शुरुआती के लिए मॉड्यूल

निवेश विश्लेषण 101

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

स्टॉकब्रोकर क्या हैं?

4.3

icon icon

चलिए इस परिस्थिति पर नज़र डालिए, मान लेते हैं कि आपको अपने वेतन के साथ बोनस का चेक भी मिला है। अब आप इस पैसों को ऐसे ही किसी खरीदारी में खर्च करने के बजाय एक समझदार व्यक्ति की तरह इसे स्टॉक मार्केट में निवेश करने का फैसला लेंगे। आपने स्टॉक एक्सचेंज के बारे में काफी पढ़ा है। अब जब आप वास्तव में शेयर बाज़ार में अपना पैसा निवेश करने जा रहे हैं लेकिन आप ये नहीं जानते कि इसे आप असल में करेंगे कैसे। 

यहीं पर स्टॉकब्रोकर की भूमिका आती है।

स्टॉकब्रोकर क्या हैं?

आम बोलचाल की भाषा में स्टॉकब्रोकर को शेयरब्रोकर भी कहते हैं। यह एक वित्तीय मध्यस्थ हैं जो आप जैसे निवेशकों और व्यापारियों के लिए स्टॉक एक्सचेंज पर शेयर खरीदने और बेचने की प्रक्रिया को आसान बनाते हैं। स्टॉक ब्रोकरशब्द आमतौर पर ब्रोकरेज फर्म  के लिए उपयोग किया जाता है जो पेशेवर ब्रोकर को नियुक्त करते हैं और स्टॉकब्रोकिंग सेवा प्रदान करते हैं।

स्टॉकब्रोकर करते क्या हैं?

हमने एक बड़े सवाल का जवाब तो दे दिया कि स्टॉकब्रोकर क्या हैं? अब आगे जानना है कि वे करते क्या हैं। स्टॉकब्रोकर की मुख्य भूमिका खरीदने और बेचने का ऑर्डर प्राप्त कर उसे एग्ज़िक्यूट करना होता है। दूसरे शब्दों में कहें तो ये मध्यस्थ हैं जो व्यापारियों के लिए एक्सचेंज पर शेयर खरीदना और बेचना संभव बनाते हैं। उदाहरण के तौर पर अगर आप शेयर बाज़ार में निवेश करना चाहते हैं, तो आपको एक शेयरधारक के साथ एक ट्रेडिंग खाता खोलना होगा। इस खाते के माध्यम से आप शेयरों और अन्य सिक्योरिटीज की खरीद-बिक्री कर पाते हैं।

जब आप एक्सचेंज पर व्यापार करना चाहते हैं तो आपको अपने स्टॉकब्रोकर द्वारा समर्थित विभिन्न पोर्टलों में से किसी एक पर अपने ट्रेडिंग खाते में लॉग इन करना होगा। जैसे एंजेल ब्रोकिंग जो एक फुल सर्विस ब्रोकिंग पार्टनर है जो मोबाइल एप्लिकेशन, वेब ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म और एक डेस्कटॉप एप्लिकेशन प्रदान करता है। इसके माध्यम से आप अपना ऑर्डर देने के साथ और भी बहुत कुछ कर सकते हैं।

एक बार जब आप अपने खरीदने या बेचने का ऑर्डर देते हैं, तो आपके स्टॉकब्रोकर को आपके ऑर्डर से जुड़े निर्देश मिलते हैं, जैसे आप किस कंपनी का शेयर खरीदना या बेचना चाहते हैं, उन शेयरों की संख्या और उन्हें खरीदने/ बेचने की कीमत आदि। और फिर बाज़ार की स्थितियों के हिसाब से  ब्रोकर आपके इस ऑर्डर पर अमल करता है।

इस सेवा के बदले शेयर ब्रोकर व्यापारियों और निवेशकों से हर ऑर्डर के लिए शुल्क लेते हैं। इस शुल्क को ब्रोकरेज के रूप में जाना जाता है।

स्टॉकब्रोकर के प्रकार

सेवा और ब्रोकरेज चार्ज के आधार पर स्टॉक ब्रोकर या तो ट्रेडिशनल ब्रोकर या फिर डिस्काउंट ब्रोकर हो सकते हैं। अब उन्हें बेहतर तरीके से जानते हैं।

