शुरुआती के लिए मॉड्यूल

वॉल स्ट्रीट और अमेरिकन स्टॉक मार्केट

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

आपके निवेश पर मुद्रा आंदोलन का प्रभाव

4.3

icon icon

पिछले चैप्टर को पढ़ने के बाद, यदि आपको लगता है कि केवल टैक्स और कन्वर्जन चार्ज ही हैं जिनके बारे में आपको अमेरिकी शेयरों में निवेश करते समय सोचने की आवश्यकता है, तो यहां आपके लिए सरप्राइज़ की बात है। करेंसी मूवमेंट, विशेष रूप से USD-INR जोड़ी के बीच, आपके निवेशों में एक अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

और इसलिए, यह देखना ज़रूरी है कि USD-INR जोड़ी कैसे चलती है। इस तरह, आप अपने निवेश को एक करेंसी मूवमेंट के साथ मेल खाने के लिए कर सकते हैं जो आपके लिए अनुकूल है। स्मार्ट मनी के इस चैप्टर में, हम पूरी तरह से इस बात पर ध्यान केंद्रित करेंगे कि करेंसी की मूवमेंट आपके निवेश को कैसे प्रभावित कर सकती है और आप इसके बारे में क्या कर सकते हैं। तो, अब इस पर ध्यान देते हैं।

मुद्रा आंदोलन आपके ट्रेडों और निवेशों को कैसे प्रभावित करते हैं?

अमेरिकी शेयर बाजार में निवेश के साथ, आप प्रभावी रूप से अपने पैसे को दूसरे देशो जैसे यू.एस.ए. आदि के शेयर में लगा सकते हैं इसलिए, अमेरिकी शेयरों में निवेश करने में सक्षम होने के लिए, आपको कन्वर्जन के दिन लागू होने वाली एक्सचेंज रेट पर INR को USD में बदलने की आवश्यकता है।

अब, हम पहले से ही जानते हैं कि USD-INR एक्सचेंज रेट कुछ ऐसी है जो लगातार उतार-चढ़ाव कर रही है, लगभग हर एक दिन में लगभग हर मिनट। इसलिए, कन्वर्जन के दिन दोनों मुद्राएं किस तरह आगे बढ़ रही हैं, इसके आधार पर, आप या तो धन प्राप्त कर सकते हैं या धन खो सकते हैं। करेंसी मूवमेंट में इस अनसरटेंटि को कई विशेषज्ञ 'करेंसी रिस्क' भी कहते हैं।

चलिए आगे की चीजों को सिंपलीफाई करते हैं। यदि करेंसी मूवमेंट कन्वर्जन के समय आपके पक्ष में है, तो आप मूल रूप से थोड़ा अतिरिक्त हासिल कर सकते हैं। दूसरी ओर, यदि करंसी मूवमेंट कन्वर्जन के समय आपके पक्ष में नहीं है, तो आप थोड़ा पैसा खो सकते हैं। आप जितनी मुद्रा परिवर्तित कर रहे हैं, उसके आधार पर, करंसी मूवमेंट का प्रभाव ना के बराबर या काफी हो सकता है।

अब, इस फैक्ट पर विचार करते हुए कि हम यहां USD-INR पेयर के साथ काम कर रहे हैं, आइए एक-दो उदाहरणों को देखें और जानें कि यह आपके निवेश को कैसे प्रभावित करता है।

क्या होता है जब भारतीय रुपय की तुलना अमेरिकी डॉलर  से की जाती है?

जब विशेषज्ञ कहते हैं कि INR ने अमेरिकी डॉलर के अगेंस्ट अप्रिशिएट हुआ है, तो उनका वास्तव में क्या मतलब है? चलिए पता करते हैं।

जब INR को USD के विरुद्ध वैल्यू प्राप्त होती है, तो INR को USD के अगेंस्ट अप्रिशिएटिड कहा जाता है। ऐसी स्थिति प्रभावी रूप से डॉलर को सस्ता होने की ओर ले जाती है। इसलिए, यह USD-INR करेंसी एक्सचेंज रेट को कम करता है। और एक भारतीय निवेशक होने के नाते, इसका मतलब है कि आप 1 USD खरीदने के लिए अधिक से अधिक INR खर्च नहीं करेंगे। इसके विपरीत, इसका मतलब यह भी है कि आपको एक USD के बदले में उतना INR नहीं मिलेगा।

यहां INR का USD के अगेंस्ट अप्रिशिएट  होने का एक उदाहरण किया है। 

  • मान लें कि USD-INR पेयर की करेंसी एक्सचेंज रेट वर्तमान में Rs 72 है। 
  • अब, इस स्थिति में, यदि आपको 1 USD खरीदना है, तो आपको Rs 72 खर्च करने होंगे।
  • और अगले दिन, मान लें कि INR काफी मजबूत हो गया है और मूल्य में लाभ होगा।
  • यह USD-INR पेयर के करंसी एक्सचेंज रेट को Rs 70 तक कम करता है।
  • इसलिए, अगर आपको अगले दिन 1 USD खरीदना है, तो आपको Rs 72 के बजाय Rs 70 ही खर्च करने पड़ेंगे।

