खुदरा निवेशकों का उदय

icon

2000 के दशक की शुरुआत में जब से भारतीय शेयर बाज़ार लोकप्रिय हुआ, तब से घरेलू और विदेशी संस्थागत निवेशक दोनों ही हावी थे। व्यक्तिगत निवेशक, जिन्हें रिटेल निवेशक भी कहा जाता है, सक्रिय नहीं थे। इनमें से कुछ ही लोग शेयर बाज़ार में भाग लेते थे।

खुदरा व्यक्तिगत निवेशकों की कम भागीदारी होने का एक प्राथमिक कारण यह था कि शेयर बाज़ार अभी भी अपनी प्रारंभिक अवस्था में था। लोग यह समझ नहीं पाए थे कि यह वास्तव में कैसे काम करता है| इसलिए वे इसमें निवेश करने से घबराते थे।

हालांकि, वर्तमान समय में परिस्थितियां नाटकीय रूप से बदल गई हैं। देश के दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंजों में से एक नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का कहना है कि शेयर बाज़ारों में खुदरा निवेशकों की हिस्सेदारी वित्त वर्ष 2021 में 45% तक पहुंच गई है। इस अनुमान से मौजूदा समय में व्यक्तिगत निवेशक भारतीय शेयर बाज़ार में प्रमुख किरदार बन गए हैं।

इससे भी अधिक दिलचस्प बात यह है कि दुनिया भर के देशों में खुदरा निवेशकों की भागीदारी में एक साथ वृद्धि देखी जा रही है। उदाहरण के लिए, चीन में कुल निवेशक आधार में लगभग 99% खुदरा निवेशकों की भागीदारी है।

भारत में खुदरा निवेशकों का उदय

कई लोग भारत के शेयर बाज़ारों में खुदरा भागीदारी में वृद्धि का श्रेय 2020 में भारत सरकार द्वारा लागू किए गए लॉकडाउन को देते हैं। हालांकि, ऐसा रातों रात नहीं हुआ है।

साल-दर-साल खोले गए डीमैट खातों की संख्या पर एक नज़र डालने से इस बात को बेहतर समझा जा सकता है कि परिस्थितियां कैसे सामने आईं। वित्त वर्ष 2011 में, डीमैट खातों की कुल संख्या 19 मिलियन थी। जबकि वित्त वर्ष 2012 में, यह संख्या बढ़कर 19.9 मिलियन हो गई, जो लगभग 1 मिलियन की वृद्धि है।

इसी तरह की गति वित्त वर्ष 2015 तक बनी रही, जब खातों की संख्या में 1.5 मिलियन की वृद्धि हुई। तब से, साल दर साल खोले गए नए डीमैट खातों की संख्या में लगातार वृद्धि होने लगी।

वित्त वर्ष 2018 और वित्त वर्ष 2019, प्रत्येक वर्ष में लगभग 4 मिलियन नए डीमैट खाते खोले गए। हालांकि इसने कई शेयर बाज़ार विशेषज्ञों को प्रभावित किया, लेकिन फिर भी यह वित्त वर्ष 2020 के दौरान खोले गए 4.9 मिलियन नए खातों से मेल नहीं खा रहा था। प्रभावशाली, है ना?

शेयर बाज़ारों में खुदरा निवेशकों के बढ़ने के कारण

ऐसे कई कारण हैं जिनसे खुदरा निवेशकों की रुचि शेयर बाज़ार में बढ़ी है। आइए उनमें से कुछ पर एक नज़र डालें।

