लिंग भूमिकाओं में बदलाव

icon

यदि आपने अपने दादा-दादी या परदादा-दादी के साथ समय बिताया है तो उनकी दिनचर्या को याद करें| आपको याद होगा कि उस पीढ़ी के लोगों ने लिंग भूमिकाओं को स्पष्ट रूप से निभाया था। पुरुष काम पर जाते थे और महिलाएं घर की देखभाल करती थी| महिलाएं निश्चित रूप से केवल घर का कार्य करने के लिए बाध्य होती थी और अधिकांश कार्यों के लिए, लिंग मापदंड तय किए गए थे।

फिर, आपके माता-पिता की पीढ़ी आई, और समाज में लिंग भूमिकाओं में काफी व्यापक परिवर्तन आया। जेनेरशन एक्स में ऐसे परिवारों की स्थापना हुई जहां पति और पत्नी दोनों कमाते थे| हो सकता है कि आपके माता-पिता दोनों कामकाजी हों या शायद आप किसी ऐसे जोड़े से परिचित हों जो कि दोनों कमाते हों|

और फिर, Gen Y - या मिलेनियल्स का समय आया| इस पीढ़ी के आगमन के साथ, लिंग भूमिकाओं में अधिक परिवर्तन देखा गया। लेकिन जब आप इसे करीब से देखते हैं, तो वास्तव में आख़िर कितना बदलाव आया है? इस प्रश्न का उत्तर देने के लिए, आइए मूल बातों को जानते हैं।

लिंग भूमिकाएं क्या हैं?

लिंग भूमिकाएं बताती हैं कि प्रत्येक लिंग के सदस्यों से किस प्रकार कार्य करने, बोलने, कपड़े पहनने, व्यवहार करने और खुद को प्रस्तुत करने की अपेक्षा की जाती है। ये लिंग मानदंड केवल व्यवहार संबंधी पहलुओं तक ही सीमित नहीं होते, बल्कि इसमें सामान्य ज़िम्मेदारियां और भूमिकाएं भी शामिल हैं जो प्रत्येक लिंग के लोग अपने घर, काम और समाज में बड़े पैमाने पर निभाते हैं।

लिंग भूमिकाओं के प्रकार

समाज में लिंग भूमिकाओं की दो अलग-अलग श्रेणियां हैं। दोनों में समय के साथ कुछ बदलाव आया है। लेकिन कितना बदलाव आया है, आइए ये जानते हैं।

1. व्यावहारिक लिंग भूमिकाएं

व्यवहारिक लिंग भूमिकाएं प्रत्येक लिंग के लोगों से व्यवहार करने के तरीके से संबंधित होती हैं। जहां महिलाओं से मृदुभाषी और विनम्र होने की अपेक्षा की जाती थी, वहीं पुरुषों से मज़बूत और भावना रहित होने की उम्मीद की जाती थी। महिलाओं से एक निश्चित तरीके से कपड़े पहनने की उम्मीद की जाती है, और पुरुषों से अलग तरीके से। ये समाज में व्यावहारिक लिंग भूमिकाएं हैं। पर समय के साथ ये नियम धुंधले पड़ते जा रहे हैं।

2. अनिवार्य लिंग भूमिकाएं

अनिवार्य लिंग मानदंड से तात्पर्य है कि प्रत्येक लिंग के लोगों से क्या करने की अपेक्षा की जाती है। महिलाओं को आम तौर पर घर को संभालने की ज़िम्मेदारी दी जाती थी, जबकि पुरुष पैसे से संबंधित मामलों को देखते थे। हाल के वर्षों में, इस प्रकार की लैंगिक भूमिकाएं भी कम कठोर और अधिक लचीली बन गई हैं। कामकाजी महिलाओं और घर में रहने वाले पिताओं को बेहतर तरीके से स्वीकार किया जा रहा है।

लिंग मानदंडों में बदलाव किस प्रकार आया?

समाज में व्यापक रूप से होने वाले  परिवर्तनों की तरह, लिंग भूमिकाओं के विकास के लिए कोई एक कारण ज़िम्मेदार नहीं है। लिंग मानदंडों में बदलाव के पीछे कई प्रेरक शक्तियाँ हैं। आइए उन कारणों पर एक नज़र डालते हैं जिन्होंने इस बदलाव को मुख्य रूप से प्रभावित किया।

1. डिजिटलीकरण में बढ़ोतरी

डिजिटलीकरण में बढ़ोतरी से दोहरा फ़ायदा हुआ। एक तरफ जहां महिलाओं को अधिक सूचनाएं प्राप्त करने में मदद मिली, वहीं दूसरी ओर कंपनीज़, एंप्लॉयर्स और वित्तीय सेवा प्रदाताओं को महिलाओं की ज़रूरतों को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिली। इस दो-तरफा सूचनाओं के आदान-प्रदान के कारण, महिलाओं की बढ़ती संख्या के लिए ऐसी भूमिकाएं निभाना आसान हो रहा है जो उन्होंने पहले कभी नहीं की थीं।

