Module for निवेशक

स्पेक्टर से लेकर शेयरहोल्डर तक

ओपन फ्री * डीमैट खाता लाइफटाइम के लिए फ्री इक्विटी डिलीवरी ट्रेड का आनंद लें

शीर्ष 5 स्टॉक संकेतक आपको पता होना चाहिए

icon

आशु अभी शेयर मार्केट की दुनिया में एक नौसिखिया है, जिसने अभी शेयर मार्केट में कदम रखा ही है। वह इसे अच्छे से समझना चाहता है और वह इसकी कोशिश भी करता है लेकिन निवेश में लिए जाने वाले कदमों को समझना उसके लिए काफी मुश्किल है। वह उम्मीद करता है कि काश इस समय उसका कोई दोस्त होता जो उसे समझाता कि बाजार इस समय कैसा प्रदर्शन कर रहा है।

और बस यहीं पर स्टॉक मार्केट जीनि काम में आता है, और वह आशु को सलाह देता है कि वह शेयर मार्केट संकेतकों यानी स्टॉक इंडिकेटर्स को समझ कर अपने निवेश के फैसले ले सकता है। एक निवेशक के तौर पर आप शेयर मार्केट संकेतक के साथ, समझदारी से सही निर्णय ले सकते हैं। 

शेयर संकेतक तर्क के आधार पर काम करते है क्योंकि वह डाटा पॉइंट्स पर फॉर्मूला लगाकर ही निष्कर्ष निकालते है। मार्केट संकेतक को नई ऊंचाई छूने वाली कंपनियों और नीचे गिरने वाली कंपनियों की तुलनात्मक विश्लेषण कर बनाया जाता है। 

आप शेयर संकेतक का उपयोग कैसे कर सकते हैं?

उदाहरण के लिए, जहां शेयर संकेतक बताता है कि तेजी का दौर चल रहा है, तो आप वहाँ निवेश को बढ़ा सकते हैं। इसके विपरीत, अगर इंडिकेटर मंदी के चरण की ओर इशारा करता है, तो आप ज़रूरत पड़ने पर अपने निवेश को कम कर सकते हैं।

5 प्रमुख शेयर संकेतक

अब उन 5 प्रमुख शेयर संकेतक पर एक नज़र डालते हैं जो आपके लिए सही नींव रख सकते हैं:

1 - आरएसआई - गति दोलक (RSI)

शेयर या एसेट की कीमत में अधिक खरीदी (ओवरबॉट) या अधिक बिक्री (ओवरसोल्ड) की स्थिति का आकलन करने के लिए जब हाल की कीमतों में बदलाव की मात्रा को मापा जाता है तो उसके लिए सापेक्ष शक्ति सूचकांक यानी रेलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स (आरएसआई) का इस्तेमाल किया जाता है। आरएसआई एक गति सूचक (मोमेंटम इंडिकेटर) है। आरएसआई को एक डोलक या ऑसिलेटर की तरह दर्शाया जाता है जो कि लाइन ग्राफ है। ग्राफ अंतिम छोरों की सीमा के बीच चलता है और आप इस पर 0 से 100 तक की रीडिंग ले सकते हैं।

आरएसआई की पारंपरिक व्याख्या के हिसाब से, अगर 70 या उससे ऊपर की वैल्यू ग्राफ में दिखती है तो यह माना जाता है कि सिक्योरिटी ओवरवैल्यूड है। इससे कीमत में ट्रेंड रिवर्सल या कीमत में करेक्टिव पुलबैक आ सकता है। आरएसआई पर 30 या उससे कम की रीडिंग यह बताती है कि यह सिक्योरिटी  अंडरवैल्यूड है।  

शेयर या एसेट के प्राथमिक ट्रेंड को समझना बहुत जरूरी है। इससे आपको यह पक्का करने में मदद मिलती है कि इंडिकेटर की रीडिंग स्पष्ट है। कॉन्स्टेंस ब्राउन, बाजार के एक बहुत ही प्रसिद्ध तकनीशियन ने इस बात पर सहमति दी है कि आरएसआई (RSI) पर एक ओवरसोल्ड रीडिंग अपट्रेंड की तरफ इशारा करती है, जिसके 30% से ज्यादा होने की संभावना होती है। और ऐसे ही, आरएसआई में ओवरबॉट रीडिंग एक डाउनट्रेंड को दर्शाता है, जिसके 70% से भी कम होने की संभावना होती है।  