यह एक ऐसी स्थिति है जिसे विशेषज्ञ कहते हैं कि USD-INR के अगेंस्ट अप्रिशिएट हुआ है।

आपके अमेरिकी निवेशों पर INR की अप्रिशिएशन का प्रभाव: एक उदाहरण

अब जब आपको पता है कि INR के अप्रिशिएशन पर क्या होता है, तो आइए देखें कि यह आपके अमेरिकी स्टॉक निवेश को कैसे प्रभावित कर सकता है। इस उदाहरण के लिए, हम कनवर्जन चार्जेस और अन्य सभी चार्जेस को नजरअंदाज करेंगे, ताकि इसे समझने में आसान बनाया जा सके।

चलिए मान लेते हैं कि आप 01 मार्च, 2021 $700 में टेस्ला इंक. का एक शेयर खरीदते हैं।

  • खरीद के समय करेंसी एक्सचेंज रेट Rs 72.60 है।
  • अब, टेस्ला के 1 शेयर को खरीदने के लिए, आपको अपने ट्रेडिंग खाते में $ 700 की आवश्यकता होगी।
  • और इसलिए, आप INR को USD में बदलने के लिए तैयार हैं।
  • $ 700 USD खरीदने के लिए, वर्तमान कनवर्जन रेट  के अनुसार आपको लगभग Rs 50,820 ($ 700 x Rs 72.60), खर्च करने पड़ेंगे।

मान लेते हैं की अगले दिन ही, टेस्ला का स्टॉक $ 720 तक बढ़ जाता है। और इसलिए, आप अपने मुनाफे को कैशइन करने का फैसला करते हैं। हालाँकि, इस समय तक, INR USD के अगेंस्ट अप्रिशिएट हो चुका है।

  • नई USD-INR कनवर्जन रेट अब Rs 71.30 है। 
  • USD को INR में बदलने के लिए, आपको नए कनवर्जन रेट Rs 71.30  ka पालन करना होगा।

इसका मतलब है कि आपके द्वारा बचाए जाने वाले प्रत्येक USD के लिए, आपको केवल Rs 71.30 ही मिलेंगे (पिछले दिन से 72.60 रुपये के विपरीत)।

तो, कुल राशि क्या है जो आप इस व्यापार के तहत बनाते हैं? 

INR में, Rs 51,336 ($ 720 x Rs 71.30)।

हालाँकि आपने अभी भी Rs 516(Rs 51,336 - Rs 50,820)का लाभ कमाया है, अगर आपका INR USD के अगेंस्ट अप्रिशिएट नहीं होता तो आपका वास्तविक लाभ बहुत अधिक होता।

यदि USD-INR कनवर्जन रेट Rs 72.60 होता तो आपको फायदा इतना होता:

($720 x Rs. 72.60) - ($700 x Rs. 72.60) = Rs. 52,272 - Rs. 50,820 = Rs. 1,452

USD-INR पेयर के बीच करेंसीमूवमेंट के कारण, आप प्रभावी रूप से लगभग Rs 936(Rs 1,452 - Rs 516) खो चुके हैं।

क्या होता है जब भारतीय रुपया अमेरिकी डॉलर के अगेंस्ट डिप्रीसिएट करता है?

अब, जब INR USD के अगेंस्ट अपना मूल्य खो देता है, तो INR को USD के अगेंस्ट  डिप्रीसिएट कहा जाता है। इससे प्रभावी रूप से USD-INR करेंसी एक्सचेंज रेट में वृद्धि होगी। और एक भारतीय निवेशक होने के नाते, इसका मतलब होगा कि आपको 1 USD खरीदने के लिए थोड़ा और खर्च करना होगा। वैकल्पिक रूप से, आपको एक USD के लिए अधिक INR प्राप्त होगा।

USD के एगेंस्ट INR के डिप्रीसिएट का एक उदाहरण

  • चलिए मान लेते हैं की USD-INR पेयर की करेंसी एक्सचेंज रेट वर्तमान में Rs 70 है।
  • अब, इस स्थिति में, यदि आपको 1 USD खरीदना है, तो आपको Rs 70 खर्च करने होंगे।
  • और अगले दिन, मान लें कि INR बहुत अधिक डिप्रीसिएट करता है और अपना मूल्य खो देता है। 
  • इससे USD-INR की करेंसी एक्सचेंज रेट बढ़ कर Rs 72 हो जाता है। 
  • इसलिए, अगर आपको कल 1 USD खरीदना था, तो आपको Rs 72  के बजाय Rs 70 ही खर्च करने पड़े।

अब, इस तरह की स्थिति कोही विशेषज्ञों INR का अमरीकी डालर के एगेंस्ट डिप्रीसिएशन कहते है।

आपके अमेरिकी निवेश पर INR डिप्रीसिएशन का प्रभाव: एक उदाहरण

पिछले उदाहरण के साथ, यहां पर एक फैक्स है कि यह उदाहरण आपके अमेरिकी स्टॉक निवेश को कैसे प्रभावित कर सकता है। इस उदाहरण के लिए, हम फिर से कनवर्जन चार्ज और अन्य सभी चार्जेस को शामिल नहीं करेंगे।

