शेयर बाजार में स्विंग ट्रेडिंग क्या है?

3.8

icon icon

स्विंग ट्रेडिंग, ट्रेडिंग की एक शैली है जो कुछ दिनों से लेकर कई हफ्तों के दौरान, स्टॉक में (या किसी भी वित्तीय साधन) में अल्पकालिक से मध्यम अवधि के लाभ कमाने की कोशिश करती है। व्यापार के अवसरों की तलाश के लिए स्विंग ट्रेडर मुख्य रूप से टेक्निकल एनालिसिस को काम में लेते हैं। यह व्यापारी प्राइस ट्रेंड और पैटर्न का विश्लेषण करने के  लिए फंडामेंटल एनालिसिस का भी उपयोग कर सकते हैं।

आमतौर पर, स्विंग ट्रेडिंग में एक से ज्यादा ट्रेडिंग सत्रों के लिए लॉन्ग या शॉर्ट पोजीशन को होल्ड करना शामिल होता है, लेकिन यह अवधि आमतौर पर, कई हफ्तों या कुछ महीनों से ज्यादा नहीं होती है। यह एक सामान्य समय सीमा है, क्योंकि कुछ ट्रेड कुछ महीनों से अधिक समय तक चल सकते हैं, फिर भी ट्रेडर उन्हें स्विंग ट्रेड मान सकते हैं। ट्रेडिंग सत्र के दौरान भी स्विंग ट्रेड हो सकता है, हालांकि ऐसा बहुत ही कम देखने को मिलता है क्योंकि यह एक दुर्लभ परिणाम है जो बेहद अस्थिर परिस्थितियों की वजह से आता है।

स्विंग ट्रेडिंग का लक्ष्य संभावित मूल्य चाल से मुनाफा कमाना है। जबकि कुछ व्यापारी ज्यादा हलचल वाले अस्थिर शेयरों की तलाश करते हैं, वहीं, हो सकता है कि दूसरे व्यापारियों को शांत स्टॉक्स में दिलचस्पी हो। ऐसे मामलों में स्विंग ट्रेडिंग यह पहचानने की प्रक्रिया है कि किसी एसेट की अगली कीमत क्या होगी, किसी पोजीशन में एंट्री करना, और अगर ये ट्रेड कामयाब होता है तो मुनाफा कमाना।  

सफल स्विंग ट्रेडर्स केवल अपेक्षित मूल्य चाल से मुनाफा कमाने पर ध्यान देते हैं और फिर अगले अवसर की ओर आगे बढ़ जाते हैं।

स्विंग ट्रेडिंग सक्रिय ट्रेडिंग के सबसे लोकप्रिय रूपों में से एक है, जहां व्यापारी तकनीकी विश्लेषण के अलग-अलग रूपों की मदद से मध्यवर्ती अवधि के अवसरों की तलाश करते हैं। अगर आप स्विंग ट्रेडिंग में रुचि रखते हैं, तो आपको तकनीकी विश्लेषण के बारे में थोड़ा ज्ञान तो होना ही चाहिए।

ट्रेड की अल्पकालिक प्रकृति के कारण स्विंग ट्रेडर मुख्य रूप से तकनीकी विश्लेषण का उपयोग करते हैं। हालांकि, विश्लेषण को बेहतर बनाने के लिए मौलिक विश्लेषण का उपयोग किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, अगर एक स्विंग ट्रेडर किसी स्टॉक में बुलिश सेटअप देखते है, तो वे यह चेक करना चाहेंगे कि सिक्योरिटी के मूल तत्व अनुकूल दिखते हैं या उनमें सुधार हो रहा है।

स्विंग ट्रेडर अक्सर दैनिक चार्ट पर अवसरों की तलाश करते हैं और सटीक एंट्री, स्टॉप लॉस और मुनाफा कमाने के स्तर को खोजने के लिए 1-घंटे या 15-मिनट का चार्ट भी देख सकते हैं।

डे ट्रेडिंग बनाम स्विंग ट्रेडिंग

स्विंग ट्रेडिंग और डे ट्रेडिंग के बीच में अंतर पोजीशन होल्डिंग का समय होता है। स्विंग ट्रेडिंग में, अक्सर, कम से कम रात भर होल्ड करना शामिल होता है, जबकि डे ट्रेडर बाजार बंद होने से पहले ही पोजीशन क्लोज कर लेते हैं। सरल शब्दों में कहें तो, डे ट्रेडर की पोजीशन एक दिन तक सीमित होती है जबकि स्विंग ट्रेडिंग में कई दिनों से लेकर हफ्तों तक होल्डिंग हो सकती है।

