Module for निवेशक

उन्नत मौलिक विश्लेषण - मूल्यांकन

ओपन फ्री * डीमैट खाता लाइफटाइम के लिए फ्री इक्विटी डिलीवरी ट्रेड का आनंद लें

मूल्यांकन के अन्य तरीके

5.0

icon

जैसा कि आप पिछले अध्याय में देख चुके हैं, डिस्काउंटेड कैश फ्लो विधि काफी लोकप्रिय है और व्यापक रूप से इस्तेमाल होती है। हालांकि किसी कंपनी से जुड़ी परिस्थितियों के आधार पर कई निवेशक अन्य मूल्यांकन पद्यतियों का भी इस्तेमाल करते हैं। हम इस अध्याय में इन्हीं के बारे में जानेंगे। हम, डिस्काउंटेड कैश फ्लो जितनी ही लोकप्रिय और निरपेक्ष पद्धति  से शुरुआत करेंगे, जिसका नाम है डिविडेंड डिस्काउंट मॉडल।  

डिविडेंड डिस्काउंट मॉडल (DDM)

डिविडेंड डिस्काउंट मॉडल (डीडीएम) एक वैल्यूएशन तकनीक है जो इस धारणा पर काम करती है कि कंपनी के भविष्य के सभी डिविडेंड का वर्तमान मूल्य उसके शेयर की कीमत के आंतरिक मूल्य को दर्शाता है।

चूंकि एक कंपनी अपने शेयरधारकों को अपने फ्री कैश फ्लो से डिविडेंड बाँटती है, यह मॉडल डिविडेंड को कंपनी के फ्री कैश फ्लो का सटीक आंकड़ा मानता है। मुख्य रूप से यही कारण है कि DDM फ्री कैश फ्लो के बजाय डिविडेंड का इस्तेमाल करता है।

निम्नलिखित फ़ॉर्मूले की सहायता से आप DDM विधि का उपयोग करके किसी कंपनी के शेयर के आंतरिक मूल्य की गणना आसानी से कर सकते हैं:

V0 = D1 ÷ (R - G)

यहां, 

V0 = शेयर का आंतरिक मूल्य

D1 = आगामी अवधि के लिए अपेक्षित प्रति शेयर डिविडेंड 

R = इक्विटी की अनुमानित लागत 

G = अपेक्षित डिविडेंड ग्रोथ रेट

इस मॉडल को गॉर्डन ग्रोथ मॉडल (GGM) के रूप में भी जाना जाता है। इसका नाम अमेरिकी अर्थशास्त्री मायरन जे. गॉर्डन के नाम पर रखा गया है। यह इस धारणा पर काम करता है कि किसी कंपनी के शेयर का डिविडेंड आने वाले वर्षों में स्थायी दर से बढ़ता रहेगा। GGM मॉडल में आपको आगामी अवधि में अपेक्षित डिविडेंड प्रति शेयर और स्थायी डिविडेंड ग्रोथ रेट से जुड़ी कई धारणाएं बनाने यानी उनसे जुड़े अनुमान लगाने की ज़रूरत होती है। 

यह पद्धति किस प्रकार की कंपनियों के लिए उपयुक्त है?

चूंकि इस मूल्यांकन मॉडल में आपको यह मानना होता है कि किसी कंपनी का डिविडेंड एक स्थायी दर से बढ़ता रहेगा, डिविडेंड डिस्काउंट मॉडल केवल उन कंपनियों के लिए काम करता है जो लगातार डिविडेंड बाँटती हैं। इसलिए लार्ज-कैप और पूर्ण विकसित कंपनियों के लिए यह मूल्यांकन पद्धति अधिक उपयोगी है।   