मान लेते हैं कि आप 01 मार्च, 2021 को $ 2,060 में अल्फाबेट इंक. का एक शेयर खरीदना चाहते हैं।

  • खरीद के समय करेंसी एक्सचेंज रेट Rs 70.54 है। 
  • अब, एलफाबेट का 1 शेयर खरीदने के लिए, आपको अपने ट्रेडिंग खाते में $ 2,060 की आवश्यकता होगी। 
  • और इसलिए, आप INR को USD में बदलने के लिए तैयार हैं। 
  • $ 2,060 USD खरीदने के लिए, वर्तमान कनवर्जन रेट के अनुसार आपको लगभग Rs 1,45,312 ($ 2,060 x Rs 70.54) खर्च करने पड़ेंगे।

अगले दिन, अल्फाबेट इंक. का शेयर $ 2,075 तक बढ़ जाता है। तो, आप अपने मुनाफे को कैशइन करने फैसला करते हैं। हालांकि, इस समय तक INR USD के एगेंस्ट डिप्रीसिएट कर चुका होगा।

  • नई USD-INR कनवर्जन रेट अब Rs 72.15 है। 
  • USD को INR में बदलने के लिए, आपको इस नई कनवर्जन रेट के तहत ऐसा करना होगा।
  • इसका मतलब है कि आपके द्वारा बेचे जाने वाले प्रत्येक USD के लिए, अब आपको Rs 72.15 (पिछले दिन से Rs 70.54 के विपरीत) मिलेंगे। 

तो, कुल राशि क्या है जो आप इस व्यापार के तहत बनाते हैं? 

INR में, Rs 1,49,711 ($ 2,075 x Rs 72.15)

इसलिए, आपने  4,399 (Rs 1,49,711 - Rs 1,45,312) का अच्छा लाभ कमाया है। यदि INR USD के  एगेंस्ट डिप्रीसिएट ना होता, तो आपका वास्तविक लाभ बहुत कम हो जाता।

तो, कुल राशि क्या है जो आप इस व्यापार के तहत बनाते हैं यदि USD-INR कनवर्जन रेट दर Rs 70.54 है?

($2,075 x Rs. 70.54) - ($2,060 x Rs. 70.54) = Rs. 1,46,370 - Rs. 1,45,312 = Rs. 1,058

आपने प्रभावी रूप से लगभग Rs 3,341 (Rs 4,399 - Rs 1,058), USD के अगेंस्ट डिप्रीसिएट होने के करण हुआ है।

मेन टेकआवे

एक भारतीय निवेशक के लिए निवेश पर करेंसी मूवमेंट के प्रभाव के संबंध में महत्वपूर्ण बात यह है कि जब भारतीय रुपया डिप्रीसिएट करता है तो आपके लाभ बढ़ जाते हैं। और इसके विपरीत, भारतीय रुपये की अप्रिशिएट करने पर आपके लाभ कम हो जाते हैं।

कुछ चीजें हैं जो आप करेंसी मूवमेंट के प्रभाव को कम करने के लिए कर सकते हैं। एक बात के लिए, आप उस लाभ के इनवार्ड रेमिटेंस में देरी कर सकते हैं जो आप उस समय तक USD में करते हैं जब तक INR USD के अगेंस्ट डिप्रीसिएट नहीं करता। इसी प्रकार, जब आप विनिमय दर आपके अनुकूल हो तो आप विदेशी मुद्रा में थोक में USD में बाहरी प्रेषण करके INR अप्रिशिएशन का लाभ उठा सकते हैं। इस तरह, आप मुद्रा जोखिम को कुछ हद तक कम कर सकते हैं।

रैपिंग अप

स्मार्ट मनी के अगले चैप्टर में, हम अन्य प्रमुख फैक्टर्स पर ध्यान केंद्रित करेंगे, जिनके बारे मे आपको अमेरिकी शेयरों में निवेश करने से पहले पता होना चाहिए। तब तक, पढ़ते रहिए और सीखते रहिए!

क्वीक रीकैप

  • विशेष रूप से USD-INR पेयर के बीच करेंसी मूवमेंट, अमेरिकी शेयरों में आपके निवेश में एक अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  • USD-INR कनवर्जन चार्ज एक ऐसी चीज़ है जो हर एक दिन के लगभग हर मिनट लगातार उतार-चढ़ाव करती रहती है।
  • कन्वर्जन के दिन दोनों करेंसी किस तरह आगे बढ़ रही हैं, इसके आधार पर, आप या तो धन प्राप्त कर सकते हैं या धन खो सकते हैं। करेंसी मूवमेंट में यह अनिश्चितता ही है जिसे कई विशेषज्ञ 'मुद्रा जोखिम' भी कहते हैं।
  • जब भारतीय रुपया डिप्रीसिएट होता है तो आपका लाभ बढ़ जाता है। और इसके विपरीत, भारतीय रुपये की अप्रिशियट करने पर आपके लाभ कम हो जाते हैं।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account