2 – एडीएक्स (ADX) – ट्रेंड की मज़बूती को मापता है

ट्रेडिंग करते समय, ट्रेंड की मज़बूती को पहचानना बहुत जरूरी कदम हो सकता है, भले ही उसकी दिशा कुछ भी हो। जब भी आप किसी ट्रेंड की ताकत को जानना और समझना चाहते है तो इसके लिए औसत दिशात्मक सूचकांक या एवरेज डिरेक्शनल इंडेक्स (ADX) टेक्निकल इंडिकेटर काम में आता है। एडीएक्स भी एक ऑसिलेटर और गैर-दिशात्मक सूचकांक है, इसका यह मतलब है कि यह बदलता रहता है और बार के सबसे ऊँचे और निचले पॉइंट की तुलना पर आधारित होता है। एडीएक्स 0 से 100 के बीच बदलता रहता है। 20 से नीचे की रीडिंग, एक कमजोर ट्रेंड की तरफ इशारा करती है और 50 से ऊपर की रीडिंग एक मजबूत ट्रेंड को दर्शाती है। इससे हमें यह समझ आता है कि एडीएक्स जितना ज्यादा होगा, ट्रेंड उतना ही मजबूत होगा, और एडीएक्स जितना कम होगा, ट्रेंड उतना ही कमजोर होगा। जब कम एडीएक्स होता है तो इस समय पर मूल्य आमतौर पर रेंज के बीच रहता है। और जब एडीएक्स 50 से ऊपर हो जाता है तो मूल्य फिर एक ही दिशा में अपनी गति पकड़ता है। एडीएक्स ट्रेंड का बुलिश या बियरिश होना नहीं बताता है बल्कि यह वर्तमान ट्रेंड की ताकत को दिखाता है। एडीएक्स की प्रमुख भूमिका यह पहचानना है कि मार्केटिंग रेंज में है या एक नया ट्रेंड सेट कर रही है। इसलिए जब ट्रेंड मजबूत होता है तो रीडिंग बड़ी होती है और जब ट्रेंड कमजोर होता है तो रीडिंग छोटी होती है। तो अब अगली बार जब भी ट्रेंड बदलेगा और आपको इसके बारे में फैसला लेना हो तो एडीएक्स निर्णय लेने में आपके काफी काम आएगा।

 

3 - मूविंग एवरेज

मुविंग एवरेज सबसे पुराना और सबसे सहायक टेक्निकल इंडिकेटर है। आप इससे भरोसेमंद सिग्नल ले सकते हैं और दूसरे ऑसिलेटर- एमएसीडी और आरएसआई के साथ काम में लिए जाने पर "सुचारू" तरीके से ट्रेंड को समझ सकते हैं। मूविंग एवरेज तीन प्रकार के होते हैं - सिंपल मुविंग एवरेज (एसएमए),  एक्स्पोनेंशियल मुविंग एवरेज (ईएमए) और वेटेड मुविंग एवरेज (डब्ल्यूएमए)। एसएमए सबसे ज्यादा व्यापारियों और निवेशकों द्वारा काम में लिया जाता है। आप इसमें अलग-अलग कीमतों की गणना कर सकते हैं जैसे – शुरुआती, क्लोज़िंग, उच्चतम या निम्नतम। एसएमए एक विशिष्ट समय के लिए पुराने मूल्य के डाटा पर निर्भर करता है, इसीलिए यह एक पीछे की तरफ रुख करने वाला इंडिकेटर है। 

आप खरीद या बिक्री के सिगनल को समझने के लिए भी एसएमए को काम में ले सकते है। आप शेयरों की सपोर्ट और रेसिस्टेंस कीमतों की पहचान कर सकते हैं जो आपको यह जानने में भी मदद करेंगी कि आपको एसेट को कहाँ पर ट्रेड करना चाहिए। एसएमए क्रॉसओवर का उपयोग मूल्य में तेज़ी या मंदी को दर्शाने के लिए भी किया जाता है। सूचकांक बनाते समय, आपको पिछले प्राइस डाटा को चार्ट में प्लॉट कर उसकी गणना करनी चाहिए। विशेष मापदंडों के एक सेट के आधार पर एसएमए एक निश्चित अवधि में शेयर की कीमत का औसत है। आप एक निर्धारित समय की अवधि में शेयर की कीमतों को जोड़कर उन्हें अवधियों के जोड़ से भाग कर मूविंग एवरेज की गणना कर सकते हैं।

