वेगा ग्रीक क्या है?

4.5

icon icon

वेगा क्या है?

  • वेगा ऑप्शन ग्रीक में से एक है जो निहित अस्थिरता में परिवर्तन के जोखिम को मापने में मदद करता है।
  • जब किसी संपत्ति की अस्थिरता बढ़ती है, तो संबंधित ऑप्शन की कीमत भी बढ़ जाती है, क्योंकि संपत्ति के स्ट्राइक मूल्य पर पहुंचने की संभावना अधिक होती है।
  • ऑप्शन की कीमत जितनी अधिक (या कम) निहित अस्थिरता में 1% के बदलाव के लिए बदलती है, वेगा उतना ही बड़ा (या छोटा) होता है।
  • स्थिति के आधार पर, वेगा या तो सकारात्मक या नकारात्मक हो सकता है।
  • ऑप्शंस में लॉन्ग पोजीशन सकारात्मक वेगा के साथ आती है, जबकि ऑप्शंस में शॉर्ट पोजीशन नकारात्मक वेगा के साथ आती है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि ऑप्शन कॉल है या पुट।
  • जब ऑप्शन की कीमत बढ़ जाती है तो लॉन्ग पोजीशन वाले व्यापारियों को लाभ होता है, जबकि अगर ऑप्शन का प्रयोग किया जाता है, तो शॉर्ट पोजीशन वाले व्यापारियों को नुकसान होता है। 
  • वेगा रेखाकार नहीं है और यह कई कारकों से प्रभावित हो सकता है।

वेगा की विशेषताएं

यहां दो कारक हैं जो वेगा को प्रभावित करते हैं: मनीनेस और एक्सपायरी के लिए बचा समय 

जब एक ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट एट-द-मनी होता है तो वेगा अपने उच्चतम स्तर पर होता है। अगर कॉन्ट्रैक्ट इन-द-मनी या आउट-ऑफ-द-मनी होता है तो वेगा कम हो जाता है। याद रखें, अंतर्निहित सिक्योरिटी का मूल्य और स्ट्राइक मूल्य का अंतर जितना ज्यादा होगा, उस कॉन्ट्रैक्ट का वेगा मूल्य उतना ही कम होगा। 

इसी प्रकार जब एक्सपायरी का समय दूर होगा, तो वेगा मूल्य अधिक होगा और एक्सपायरी का समय करीब आने पर यह कम हो जाएगा। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि वेगा भी गामा से संबंधित है और इससे प्रभावित होता है। जब किसी ऑप्शन का गामा अधिक होता है, तो आप उम्मीद कर सकते हैं कि वेगा भी अधिक होगा।

वेगा का उपयोग

आमतौर पर डेल्टा, थीटा और गामा ऑप्शन हैं जो सबसे अधिक ध्यान आकर्षित करते हैं। ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि वेगा समझने में अधिक जटिल है। इसमें अस्थिरता और निहित अस्थिरता को गहराई से समझना आवश्यक है। हालांकि डेल्टा के बाद वेगा ही है जो ऑप्शन की कीमत कैसे बदलेगी, इसका अनुमान लगाने में बेहद उपयोगी हो सकता है ।

अस्थिरता में बदलाव से लाभ कमाने के लिए विभिन्न ट्रेडिंग रणनीतियों का उपयोग किया जा सकता है, तब भी जब अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत स्थिर हो। अगर आप लॉन्ग स्ट्रैडल या शॉर्ट स्ट्रैडल जैसी रणनीतियों का उपयोग करना चाहते हैं, तो वेगा का ज्ञान अत्यंत महत्वपूर्ण है।

 

अंतर्निहित अस्थिरता

अंतर्निहित अस्थिरता की गणना एक ऑप्शन मूल्य निर्धारण मॉडल का इस्तेमाल करके की जाती है जो यह निर्धारित करता है कि वर्तमान बाजार कीमतें, एक अंतर्निहित संपत्ति की भविष्य की अस्थिरता का क्या अनुमान लगा रही हैं। वेगा निहित अस्थिरता में प्रत्येक प्रतिशत पॉइंट के बदलाव के लिए सैद्धांतिक मूल्य परिवर्तन को मापता है। कीमत की चाल की तरह, वेगा भी हमेशा समान नहीं होता है; यह समय के साथ बदलता है। इसलिए, वेगा पर नियमित रूप से निगरानी रखने की आवश्यकता होती है।

निष्कर्ष

वेगा के इस्तेमाल का एक उदाहरण

मान लें कि स्टॉक एबीसी, मई में ₹450 पर कारोबार कर रहा है। उसी स्टॉक का जून 50 का कॉल ऑप्शन ₹50 (प्रीमियम) में बिक रहा है। जून 50 कॉल का मतलब है कि ऑप्शन एक कॉल ऑप्शन है जो जून में एक्सपायर होगा और जिसका स्ट्राइक मूल्य ₹500 है।

इस उदाहरण के लिए मान लें कि निहित अस्थिरता 14% है, और ऑप्शन का वेगा 0.15 है। अगर निहित अस्थिरता 15% तक बढ़ जाती है, तो जून 50 कॉल ऑप्शन की कीमत बढ़कर ₹50.15 (50 + 0.15) हो जाएगी।

अगर इसके बजाय निहित अस्थिरता 13% तक कम हो गई थी, तो ऑप्शन की कीमत घटकर ₹49.85 (50-0.15) हो जाएगी।

अब तक आपने पढ़ा

  • वेगा निहित अस्थिरता में परिवर्तन के जोखिम को मापने में मदद करता है।
  • वेगा या तो सकारात्मक या नकारात्मक हो सकता है।
  • वेगा रेखाकार नहीं है, और यह कई कारकों से प्रभावित हो सकता है।
  • वेगा को प्रभावित करने वाले दो कारक हैं मनीनेस और एक्सपायरी के लिए बचा समय।
  • एक ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट के एट-द-मनी होने पर वेगा अपने उच्चतम स्तर पर होता है। अगर कॉन्ट्रैक्ट इन-द-मनी या आउट-ऑफ-द-मनी हो तो यह कम हो जाता है।
  • इसी प्रकार एक्सपायरी का समय दूर होने पर वेगा मूल्य अधिक होगा, और एक्सपायरी का समय निकट होने पर यह कम होगा।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account