रात भर पोजीशन होल्ड करने से, स्विंग ट्रेडर रात भर के जोखिम की अप्रत्याशितता को जन्म देता है जैसे कि पोजीशन के खिलाफ गैप अप या गैप डाउन होना। ओवरनाइट रिस्क लेने से, स्विंग ट्रेड ,आमतौर पर डे ट्रेडिंग की तुलना में, छोटी पोजीशन के साथ किया जाता है। डे ट्रेडर आमतौर पर बड़ी पोजीशन का उपयोग करते हैं और वह  25% डे ट्रेडिंग मार्जिन का उपयोग कर सकते हैं।

 

स्विंग ट्रेडिंग रणनीति

एक स्विंग ट्रेडर कई दिनों के चार्ट पैटर्न की तलाश करता है। कुछ सामान्य पैटर्न में मूविंग एवरेज क्रॉसओवर, कप-एंड-हैंडल पैटर्न, हेड एंड शोल्डर पैटर्न, फ्लैग, और ट्राएंगल शामिल हैं। एक ठोस व्यापारिक योजना तैयार करने के लिए अन्य संकेतकों के अलावा प्रमुख रिवर्सल कैंडलस्टिक्स का उपयोग किया जा सकता है।

आखिर में, हर स्विंग ट्रेडर एक योजना और रणनीति तैयार करता है जो उन्हें कई ट्रेडों पर बढ़त देता है। इसमें ऐसे ट्रेड सेटअप की तलाश शामिल है जिनसे एसेट की कीमत में अनुमानित चाल मुमकिन होती है। यह आसान नहीं है, और हर बार कोई भी रणनीति या सेटअप काम नहीं करता है। अनुकूल रिस्क-रिवॉर्ड के साथ, हर बार जीतना आवश्यक नहीं है। ट्रेडिंग रणनीति का रिस्क- रिवॉर्ड जितना अधिक अनुकूल होगा, उतनी ही कम जरूरत इसे कई ट्रेड पर मुनाफा कमाने की होगी। 

फायदा -

  • यहाँ डे-ट्रेडिंग की तुलना में व्यापार के लिए कम समय की आवश्यकता होती है।
  • यह मार्केट स्विंग्स का फायदा उठाकर अल्पकालिक लाभ क्षमता को अधिकतम बनाता है।
  • व्यापारी विशेष रूप से तकनीकी विश्लेषण पर भरोसा कर सकते हैं जिससे ट्रेडिंग प्रक्रिया सरल बना जाती है।

नुकसान - 

  • ट्रेड पोजीशन रातों-रात और सप्ताहांत के बाजार जोखिम के अधीन हैं।
  • अचानक बाजार के रिवर्सल से काफी नुकसान हो सकता है।
  • स्विंग ट्रेडर्स अक्सर अल्पकालिक बाजार चालों के कारण दीर्घकालिक ट्रेंड से चूक जाते हैं।

निष्कर्ष

अब जब हम स्विंग ट्रेडिंग की बारीकियों को समझते हैं, तो समय आ गया है कि हम अगले अध्याय में थीमैटिक ट्रेडिंग के बारे में विस्तार से जानें।

अब तक आपने पढ़ा

  • स्विंग ट्रेडिंग में उन ट्रेड को शामिल करना होता है जो प्रत्याशित मूल्य चाल से लाभ कमाने के लिए कई दिनों तक जारी रह सकते हैं।
  • स्विंग ट्रेडिंग ट्रेडर को रातों-रात और सप्ताहांत के जोखिम के अधीन करती है, जहां कीमत में गैप आ सकता है और अगला सत्र काफी अलग कीमत पर खुल सकता है।
  • स्विंग ट्रेडर स्टॉप लॉस और मुनाफे के लक्ष्य के आधार पर स्थापित रिस्क-रिवॉर्ड रेशियो का उपयोग करके लाभ कमा सकते हैं, या वे तकनीकी संकेतक या मूल्य कार्रवाई के आधार पर लाभ या हानि कमा सकते हैं।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account