पारंपरिक या फुलटाइम स्टॉकब्रोकर

पारंपरिक ब्रोकर व्यापक रूप में अपनी सेवा प्रदान करते हैं जिसमें सिक्योरिटीज ट्रेडिंग, रिटायरमेंट की योजना, निवेश सलाह, पोर्टफोलियो प्रबंधन समेत और भी बहुत कुछ शामिल है। ये सेवाएँ देने के लिए ब्रोकरों को गहन ट्रेनिंग दी जाती है। अपनी सेवाओं के बदले वे कमीशन के रूप में एक राशि चार्ज कर सकते हैं।

फुलटाइम दलाल उन निवेशकों के लिए ठीक रहते हैं जो व्यक्तिगत सेवाओं की मांग करते हैं। यह नियमित रूप से बाज़ारों में भाग लेने वाले और बड़ा निवेश करने वाले लोगों के लिए भी अच्छा विकल्प है। पारंपरिक शेयर ब्रोकरों द्वारा लगाए गए ब्रोकरेज या कमीशन को आमतौर पर ट्रेड की गई सिक्योरिटीज के मूल्य के एक प्रतिशत के आधार पर लगाया जाता है। भारत में  यह कमीशन आम तौर पर 0.25 प्रतिशत और 0.75 प्रतिशत के बीच होता है।

इसे बेहतर ढ़ंग से समझने के लिए एक उदाहरण देखें:

  • आप एक पारंपरिक स्टॉकब्रोकर का चयन करते हैं और उनके माध्यम से खरीद के लिए ऑर्डर देते हैं।
  • और कहते हैं कि ऑर्डर किसी कंपनी के 100 शेयरों के लिए है, जिसे  ₹500 प्रति शेयर में ख़रीदा जाना है।
  • तब लेन-देन का मूल्य  ₹50,000 तक आता है।
  • आपका ब्रोकर लेन-देन मूल्य का 0.50% कमीशन लेता है, तो आपको कमीशन के रूप में  ₹250 का भुगतान करने होंगे।
 

डिस्काउंट ब्रोकर

डिस्काउंट ब्रोकर नए जमाने के निवेशकों के लिए बिल्कुल सही हैं, जो एक बटन पर क्लिक करने के साथ  सब कुछ ऑनलाइन करना पसंद करते हैं। डिस्काउंट ब्रोकर ऑनलाइन स्टॉकब्रोकर हैं जो व्यापारियों और निवेशकों को सभी स्तरों के अनुभव के साथ सुलभ और सस्ती सेवाएं प्रदान करते हैं। आप अगर अपनी ट्रेडिंग का सफर शुरू कर रहे हैं, तो आपको अपनी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए डिस्काउंट ब्रोकर की अच्छी सेवा मिल सकती है।

इन ब्रोकरों द्वारा मिलने वाली कुछ सेवाओं में स्टॉक ब्रोकरेज, आपके पोर्टफोलियो का निष्क्रिय प्रबंधन और म्यूचुअल फंड से संबंधित सेवाएं शामिल हैं। ये ब्रोकर आमतौर पर हर लेन-देन के लिए एक समान शुल्क के रूप में कमीशन या ब्रोकरेज लेते हैं। भारत में डिस्काउंट ब्रोकर के लिए ब्रोकरेज की सामान्य सीमा प्रति ऑर्डर  ₹10 से  ₹20 है।

इस समान शुल्क (फ्लैट फी) को बेहतर तरीके से समझने के लिए से इस उदाहरण को देखते हैं:

  • आप एक डिस्काउंट स्टॉकब्रोकर का चयन करते हैं और उनके माध्यम से एक खरीद के लिए ऑर्डर देते हैं।
  • और कहते हैं कि ऑर्डर किसी कंपनी के 100 शेयरों के लिए है, जिसे  ₹500 प्रति शेयर में ख़रीदा जाना है।
  • तब लेन-देन मूल्य  ₹50,000 तक आता है।
  • लेन-देन मूल्य इतने होने के बावजूद आपको स्टॉकब्रोकर द्वारा चार्ज किए गए समान शुल्क (फ्लैट फी) का ही भुगतान करना होगा जो कि इस मामले में  ₹20 है। 

बोनस पॉइंटर: एंजेल ब्रोकिंग एक डिस्काउंट ब्रोकर की कीमत पर ही फुलटाइम ब्रोकर की सेवाएं प्रदान करती है। है ना मजेदार!

