तेल का दौर

02:11 Mins Read

यह वीडियो आपको तेल के इतिहास से रूबरू कराता है

Transcript

वर्तमान समय में कच्चा तेल व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है| परन्तु इसकी शुरुआत बहुत ही साधारण अथवा विनम्र थी| आधुनिक तेल उद्योग का जन्म 19वीं शताब्दी में हुआ| 1800 सदी के अंत और 1900 सदी की शुरुआत में अमेरिका में कई आधुनिक कुओं की खुदाई हो चुकी थी| तेल की सात international oil companies (आईओसीज़) (IOCs) का गठन हुआ, जिन्हें सात बहनों के नाम से भी जाना जाता है| इन कंपनियों में बीपी, शेवरॉन, एक्सॉन, गल्फ ऑयल, मोबिल, रॉयल डच शेल और टैक्सको जैसी कंपनियां शामिल हैं| (BP, Chevron, Exxon, Gulf Oil, Mobil, Royal Dutch Shell और Texaco) पहला विश्व युद्ध शुरू होने के बाद तेल के एक बैरल की कीमत 1914 में $0.81 से बढ़कर 1918 में $1.98 हो गई| इसके बाद कुछ समय तक कीमतें स्थिर रहीं, और फिर कई देश अपनी ज़मीन पर तेल भंडारों की खोज में जुट गए| और फिर 1939 में द्वितीय विश्व युद्ध हुआ, जिसके परिणामस्वरुप तेल की मांग फिर से बढ़ गई| युद्ध के पश्चात्, तेल बाज़ार का नियंत्रण अमेरिका और रूस के बीच बंट गया| 1960 के दशक में आर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ पेट्रोलियम एक्सपोर्टिंग कन्ट्रीज़ (Organization of Petroleum Exporting Countries) यानी OPEC का गठन हुआ| इसमें कुवैत, ईरान, इराक, सऊदी अरब और वेनेज़ुएला समेत पांच सदस्य देश थे| जल्द ही तेल बाज़ार का नियंत्रण अमेरिका और रूस से हटकर OPEC के पास आ गया| इसमें वर्तमान में 15 सदस्य देश शामिल हैं| आने वाले समय में तेल की कीमत कई बातों पर निर्भर करेगी जैसे एशियाई देशों में मांग, OPEC का कोएलिशन यानी गठबंधन और अमेरिका में शेल ऑयल का प्रोडक्शन (निर्माण)| कच्चा तेल वित्य बाज़ार में ट्रेड (व्यापार) होने वाली एक महत्वपूर्ण कमोडिटी है| इस कमोडिटी में ट्रेडिंग की और जानकारी के लिए अगला अध्याय पढ़ें|

दिमागीपन! जानकारी लो

बाजार के साथ पकड़

60 सेकंड में समाचार।


किसी भी समय और कहीं भी अपनी सीखने की यात्रा शुरू करने और उसके साथ बने रहने के लिए एकदम सही स्टार्टर।

वेबसाइट देखे
logo logo

दिमागीपन! जानकारी लो

बाजार के साथ पकड़

60 सेकंड में समाचार।

logo

किसी भी समय और कहीं भी अपनी सीखने की यात्रा शुरू करने और उसके साथ बने रहने के लिए एकदम सही स्टार्टर।

logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account