बाजार मूल्य मूल्यांकन पद्धति/ मार्केट वैल्यू वैल्युएशन

शेयर का मूल्य आकने के लिए मार्केट वैल्यू मूल्यांकन पद्धति सबसे सरल तरीकों में से एक है। यह एक तुल्नात्मक मूल्यांकन मॉडल है जिसमें चुनी गई कंपनी का मूल्यांकन करने के लिए उसकी तुलना हालही में बेची गई समान कंपनियों के मूल्य से की जाती है। उदाहरण के तौर पर, यहां 2 कंपनियां हैं - कंपनी ए और कंपनी बी ये दोनों एक ही उद्योग में काम कर रही हैं और वे काफी समान हैं। कंपनी बी अपने पूरे कारोबार को एक निर्धारित राशि के लिए तीसरी इकाई को बेचने का फैसला करती है। मार्केट वैल्यू मूल्यांकन विधि तय करेगी कि कंपनी बी द्वारा अपने व्यवसाय को बेचने के दाम की तुलना में कंपनी ए की कीमत क्या होगी।   

यह पद्धति किस प्रकार की कंपनियों के लिए उपयुक्त है?

हो सकता है यह पद्धति अन्य मूल्यांकन पद्यतियों जितनी सटीक ना हो, लेकिन यह आपको कंपनी के मूल्य का एक सही आइडिया देती है। यह पद्धति सिर्फ उन कंपनियों पर काम करती है जिनकी प्रतियोगी कंपनियों के व्यवसाय मॉडल और वित्तीय संरचना उनसे काफी मिलती-जुलती हो। 

इसके अलावा इस पद्धति के काम करने के लिए एक प्रतियोगी कंपनी की बिक्री ज़रूरी है। मार्केट वैल्यू मूल्यांकन विधि काफी चुनौतीपूर्ण हो सकती है क्योंकि एक ही उद्योग और क्षेत्र में एक-दूसरे के समान दो कंपनियों को ढूंढना मुश्किल हो सकता है।   

 

एसेट बेस्ड मूल्यांकन पद्धति

एसेट-बेस्ड मूल्यांकन पद्धति में किसी कंपनी का मूल्य उसकी कुल संपत्ति मूल्य की गणना करके निर्धारित किया जाता है, जो कि कंपनी के कुल एसेट में से कुल देनदारियों को घटाकर मिलने वाले आंकड़े के बराबर होता है। दो अलग-अलग तरीके हैं जिसमें आप इस पद्धति का उपयोग करके कंपनी के मूल्य की गणना कर सकते हैं गोइंग कंसर्न अप्रोच और लिक्विडेशन वैल्यू अप्रोच। आइए इन दोनों पर एक संक्षिप्त नज़र डालते हैं। 

1. गोइंग कंसर्न अप्रोच 

इस दृष्टिकोण का मानना है कि जिस कंपनी का मूल्य आप निर्धारित करने का प्रयास कर रहे हैं वह निकट भविष्य में लिक्विडेशन यानी बंद होने के खतरे के बिना काम करती रहेगी। इस दृष्टिकोण का इस्तेमाल करके किसी कंपनी के मूल्य का निर्धारण करने के लिए आपको कंपनी की कुल देनदारियों को उसकी कुल संपत्ति से घटाना होगा। फिर कंपनी के एक शेयर के मूल्य को प्राप्त करने के लिए इस आंकड़े को बकाया शेयरों की संख्या से विभाजित करें।

2. लिक्विडेशन वैल्यू अप्रोच 

लिक्विडेशन वैल्यू दृष्टिकोण इस धारणा पर काम करता है कि कंपनी बंद हो रही है अपने एसेट्स का लिक्विडेशन करने यानी उन्हें बेचने की प्रक्रिया में है। इसमें कंपनी का मूल्य उस कैश के बराबर होता  है जो कंपनी के पास सभी एसेट्स को बेचने और उससे मिले पैसों से अपने कर्ज़ का भुगतान करने के बाद बचता है।  कंपनी के एकल शेयर के मूल्य पर पहुंचने के लिए आपको कुल नक़दी को कंपनी के बकाया शेयरों की कुल संख्या से को विभाजित करना है। 

इस मूल्यांकन मॉडल का इस्तेमाल कर मिलने वाला कंपनी का मूल्यांकन, लगभग हमेशा, गोइंग कंसर्न अप्रोच से मिलने वाले मूल्यांकन से कम होता है।  इसका मुख्य कारण है कि  जब कोई कंपनी अपने एसेट्स को बेचती है या लिक्विडेट करती है तो परिणामस्वरूप आय हमेशा बुक वैल्यू से कम होगी। आप कंपनी के लिक्विडेशन को उसके एसेट की एक डिस्काउंट वाली सेल मान लीजिए।  

यह पद्धति किस प्रकार की कंपनियों के लिए उपयुक्त है?