  • मिलेनियल निवेशक: इस वृद्धि के प्रमुख कारणों में से एक है शेयर बाज़ार में मिलेनियल्स का प्रवेश। अपनी पुरानी पीढ़ी के विपरीत, मिलेनियल्स अधिक जोखिम लेने के लिए तैयार रहते हैं। इस कारण स्वाभाविक रूप उनका झुकाव शेयर बाज़ारों की ओर हो गया।
  • शेयर बाज़ारों तक आसान पहुंच: आधार वेरिफिकेशन और ई-केवाईसी मानदंडों की शुरुआत के साथ, ट्रेडिंग और डीमैट खाता जल्द और आसानी से खोला जा सकता है। इतना ही नहीं, बल्कि पूरी प्रक्रिया पूरी तरह से कागज रहित है। घर, कार्यालय, या फिर किसी यात्रा के दौरान भी आराम से इसे ऑनलाइन के ज़रिए किया जा सकता है।
  • जागरूकता में वृद्धि: शेयर बाज़ारों की जागरूकता लगातार बढ़ती जा रही है। स्टॉक ब्रोकिंग कंपनियों ने लोगों को बाज़ारों के बारे में शिक्षित करने के लिए व्यापक निवेशक शिक्षा मॉड्यूल इकट्ठा करने के लिए कई प्रयास किए हैं। व्यापार, निवेश और शेयर बाज़ार की विभिन्न अवधारणाओं को तोड़कर, इन प्रयासों ने खुदरा निवेशक जागरूकता बढ़ाने का काम किया है।
  • COVID-19 महामारी द्वारा लागू किए गए लॉकडाउन: खुदरा भागीदारी में वृद्धि के लिए COVID-19 महामारी सबसे महत्वपूर्ण कारणों में से एक रहा है। राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के लागू होने के कारण खुदरा व्यक्तिगत निवेशकों को अधिक समय मिल गया। और भारत के निवेशकों ने स्टॉक ट्रेडिंग में आने के लिए इस समय का विवेकपूर्ण उपयोग किया है। इसके अलावा, महामारी से प्रेरित वेतन कटौती के कारण आय में गिरावट ने भी कई लोगों को स्टॉक ट्रेडिंग की दुनिया में प्रवेश करने के लिए प्रेरित किया।

निष्कर्ष

इक्विटी स्पेस एकमात्र ऐसा सेगमेंट नहीं है, जिसमें वृद्धि देखी जा रही है। फ्यूचर्स और ऑप्शंस वाले डेरिवेटिव सेगमेंट में भी तेज़ी देखी जा रही है। स्टॉक ब्रोकिंग कंपनियां टियर -2 और टियर -3 शहरों की तलाश में हैं, यह वृद्धि निकट भविष्य में ही जारी रहने की संभावना है।

ए क्विक रीकैप

  • शेयर बाज़ारों में खुदरा निवेशकों की हिस्सेदारी वित्त वर्ष 2021 में 45% तक पहुंच गई है।
  • दुनिया भर के देश खुदरा निवेशकों की भागीदारी में एक साथ वृद्धि देख रहे हैं।
  • खुदरा निवेशकों की वृद्धि के कई कारण हैं जैसे देश में मिलेनियल निवेशकों की बढ़ती संख्या, शेयर बाज़ारों तक आसान पहुंच, जागरूकता, शेयर बाज़ार की शिक्षा में वृद्धि, और निश्चित रूप से महामारी।

प्रश्नोत्तरी

1. एक खुदरा निवेशक को शेयर बाज़ार में निवेश शुरू करने के लिए क्या चाहिए?

शेयर बाज़ार में निवेश शुरू करने के लिए, एक खुदरा निवेशक को केवल तीन खातों की आवश्यकता होती है - एक डीमैट खाता, एक ट्रेडिंग खाता और एक बैंक खाता।

2. एक खुदरा निवेशक के रूप में मैं शेयर बाज़ार में कितना निवेश कर सकता हूं?

आप बाज़ार में कितना निवेश कर सकते हैं इसकी कोई सीमा नहीं है। आप मात्र 100 रुपए से निवेश शुरू कर सकते हैं या आप अपने बजट के अनुसार अधिक मात्रा में भी निवेश कर सकते हैं। आईपीओ में, खुदरा निवेशक 2 लाख रुपये से अधिक के शेयरों के लिए आवेदन नहीं कर सकते।

3. खुदरा निवेशक किन सभी मार्केट सेगमेंट में निवेश कर सकते हैं?

खुदरा निवेशक सभी बाज़ार क्षेत्रों में निवेश करने के लिए स्वतंत्र हैं। इसमें इक्विटी, डेट, करेंसी, कमोडिटीज़ और डेरिवेटिव शामिल हैं।

आप इस अध्याय का मूल्यांकन कैसे करेंगे?

टिप्पणियाँ (0)

अधिक टिप्पणियां लोड करें एक टिप्पणी जोड़े

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

angleone_itrade_img angleone_itrade_img
Open an account