शुरुआती के लिए मॉड्यूल

ट्रेडिंग कैलेंडर

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

* टी एंड सी लागू

सप्ताहांत पर व्यापारी क्या करते हैं?

4.8

icon icon

निवेश रिसर्च अन्य निवेशकों पर बढ़त बनाए रखने और बड़े पैमाने पर रिटर्न उत्पन्न करने के उद्देश्य से नए ज्ञान के उपयोग करने की एक अंतहीन प्रक्रिया है।

एक प्रश्न यह उठता है कि आप अन्य निवेशकों पर कैसे बढ़त हासिल करते हैं? इसका सरल उत्तर यह है कि समय, प्रयास, और ध्यान का निवेश करें, जो अक्सर अन्य निवेशक नहीं करते। जीवन में ज्यादातर उपलब्धियों की तरह, व्यापारी बाजार का विश्लेषण करने, ट्रेडिंग अवसर ढूंढने और रणनीतियों को बेहतर बनाने के लिए सप्ताहांत का उपयोग करते हैं और फिर सोमवार को बाजार खुलने पर ट्रेड करते हैं।

शेयर को दीर्घकालिक निवेश माना जाता है क्योंकि इसमें जोखिम शामिल होता है; और व्यापारियों को किसी भी उतार-चढ़ाव का मूल्यांकन करने और दीर्घकालिक लाभ से फायदे के लिए समय की आवश्यकता होती है।

किसी भी शेयर का मूल्यांकन करने के 4 प्रमुख चरण

  1. अपने शेयर रिसर्च की सामग्रियों को इकट्ठा करें

कंपनी की वित्तीय रिपोर्ट, तिमाही रिपोर्ट आदि की समीक्षा करने से शुरूआत करें।

  1. अपना ध्यान केंद्रित करें

इन वित्तीय रिपोर्टों में बड़ी मात्रा में आंकड़े होते हैं और इससे परेशान होना आसान है। किसी कंपनी के आंतरिक कामकाज से परिचित होने के लिए नीचे दिए गए आइटम पर ध्यान दें:

  • राजस्व: यह वह राशि है जो किसी कंपनी द्वारा निर्दिष्ट अवधि के दौरान कमाती है। यह पहली चीज है जिसे आप इनकम स्टेटमेंट पर देखेंगे, यही कारण है कि इसे अक्सर "टॉप लाइन" के रूप में जाना जाता है। कभी-कभी राजस्व को "संचालन राजस्व" और "गैर-संचालन राजस्व" में बांटा जाता है। संचालन राजस्व सबसे अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि यह कंपनी के मुख्य व्यवसाय से उत्पन्न होता है। गैर-संचालन राजस्व अक्सर एक बार की व्यावसायिक गतिविधियों से आता है, जैसे कि संपत्ति बेचना।
  • नेट आय: इसे "बॉटम लाइन" आंकड़ा इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह इनकम स्टेटमेंट के अंत में मौजूद रहता है – यह परिचालन खर्च, करों और मूल्यह्रास को राजस्व से घटाए जाने के बाद कंपनी द्वारा कमाई गई कुल राशि है। राजस्व आपके कुल वेतन के बराबर है और नेट आय आपके द्वारा करों और जीवन-यापन के खर्चों के बाद बचने वाली राशि के बराबर है।
  • आय और प्रति शेयर आय: जब आप व्यापार के लिए उपलब्ध शेयरों की संख्या से कुल आय को  विभाजित करते हैं, तो आपको प्रति शेयर आय प्राप्त होती है।
  • प्राइस-टू-अर्निंग रेशियो (P/E): किसी कंपनी के मौजूदा शेयर मूल्य को उसके प्रति शेयर आय, आमतौर पर पिछले 12 महीनों के दौरान, द्वारा विभाजित करना आपको कंपनी की प्राइस-टू-अर्निंग रेशियो प्रदान करता है। ध्यान रखें कि प्राइस-टू-अर्निंग रेशियो संभावित रूप से त्रुटिपूर्ण आय प्रति शेयर गणना से लिया गया है, और विश्लेषक का अनुमान शॉर्ट टर्म पर फोकस करता है। इसलिए यह एक स्टैंड-अलोन विश्वसनीय मीट्रिक नहीं है। 
  • इक्विटी पर रिटर्न: इक्विटी पर रिटर्न, प्रतिशत के रूप में, यह पता चलता है कि  एक कंपनी शेयरधारकों के निवेश किए गए प्रत्येक रुपए पर कितना लाभ कमाती है।  यह इक्विटी शेयरधारक की इक्विटी है।
  • एसेट पर रिटर्न : एसेट पर रिटर्न से पता चलता है कि कंपनी अपने मुनाफे का कितना प्रतिशत अपनी एसेट के प्रत्येक रुपये से बनाती है। इस दोनों को, कंपनी की वार्षिक कुल आय को, इन दोनों मापकों से विभाजित करके प्राप्त किया जाता है। ये प्रतिशत आपको यह भी बताते हैं कि मुनाफा कमाने में कंपनी कितनी सक्षम है।