एसेट बेस्ड  मूल्यांकन पद्धति बहुत बहुमुखी है। इसलिए  यह लगभग सभी कंपनियों के लिए उपयुक्त है, चाहे उस कंपनी को गोइंग कंसर्न अप्रोच की नज़र से देखा जाए या लिक्विडेशन वैल्यू की नज़र से। कुछ अन्य मूल्यांकन पद्यतियों की तरह, यह मॉडल भी DCF या DDM जितना सटीक नहीं है। इसलिए, किसी कंपनी के सटीक मूल्यांकन पर पहुंचने के लिए इसे दूसरे मूल्यांकन के तरीकों के साथ देखना बेहतर होगा।  

निष्कर्ष

इस अध्याय में  हमने कई तकनीकों और पद्धितियों को जाना, जिनका उपयोग आप किसी कंपनी के शेयर का मूल्यांकन करने के लिए कर सकते हैं। आने वाले अध्यायों में हम मूल्यांकन के ड्यू डिलिजेंस से जुड़े पहलुओं के बारे में जानेंगे  जो कंपनी के शेयर के मूल्य को प्रभावित करते हैं। 

अब तक आपने पढ़ा

  • डिविडेंड डिस्काउंट मॉडल एक मूल्यांकन तकनीक है जो इस धारणा पर काम करती है कि कंपनी के सभी भावी डिविडेंड का वर्तमान मूल्य उसके शेयर की कीमत के आंतरिक मूल्य को दर्शाता है।
  • क्योंकि ये वैल्यूएशन मॉडल यह मानता है कि कंपनी का डिविडेंड स्थायी दर से बढ़ता रहेगा, इसलिए यह  सिर्फ उन कंपनियों के लिए काम करता है जो लगातार डिविडेंड बाँटती हैं।
  • मार्केट वैल्यू मूल्यांकन पद्धति में चुनी गई कंपनी का मूल्यांकन करने के लिए उसकी तुलना हालही में बेची गई समान कंपनी के मूल्य से की जाती है।
  • एसेट बेस्ड मूल्यांकन पद्धति में किसी कंपनी का मूल्य उसकी कुल संपत्ति मूल्य की गणना करके आका जाता है। इसे कुल एसेट में से कुल देनदारियाँ घटाकर निकाला जाता है।
  • दो अलग-अलग तरीके हैं जिसमें आप इस पद्धति का उपयोग करके कंपनी के मूल्य की गणना कर सकते हैं गोइंग कंसर्न अप्रोच और लिक्विडेशन वैल्यू अप्रोच।
  • गोइंग कंसर्न अप्रोच का मानना है कि जिस कंपनी का मूल्य आप निर्धारित करने की कोशिश कर रहे हैं वह लिक्विडेशन के खतरे के बिना निकट भविष्य में काम करती रहेगी।
  • लिक्विडेशन वैल्यू अप्रोच इस धारणा पर काम करता है कि कंपनी बंद हो रही है और अपनी एसेट्स का लिक्विडेशन करने की प्रक्रिया में है।
  • एसेट बेस्ड मूल्यांकन मॉडल बहुत बहुमुखी है। इसलिए यह लगभग सभी कंपनियों के लिए उपयुक्त है, चाहे वो एक गोइंग कंसर्न अप्रोच अपनाए या लिक्विडेशन वैल्यू अप्रोच
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

How would you rate this chapter?

टिप्पणियाँ (1)

Shiv Chandra

16 Mar 2021, 06:58 PM

Teach the concepts of Valuations method with some relevant examples.

एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account