मूल्य चाल का ग्रीक- डेल्टा

4.3

icon icon

मैं गोवा की 14 दिनों की एक ट्रिप पर गई, और यह मेरा अब तक का सबसे शानदार ट्रैवल अनुभव था। अपने घर वापिस जाते समय मैं सोच रहा था कि गोवा तो मैं पहले भी 3 बार जा चुका हूँ, पर इस बार की ट्रिप में ऐसा क्या था जो मैंने पहले कभी अनुभव नहीं किया। क्या यह इसलिए था कि मैं इस बार एक लंबे समय के लिए गया था तो मेरे पास आराम करने और एक्सप्लोर करने के लिए काफी समय था? या फिर यह इस वजह से अलग था क्योंकि मैंने एक नया बीच ढूंढा था या यह मेरे होटल की वजह से था जिसकी वजह से मुझे इतना शानदार लक्जरी एक्सपीरियंस मिला था? और इन सभी बातों को सोचने के बाद, मुझे यह एहसास हुआ कि यह इन सब पहलुओं का एक सही मिश्रण था जिसने मेरी इस ट्रिप को इतना यादगार बना दिया था।  

मेरे इस चिंतन की वजह से मैंने मेरी ट्रिप और ऑप्शन व्यापार के बीच एक समानता का एहसास किया कि यह दोनों ही काफी मिलते-जुलते है। थोड़ा अजीब लगता है ना ? खैर, चलिए मैं आपको इस तरह से समझाता हूँ, बिलकुल मेरी गोवा ट्रिप की तरह, एक ऑप्शन व्यापार में भी ऐसी कई चीज़ें या ताकतें हैं जिन सभी के मिश्रण की वजह से ऑप्शन व्यापार सफल बनता है। यह सभी ताकतें जो ऑप्शन व्यापार को सफल बनाने में एक साथ काम करती हैं उन्हें ऑप्शंस ग्रीक कहा जाता है।  

ऑप्शंस ग्रीक क्या हैं?

चार ऑप्शंस ग्रीक हैं:

डेल्टा: यह एक ऑप्शनप्री मियम के परिवर्तन की दर को मापता है।

गामा: डेल्टा के परिवर्तन की दर को गामा कहा जाता है।

वेगा: अस्थिरता में परिवर्तन के आधार पर प्रीमियम में परिवर्तन की दर को वेगा कहा जाता है।

थीटा: यह एक्सपायरी के लिए बचे समय के आधार पर प्रीमियम के प्रभाव को मापता है।

चलिए, मेरी गोवा की यात्रा के उदाहरण से इसे थोड़ा सरल बनाते है। साउथ गोवा और नॉर्थ गोवा यह दोनों ही अलग-अलग स्वतंत्र जगहें हैं। साउथ गोवा और नॉर्थ गोवा को ऑप्शंस ग्रीक के रूप में सोचें। गोवा के यह दोनों भाग स्वतंत्र रूप से गोवा में आपके अनुभव को प्रभावित कर सकते हैं। अगर आप गोवा के केवल एक हिस्से की यात्रा करते हैं, तो इसमें कोई संदेह नहीं है कि आपकी यह यात्रा अच्छी रहेगी। हाँ, पर अगर आप साउथ गोवा और नॉर्थ गोवा दोनों की यात्रा करते हैं तो यह तय बात है इनमें से किसी एक की सुंदरता दूसरे की खूबसूरती को नजरंदाज कर देगी।

अब इसे ऑप्शन प्रीमियम और ऑप्शन ग्रीक के नज़रिए से देखें और विचार करें कि बाजारों की प्राकृतिक मांग-आपूर्ति की स्थिति एक दूसरे को कैसे प्रभावित करती है। बाजारों की प्राकृतिक मांग-आपूर्ति की स्थिति एक-दूसरे को प्रभावित करती है। सभी कारक स्वतंत्र रूप से काम करते हैं, और फिर भी एक दूसरे को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं। ऑप्शन प्रीमियम में, इस मिश्रण के अंतिम परिणाम का आकलन किया जा सकता है। एक ऑप्शन व्यापारी के रूप में, आपको ऑप्शन व्यापार स्थापित करने से पहले इस बात की समझ विकसित करनी होगी की सभी कारक एक दूसरे को कैसे प्रभावित करते हैं।

ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट को समझना

एक पोर्टफोलियो को हेज करने के लिए, आपको ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट का उपयोग करना होगा। ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट का उपयोग यह अनुमान लगाने के लिए किया जाता है कि क्या किसी परिसंपत्ति का मूल्य बढ़ सकता है या गिर सकता है। यह अन्य निवेशों में संभावित प्रतिकूल चालों को ऑफसेट करने में मदद करता है। इसलिए, ऑप्शंस को एक निर्धारित मूल्य पर अंतर्निहित परिसंपत्तियों के शेयरों में परिवर्तित किया जा सकता है, जिसे स्ट्राइक प्राइस कहा जाता है।

 यहाँ कुछ याद रखने योग्य बातें हैं:

  1. हर ऑप्शन के लिए एक अंतिम तिथि होती है, जिसे समाप्ति तिथि या एक्सपायरी डेट कहा जाता है।
  2. ऑप्शन के साथ जुड़ा हुआ मूल्य प्रीमियम कहलाता है।
  3. मूल्य में उतार-चढ़ाव, ऑप्शन मूल्य निर्धारण मॉडल पर आधारित है जैसे, ब्लैक-स्कोल्स।
  4. ग्रीक्स को आमतौर पर ऑप्शन प्राइस मॉडल के साथ जोड़कर देखा जाता है ताकि उससे संबंधी जोखिमों को समझा जा सके।  

अस्थिरता

अस्थिरता, एक्पायरी डेट तक ऑप्शन प्रीमियम या बाजार मूल्य में आने वाला उतार-चढ़ाव है। कई कारण हो सकते हैं जिनकी वजह से कीमतों मे उतार-चढ़ाव हो सकता है। इन कारणों में कंपनी की वित्तीय स्थिति, आर्थिक स्थिति, भू-राजनीतिक जोखिम और समग्र बाजारों की चाल हो सकते हैं।

निहित अस्थिरता बाजार के इस दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व करती है कि किसी संपत्ति की वैल्यू बदलने की कितनी संभावना है। ऑप्शन की भविष्य की कीमत का अनुमान लगाने के लिए निहित अस्थिरता या निहित वॉल्यूम का उपयोग किया जाता है। अगर अस्थिरता बढ़ने की संभावना है यानि अगर निहित अस्थिरता बढ़ रही है, तो एक ऑप्शन का प्रीमियम बढ़ने की भी संभावना है। 

 लाभकारिता

कुछ शब्दों को यह बताने के लिए उपयोग किया जाता हैं कि कोई ऑप्शन लाभदायक है या लाभहीन।

  1.   अगर स्ट्राइक मूल्य और अंतर्निहित स्टॉक या परिसंपत्ति की कीमत के बीच के अंतर से मुनाफा होता है तो इसे आंतरिक मूल्य या इनट्रिन्सिक वैल्यू कहा जाता है।
  2.   जब ऑप्शन का स्ट्राइक मूल्य और अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत समान होती है, तो इसे एट द मनी ऑप्शन कहा जाता है।
  3.   जब ऑप्शन का स्ट्राइक मूल्य अंतर्निहित मूल्य के अधिक अनुकूल होने के कारण मुनाफा होता है, तो इसे इन-द-मनी ऑप्शन कहा जाता है।
  4.   जब ऑप्शन के स्ट्राइक मूल्य की तुलना अंतर्निहित कीमत के साथ की जाती है, और कोई मुनाफा नहीं होता है, तो इसे आउट-ऑफ-द-मनी (OTM) ऑप्शन कहा जाता है।
  5.   जब अंतर्निहित कीमत स्ट्राइक मूल्य से अधिक होती है, तो इसे पुट ऑप्शन कहा जाता है।

