निवेशक के लिए मॉड्यूल

निवेश के मामले - 2

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

सामाजिक प्रमाण पूर्वाग्रह: हमें सामाजिक प्रमाण की आवश्यकता क्यों है?

4.0

icon icon

पहला, हम मान लेते हैं कि अगर बहुत सारे लोग एक ही काम कर रहे हैं, तो उन्हें कुछ ऐसा पता होगा जो हम नहीं जानते हैं। खासकर जब हम अनिश्चित होते हैं, तो हम भीड़ के सामूहिक ज्ञान में विश्वास करने को तैयार होते हैं। दूसरा, अक्सर ही भीड़ में गलती हो जाती है क्योंकि वे किसी बेहतर जानकारी के आधार पर काम नहीं कर रहे  होते, बल्कि सामाजिक प्रमाण के सिद्धांत पर प्रतिक्रिया दे रहे होते हैं।

सामाजिक प्रमाण वह होता है जब लोग किसी दी गई स्थिति के लिए "सही" व्यवहार को प्रतिबिंबित करने के लिए दूसरों को कॉपी करने लगते हैं। स्थापित पैटर्न के अनुसार चलने या आधिकारिक या समाज में पहचान रखने वाले लोगों के नक्शे- कदमों पर चलने की ये इच्छा ही वो धागा है जो लोगों को एक भीड़ के तौर एक साथ बांधती है। सामाजिक प्रमाण अंतर्निहित मनोवैज्ञानिक पूर्वाग्रह है जिसके परिणामस्वरूप हम "समूह सोच" व्यवहार करने लगते हैं।

जीवन के कई पहलुओं में, अनुसरण करने की यह प्रवृत्ति फायदेमंद होती है। वास्तव में, सामाजिक प्रमाण एक महत्वपूर्ण मानवीय गुण है जिसने समुदाय-आधारित सभ्यता के हमारे विकासवादी कदम को सहारा दिया। जनजाति के दूसरों लोगों की तरह काम करने की प्रेरणा उस सदी के लिए शक्तिशाली रही होगी। 

यह जाहिर है कि सामाजिक प्रमाण का संचालन क्यूमूलेटिव है और एक रिफ्लेक्सिव, आत्म-सुदृढ़ीकरण गति रखता है। जैसे- जैसे ये प्रभाव लोगों लोगों में बड़ी संख्या में फैलता जाता है, समूह का आकार कई गुना बढ़ जाता है और दूसरों को “यही काम करने का सही तरीका है” की धारणा को मानने के लिए प्रेरणा देता है।

हमें सामाजिक प्रमाण की आवश्यकता क्यों है?

हम ऐसा क्यों करते हैं? खैर, पहले के समय में, समूह में आगे बढ़ना एक अच्छी उत्तरजीविता रणनीति हुआ करती थी। यह शिकारियों से सुरक्षा की भावना प्रदान करती है। जानवरों के हमलों से खुद को बचाने के लिए या भोजन के लिए जानवरों पर हमला करने की योजना बनाने के लिए, जनजातियों को समूहों में चलने की आवश्यकता होती थी। जिन्होंने समूह से अलग होकर काम किया वे जीन पूल से बाहर हो गए। हम उन्हीं लोगों के वंशज हैं जिन्होंने दूसरों के व्यवहार की नकल की। यह पैटर्न हम में इतना गहराई से बसा है कि हम आज भी इसका इस्तेमाल करते हैं, जबकि यह कोई लाभ भी नहीं देता।

सोशल प्रूफ के शिकार होने से कैसे बचें?

  1. जानिए "क्यों"

किसी भी बिक्री के प्रस्ताव को स्वीकारने या बाजार की खबर (अच्छी/बुरी) पर प्रतिक्रिया देने से पहले आपको इसके पीछे के ‘क्यों’ को समझने की आवश्यकता है। आपने इस उत्पाद में क्यों निवेश किया है या आपको इसमें निवेश/निकासी क्यों करनी चाहिए? क्या आपके पास पहले से ही कुछ लक्ष्य हैं जहां यह उत्पाद फिट बैठता है या इस उत्पाद ने आपको यह महसूस कराया कि आपको कुछ लक्ष्य सेट करने की आवश्यकता है। अगर आखिरी बात सही है, तो निवेश करने के बजाय, यह आपके लक्ष्यों पर काम करने का समय है।

 
  1. पूछिए "क्यों"

जब आप "क्यों" के बारे में सुनिश्चित हो जाते हैं तो अब दूसरे लोगों के "क्यों" को समझने का समय है। अब यहां आपको यह समझने की आवश्यकता है कि अन्य लोगों के जीवन में क्या हो रहा है यह जानना आपकी ड्यूटी नहीं है। उनकी प्रतिक्रिया बहुत सारे कारणों से सकती है जो उन्हें बेहतर पता होगी। आप केवल अपने व्यवहार को नियंत्रित कर सकते हैं, न कि दूसरों के।

लेकिन हां, अगर आपको किसी सेल्समैन द्वारा प्रस्ताव दिया जा रहा है तो आपको अच्छे से पता होना चाहिए कि वह क्यों सलाह दे रहा है और क्या सलाह दे रहा है। और यह भी कि उसे ऐसा क्यों लगता है कि जो वो सलाह दे रहा है वो आपके लिए सही है? 

  1. वित्तीय योजना के जरिए खुद के लिए प्रक्रिया सेट करें

अपने लिए एक प्रक्रिया सेट करने से अधिकांश पूर्वाग्रह समाप्त हो जाते हैं; बशर्ते उस प्रक्रिया को अच्छी तरह से बने वित्तीय योजना द्वारा समर्थित किया गया हो, जो आपके जोखिम प्रोफाइल और आकांक्षाओं को ध्यान में रखती है।

  1. फाइनेंशियल प्लानर की मदद लें

आपके पास एक पेशेवर वित्तीय योजनाकार होना चाहिए। एक व्यक्ति जो मानवीय भावनाओं को समझता हो, न कि एक मशीन जो वो करती है, जो आप कहते हैं। एक व्यक्ति जो आपके विचारों का मुकाबला कर सकता है, आपकी कार्रवाई के पीछे के ‘क्यों’ को समझता है और आपका जरूरी मार्गदर्शन करता है।

निश्चित रूप से ऐसा लगता है कि सामाजिक प्रमाण तर्कसंगत संचालकों  की अनुपस्थिति में भेड़चाल व्यवहार को और बढ़ा सकता है। सौभाग्य से, भेड़चाल व्यवहार की दिशात्मक सीमाएं हैं क्योंकि ट्रेंड खत्म होने लगते हैं और विक्रेता थक जाते हैं। एक पॉइंट पर, जब लगता है मंदी कुछ ज्यादा ही टिक गई है तो, अक्सर एक नया ट्रेंडसेटर उभरता है - एक मूल्य-चालित निवेशक - जो एक नए समूह व्यवहार को शुरू कर सकता है, जो शेयरों में रैली को प्रोत्साहित करने के लिए विपरीत दिशा में काम करता है।

इन सभी छोटे ट्रेंड और ट्रेंड-रिवर्सल के चलते, इन सभी का ध्यान रखना नामुमकिन है - ट्रेडिंग लागत भी बेहद ज्यादा होगी। यह थोड़े आश्चर्य की बात है कि सभी सफल निवेशक एक बात पर सहमत हैं - दीर्घकालिक दृष्टिकोण लेने से फायदा होता है।

icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account