आज, कार्यक्षेत्र में महिलाएं आसानी से एम्प्लॉई से एंप्लॉयर बन रही हैं। Google और Bain and company की एक संयुक्त रिपोर्ट ने अनुमान लगाया गया है कि भारत में 2030 तक महिला व्यवसाय-मालिकों में 150 मिलियन से 170 मिलियन नौकरियां पैदा करने की क्षमता होगी।

2. जीवन यापन की लागत में वृद्धि

महंगाई बेकाबू होती जा रही है। इसी कारण रहन-सहन के खर्चों में भी लगातार वृद्धि हुई है। परिवारों को अब जीवन यापन के लिए दो आय पर निर्भर रहने की ज़रूरत पड़ती है। कार्यक्षेत्र में महिलाओं की बढ़ती संख्या के पीछे यह एक और प्रेरक कारण है। दो आय होने की वजह से परिवारों के लिए रोज़मर्रा की ज़रूरतों की बढ़ती लागत को पूरा करना आसान हो जाता है।

जब आपके बच्चे भी परिवार में शामिल हो जाते हैं तो उनकी शिक्षा पर होने वाले खर्चे की वजह से परिवार चलाने के लिए दो आय का होना और भी आवश्यक हो जाता है। स्वास्थ्य देखभाल लागत और उधार पर उच्च ब्याज दरों की वजह से भी महिलाओं का घर खर्च में हाथ बंटाना और भी ज़रूरी हो गया।

3. समाज की सोच में बदलाव

ज़रुरत के अलावा, एक और कारण है कि महिलाएं घर से बाहर अधिक भूमिकाएं निभाने में सक्षम हैं। अब सख्त लिंग भूमिकाओं के बारे में समाज की कठोर मान्यताएं बदल रही हैं और अधिक लचीली बन रही हैं। कामकाजी महिलाओं को अब घर से बाहर निकलने पर दंडित नहीं किया जाता है, बल्कि उन्हें खुशी से स्वीकारा जाता है।

इसके विपरीत, घर की देखभाल करने वाले पुरुषों को भी धीरे-धीरे भारत में स्वीकृति मिल रही है। Ipsos MORI द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में 75% उत्तरदाताओं ने माना कि पूर्ण रूप से घर पर रहने से कोई पुरुष किसी अन्य व्यक्ति से कम नहीं हो जाता है।

समापन

इन बदलती लिंग भूमिकाओं को देखते हुए, यह देखना दिलचस्प होगा कि आने वाले वर्षों में परिस्थितियां कैसी होंगी। दुनिया को संभालने वाली महिलाओं के लिए कोई  सीमा नहीं है। वित्तीय सेवा प्रदान करने वाले भी इससे सहमत प्रतीत होते हैं, क्योंकि हाल के वर्षों में महिला-केंद्रित वित्तीय इनोवेशन की संख्या में वृद्धि हुई है। इसके बारे में हम अगले अध्याय में और जानकारी प्राप्त करेंगे।

ए क्विक रीकैप

  • व्यावहारिक लिंग भूमिकाएं प्रत्येक लिंग के लोगों से व्यवहार करने के तरीके से संबंधित होती हैं।
  • अनिवार्य लिंग मानदंड से तात्पर्य है कि प्रत्येक लिंग के लोगों से क्या करने की अपेक्षा की जाती है।
  • ये दोनों भूमिकाएं आज के समाज में प्रवाह की स्थिति में हैं।
  • लिंग भूमिकाओं के बदलने के पीछे कई कारण हैं। इनमें डिजिटलीकरण, बढ़ती जीवन लागत, और बदलती सामाजिक मान्यताएं शामिल हैं।

प्रश्नोत्तरी

1. लैंगिक समानता क्या है?

लैंगिक समानता एक ऐसी स्थिति है जहां सभी लिंगों के लोगों को समान रूप से अवसर, संसाधन और पुरस्कार प्राप्त होते हैं। इसका तात्पर्य यह भी है कि लिंगों के बीच ज़िम्मेदारियों को समान रूप से साझा किया जाता है।

2. लिंग भूमिकाओं में परिवर्तन से महिलाओं को किस प्रकार लाभ हुआ है?

लिंग भूमिकाओं में बदलाव के कारण महिलाएं आर्थिक रूप से अधिक स्वतंत्र होने लगी हैं। इसके अलावा, महिलाओं द्वारा अपने मन की बात कहने और नेतृत्व करने की भूमिका को भी स्वीकृति मिली है।

3. लिंग भूमिका बदलने से पुरुषों को कैसे लाभ हुआ है?

लिंग भूमिकाओं को विकसित करने से पुरुषों को भी लाभ हुआ है। आज, अपने परिवार के लिए साधन जुटाने की ज़िम्मेदारी अब पूरी तरह से पुरुष पर नहीं आती है। पुरुषों पर से अपने परिवार को संचालित करने का दबाव कम हो रहा है, अब वे अपने सपनों को भी पूरा कर सकते हैं।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

अधिक टिप्पणियां लोड करें एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img
Open an account