 कई कारक एक ऑप्शन की कीमत को प्रभावित कर सकते हैं और इनमें ऑप्शंस ग्रीक शामिल हैं, जिन्हें हमने इस अध्याय में पहले सीखा था। ऑप्शंस ग्रीक (डेल्टा, गामा, वेगा और थीटा) उन जोखिम मापकों का एक समूह है जो ग्रीक अक्षरों के नाम पर हैं। यह बताता है कि एक ऑप्शन समय-मूल्य क्षय, निहित अस्थिरता में बदलाव और मूल्य में परिवर्तन के प्रति कितना संवेदनशील है। आइए पहले ग्रीक ऑप्शन- डेल्टा  के बारे में जानें।

 

डेल्टा के बारे में सब कुछ

डेल्टा 0 और 1 के बीच की संख्या है जो किसी परिसंपत्ति की कीमत में परिवर्तन की तुलना उसके डेरिवेटिव की कीमत में परिवर्तन से करता है।

डेल्टा, अंतर्निहित संपत्ति के प्रत्येक यूनिट के बदलाव से प्रीमियम में आए बदलाव की दर को मापता है। तो 0.2 का एक डेल्टा दर्शाता है कि अंतर्निहित संपत्ति में प्रत्येक 1 पॉइंट के परिवर्तन के लिए, प्रीमियम में 0.2 यूनिट का बदलाव होने की संभावना है, या अंतर्निहित प्रीमियम में प्रत्येक 100 पॉइंट के बदलाव के लिए प्रीमियम के 20 अंकों से बदलने की संभावना है।

 एक उदाहरण के रूप में, आइए हम निफ्टी को 8000 पर मानते है। कॉल और पुट के 8000 स्ट्राइक प्राइस में 0.5 का डेल्टा होगा। इसी तरह 8100 CE (OTM) का डेल्टा 0.4 हो सकता है, 8200 CE (फार OTM)  के लिए डेल्टा 0.3 हो सकता है, और 7900 CE (ITM) में 0.6 का डेल्टा हो सकता है। ध्यान दें कि यह कैसे बदल रहे हैं।

डेल्टा न्यूट्रल का अर्थ है कि बेचे गए सभी ऑप्शंस के डेल्टा को शेयर में किसी भी बदलाव के लिए समान रखा जाए। उदाहरण के लिए, अगर स्टॉक बढ़ता है, तो कॉल ऑप्शन का डेल्टा भी बढ़ेगा। इसलिए वह पोसिशन को कुछ पॉइंट ऊपर ले जाएंगे। अनिवार्य रूप से, पुट में मुनाफे की बुकिंग और कॉल में घाटे की बुकिंग - लेकिन कॉल और पुट के डेल्टा को समान बनाए रखना। बात है कि एक्सपायरी के करीब मुनाफा कमाया जाए। थीटा दोनों कॉल पर तेजी से कम हो जाएगा जब वह एक्सपायरी के पास होगा। अंत में, दोनों ऑप्शन बेकार ही एक्सपायर हो जाएंगे।

लाभदायक होने की संभावना

एक्यपायरी के समय ऑप्शन के इन-द-मनी होने की संभावना का निर्धारण करते समय डेल्टा का उपयोग किया जाता है। उदाहरण के लिए, 0.30 डेल्टा वाले आउट-ऑफ-द-मनी कॉल ऑप्शन के एक्यपायरी पर इन-द-मनी ऑप्शन होने का लगभग 30% चांस है, जबकि 0.75 डेल्टा वाले डीप-इन-मनी कॉल ऑप्शन के एक्यपायरी पर इन-द-मनी होने का लगभग 75% चांस होता है।

धारणा यह है कि कीमतें, एक उछते सिक्के की तरह, लॉग-नॉर्मल डिस्ट्रिब्यूशन का पालन करती हैं।