यहाँ फिर से ध्यान दें। एक कंपनी शेयरधारकों की इक्विटी को कम करने के लिए शेयर बायकबैक करके कृत्रिम रूप से इक्विटी पर रिटर्न को बढ़ा सकती है। इसी तरह अधिक ऋण लेने से, जैसे फाइनेंस प्रॉपर्टी या इनवेंट्री बढ़ाने के लिए लोन-  एसेट पर रिटर्न की गणना में उपयोग होने वाले एसेट में लगी पूंजी को बढ़ा देता है। 

 
  1. गुणात्मक रिसर्च का रुख करें

यदि मात्रात्मक रिसर्च किसी कंपनी की कहानी के वित्तीय स्थिति को सीधे और सटीक तरह से दिखाती है, तो गुणात्मक रिसर्च उसके परिचालन और संभावनाओं की बेहतर तस्वीर सामने ला रखती है। 

यहां आपके संभावित व्यावसायिक भागीदारों को छांटने में मदद करने के लिए कुछ प्रश्न दिए गए हैं:

- कंपनी पैसा कैसे बनाती है?

- क्या इस कंपनी के पास प्रतिस्पर्धात्मक लाभ है?

- प्रबंधन टीम कितनी अच्छी है?

- क्या गड़बड़ी हो सकती है?

  1. अपनी रिसर्च को संदर्भ में रखें

किसी भी शेयर को खरीदने से पहले आपको कंपनी के बारे में अच्छी तरह से अवगत होना चाहिए और यह भी पता करें कि कौन स- कारक इसे दीर्घकालिक साझेदारी के योग्य बनाते हैं। और ऐसा करने के लिए संदर्भ महत्वपूर्ण है।

दीर्घकालिक संदर्भ के लिए अपनी रिसर्च के लेंस को ऐतिहासिक डाटा की ओर घुमाएं। यह आपको कठिन समय के दौरान कंपनी का लचीलापन, चुनौतियों पर प्रतिक्रिया, अपने प्रदर्शन को बेहतर बनाने और समय के साथ शेयरधारक को मूल्य प्रदान करने की क्षमता के बारे में जानकारी देगा।

निष्कर्ष

अब आप समझ गए हैं कि सप्ताहांत में व्यापारी क्या करते हैं? अब हम अगले बड़े विषय पर आगे बढ़ते हैं – मॉनसून भारतीय बाजारों को कैसे प्रभावित करता है? इसके बारे में और जानने के लिए  अगले अध्याय पर जाएं।

अब तक आपने पढ़ा

  1. प्राइस- अर्निंग रेशियो: किसी कंपनी के मौजूदा शेयर मूल्य को प्रति शेयर आय से विभाजित करने पर आपको कंपनी का अप्राइस- अर्निंग रेशियो मिलता है।
  2. इक्विटी पर रिटर्न:  इक्विटी पर रिटर्न, प्रतिशत के रूप में, यह बताता है कि एक कंपनी शेयरधारक द्वारा निवेश किए गए प्रत्येक रुपए पर कितना लाभ कमाती है।
  3. आय और प्रति शेयर आय: जब आप व्यापार के लिए उपलब्ध शेयरों की संख्या से कमाई को विभाजित करते हैं, तो आपको प्रति शेयर आय प्राप्त होती है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account