कंपनी एनालिसिस में स्टॉकब्रोकर आपकी मदद कैसे करते हैं?

आपने देखा है कि निवेश करने से पहले व्यवसायों और कंपनियों का विश्लेषण करना कितना महत्वपूर्ण काम है। स्टॉकब्रोकर कंपनी एनालिसिस में आपकी मदद करने अहम भूमिका निभाते हैं। वे स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध कंपनियों के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं। कई स्टॉकब्रोकर समय-समय पर विश्लेषक रिपोर्ट भी जारी करते हैं, जो तीसरे पक्ष के विशेषज्ञों द्वारा तैयार की जाती है। आपके जैसे निवेशक जो कंपनियों और व्यवसायों के बारे में समझने को उत्सुक हैं, उनके लिए इस तरह की रिपोर्ट और जानकारी बहुत ही सहायक साबित हो सकती है।

शेयर ब्रोकर चुनने से पहले ध्यान रखने योग्य बातें

कई सारे विकल्पों में से सही विकल्प चुनना मुश्किल हो सकता है। थोड़ी-सी मदद से आप अपनी ट्रेडिंग की ज़रूरतों के लिए सही ब्रोकर बड़ी आसानी से पा सकते हैं। यहां कुछ चीजें हैं जिसे स्टॉकब्रोकर चुनने से पहले ध्यान में रखना ज़रूरी है। 

  • आप किस तरह के ब्रोकर के साथ पार्टनरशिप करना चाहते हैं, फुल-टाइम या डिस्काउंट
  • स्टॉकब्रोकर की बैकग्राउंड
  • ब्रोकरेज और ब्रोकर द्वारा लगाए गए शुल्क की संरचना
  • वे कौन-सा ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म मुहैया करते हैं
  • उनके द्वारा प्रदान किए जाने वाले ग्राहक सहायता का स्तर 

निष्कर्ष

इन अहम क्षेत्रों को कवर करने के साथ ही अब कंपनी एनालिसिस के अगले चरण में बढ़ने का समय आ गया है। इस चरण में मुख्य रूप से कंपनी की वित्तीय जानकारी प्राप्त करना शामिल है। आपको किन वित्तीय बातों पर ध्यान देने की ज़रूरत है? यह आप स्मार्ट मनी के अगले अध्याय में सीखेंगे।

अब तक आपने पढ़ा

  • स्टॉकब्रोकर वित्तीय मध्यस्थ होते हैं जो निवेशकों और व्यापारियों के लिए स्टॉक एक्सचेंज पर शेयर खरीदने या बेचने की प्रक्रिया को आसान बनाते हैं। 
  • स्टॉकब्रोकर की मुख्य भूमिका खरीद का ऑर्डर और बेचने का ऑर्डर प्राप्त करना और उन्हें एग्ज़िक्यूट करना है।
  • इस सेवा के बदले में स्टॉकब्रोकर हर ऑर्डर के लिए व्यापारियों और निवेशकों से एक शुल्क लेते हैं। इस शुल्क को ब्रोकरेज के रूप में जाना जाता है।
  • स्टॉक ब्रोकर द्वारा दी जाने वाली सेवाओं और ब्रोकरेज के आधार पर वे पारंपरिक ब्रोकर या डिस्काउंट ब्रोकर हो सकते हैं।
  • कई स्टॉकब्रोकर अपनी वेबसाइट पर कंपनियों की विस्तृत जानकारी भी देते हैं। समय-समय पर वे विश्लेषक रिपोर्ट भी जारी करते हैं, जिससे आपको कंपनी एनालिसिस में मदद मिलती है।
  • इससे पहले कि आप किसी ब्रोकर का चयन करें, उनके द्वारा दी जाने वाली सेवाओं की सीमा, उनका बैकग्राउंड, उनकी शुल्क संरचना, उनके द्वारा प्रदान किए जाने वाले ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म और उनके ग्राहक सहायता पर भी विचार करें।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account