इसका मतलब है कि व्यापारी किसी दिए गए ऑप्शन या रणनीति के जोखिम को मापने के लिए डेल्टा का उपयोग कर सकते हैं। उच्च डेल्टा, हाइ-रिस्क, हाइ- रिवार्ड रणनीतियों के लिए उपयुक्त हो सकता है, जिसमें जीत दर कम होती है। जबकि निम्न डेल्टा आदर्श रूप से, कम रिस्क और ज्यादा जीत दर वाली रणनीतियों के लिए सही हो सकता है।  

डेल्टा और दिशात्मक जोखिम

दिशात्मक जोखिम का निर्धारण करते समय डेल्टा मददगार साबित होता है। सकारात्मक डेल्टा खरीदारी के बाजार की संभावना हैं, नकारात्मक डेल्टा बिकवाली के बाजार की संभावना हैं, और न्यूट्रल डेल्टा न्यूट्रल बाजार की संभावना हैं।

जब कॉल ऑप्शन खरीदा जाता है, तो आप एक सकारात्मक डेल्टा का लक्ष्य रखें क्योंकि अंतर्निहित परिसंपत्ति के मूल्य के साथ कीमत बढ़ जाएगी। जब आप पुट ऑप्शन खरीदते हैं, तो आप नकारात्मक डेल्टा का लक्ष्य रखें, क्योंकि अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत बढ़ने पर ऑप्शन की कीमत घट जाएगी।

डेल्टा को ध्यान में रखने के लिए टॉप 3 चीजें:

  1. नियर या एट-द-मनी ऑप्शन के लिए डेल्टा एक्सपारी के करीब बढ़ने लगता है।
  2. डेल्टा का मूल्यांकन गामा द्वारा किया जाता है, जो डेल्टा के परिवर्तन की दर को मापता है।
  3. डेल्टा अंतर्निहित अस्थिरता के परिवर्तनों की प्रतिक्रिया में भी बदल सकता है।

निष्कर्ष

तो इस तरह आप ऑप्शन की स्थिति, रिटर्न और जोखिम को मापने के लिए ऑप्शन ग्रीक का उपयोग कर सकते हैं।

किसी व्यापार के पैसा बनाने की संभावना को समझने के लिए, विभिन्न प्रकार के रिस्क एक्सपोजर मापकों को तय करना आना चाहिए।  

अब तक आपने पढ़ा

  • ऑप्शंस ग्रीक (डेल्टा, गामा, वेगा और थीटा) उन जोखिम मापकों का एक समूह है जिनका नाम ग्रीक अक्षरों पर रखा गया है।
  • ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट एक पोर्टफोलियो को हेज करने में मदद करते हैं।
  • ऑप्शन की भविष्य की कीमत का अनुमान लगाने के लिए निहित अस्थिरता या निहित वॉल्यूम का उपयोग किया जाता है।
  • एक ऑप्शन की लाभकारिता बताने के लिए उपयोग किए जाने वाले कुछ शब्द आंतरिक मूल्य, एट-द-मनी, इन-द-मनी, आउट-ऑफ-द-मनी और पुट ऑप्शन हैं।
  • डेल्टा 0 और 1 के बीच की संख्या है जो किसी परिसंपत्ति की कीमत में परिवर्तन की तुलना उसके डेरिवेटिव की कीमत में परिवर्तन से करता है।
  • एक्सपायरी के समय ऑप्शन के इन-मनी होने की संभावना का निर्धारण करते समय डेल्टा का उपयोग किया जाता है।
  • नियर और एट-द-मनी  डेल्टा ऑप्शन के मामले में डेल्टा एक्सपायरी के करीब बढ़ने लगता है।
  • डेल्टा का मूल्यांकन गामा द्वारा किया जाता है, जो डेल्टा के परिवर्तन की दर का मापक है।
  • डेल्टा अंतर्निहित अस्थिरता परिवर्तनों की प्रतिक्रिया में भी बदल सकता है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account