौरान चार बार और दिन के अंत में एक बार। जितनी ज्यादा अस्थिरता, उतना ज्यादा मार्जिन।

हम एक्सपोजर मार्जिन की गणना कैसे कर सकते हैं?

स्पैन मार्जिन के साथ एक्सपोजर मार्जिन भी वसूला जाता है। इंडेक्स फ्यूचर्स और इंडेक्स ऑप्शंस की बिक्री की पोजीशन के आधार पर, एक्सपोजर मार्जिन को आक्समिक वैल्यू के 3% के रूप में निर्धारित किया गया है।

एक्सपोजर मार्जिन 5% या निम्नलिखित सिक्योरिटीज़ के LN रिटर्न का 1.5 स्टैंडर्ड डेविएशन होता है:  

व्यक्तिगत सिक्योरिटीज़ के फ्यूचर्स 

व्यक्तिगत सिक्योरिटीज़ के ऑप्शंस में सेल पोजीशन

 

हम प्रीमियम और असाइनमेंट मार्जिन की गणना कैसे कर सकते हैं?

प्रीमियम मार्जिन, प्रारंभिक मार्जिन में अतिरिक्त जोड़ की तरह, ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट में व्यापार करने वाले सदस्यों से भी वसूला जाता है। एक खरीदार को ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट के प्रीमियम मार्जिन का भुगतान करना होता है, जो खरीदे गए ऑप्शंस के प्रीमियम मूल्य को खरीदे गए ऑप्शंस की संख्या से गुणा करके मिले मूल्य के बराबर होता है।

आइए इसे एक उदाहरण से समझते हैं- अगर मेगा लिमिटेड के 2000 कॉल ऑप्शंस ₹10 में खरीदे जाते हैं। निवेशक और कोई पोजीशन नहीं रखता; तो प्रीमियम मार्जिन ₹20,000 होगा। यह व्यापार के समय पर भुगतान किया जाता है। और असाइनमेंट मार्जिन कॉन्ट्रैक्ट के विक्रेताओं से असाइनमेंट पर एकत्र किया जाता है। 

अब तक हम समझ चुके हैं कि मार्जिन ट्रेडिंग क्या है। अब हम इसके कुछ लाभों के बारे में जानते हैं।

  1. अल्पावधि में लाभ कमाने के लिए सबसे उपयुक्त - जिन निवेशकों के पास पर्याप्त नकदी नहीं है और वे निवेश करना चाहते हैं तो उन्हें मार्जिन ट्रेडिंग को काम में लेना चाहिए। यह उन निवेशकों के लिए सबसे उपयुक्त है जो शेयर बाजार में अल्पकालिक मूल्य में उतार-चढ़ाव से लाभ प्राप्त करना चाहते हैं।
  2. बाजार की स्थिति को लेवरेज करें- जब निवेशक डेरिवेटिव क्षेत्र से नहीं होते, तो वे इस ट्रेडिंग प्रक्रिया द्वारा सिक्योरिटीज़ में अपनी पोजीशन से लेवरेज ले सकते हैं।
  3. अधिकतम रिटर्न का अनुभव- एक निवेशक के रूप में आप निवेश की गई पूंजी से अधिकतम रिटर्न का आनंद ले सकते हैं।
  4. सिक्योरिटीज़ को कोलैटरल के रूप में उपयोग करें- एक निवेशक के रूप में आप अपने डीमैट खाते में मौजूद सिक्योरिटीज़ का उपयोग कर सकते हैं, या आप निवेश पोर्टफोलियो का उपयोग मार्जिन ट्रेडिंग के लिए कौलेटरल के रूप में भी कर सकते हैं।
  5. सेबी द्वारा नियंत्रित- सेबी नियमित रूप से मार्जिन ट्रेड की निगरानी करता है जो व्यापारियों और निवेशकों दोनों के लिए इसे सुरक्षित और पारदर्शी बनाता है।

जोखिमों पर चर्चा करने के बाद हमें कुछ ऐसे जोखिमों पर भी ध्यान देना चाहिए जो मार्जिन ट्रेडिंग में शामिल हैं ताकि आपको इस अध्याय से पूरी जानकारी प्राप्त हो सके। एक बुद्धिमान निवेशक के रूप में आपको यह समझना चाहिए कि मार्जिन ट्रेडिंग में काफी जोखिम है। ऐसी परिस्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं जहां आप अपने निवेश से अधिक पैसा खो देते हैं। निम्नलिखित जरूरी पॉइंट को ध्यान में रखना आवश्यक है:

न्यूनतम बैलेंस बरकरार रखना - एक निवेशक के रूप में आपको हर वक्त अपने एमटीएफ खाते में एक न्यूनतम बैलेंस बनाए रखना होगा। अगर आपके एमटीएफ खाते का बैलेंस ब्रोकर द्वारा निर्धारित अनिवार्य आवश्यकता से कम हो जाता है तो आपको या तो अधिक नकदी जमा करनी होगी या न्यूनतम शेष राशि को बनाए रखने के लिए कुछ शेयरों को बेचना होगा।

लिक्विडेशन का जोखिम - अगर आप मार्जिन ट्रेड एग्रीमेंट के अपने दायित्व को निभाने में असमर्थ हैं, तो ब्रोकर को अपने घाटे की भरपाई करने के लिए आपके एमटीएफ से एसेट को बेचने का अधिकार है।

निष्कर्ष

मार्जिन ट्रेडिंग के माध्यम से निवेश, एक अग्रिम उधार लेने के समान है, और एक निवेशक के रूप में आपको इस पर एक निश्चित प्रतिशत का ब्याज देना होगा। एक निवेशक के रूप में आपको समय पर मार्जिन को सेटल करने की आवश्यकता होती है ताकि उसकी वजह से अधिक ब्याज ना इकट्ठा होता रहे।

आपको अधिकतम राशि उधार लेने से बचना चाहिए। लाभ कमाने के बारे में आश्वस्त होने के बाद आपको मार्जिन ट्रेडिंग जारी रखनी चाहिए। मार्जिन ट्रेडिंग में समान रूप से उच्च जोखिम और मुनाफा शामिल है; आपको मार्जिन पूरा करने के लिए पर्याप्त नकदी के साथ प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए।

अब तक आपने पढ़ा

- मार्जिन वह धन है जो यह सुनिश्चित करता है कि ब्रोकर खरीदार को दिए गए शेयरों को दे और शेयरों के लिए स्टॉक एक्सचेंज को पैसे का भुगतान भी करे।

- शेयरों की कीमतें बदलती रहती हैं। मार्जिन सुनिश्चित करता है कि लेन-देन को पूरा करने के लिए खरीदार पैसा और विक्रेता शेयर ला रहा है, भले ही कीमत में उतार-चढ़ाव होता रहे।

- स्पैन वह सॉफ्टवेयर है जो शिकागो मर्केंटाइल एक्सचेंज (सीएमई) द्वारा विकसित किया गया था और इसका इस्तेमाल प्रारंभिक मार्जिन की गणना के लिए किया जाता है।

- एक निवेशक के रूप में आपको हर वक्त अपने एमटीएफ खाते में एक न्यूनतम बैलेंस रखना होगी। मार्जिन ट्रेडिंग में लिक्विडेशन का जोखिम है जिसे आपको ध्यान में रखना होगा।

icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account