कमोडिटी ऑप्शंस का परिचय

02:07 Mins Read

यह वीडियो कमोडिटी विकल्पों का परिचय देता है और उनका व्यापार कैसे करें

Transcript

"भारत में कमोडिटी डेरिवेटिव्स बाज़ार बहुत सक्रीय रहता है| 
शुरुआत में व्यापारी सिर्फ कमोडिटी फ्यूचर में ही व्यापार कर सकते थे| 
परन्तु 17 अक्टूबर 2017 को पहला कमोडिटी ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट पेश किया गया| 
यह गोल्ड ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट था जिसका अंडरलाइंग एसेट एक गोल्ड फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट था| यानी डेरिवेटिव का डेरिवेटिव! 
तब से लेकर आज तक, भारतीय कमोडिटी बाज़ार में कई कमोडिटी ऑप्शंस लाये गए जैसे कि तांबा ऑप्शंस, चांदी ऑप्शंस, कच्चा तेल ऑप्शंस और ज़िंक ऑप्शंस| 
भारत में कमोडिटी ऑप्शंस के लिए अंडरलाइंग एसेट कोई कमोडिटी या कमोडिटी फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट हो सकता है| 
जहां स्टॉक ऑप्शंस में ऑप्शन के ख़त्म होने पर आपको अंडरलाइंग स्टॉक मिलता है, 
वहीं कमोडिटी ऑप्शंस में आपको उस कमोडिटी का फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट मिलता है| 
इसके अलावा कमोडिटी ऑप्शंस स्टॉक ऑप्शंस की तरह ही काम करता है| कमोडिटी ऑप्शंस सेगमेंट में आपके पास कॉल ऑप्शंस और पुट ऑप्शंस दोनों होते हैं| 
कॉल ऑप्शंस आपको अंडरलाइंग खरीदने का अधिकार देता है| 
पुट ऑप्शंस आपको अंडरलाइंग बेचने का अधिकार देता है| 
इससे पहले कि हम ये अध्याय समाप्त करें, आप सोच रहे होंगे कि कमोडिटी ऑप्शंस में व्यापार कहां पर करें? 
इसके लिए तीन एक्सचैंजेस उपलब्ध हैं| ये हैं 
दी मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज या एम सी एक्स,
दी नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज या एन सी डी ई एक्स और दी इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज या आई सी ई एक्स 
तो हमने कमोडिटी ऑप्शंस के बारे में कुछ बेसिक बातों को जाना| 
और अब एक छोटी सी सलाह, जब तक आप ऑप्शंस एक्सपायरी और सेटलमेंट प्रोसेस को अच्छे से समझ न लें, तब तक आप शुरुआत में एक छोटे निवेश के साथ व्यापार शुरू करें|"

दिमागीपन! जानकारी लो

बाजार के साथ पकड़

60 सेकंड में समाचार।


किसी भी समय और कहीं भी अपनी सीखने की यात्रा शुरू करने और उसके साथ बने रहने के लिए एकदम सही स्टार्टर।

वेबसाइट देखे
logo logo

दिमागीपन! जानकारी लो

बाजार के साथ पकड़

60 सेकंड में समाचार।

logo

किसी भी समय और कहीं भी अपनी सीखने की यात्रा शुरू करने और उसके साथ बने रहने के लिए एकदम सही स्टार्टर।

logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account