4 - बोलिंगर बैंड 

एक मुद्रा जोड़ी की अस्थिरता के स्तर का पता लगाने के लिए, बोलिंगर बैंड को काम में लिया जाता है। प्राइसिंग चैनल को निर्धारित करने के लिए बोलिंगर बैंड को एक प्राइस चार्ट के ऊपर प्लॉट किया जाता है। बोलिंगर बैंड में मुविंग एवरेज की लाइन के ऊपर व नीचे बैंड होते है जो ऊपरी और निचली रेट की सीमाओं को दर्शाते हैं। इन्हीं लाइनों के जरिये अस्थिरता को मापा जाता है।

5 – सापेक्ष रोटेशन ग्राफ़ - आरआरजी (RRGs)

आप सापेक्ष शक्ति विश्लेषण को मापने के लिए, सापेक्ष रोटेशन ग्राफ़ यानी रेलेटिव रोटेशन ग्राफ (आरआरजी) को काम में ले सकते हैं। आरआरजी दूसरे संकेतक की तरह नहीं है, यह एक दृष्टि आधारित साधन है। कई सिक्योरिटीज़ के लिए आप आरआरजी का उपयोग कर सकते हैं ताकि एक समान बेंचमार्क के आधार पर आप अलग-अलग सिक्योरिटीज़ के सापेक्ष शक्ति रुझानों का विश्लेषण कर सकें। इसे ज्यादा से ज्यादा काम में लेने के लिए आप एक ग्राफ पर तुल्नात्मक प्रदर्शन को प्लॉट कर सटीक रोटेशन देख सकते हैं।  आप लाइन चार्ट पर सेक्टर और एसेट क्लास रोटेशन सिक्वेंस को देख सकते हैं। चार क्वाडरंट रेलेटिव ट्रेंड के चार चरणों को दर्शाते हैं। जब सिक्योरिटीज़ एक निश्चित समय में, एक क्वाडरंट से दूसरे में चली जाती हैं तो आप बिलकुल सटीक रोटेशन देख सकते है। रेलेटिवरोटेशन ग्राफ़ बाज़ार के लीडरों को बाज़ार के पिछड़े खिलाड़ियों से अलग करने में मदद करता है। आप रेलेटिव रोटेशन ग्राफ़ के साथ पैसे और समय बचा सकते हैं क्योंकि यह बाज़ार के उस हिस्से पर फोकस करता है जिसपर ज्यादा विश्लेषण के लिए ध्यान देने की जरूरत होती है। चूंकि रेलेटिव रोटेशन ग्राफ, सापेक्ष प्रदर्शन के लिए गति और टेंड दोनों को मापता है, इसलिए इसे किसी भी ट्रेडिंग या निवेश शैली के हिसाब से ढाला जा सकता है।

निष्कर्ष

अब आप प्रमुख शेयर संकेतकों के बारे में जानते हैं। तो क्यों ना हम आपको स्टॉक मार्केट के क्षेत्रों से परिचित कराएँ। इसके लिए हमारे अगले अध्याय पर जाएँ।

अब तक आपने पढ़ा

5 प्रमुख शेयर संकेतक जो आपके स्टॉक मार्केट निवेश के लिए सही आधारशिला रखते हैं वो हैं: आरएसआई, एडीएक्स, मूविंग एवरेज, बोलिंगर बैंड और आरआरजी।

- आरएसआई एक गति दोलक है।

- एडीएक्स ट्रेंड की मजबूती को मापता है।

- मूविंग एवरेज ट्रेंड को सुचारु तरीके से समझता है।

- बोलिंगर बैंड एक मुद्रा जोड़ी के लिए अस्थिरता की पहचान करता है।

- आरआरआरजी सापेक्ष शक्ति विश्लेषण को मापते हैं।

icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

How would you rate this chapter?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account